myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

बच्चों में अंगूठा चूसने की आदत बहुत सामान्य है लेकिन माता - पिता अक्सर ही इस विषय को लेकर चिंता में रहते हैं। वैसे तो छोटे बच्चों से जुड़ी हर बात मनमोहक ही होती है। अपने बच्चे की नटखट हरकतों का इंतजार हर माता - पिता को बड़ी बेसब्री से होता है। कभी - कभी ऐसा भी होता है की बच्चे बहुत लंबे समय तक अंगूठा चूसने की आदत को छोड़ नहीं पाते और बच्चों को जो आदत बचपन से पड़ जाती है उसे छुड़ाना बहुत मुश्किल हो जाता है। इससे बच्चों के शारीरिक विकास पर भी प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए बहुत जरूरी हो जाता है की बच्चों की इस आदत को समय रहते ही छुड़वा दिया जाए। आज हम इस लेख के जरिए बताएंगे की बच्चे अंगूठा क्यों चूसते हैं? बच्चों की अंगूठा चूसने की आदत को कैसे छुड़ाएं?

(और पढ़ें - छोटे बच्चों में थकान के लक्षण पहचानें)

  1. बच्चे अंगूठा क्यों चूसते हैं - Bacche angootha kyu peete hain
  2. बच्चे अंगूठा चूसना कब बंद करते हैं - Bacche angootha choosna kab band karte hain
  3. बच्चों का अंगूठा पीना कैसे छुड़ाएं - Bacche ka angootha peena kaise band kraye

बच्चों में कुछ भी चूसने की आदत प्राकृतिक होती है जिसकी वजह से वे मुंह में अंगूठा डालते हैं ऐसा करने से उन्हें सहजता महसूस होती है और ऐसा वे तभी करते हैं जब उन्हें नींद की जरूरत होती है। अंगूठा चूसने के कारण बच्चों के दांतों में समस्या भी हो सकती है। बच्चे का पांच साल तक अंगूठा चूसना ठीक नहीं होता क्योंकि इस समय बच्चों के पक्के दांत आने शुरू होते हैं।

(और पढ़ें - दांतों में दर्द के लक्षण)

शिशु अक्सर 6 से 7 महीने की उम्र में अंगूठा चूसना शुरू करते हैं और उनकी यह क्रिया 2 से 4 साल तक जारी रहती है, कुछ बच्चे खुद से समय रहते अंगूठा पीना बंद कर देते हैं लेकिन इसके बाद भी कई बार यह भी देखा गया है कि जब बच्चे तनाव में होते हैं तो वो अंगूठा पीना दोबारा भी शुरू कर सकते हैं।

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

निम्नलिखित तरीकों के माध्यम से आप अपने बच्चे का अंगूठा पीना बंद करा सकते हैं:

  • अपने बच्चे का मानसिक तौर पर साथ दें ऐसे में उसे अधिक प्यार और आकर्षण की जरूरत होती है। (और पढ़ें - बच्चों में डिप्रेशन के लक्षण)
  • बच्चे को छोटी-छोटी खुशियां दें जैसे उसे पार्क में घुमाने टहलाने ले जाएं, हर छोटे कदम पर उसकी तारीफ करें। उसका ध्यान आकर्षित करें जिससे वो अंगूठा न चूस कर अपना मन कहीं और लगाए। बच्चे का मन बहलाएं। (और पढ़ें - मानसिक रोग दूर करने के उपाय)
  • ध्यान रखें कि आपका बच्चा तनाव में आकर अंगूठा न चूसे अगर वो ऐसा करता है तो उसे ऐसा करने से मना करें और बच्चे को प्यार से समझाएं। (और पढ़ें - 6 महीने के बच्चे को क्या खिलाएं)
  • जब बच्चा अंगूठा न चूसे तो उसकी तारीफ करें क्योंकि बच्चों को प्रोत्साहन पसंद होता है। (और पढ़ें - बच्चे के दांत निकलने की उम्र)

ऊपर लिखी बातों को ध्यान रखकर आप आसानी से अपने बच्चे की अंगूठा चूसने की आदत को छुड़ा सकते हैं। बच्चों पर जोर आजमाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। क्योंकि ऐसा कहा जाता है की बच्चों को जिस चीज के लिए मना किया जाता है वो बार-बार उसी काम को करते हैं।

अगर बच्चे की यह आदत बड़े होने तक रही तो उसके आस-पास के सभी बच्चे शायद उसे चिढ़ाने लगें इसलिए इस विषय में यहां माता-पिता की जिम्मेदारी है कि आपके बच्चे का मजाक न बने। ऐसा होता है तो बच्चे के दिमाग पर असर पड़ सकता है। इसलिए समय रहते बच्चे की अंगूठा चूसने की आदत छुड़वा दी जाए तो बेहतर है कोई दिक्क्त होने पर डॉक्टर से सलाह ली जा सकती है क्योंकि बच्चों की आदतें इतनी आसानी से नहीं छूटती हैं। अंगूठा चूसने से बच्चे को दांतों से जुड़ी समस्याएं भी हो सकती हैं इसलिए आप डेंटिस्ट की मदद भी ले सकते हैं। 

और पढ़ें ...