पीरियड के दौरान महिला के पेट में दर्द होना आम बात है. 12 से 47 साल के बीच की लड़कियां व महिलाएं पीरियड के दौरान कभी न कभी पेट में दर्द या क्रैंप्स की शिकायत करती ही हैं. कई बार ये दर्द इतना तेज होता है कि उनके लिए रोजमर्रा के काम करना भी मुश्किल हो जाता है. मेडिकल में इस अवस्था को डिसमेनोरिया (dysmenorrhea) या मेंस्ट्रुअल क्रैंप्स कहा जाता है. अमेरिकन कांग्रेस ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट के अनुसार, ये आम स्थिति है और आधे से अधिक महिलाएं पीरियड्स के दौरान दर्द की शिकायत करती हैं. यूं तो पीरियड के दौरान होने वाले पेट दर्द के कई घरेलू इलाज हैं, लेकिन तेज दर्द होने पर डॉक्टर कुछ दवाएं दे सकते हैं. इसमें डिक्लोफेनाक, इबुप्रोफेन और नेपरोक्सन आदि प्रमुख दवाएं हैं.

आज इस लेख में आप पीरियड में पेट दर्द को दूर करने वाली टेबलेट्स के नामों के बारे में जानेंगे -

(और पढ़ें - पीरियड्स में पेट दर्द के उपाय)

  1. पीरियड में पेट दर्द को दूर करने वाली टेबलेट्स
  2. डॉक्टर से कब मिलें?
  3. सारांश
पीरियड में पेट दर्द की टेबलेट नाम के डॉक्टर

आमतौर पर एंटी-इंफ्लेमेटरी पेनकिलर्स को पीरियड के दौरान होने वाले दर्द को दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. इन दवाओं में डिक्लोफेनाक, इबुप्रोफेन और नेपरोक्सन शामिल हैं. ये दवाएं प्रोस्टाग्लैंडीन के प्रोडक्शन को रोकने और दर्द से राहत दिलाने में मदद करती हैं. दरअसल, प्रोस्टाग्लैंडीन का लेवल बढ़ने से पेट के निचले हिस्से में दर्दनाक क्रैंप्स पड़ते हैं, जो बढ़कर कमर या जांघों में भी हो सकते हैं. ये दवाएं सिर्फ डॉक्टर से पूछकर ही लेनी चाहिए. आइए, पीरियड के दौरान होने वाले पेट दर्द को दूर करने वाली टेबलेट्स के बारे में विस्तार से जानते हैं -

नॉन-स्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स

नॉन-स्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाओं का इस्तेमाल पीरियड के दौरान होने वाले पेट दर्द को रोकने के बेस्ट तरीकों में से एक है. ये दवाएं शरीर में प्रोस्टाग्लैंडीन के उत्पादन को कम करती हैं, जो पीरियड्स में दर्द का प्रमुख कारण है. ऐसे में पीरियड से ठीक पहले एक गोली लेने से दर्द पैदा करने वाले प्रोस्टाग्लैंडीन के लेवल को समय रहते बढ़ने से रोका जा सकता है. इस दवा का सेवन बिना डॉक्टर की सलाह पर नहीं करना चाहिए.

(और पढ़ें - मासिक धर्म में दर्द की होम्योपैथिक दवा)

हार्मोनल बर्थ कंट्रोल

पीरियड के दौरान पेट में दर्द होने पर कुछ स्थितियों में डॉक्टर ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव टेबलेट्स जिसे बर्थ कंट्रोल पिल्स भी कहा जाता है, दे सकते हैं. इससे पीरियड में पेट दर्द में राहत मिलती है. दरअसल, ओरल बर्थ कंट्रोल पिल्स में हार्मोन होते हैं, जो ओव्यूलेशन को रोकते हैं और पीरियड्स के दौरान होने वाले तेज दर्द या क्रैंप्स को कम करते हैं.

(और पढ़ें - पीरियड मिस होने पर कमर दर्द क्यों होता है)

दर्द निवारक दवाएं

ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक, जैसे कि इबुप्रोफेन (एडविल, मोट्रिन आईबी), एसिटामिनोफेन या नेपरोक्सन सोडियम (एलेव) आदि को मासिक धर्म शुरू होने से एक दिन पहले लिया जा सकता है. ये दवाएं ऐंठन के दर्द को नियंत्रित करने में मदद कर सकती हैं. मासिक धर्म शुरू होने पहले या जैसे ही लक्षण महसूस हों, ये दवाएं लेना शुरू करें और दो से तीन दिनों तक या जब तक लक्षण समाप्त नहीं हो जाते, तब तक दवा ली जा सकती है.

(और पढ़ें - मासिक धर्म के दौरान पेट फूलना)

अगर दवा लेने से भी आराम न आए, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. डॉक्टर पीड़िता की अवस्था को देखते हुए इबुप्रोफेन की हाई डोज दे सकते हैं या कोई अन्य स्ट्रांग पेनकिलर दे सकते हैं. कुछ मामलों में महिलाओं को दर्द या ऐंठन से राहत दिलाने के लिए दिन में तीन बार 800 मिलीग्राम तक की दवा भी दी जा सकती है.

(और पढ़ें - पीरियड्स में दर्द के घरेलू उपाय)

पीरियड्स के दौरान पेट में दर्द होना, पेट के निचले हिस्से में क्रैंप्स पड़ना आम बात है. अपनी लाइफ में महिलाएं और लड़कियां पीरियड्स के दौरान कभी न कभी ये दर्द महसूस करती हैं. हल्के दर्द से लेकर गंभीर पेट दर्द तक के लिए बाजार में कई पेनकिलर्स, नॉन-स्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स मौजूद है. शोधों में पीरियड्स के दौरान पेट में दर्द से राहत पाने के लिए सबसे इफेक्टिव एसिटामिनोफेन को माना गया है. किसी भी दवा का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूरी है, क्योंकि आपकी मेडिकल हिस्ट्री के मुताबिक ही डॉक्टर सही दवा देते हैं.

(और पढ़ें - पीरियड में चक्कर आने के उपाय)

Dr. Hrishikesh D Pai

Dr. Hrishikesh D Pai

प्रसूति एवं स्त्री रोग
39 वर्षों का अनुभव

Dr. Archana Sinha

Dr. Archana Sinha

प्रसूति एवं स्त्री रोग
15 वर्षों का अनुभव

Dr. Rooma Sinha

Dr. Rooma Sinha

प्रसूति एवं स्त्री रोग
25 वर्षों का अनुभव

Dr. Vinutha Arunachalam

Dr. Vinutha Arunachalam

प्रसूति एवं स्त्री रोग
29 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ