कभी कभी ऐसी स्थिति होती है, जब हम कुछ छुट्टियों पर जा रहे होते हैं या किसी महत्वपूर्ण कार्यक्रम में भाग ले रहे होते हैं और अपने मासिक धर्म की तारीख के बारे में थोड़ा सा चिंतित हो जाते हैं। सबसे अच्छा तरीका है मासिक धर्म का जल्दी होना, ताकि आप सौ प्रतिशत तनावमुक्त रह सकें।

(और पढ़ें - पीरियड मिस होने के कारण)

ऐसे कई प्राकृतिक तरीके हैं जो समय से पहले मासिक धर्म लाने में सहायक हैं और एकदम सुरक्षित हैं।

(और पढ़ें - पीरियड लाने के लिए क्या खाना चाहिए)

  1. मासिक धर्म जल्दी लाना कब हो सकता है जरूरी
  2. रुके हुए पीरियड्स लाने के उपाय
  3. पीरियड लाने का उपाय
  4. पीरियड्स जल्दी लाने के उपाय
  5. पीरियड्स जल्दी लाने की मेडिसिन
पीरियड जल्दी लाने के उपाय व टेबलेट के डॉक्टर

पीरियड्यस जल्दी लाने के कई कारण हो सकते हैं। कई बार ऐसी परिस्थितियां आ जाती है जब महिलाओं को माहवारी जल्दी लाना जरूरी होता है। इसके अलावा देरी से माहवारी होने से भी कई तरह की समस्याएं होना शुरू हो जाती है। इस कारण से महावारी समय पर आना महिलाओं के लिए सही माना जाता है। किन परिस्थितियों में महिलाओं को जल्द पीरियड्स लाने की जरूरत होती है और महिलाओं को ऐसी आवश्यकता क्यों होती है इन कारणों के बारे में आगे बताया जा रहा है।

किसी पार्टी या समारोह में जाना

कई बार महिलाओं को किसी पार्टी या समारोह में जाना जरूरी होता है। इस दौरान पीरियड्स में होने वाली अन्य समस्याओं से बचने के लिए महिलाओं के पास इनको जल्द लाने का ही विकल्प बचाता है। ऐसा महिलाएं इसलिए भी सोचती हैं क्योंकि पीरियड्स के दौरान अधिकतर महिलाओं को बैचेनी व पेट में दर्द की समस्या हो जाती है। इन समस्याओं के कारण महिलाएं पार्टी व समरोह के खुशनुमा पलों में भरपूर आनंदित नहीं हो पाती हैं। इस परिस्थिति से बचने के लिए महिलाओं को अपने पीरियड्स जल्द लाने की जरूरत महसूस होती है।

(और पढ़ें - मासिक धर्म में अधिक रक्त स्त्राव)

अनियमित मासिक धर्म चक्र

मासिक धर्म चक्र का अनियमित होना भी मासिक धर्म को जल्द लाने का बड़ा कारण माना जाता है। महिलाओं का मासिक धर्म चक्र नियमित होने पर पीरियड्स 20 से 32 दिनों के बीच में होते हैं। मासिक धर्म होने का यह चक्र जब अनियमित हो जाता है तो महिलाओं को कई तरह की परेशानियां होना शुरू हो जाती हैं। इन परेशानियों को ठीक करने की प्रक्रिया में महिलाओं को मासिक धर्म जल्द लाने की आवश्कता होती है।

(और पढ़ें - मासिक धर्म से होने वाली समस्याएं)

माहवारी के चक्र को प्रभावित करती है रजोनिवृत्ति

रजोनिवृत्ति की स्थिति महिलाओं को अधिक उम्र में सताने लगती है। रजोनिवृत्ति की समस्या आपके पीरियड्स को प्रभावित करती है। इसके चलते आपके पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं। इस समस्या में आप खुद कुछ नहीं कर पाती हैं। ऐसे में आपको किसी विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए।

(और पढ़ें - रजोनिवृत्ति के लक्षण)

प्रेग्नेंसी टालने के लिए जल्द पीरियड्स लाना

अधिकतर महिलाओं के दिमाग में यह प्रश्न रहता है कि क्या जल्द पीरियड्स लाने से प्रेग्नेंसी को टाला जा सकता है? महिलाओं की शारीरिक की बनावट इस तरह से होती है कि वह बच्चे को जन्म देने में सक्षम होती हैं। लेकिन प्रेग्नेंसी के लिए तैयार न होने वाली महिलाओं के लिए यह स्थिति एक समस्या का कारण बन जाती है और यह उनके मानसिक और शारीरिक दोनों ही स्वास्थ्य पर वितरीत प्रभाव डालती है। इस कारण जो महिलाएं प्रेग्नेंट नहीं होना चाहती, वह माहवारी को जल्द लाने के प्रयास करने लगती हैं।

(और पढ़ें - प्रेग्नेंसी रोकने के उपाय)

स्तनपान कराना

माहवारी को जल्द ना ला पाने की बाधाओं में स्तनपान को भी शामिल किया जाता है। दरअसल स्तनपान कराने वाली महिलाओं के मासिक धर्म कई बार रूक जाते हैं। ऐसा उनके शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण होता है। स्तनपान कराने के दौरान कई महिलाएं चाहती हैं कि उनके पीरियड्स नियमित हो जाएं। (और पढ़ें - स्तनपान से जुड़ी समस्याएं और समाधान)

Women health supplements
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

सहजन

सहजन से आपका मासिक धर्म चक्र को जल्द किया जा सकता है। सहजन के पेड़ की पत्तियां और फूलों में प्रचुर मात्रा में विटामिन सी, विटामिन ए और ऑयरन पाया जाता है। यह सभी विटामिन प्रेग्नेंसी को टालने के लिए भी काम आते हैं। इसके सेवन के लिए आपको एक कप सहजन की पत्तियां लेनी होगी। इसके बाद आप इनका जूस निकाल लें और सुबह उठने के बाद इस जूस का सेवन करें। इसके अलावा आप सहजन को हल्दी और नमक के साथ पानी में उबाल कर खाली पेट इस पानी का सेवन कर सकती हैं। इससे आपके पीरियड्स जल्द होते हैं। लेकिन आपका ब्लड प्रेशर कम हो तो इस उपाय को न करें।

(और पढें - पीरियड न आने के कारण)

नारियल पानी

नारियल पानी में कई ऐसे प्राकृतिक गुण मौजूद होते हैं जो आपके गर्भाशय को सही करते हैं। माहवारी को जल्द लाने के लिए आप इसका इस्तेमाल कर सकती हैं। आपको  खाली पेट नारियल पानी का सेवन होगा और इसके बाद भी आप करीब चार से पांच घंटों तक कुछ न खाएं। इस बीच आप पानी पी सकती हैं। इस दौरान आपको करीब 300 से 400 मिली लीटर ताजा नारियल पानी को धीरे-धीरे पीना चाहिए। बेहतर परिणाम पाने के लिए आप शाम को भी नारियल पानी पी सकती हैं।

(और पढ़ें - नारियल तेल के फायदे और नुकसान

तनाव से दूर रहना

तनाव के दौरान आपको कई तरह के रोग उत्पन्न होना शुरू हो जाते हैं। इतना ही नहीं तनाव में रहने के कारण आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ता है। तनाव होने से हार्मोन का स्तर असंतुलित होता है। जिसका सीधा असर आपके मासिक धर्म पर पड़ता है। यदि आप मासिक धर्म को जल्दी लाना चाहते हैं तो आपको तनाव को दूर करना होगा। इसके लिए आप डॉक्टर से परामर्श ले सकती हैं या योग से भी अपने तनाव को कम कर सकती हैं। तनाव के कम होने करने से आपका मासिक धर्म सही समय पर या जल्द आना शुरू हो जाएगा।

(और पढ़ें – तनाव से राहत के लिए योग)

मसाले

  • मेथी के बीज - पानी में बीज को उबालें, उन्हें छानें और पानी पीते रहें।
  • सौंफ के बीज - रात में एक गिलास पानी में दो छोटी चम्मच सौंफ के बीज को मिला लें, छानें और सुबह इसे पिएं।
  • धनिया के बीज - 1 छोटी चम्मच धनिया बीज को दो कप पानी में उबालें जब तक की यह पानी एक कप ना हो जाए। बीज को छानें और कुछ दिनों के लिए एक दिन में तीन बार इसे पिएं।
  • तिल के बीज -दिन में 1 चम्मच तिल के बीज को 2 बार गर्म पानी के साथ लें।

(और पढ़ें - अनियमित मासिक धर्म के कारण और उपाय)

गर्म पानी की बोतल

क्या आप जानते हैं कि गर्म पानी पैक भी जल्दी मासिक धर्म लाने में मदद कर सकते हैं? आप सबको बस दैनिक रूप से 10-15 मिनट के लिए अपने पेट के निचले हिस्से पर एक गर्म पानी पैक रखना है जब तक आपको मासिक धर्म शुरू ना हो जाए।

इसके अन्य उपाय में आप अरंडी के तेल (castor oil) का भी इस्तेमाल कर सकती हैं। इस उपाय में आपको एक कपड़े को अरंडी के तेल में हल्का सा निचोड़ना होगा। इसके बाद इस कपड़े को अपने पेट के निचले हिस्से पर रखते हुए इसके ऊपर से गर्म पीनी के पैक को रखना होगा। इसे दस से पंद्रहा मिनट तक पेट की सिकाई करें। दिन में दो से तीन बार इसी तरह से पेट की सिकाई करें। ऐसा करने से भी आपको आराम मिलता है और पीरियड्स जल्दी होते हैं।

(और पढ़ें - मासिक धर्म में दर्द)

सम्भोग

सेक्स के दौरान आपके शरीर के द्वारा सेक्स हार्मोन रिलीज (स्रावित) होते हैं जो मासिक धर्म पहले लाने में सहायक होते हैं। इसके अलावा सेक्स आपको तनाव मुक्त करने का भी बेहतरीन उपाय माना जाता है।  सेक्स करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी बढ़ोतरी होती है। शरीर को हर्मोन नियंत्रित होने से अन्य कई तरह की परेशानिया अपने आप ठीक हो जाती है। इसलिए मासिक धर्म को नियमित करने के उपायों में इसको भी शामिल किया जाता है। 

(और पढ़ें - सुरक्षित सेक्स के तरीके और sex kaise kare)

अदरक की चाय

इस उपाय में आपके लिए एक दिन में 2 कप अदरक की चाय पर्याप्त है। इसको बनाने के लिए आप दो से तीन चम्मच कद्दूकस किया हुआ अदरक ले लें। इसके बाद दो कप पानी में अदरक को डालकर गैस पर करीब दस मिनट तक पकने के लिए छोड़ दें। इसके बाद गैस बंद कर इसको छान लें और थोड़ा-थोड़ा पीएं। यदि इसका स्वाद अच्छा न लगे तो आप इसमें शहदनींबू या तुलसी की पत्तियां को भी मिला सकती है।

(और पढ़ें – अदरक की चाय के फायदे)

Pushyanug Churna
₹450  ₹499  9% छूट
खरीदें

दालचीनी

दालचीनी शरीर की गर्मी को बढ़ाती है। इसमें मौजूद तत्व इंसुलिन के स्तर को नियमित करते हैं। इसके सेवन के लिए आपको आधा चम्मच दालचीनी का पाउडर को गर्म दूध में मिलाकर पी सकती हैं, जब तक आपको सही परिणाम न मिलें तब तक इसका नियमित सेवन करती रहें। इसके अलावा आप खाने और चाय में दालचीनी के पाउडर को डालकर ग्रहण कर सकती हैं।

(और पढ़ें - दालचीनी दूध के फायदे)

विटामिन सी

अधिक फल खाएं जो कि विटामिन सी से भरपूर हों। इन फलों के सेवन से शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन का स्तर ठीक होता है। विटामिन सी से गर्भाशय के अंदर की परत मजबूत बनती है और पीरियड्स होने में मुश्किल नहीं होती है। विटामिन सी को लेने के लिए महिलाएं फलों के जूस का भी सेवन कर सकती हैं। इसके अलावा टमाटरब्रोकली और पालक खाने से भी पीरियड्स जल्द आने में मदद मिलती है।

(और पढ़ें – विटामिन सी के स्रोत)

पपीता

पपीता कैरोटीन में समृद्ध है। यह एस्ट्रोजन हार्मोन को प्रोत्साहित कर सकता है जो कि महिलाओं में मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करता है। मासिक धर्म को नियमित करने के लिए पपीते का इस्तेमाल किया जाता है। यह घरेलू उपाय के रूप में वर्षों से प्रयोग में लाया जा रहा है। यह आपके शरीर की गर्मी को नियंत्रण में रखता है। इससे एस्ट्रोजन हार्मोन उत्तेजित होते हैं और इस कारण आपके मासिक धर्म नियमित हो पाता है। पपीते के अलावा आप अपने आहार में अनानास, कद्दू, अंडेगाजरपालक आदि जैसे अन्य कैरोटीन युक्त भोजन भी शामिल कर सकते हैं। 

(और पढ़ें – पपीते के बीज के फायदे)

अक्सर महिलाएं पीरियड्स जल्दी लाने की मेडिसिन जानना चाहती हैं। लेकिन आपको बता दें मासिक धर्म जल्दी लाने की कोई दवा नहीं है। फिर भी इंटरनेट पर कई वेबसाइट हैं जो गलत मेडिसिन का नाम लिख देती हैं। उनकी तरफ से तो ये गैर-जिम्मेदाराना बात है ही, लेकिन ऐसे ही बिना डॉक्टर की सलाह से यह दवा लेने से आपको गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। (और पढ़ें - पीरियड के कितने दिन बाद गर्भ ठहरता है)

नीचे हमने उस दवा के बारे में बताया है जो कुछ लोग और वेबसाइट पीरियड्स जल्दी लाने की मेडिसिन के रूप में सुझाते हैं, लेकिन ये बिलकुल गलत है।

माहवारी लाने की दवा के नुक्सान

Primolut N के कई साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं अगर इसे डॉक्टर की देखरेख में न लिया जाए। 

इसके आम साइड इफेक्ट्स इस प्रकार हैं -

  • चेहरे के बाल ज्यादा बढ़ना 
  • स्तन बढ़ना
  • वजन घटना या बढ़ना
  • तबियत खराब होती महसूस होना 
  • कब्ज 
  • दस्त
  • मुँह सूखना
  • माइग्रेन होना 
  • अवसाद होना

इसके कुछ दुर्लभ और गंभीर साइड इफेक्ट्स इस प्रकार हैं -

  • दिखाई कम देना
  • सांस लेने में दिक्कत होना
  • खांसी में खून आना
  • छाती में तेज दर्द होना
  • सूजन 
  • त्वचा में खुजली और चकत्ते होना
  • निगलने में दिक्कत होना

तो ये दवा ऐसे ही न लें, और याद रखें कि पीरियड्स जल्दी लाने की मेडिसिन कोई है ही नहीं। 

अगर आप पीरियड्स जादि लाना ही चाहती हैं तो कुछ प्राकृतिक उपाय इस्तेमाल करके देख सकती हैं। इनसे आपको हानि नहीं होगी और आपके पीरियड्स जल्दी भी आ सकते हैं। ऐसे ही कुछ घरेलू उपाय नीचे बताये गए हैं।

(और पढ़ें - पीरियड्स रोकने के उपाय)

वजन घटाने का सही उपाय-मोटापे से परेशान? वजन कम करने में असफल? myUpchar आयुर्वेद मेदारोध फैट रेड्यूसर जूस द्वारा अब आसानी से वजन नियंत्रित करें। आज ही शुरू करें और स्वस्थ जीवन की ओर कदम बढ़ाएं।"

पीरियड्स जल्दी आने की टेबलेट का नाम

पीरियड्स जल्दी आने की उस टेबलेट का नाम है Primolut N जिसको लोग सुझाते हैं, लेकिन इस दवा का ये उपयोग बिलकुल भी नहीं है। वास्तव में Primolut N का उपयोग मासिक धर्म से जुड़ी कुछ समस्याओं का इलाज करने में किया जाता है, जैसे कि 

इसके अलावा Primolut N को एंडोमेट्रियोसिस के इलाज के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।

(और पढ़ें - Primolut N in Hindi)

वास्तव में Primolut N में "प्रोजेस्टोजेन" नामक दवा होती है जो महिला हॉर्मोन "प्रोजेस्टेरोन" की तरह काम करती है। इस लिए इस दवा के गलत इस्तेमाल से आपको साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जिनके बारे में नीचे बताया गया है।

Dr. Pratik Shikare

Dr. Pratik Shikare

प्रसूति एवं स्त्री रोग
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Payal Bajaj

Dr. Payal Bajaj

प्रसूति एवं स्त्री रोग
20 वर्षों का अनुभव

Dr Amita

Dr Amita

प्रसूति एवं स्त्री रोग
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Sheetal Chandorkar

Dr. Sheetal Chandorkar

प्रसूति एवं स्त्री रोग
6 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें