myUpchar सुरक्षा+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

एंडोमेट्राइटिस आपके गर्भाशय की परत की सूजन को कहा जाता है। यह स्थिति आमतौर पर एक महिला में बच्चें को जन्म देने के बाद होती है, लेकिन यह उन महिलाओं में भी हो सकती है जो गर्भवती नहीं हैं।

(और पढ़े - डिलीवरी के बाद की समस्याओं के उपाय)

एंडोमेट्राइटिस और एंडोमेट्रियोसिस दोनों अलग-अलग है, हालांकि, दोनों ही स्थितियां गर्भाशय की परत को प्रभावित करती हैं। एक अन्य बच्चेदानी से संबंधित स्थिति को एंडोमायोमेट्राइटिस कहा जाता है, इस स्थिति के दौरान गर्भाशय की भीतरी परत में सूजन होती है, जिसे मायोमेट्रियम कहा जाता है। एंडोमेट्रिटिस की अवधि छोटी रहने की संभावना होती है, इसका इलाज करना एंडोमेट्रियोसिस के इलाज की तुलना में आसान है।

इस लेख में विस्तार से एंडोमेट्राइटिस यानी बच्चेदानी में सूजन की बीमारी के बारे में बताया गया है। जिसमें बच्चेदानी में सूजन के कारण, लक्षण, निदान, इलाज और जटिलताएं शामिल हैं। इस लेख में हमने एंडोमेट्राइटि और प्रजनन क्षमता के बीच संबंध को भी स्पष्ट किया है।

(और पढ़े - प्रजनन क्षमता बढ़ाने के घरेलू उपाय)

  1. एंडोमेट्राइटिस क्या है - Endometritis kya hai in hindi
  2. गर्भाशय में सूजन के लक्षण - Bachedani me sujan ke lakshan in hindi
  3. बच्चेदानी में सूजन आने के कारण और जोखिम कारक - Garbhshay me sujan ke karan in hindi
  4. गर्भाशय में सूजन से बचाव के उपाय - Bachdani me sujan se bachav ke upay in hindi
  5. बच्चेदानी में सूजन की जांच - Garbhsahay me sujan ke janch in hindi
  6. गर्भाशय (बच्चेदानी) में सूजन का इलाज - Bachdani me sujan ka ilaj in hindi
  7. गर्भाशय में सूजन से होने वाले नुकसान - Endometritis complications in hindi
  8. बच्चेदानी में सूजन के डॉक्टर

बच्चेदानी (गर्भाशय) में सूजन क्या है?

एंडोमेट्राइटिस का हिंदी में अर्थ है गर्भाशय या बच्चेदानी (एंडोमेट्रियम) की परत में सूजन। आमतौर पर महिलाओं की बच्चेदानी में यह सूजन किसी संक्रमण के कारण होती है। हालाँकि, यह इतनी खतरनाक बीमारी नहीं है, लेकिन इसका जल्द से जल्द इलाज करना महत्वपूर्ण है। आपके डॉक्टर द्वारा इसका इलाज एंटीबायोटिक दवाओं के प्रयोग से किए जाने पर आम तौर पर यह सूजन दूर हो जाती है।

(और पढ़े - लक्षणों से बीमारी की पहचान करें)

एंडोमेट्राइटिस से महिला के गर्भवती होने या रहने की क्षमता पर असर पड़ता है। बच्चेदानी की सूजन निशान का कारण बन सकती है, जो गर्भाशय की दीवार के भीतर भ्रूण को सामान्य रूप से प्रत्यारोपित और विकसित होने से रोकती है।

(और पढ़े - गर्भाशय में बच्चे के विकास का वीडियो)

2016 में प्रकाशित एक शोध से पता चलता है कि क्रोनिक एंडोमेट्राइटिस निम्नलिखित तरीकों से प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है -

  • उर्वरित अंडे को गर्भाशय के अस्तर या परत में प्रत्यारोपित होने से रोककर
  • बार-बार गर्भपात की आशंका में वृद्धि करके

हालाँकि, यही अध्ययन रिपोर्ट यह भी बताती है कि एंटीबायोटिक द्वारा उपचार से प्रजनन क्षमता में सुधार हो सकता है और गर्भधारण में सफलता मिलने की संभावना में वृद्धि हो सकती है।

(और पढ़े - गर्भवती होने का तरीका)

2018 के एक अध्ययन में 95 महिलाओं के ऊपर अध्ययन किया जिनको प्रजनन संबंधी परेशानियां थी। उन्होंने पाया कि इन महिलाओं में से आधे से अधिक को पुरानी एंडोमेट्राइटिस थी और एंटीबायोटिक थेरेपी से इनके लक्षणों में 80 प्रतिशत से अधिक सुधार हो गया। सफल उपचार के साथ, इन महिलाओं में गर्भावस्था और प्रसव की दर में भी वृद्धि हुई थी।

प्रजनन विशेषज्ञ कभी-कभी सुझाव देते हैं कि महिलाओं की एंडोमेट्राइटिस के लिए जांच की जानी चाहिए और इसका इलाज किया जाना चाहिए। विशेष रूप से जब भ्रूण अच्छी गुणवत्ता वाले हो इसके बावजूद इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) के कई चक्र यदि विफल रहते हैं या बार-बार गर्भपात हो रहा हो।

बच्चेदानी में सूजन का इलाज न किए जाने पर ये संक्रमण प्रजनन अंगों, प्रजनन संबंधी मुद्दों और अन्य सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं में जटिलताओं का कारण बन सकते हैं।

बच्चेदानी में सूजन के लक्षण आमतौर पर निम्नलिखित हो सकते हैं -

यदि आपको कभी भी पेल्विस पेन या असहजता का सामना करना पड़ रहा है या असामान्य डिस्चार्ज या असामान्य रक्तस्राव है, तो अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए। कुछ पेल्विक संक्रमणों के कारण बहुत गंभीर जटिलताएं हो सकती है, इसलिए उपचार शुरू करना आवश्यक होता है।

बच्चेदानी में सूजन आमतौर पर संक्रमण के कारण होती है। बच्चेदानी में सूजन का कारण बनने वाले कुछ संक्रमण निम्नलिखित है -

गर्भाशय ग्रीवा जो कि गर्भाशय का द्वार है आमतौर पर गर्भाशय में बैक्टीरिया को प्रवेश करने से रोकता है। हालांकि, जब गर्भाशय ग्रीवा खुली होती है, जैसे कि प्रसव या सर्जरी के दौरान, तो बैक्टीरिया गर्भ में प्रवेश कर सकते हैं।

सामान्यतः महिलाओं की योनि में सामान्य बैक्टीरिया मौजूद होते है, लेकिन बच्चेदानी में सूजन तब होती है जब बच्चे के जन्म के बाद बैक्टीरिया का यह प्राकृतिक मिश्रण बदल जाता है।

गर्भपात या प्रसव के बाद आपको संक्रमण होने का खतरा है जो बच्चेदानी में सूजन का कारण बन सकता है, खासकर लंबे लेबर या सिजेरियन डिलीवरी के बाद।

आपको ऐसी चिकित्सा प्रक्रिया के बाद बच्चेदानी में सूजन की अधिक आशंका होती है, जिसमें उपकरण को गर्भाशय ग्रीवा के माध्यम से गर्भाशय में प्रवेश कराने की आवश्यकता होती है, क्योंकि यह प्रक्रिया बैक्टीरिया को गर्भ में प्रवेश करने के लिए एक मार्ग प्रदान कर सकती है।

ऐसी कुछ मेडिकल प्रक्रियाएं जो एंडोमेट्राइटिस विकसित करने के आपके जोखिम को बढ़ा सकती हैं उनमें शामिल हैं -

बच्चेदानी में सूजन उस समय भी हो सकती है जब पेल्विक क्षेत्र में अन्य स्थितियों, जैसे गर्भाशय ग्रीवा में सूजन हो, जिसे “सर्विसाइटिस” कहा जाता है। ये स्थितियां कोई लक्षण पैदा कर भी सकती हैं या नहीं भी कर सकती हैं।

डिलीवरी या सर्जरी के दौरान स्टेराइल उपकरण और तकनीकों का उपयोग करके आपकी बच्चेदानी में सूजन की आशंका को कम किया जा सकता हैं। सीज़ेरियन डिलीवरी के दौरान या सर्जरी शुरू होने से ठीक पहले आपके डॉक्टर सावधानी बरतने के लिए आपको एंटीबायोटिक्स दे सकते हैं।

(और पढ़े - एंटीबायोटिक दवा लेने से पहले ज़रूर रखें इन बातों का ध्यान)

यदि बच्चेदानी में सूजन एसटीआई के कारण होती है तो एसटीआई से बच्चेदानी में होने वाली सूजन से बचाव के लिए निम्नलिखित उपाय किये जा सकते हैं -

  • नियमित स्क्रीनिंग करवाना और संदिग्ध एसटीआई का जल्दी निदान करना
  • स्वयं और आपके साथी दोनों अपने एसटीआई के लिए निर्धारित सभी उपचारों को पूरा करें
  • कंडोम का उपयोग करने जैसे सेक्स के सुरक्षित तरीकों का पालन करें।

जब किसी महिला को एंडोमेट्राइटिस विकसित होने का खतरा होता है, जैसे कि निर्धारित पेल्विक प्रक्रिया या सर्जरी से पहले, डॉक्टर इसे होने से रोकने के लिए एंटीबायोटिक दवाएं लिख सकते हैं। आपको अपने डॉक्टर के कहे अनुसार इन्हें लेना चाहिए।

यदि आप एंडोमेट्राइटिस के किसी भी लक्षण का सामना कर रही हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें, ताकि किसी भी गंभीर जटिलता को पैदा होने से रोका जा सकें।

आपकी डॉक्टर सबसे पहले आपका शारीरिक और पेल्विक परीक्षण करेंगी। वे टेंडरनेस और डिस्चार्ज के संकेतों का पता करने के लिए आपके पेट, गर्भाशय और गर्भाशय ग्रीवा की भी जांच करेंगी। निम्नलिखित परीक्षण भी बच्चेदानी में सूजन का निदान करने में मदद कर सकते हैं -

  • सर्वाइकल कल्चर - क्लैमाइडिया और गोनोकोकस (बैक्टीरिया जो गोनोरिया का कारण बनता है) जैसे संक्रमण पैदा करने वाले बैक्टीरिया का पता करने के लिए गर्भाशय ग्रीवा से नमूनों या कल्चर को लेकर परीक्षण किया जा सकता है।
  • योनि का अल्ट्रासाउंड - अल्ट्रासाउंड परीक्षण में आपके गर्भाशय (गर्भ) और अंडाशय के अंदर की तस्वीरों को दिखाने के लिए ध्वनि तरंगों का उपयोग किया जाता है। आपकी योनि में एक छोटी ट्यूब रखी जाती है। आपके गर्भाशय और अंडाशय की तस्वीरें टीवी जैसी स्क्रीन पर देखी जाती हैं।
  • वेट माउंट - वेट माउंट में गर्भाशय ग्रीवा से डिस्चार्ज को एकत्र किया जा सकता है और एक माइक्रोस्कोप के नीचे देखा जा सकता है। यह संक्रमण या सूजन के अन्य कारणों की पहचान करने में मदद कर सकता है।
  • सीटी स्कैन - सीटी स्कैन परीक्षण को सीएटी स्कैन भी कहा जाता है। इसमें एक एक्स-रे मशीन आपके पेट की तस्वीरें लेने के लिए कंप्यूटर का उपयोग करती है। डॉक्टर को बेहतर चित्र देखने में मदद करने के लिए चित्रों को लेने से पहले आपको डाई दी जा सकती है। यदि आपको कंट्रास्ट डाई से एलर्जी हो तो अपने डॉक्टर को इसके बारे में पहले ही बता दें।
  • लैप्रोस्कोपी या हिस्टोरोस्कोपी - लैप्रोस्कोपी आपके गर्भाशय की परत को देखने के लिए किया जाता है। लाइट और कैमरा के साथ एक छोटा सा स्कोप आपकी योनि से गर्भाशय ग्रीवा में रखा जाता है। सही से देखने में मदद के लिए लिक्विड या गैस को स्कोप के माध्यम से रखा जा सकता है। इस टेस्ट के दौरान आपके गर्भ से ऊतक का नमूना भी लिया जा सकता है।
  • एंडोमेट्रियल बायोप्सी - गर्भाशय की परत से परीक्षण करने के लिए ऊतक की एक छोटी मात्रा को लिया जाता है, जिसे एंडोमेट्रियल बायोप्सी कहा जाता है।

आपकी सफेद रक्त कोशिका (डब्ल्यूबीसी) की गिनती और एरिथ्रोसाइट सेडीमेंटेशन रेट (ईएसआर) को मापने के लिए रक्त परीक्षण भी किया जा सकता है। एंडोमेट्राइटिस आपके डब्लूबीसी की गिनती और आपके ईएसआर दोनों में वृद्धि का कारण बन जाएगा।

(और पढ़े - सफेद रक्त कोशिकाएं बढ़ाने के उपाय)

जब डॉक्टर एंडोमेट्राइटिस का इलाज करते हैं, तो उनका उद्देश्य गर्भाशय से संक्रमण और सूजन को दूर करना होता है। बच्चेदानी में सूजन का इलाज करने के लिए डॉक्टर निम्नलिखित उपाय अपना सकते हैं -

  • एंटीबायोटिक्स - यह दवा बैक्टीरिया के कारण होने वाले संक्रमण से लड़ने या रोकने के लिए दी जाती है। आपको दिए गए निर्देश के अनुसार इन्हें लें।
  • एवेक्युएशन - एवेक्युएशन जन्म या एबॉर्शन के बाद आपके गर्भ में छूट गए ऊतकों को हटाने के लिए किया जाता है।
  • नीडल एस्पिरेशन - आपके पेट में बना फोड़ा निकालने के लिए इसकी आवश्यकता हो सकती है। एक सुई आपके पेट या योनि के माध्यम से अंदर रखी जा सकती है और पस को हटाने के लिए उपयोग की जाती है।
  • सर्जरी - पस और संक्रमित ऊतक को हटाने के लिए आपकी सर्जरी भी की जा सकती है।

अगर आपके डॉक्टर को पता चलता है कि आपको एसटीआई है तो आपके यौन साथी का भी इलाज करने की आवश्यकता हो सकती है। अपने डॉक्टर द्वारा निर्धारित सभी दवाओं को खत्म करना सही इलाज के लिए आवश्यक है।

(और पढ़े - सुरक्षित सेक्स कैसे करें)

अपनी स्वास्थ्य स्थिति और इसका इलाज कैसे किया जा सकता है, इसके बारे में अपने डॉक्टर से जानें। यह तय करने के लिए कि आप किस तरह का इलाज प्राप्त करना चाहते हैं, अपने डॉक्टर के साथ उपचार के विकल्पों पर चर्चा करें।

ऊपर दी गई जानकारी केवल एक शैक्षिक उद्देश्य के लिए है। यह आपकी व्यक्तिगत स्थितियों के उपचार के लिए चिकित्सा सलाह नहीं है। यह देखने के लिए कि क्या यह आपके लिए सुरक्षित और प्रभावी है, अपने डॉक्टर, नर्स या फार्मासिस्ट से बात करें।

(और पढ़े - गर्भावस्था के बाद सूजन का इलाज)

आमतौर पर यदि किसी महिला को बच्चेदानी में सूजन है और उसका सही इलाज करवा लिया जाता है तो एंडोमेट्राइटिस बिना किसी अन्य जटिलता और समस्या के ठीक हो जाता है।

यदि इस संक्रमण का एंटीबायोटिक्स से इलाज नहीं किया जाता है तो आप अनेक जटिलताओं और यहां तक ​​कि गंभीर बीमारी का अनुभव कर सकते हैं। ऐसी ही कुछ बच्चेदानी में सूजन की जटिलताएं नीचे दी गयी हैं -

  • बांझपन हो सकता है। (और पढ़े - बांझपन के घरेलू उपाय)
  • पेल्विक पेरिटोनिटिस, एक सामान्य संक्रमण पेल्विक संक्रमण हो सकता है।
  • पेल्विस या गर्भाशयमें फोड़े या पस जमा हो सकता है।
  • सेप्टिसिमीया ( रक्त में होने वाला बैक्टीरिया,) से सेप्सिस का कारण बन सकता है, जो एक गंभीर संक्रमण है ये बहुत जल्दी हो सकता है। यह सेप्टिक शॉक (एक प्रकार का रक्त संक्रमण है जो निम्न ब्लड प्रेशर का कारण बनता है।) का कारण बन सकता है, इससे आपकी जान को खतरा हो सकता है। दोनों का जल्दी से जल्दी अस्पताल में उपचार की आवश्यकता होती है।

क्रोनिक एंडोमेट्राइटिस, एंडोमेट्रियम की पुरानी सूजन है। इसका रोग जनक (पैथोजन) मौजूद रहता है लेकिन कम संक्रमण पैदा करता है और अधिकांश महिलाओं में कोई लक्षण नहीं होता है या लक्षणों के परिक्षण में गलती हो सकती है। हालांकि, पुराने एंडोमेट्राइटिस को बांझपन से संबंधित पाया गया है।

(और पढ़े - प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए क्या खाएं)

Dr. Deepak Waghmare

Dr. Deepak Waghmare

सामान्य चिकित्सा

Dr. Anson Alber Macwan

Dr. Anson Alber Macwan

सामान्य चिकित्सा

Dr. Sujith

Dr. Sujith

सामान्य चिकित्सा

और पढ़ें ...