एक महिला के जीवन का प्रजनन काल, मासिक धर्म की शुरुआत (पहले परियड) या मेनार्चे और मासिक धर्म की स्थायी समाप्ति (रजोनिवृत्ति) या मैनोपॉज के बीच का काल होता है। अपने जीवन के इस चरण में महिला ओव्यूलेट करती है, यानी उनका अंडाशय हर महीने एक अंडा या मादा युग्मक पैदा करता है। इसी के चलते महिला गर्भधारण में सक्षम होती है। अंडाशय जहां अंडे का उत्सर्जन करते हैं और उसे रिलीज करते हैं, वहीं गर्भाशय एक उस अंडे के गर्भाशय में पहुंचने का इंतजार करता है और गर्भ की मेजबानी के लिए खुद को तैयार करता है। इस दौरान गर्भाशय की आंतरिक ग्रंथियों का अस्तर (एंडोमेट्रियम) मोटा हो जाता है और गर्भाशय में रक्त आपूर्ति बढ़ जाती है। इस चक्र के अंत तक जब महिला गर्भवती नहीं होती है तो गर्भाशय में जमा अतिरिक्त ऊतक टूटकर गिरने लगते हैं और यह योनि से रक्तस्राव के रूप में बाहर निकल जाते हैं। इस स्राव को ही मासिक धर्म या पीरियड्स कहते हैं और इसमें रक्त, बलगम व ऊतक होते हैं। यह स्राव आमतौर पर 2 से 8 दिनों तक चलता है। ध्यान देने वाली बात यह है कि मासिक धर्म चक्र और मासिक धर्म अलग-अलग होते हैं। मासिक धर्म चक्र एक संभावित गर्भावस्था की तैयारी में पूरे महीने शरीर के अंदर होने वाली घटनाओं के पूरे क्रम को कहा जाता है, जबकि मासिक धर्म उन दिनों की अवधि को कहा जाता है जब एक महिला को रक्तस्राव का अनुभव होता है। मासिक धर्म चक्र प्रजनन हार्मोन के स्तर में होने वाले परिवर्तनों के साथ आगे बढ़ता है और विभिन्न चरणों से गुजरता है।

मासिक धर्म महिलाओं के प्रजनन जीवन का अभिन्न हिस्सा होता है। किसी भी लड़की के जीवन के पहले मासिक धर्म चक्र को पहला पीरियड, मासिक धर्म की शुरुआत, रजोदर्शन या अंग्रेजी में मेनार्चे  कहा जाता है। अलग-अलग महिलाओं के मासिक धर्म की शुरुआत अलग-अलग समय पर होती है। यह यौवन की शुरुआत और उनके प्रजनन वर्षों की शुरुआत का प्रतीक है। हालांकि, मासिक धर्म की शुरुआत के साथ ही यह जरूरी नहीं कि युवती में ओव्यूलेशन की भी शुरुआत हो जाए। पहले कुछ मासिक धर्म चक्र, यहां तक कि पांच साल तक भी उनमें बिना ओव्यूलेशन के मासिक धर्म हो सकता है। कई बार ओव्यूलेशन और मासिक धर्म चक्र में तारतम्य भी नहीं होता। ऐसा इसलिए क्योंकि, ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (एलएच) और फोलिकल-स्टिमुलेटिंग हार्मोन (एफएसएच) जैसे हार्मोन को स्थितरता प्रदान करने वाली हाइपोथैलेमस और पिट्यूटरी ग्रंथियां अब भी मासिक चक्र को नियंत्रित नहीं कर पायी हैं।

आमतौर पर, युवा लड़कियों में मासिक धर्म चक्र पहले कुछ वर्षों के लिए अनियमित होते हैं, लेकिन लगातार तीन महीनों या उससे अधिक के लिए मासिक धर्म नहीं होने को सेकंडरी एमेनोरिया कहा जाता है और प्राथमिक चिकित्सक, बाल रोग विशेषज्ञ या स्त्री रोग विशेषज्ञ को इस बारे में बताएं। विभिन्न क्षेत्र की लड़कियों में मासिक धर्म की शुरुआत अलग-अलग समय पर होती है। लेकिन इसकी औसत आयु 12.5 वर्ष है। मासिक धर्म की शुरुआत 9 वर्ष से पहले होने पर इसे अर्ली मेनार्चे कहा जाता है, जबकि 15 वर्ष की उम्र के बाद होने पर इसे मासिक धर्म की शुरुआत में देरी के रूप में देखा जाता है। हालांकि, मासिक धर्म की शुरुआत में देरी का कारण व्यक्ति के अंतर्निहित कारक हो सकते हैं। कुछ मामलों में इन कारकों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है। युवा लड़कियों के लिए मासिक धर्म की शुरुआत एक भ्रमित करने वाला और परेशान करने वाला समय हो सकता है और इसे ध्यान में रखते हुए माता-पिता को अपने बच्चों में होने वाले शारीरिक परिवर्तनों को संवेदनशीलता के साथ समझाना चाहिए। जरूरत पड़ने पर डॉक्टर या काउंसलर की मदद ले सकते हैं।

  1. मासिक धर्म चक्र के चरण - Phases of the menstrual cycle in Hindi
  2. मासिक धर्म की शुरुआत के संकेत और लक्षण - Menarche signs and symptoms in Hindi
  3. पीरियड आने की सही उम्र क्या है और अन्य पैरामीटर - Menarche age and other parameters in Hindi
  4. मासिक धर्म से जुड़ी स्वच्छता और सफाई - Menstrual health and hygiene in Hindi
  5. पहले मासिक धर्म से जुड़ी जटिलताएं - Complications associated with menarche in Hindi
पहली बार पीरियड्स आने की सही उम्र के डॉक्टर

मासिक धर्म चक्र को दो मुख्य चरणों में विभाजित किया जा सकता है। जिसे अंडाशय और गर्भाशय की एंडोमेट्रियल परत में एक साथ होने वाले परिवर्तनों के आधार पर वर्णित किया जा सकता है। दो चरणों (कूपिक/प्रोलिफेरेटिव) और (ल्यूटियल/स्रावी) को ओव्यूलेशन द्वारा अलग किया जाता है, जिसमें अंडाशय में विकासशील फॉलिकल से अंडा महिला के प्रजनन पथ में छोड़ा जाता है। मासिक धर्म चक्र की घटनाओं का सामान्य क्रम इस प्रकार है :

चरण 1: फॉलिक्युलर या प्रजनन चरण : पिछले मासिक धर्म की समाप्ति के बाद (जो आमतौर पर एक सप्ताह तक रहता है), नए मासिक धर्म चक्र का पहला चरण शुरू होता है। पिट्यूटरी ग्रंथि दो हार्मोन, फॉलिकल-स्टिमुलेटिंग हार्मोन (FSH) और ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (LH) को स्रावित करती है, जो अंडाशय में ओआसाइट या अंडे का विकास करते हैं। अंडाशय में मौजूद फॉलिकल्स के अंदर अंडे होते हैं जो ओवूलेशन के दौरान पूरी तरह से परिपक्व फॉलिकल्स के टूटने से रिलीज होता है। जैसे-जैसे फॉलिकल्स का विकास होता है, वे एस्ट्रोजन का उत्पादन करते हैं, यह हार्मोन गर्भाशय में उत्तकों का विकास करता है और संभावित गर्भावस्था के लिए गर्भाशय को तैयार करता है।

ओव्यूलेशन : मासिक धर्म चक्र में लगभग 14 दिनों में अंडाशय में बढ़ने वाले फॉलिकल्स पूरी तरह से परिपक्व हो जाते हैं और उनके द्वारा उत्पादित होने वाला एस्ट्रोजन अपने चरम पर पहुंच जाता है। अंडाशय में एस्ट्रोजन के स्तर में वृद्धि के साथ ही एक सकारात्मक संकेत पिट्यूटरी ग्रंथि को भेजा जाता है, ताकि वह और अधिक एलएच और एफएसएच का उत्पादन कर सके। जब एलएच का स्तर चरम पर पहुंच जाता है, तो परिपक्व फॉलिकल फट जाता है और उसके भीतर से अंडा निकलकर प्रजनन पथ में छोड़ दिया जाता है।

(और पढ़ें - पिट्यूटरी ग्रंथि में ट्यूमर के लक्षण)

चरण 2: ल्यूटियल या स्रावी चरण : ओव्यूलेशन के बाद, एस्ट्रोजन का स्तर गिर जाता है क्योंकि इसे पैदा करने वाले फॉलिकल्स अब खत्म हो जाते हैं। एस्ट्रोजन का स्तर कम होने पर गर्भाशय में उत्तकों का बनना बंद हो जाता है। भले ही गर्भाशय में ऊतकों का बढ़ना बंद हो गया हो, लेकिन इसमें ग्रंथियां सक्रिय होती हैं और गर्भाशय को संभावित भ्रूण की मेजबानी करने के लिए तैयार करती हैं। एस्ट्रोजन के स्तर में यह गिरावट पिट्यूटरी ग्रंथि को अधिक एफएसएच या एलएच जारी न करने का संकेत देती है। टूटे हुए फॉलिकल के शेष बचे टुकड़े खुद को कॉर्पस ल्यूटियम (ल्यूटियल चरण) नामक संरचना में पुनर्गठित करते हैं और उच्च प्रोजेस्टेरोन स्तर व कुछ एस्ट्रोजन का उत्पादन करते हैं। यदि गर्भावस्था शुरू हो गई है तो उसे बनाए रखने के लिए प्रोजेस्टेरोन हार्मोन आवश्यक होता है। गर्भावस्था या निषेचन न होने पर कॉर्पस ल्यूटियम वापस आ जाता है और एस्ट्रोजन की थोड़ी मात्रा कम हो जाती है, जिसके परिणामस्वरूप एंडोमेट्रियम की परत टूट जाती है जो मासिक धर्म के रक्तस्राव के रूप में बाहर निकल जाती है।

(और पढ़ें - प्रोजेस्टेरोन टेस्ट क्या होता है)

पहली बार मासिक धर्म होने पर छोटी लड़कियां परेशान हो सकती हैं। खासकर यदि उन्हें इसके बारे में जानकारी न हो तो यह अनुभव उनके लिए कठिनाईयों भरा हो सकता है। इस दौरान उनका विशेष ध्यान रखना चाहिए और बेहद संवेदनशीलता के साथ उनसे बात करनी चाहिए। हालांकि, अलग-अलग लड़कियों में मासिक धर्म की शुरुआत का अनुभव अलग-अलग हो सकता है, फिर भी निम्नलिखित संकेत और लक्षण आमतौर पर सभी में मौजूद होते हैं :

  • योनि से खून बहना : पैंटी में खून का धब्बा या खून दिखना मासिक धर्म की शुरुआत का पहला और सबसे स्पष्ट संकेत है। हालांकि, 9 साल से कम उम्र के बच्चों में योनि से रक्तस्राव, अन्य यौन विशेषताओं जैसे स्तनों का बढ़ना, जननांगों और बगल के बालों का उगना आदि के बिना ट्रॉमा जैसे किसी अन्य कारण से हो सकता है और ऐसे में तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए।
  • पेट में ऐंठन या मासिक धर्म के दौरान दर्द होना सभी उम्र की महिलाओं के लिए एक आम बात है। हालांकि, हल्का दर्द होना सामान्य बात मानी जाती है, लेकिन ज्यादा दर्द होने या महिला के दैनिक कार्यों में बाधा उत्पन्न होने की स्थिति को डिसमेनोरिया कहा जाता है। ऐसे में किसी अच्छे स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेना जरूरी हो जाता है।
  • प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) के अन्य लक्षण

कुछ महिलाओं को उनके मासिक धर्म की शुरुआत से पहले ही कई तरह के लक्षण अनुभव होते हैं, इन्हें आमतौर पर प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) के रूप में जाना जाता है। ये संकेत और लक्षण मासिक धर्म से कुछ दिन पहले शुरू होते हैं और मासिक धर्म समाप्त होने तक रह सकते हैं। पीएमएस के लक्षणों में शामिल हैं :

  • मासिक धर्म के आसपास हार्मोन के स्तर में बदलाव के कारण चेहरे पर मुंहासे या फोड़े दिखाई दे सकते हैं। ये पिंपल्स आमतौर पर मासिक धर्म समाप्त होने के बाद अपने आप ठीक हो जाते हैं।
  • इस दौरान पेट फूलना भी एक सामान्य बात है। हार्मोन के स्तर में बदलाव के कारण इस समय शरीर अतिरिक्त पानी बनाए रखता है।
  • कुछ महिलाओं को इस दौरान स्तनों में दर्द का अनुभव हो सकता है। दर्द को कम करने के लिए एक सपोर्टिव ब्रा पहनने की सलाह दी जाती है। यदि दर्द असहनीय हो, तो पेरासिटामोल या आइबुप्रोफेन जैसे ओवर-द-काउंटर एनाल्जेसिक ली जा सकती हैं। (और पढ़ें - क्या रात को सपोर्टिव ब्रा पहननी चाहिए)
  • पीठ के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है और यह पेट की ऐंठन से जुड़ा हो भी सकता है और नहीं भी। इस दौरान गर्म पानी की बोतल से कुछ आराम मिल सकता है। असहनीय दर्द के लिए ओवर-द-काउंटर एनाल्जेसिक या एनएसएआईडी ली जा सकती है।
  • कब्ज या दस्त : मासिक धर्म के दौरान महिलाओं में दस्त या कब्ज और दस्त की शिकायत आम बात है और इसकी समाप्ति पर यह अपने आप ठीक भी हो जाता है।
  • इस दौरान महिलाओं में अन्य दिनों के मुकाबले अधिक थकान महसूस होना सामान्य है। हालांकि, मासिक धर्म की वजह से आमतौर पर रोजमर्रा की जिंदगी और गतिविधियों पर असर नहीं पड़ता है, फिर भी यदि जरूरत लगे तो कुछ देर आराम करना फायदेमंद हो सकता है।
  • मासिक धर्म के दौरान हार्मोन के बदलते स्तर के कारण चिड़चिड़ापन, मूड स्विंग या अतिरिक्त भावनात्मक ऐहसास होना भी संभव है।
  • इस दौरान भूख ज्यादा लगना या कुछ खास खाने का मन करना भी आम है, क्योंकि मासिक धर्म शरीर की चयापचय दर और ऊर्जा की मांग को बढ़ा देता है। इसलिए, कोई शारीरिक परिश्रम नहीं होने के बावजूद भी आम दिनों के मुकाबले अधिक भूख लगना सामान्य है।
  • मासिक धर्म के रक्तस्राव की शुरुआत से कुछ दिन पहले ही आमतौर पर योनि में सफेद या रंगहीन द्रव मौजूद होता है।

(और पढ़ें - सफेद पानी का इलाज)

युवा लड़कियां अक्सर इस बात को लेकर चिंतित रहती हैं कि पीरियड्स में क्या सामान्य है और क्या नहीं। हालांकि, भिन्नताएं होना सामान्य बात है, लेकिन निम्नलिखित कुछ पैरामीटर को सामान्य माना जाता है और इनसे कुछ भी अलग महसूस हो तो तुरंत स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए :

  • मासिक धर्म कब शुरू होता है : 9 से 15 साल के बीच मासिक धर्म की शुरुआत होती है। इसकी औसत आयु लगभग 12.5 वर्ष है।
  • मासिक धर्म चक्र कितने दिन का होता है : हर 21 से 40 दिन के बीच होने वाला नियमित मासिक चक्र सामान्य है। मासिक धर्म चक्र का औसत 28 दिन है। इस चक्र के लगभग आधे समय में यानी लगभग 14 दिन में ओव्यूलेशन होता है।
  • मासिक धर्म में कितने दिन ब्लीडिंग होती है : दो से 8 दिनों तक रक्तस्राव होना सामान्य है। यदि 10 दिनों से ज्यादा समय तक ब्लीडिंग हो रही हो तो डॉक्टर से जांच करवा लेनी चाहिए।
  • मासिक धर्म में कितनी ब्लीडिंग होती है : अलग-अलग महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान ब्लीडिंग की मात्रा भी अलग-अलग होती है। आमतौर पर, मासिक धर्म के दूसरे दिन सबसे ज्यादा ब्लीडिंग होती है, इसके बाद यह प्रवाह कम हो जाता है। यदि दो घंटे से पहले ही टैम्पोन या पैड बदलने की आवश्यकता पड़ती है या एक सिक्के या उससे बड़े आकार के खून के थक्के निकलते हैं तो इसे ज्यादा ब्लीडिंग माना जाता है और ऐसे में स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए।

(और पढ़ें - क्या पीरियड्स में खून के थक्के आना सामान्य है)

एक बार जब किसी लड़की को मासिक धर्म आना शुरू हो जाता है, तो उसके पास मासिक धर्म से जुड़े कई स्वच्छता उत्पादों में किसी को चुनने का विकल्प होता है। निम्नलिखित कुछ उत्पाद आसानी से उपलब्ध होते हैं :

  • सैनिटरी नैपकिन : भारत में सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले उत्पाद हैं, जिसे सैनिटरी पैड या सिर्फ पैड नाम से भी पुकारा जाता है। इसमें एक तरफ चिपकने की सुविधा होती है और उस तरफ से इसे पैंटी की अंदरूनी तरफ से चिपका कर उपयोग किया जाता है। यह सैनिटरी नैपकिन मासिक धर्म के दौरान निकलने वाले खून को सोख लेता है और इस तरह से महिलाएं पूरे दिन इसे लगाकर रख सकती हैं। यह कई आकार में आता है और अधिक ब्लीडिंग होने पर या रात में बड़े आकार के सैनिटरी नैपकिन का उपयोग किया जाता है। संक्रमण से बचने के लिए हर 4 से 8 घंटे में नियमित रूप से पैड बदलना चाहिए।
  • टैम्पोन : भारत में इसे आमतौर पर इस्तेमाल नहीं किया जाता है। हालांकि, यह एक अच्छा विकल्प है। इसके इस्तेमाल के लिए आदत डालने की जरूरत पड़ती है। इसे धीरे से योनि के अंदर धकेला जाता है। इसके निचले हिस्से से एक धागा जुड़ा होता है जो योनि से बाहर निकला रहता है और उसे धीरे-धीरे खींचकर टैम्पोन को आसानी से बाहर निकाला जाता है। संक्रमण से बचाव के लिए टैम्पोन को हर 4 से 8 घंटे में बदलना चाहिए।
  • मेंसट्रुअल कप : सैनिटरी नैपकिन और टैम्पोन के मुकाबले यह एक बेहतर पर्यावरण अनुकूल विकल्प है। यह सिलिकॉन या रबड़ से बना एक छोटे कप के आकार का उत्पाद है। साफ हाथों से, इसे आधे में मोड़ा जाता है और टैम्पोन के समान ही योनि के अंदर धकेल दिया जाता है। इसके बाद मेंसट्रुअल कप को धीरे से घुमाया जाता है, ताकि यह अंदर जाकर खुल जाए। यदि इसे गीला कर लिया जाए तो योनि के अंदर धकेलना आसान हो जाता है। मासिक धर्म के दौरान रक्त प्रवाह के अनुसार इसे 12 घंटे तक पहना जा सकता है। हालांकि, स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श करने के बाद सही आकार के मेंसट्रुअल कप का उपयोग किया जाना चाहिए, जो आपको फिट आए।

कभी-कभी मासिक धर्म में देरी या इसकी अनुपस्थिति और गर्भाशय से असामान्य रक्तस्राव (बहुत अधिक या बहुत कम, जल्दी या काफी देर से) किसी अंतर्निहित स्थिति का संकेत हो सकता है, जिसके लिए तुरंत डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी हो जाता है। निम्नलिखित स्थितियों में स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए :

  • प्राइमरी एमेनोरिया या 15 वर्ष की आयु तक मासिक धर्म की शुरुआत न होना : गर्भावस्था के बिना जब मासिक धर्म नहीं होता है तो ऐसी स्थिति को एमेनोरिया कहा जाता है। बच्चे के हाइपोथैलेमस, पिट्यूटरी, अंडाशय और संपूर्ण स्वास्थ्य, वजन और बीएमआई (बॉडी मास इंडेक्स) को प्रभावित करने वाली विभिन्न समस्याओं के कारण एमेनोरिया हो सकता है। यदि 15 साल की उम्र तक मासिक धर्म की शुरुआत नहीं होती है, तो किसी स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए। प्राथमिक एमेनोरिया के कारणों में निम्न बातें शामिल हो सकती हैं :
    • स्वाभाविक देरी : इसका मतलब है कि किसी लड़की में मासिक धर्म और यौवन की शुरुआत अन्य लोगों की तुलना में स्वाभाविक रूप से देर से होती है।
    • जन्मजात शारीरिक विसंगतियां : कभी-कभी जन्म से ही मौजूद संरचनात्मक समस्याएं मासिक धर्म के रक्त को बाहर आने से रोक सकती हैं। इम्परफोरेट हाइमन्स (हाइमन में छिद्र न होना) और वेजाइनल एजेनिसिस (योनि का ठीक से बना न होना, कभी-कभी गर्भाशय भी पूरी तरह से नहीं बना होता) सामान्य कारण हैं, जिनके लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।
    • टर्नर सिंड्रोम : टर्नर सिंड्रोम एक प्रकार की क्रोमोसोमल विसंगति है, जिसमें महिला में सामान्य तौर पर मौजूद होने वाले दो के बजाय सिर्फ एक एक्स क्रोमोसोम मौजूद होता है।
    • हाइपोथायरायडिज्म शरीर में हार्मोन असंतुलन पैदा कर सकता है, जिससे यौवन में देरी हो सकती है।
  • सेकंडरी एमेनोरिया या मासिक धर्म की शुरुआत होने के बाद लगातार तीन महीने तक माहवारी न होना : कभी-कभी युवा लड़कियों में मासिक धर्म की शुरुआत हो जाती है, लेकिन फिर महीनों तक माहवारी नहीं होती। इस तरह की समस्या के कुछ अंतर्निहित कारण निम्नलिखित हैं :
    • पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस): हार्मोन में असंतुलन के कारण अंडाशय में सिस्ट बन जाते हैं और ओव्यूलेशन रुक जाता है, जिससे मासिक धर्म चक्र बाधित होता है। ऐसे में मासिक धर्म अनियमित हो सकता है या पूरी तरह से रुक सकता है।
    • बहुत अधिक वजन कम होना
    • तनाव
  • मासिक धर्म में अत्यधिक रक्तस्राव : जब सैनिटरी पैड या टैम्पोन को हर 2 घंटे या उससे कम समय में बदलना पड़े, रक्त के बड़े-बड़े थक्के निकल रहे हों या एक सप्ताह से अधिक समय तक ब्लीडिंग हो रही हो तो गर्भाशय में वृद्धि, हार्मोन से जुड़ी समस्याएं या ब्लीडिंग डिसऑर्डर जैसे अंतर्निहित कारण हो सकते हैं। (और पढ़ें - पीरियड्स में ज्यादा ब्लीडिंग की होम्योपैथिक दवा)
  • डिसमेनोरिया यानी माहवारी के दौरान बहुत ज्यादा दर्द होना
  • बहुत जल्दी माहवारी होना (21 दिन या उससे पहले)
  • बहुत देर से मासिक धर्म होना (40 दिन या उसके बाद)

(और पढ़ें - पीसीओएस का इलाज)

Dr. Vrinda Khemani

Dr. Vrinda Khemani

प्रसूति एवं स्त्री रोग
6 वर्षों का अनुभव

Dr Megha Apsingekar

Dr Megha Apsingekar

प्रसूति एवं स्त्री रोग
4 वर्षों का अनुभव

Dr. Dyuti Navadia

Dr. Dyuti Navadia

प्रसूति एवं स्त्री रोग
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Sheetal Aggarwal

Dr. Sheetal Aggarwal

प्रसूति एवं स्त्री रोग
15 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. Mihm M, Gangooly S, Muttukrishna S. The normal menstrual cycle in women. Anim Reprod Sci. 2011 Apr;124(3-4):229-36. PMID: 20869180.
  2. Diaz A, Laufer MR, Breech LL. Menstruation in girls and adolescents: using the menstrual cycle as a vital sign, American Academy of Pediatrics Committee on Adolescence; American College of Obstetricians and Gynecologists Committee on Adolescent Health Care. Pediatrics. 2006 Nov;118(5):2245-50. PMID: 17079600.
  3. Karapanou O, Papadimitriou A. Determinants of menarche. Reprod Biol Endocrinol. 2010 Sep 30;8:115. PMID: 20920296.
  4. Lacroix AE, Gondal H, Langaker MD. Physiology, Menarche.. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2021 Jan-.
  5. Fujii K, Demura S. Delayed Relationship between change in BMI with age and delayed menarche in female athletes. J Physiol Anthropol Appl Human Sci. 2003 Mar;22(2):97-104. PMID: 12672973.
  6. Nur Azurah AG, Sanci L, Moore E, Grover S. The quality of life of adolescents with menstrual problems. J Pediatr Adolesc Gynecol. 2013 Apr;26(2):102-8. PMID: 23337310.
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ