myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

इस नए कोरोनो वायरस संक्रमण के वैश्विक प्रकोप से दुनिया भर में अब तक 10 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं। इतना ही नहीं संक्रमण के चलते अब तक 47,000 से अधिक मौतें भी हो चुकी हैं। बीमारी से मुकाबले को लेकर सभी देश प्रयास में लगे हैं। इस दौरान पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था में भी ठ​हराव देखने को मिल रहा है। अप्रैल के शुरुआती हफ्ते के आंकड़ों के अनुसार भारत में भी कोविड-19 पीड़ितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। मार्च के अंत और अप्रैल की शुरुआत तक भारत में मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। 2 अप्रैल 2020 तक देश में कोविड-19 के 2,032 ऐक्टिव मामले सामने आ चुके हैं और 50 मौतें भी हो चुकी हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और विभिन्न सरकारी एजेंसियों द्वारा इस महामारी को कम करने के लिए जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार सभी लोगों को फिजिकल डिस्टेंसिंग (पहले की शब्दावली सोशल डिस्टेंसिंग की जगह अब फिजिकल डिस्टेंसिंग) का पालन करना चाहिए, साबुन और पानी से हाथों को अच्छी तरह साफ और सैनिटाइज करना चाहिए, व्यक्तिगत स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने के साथ सार्वजनिक स्थानों पर जाते वक्त मास्क पहनना चाहिए। इसके अलावा संक्रमण को रोकने के लिए सबसे प्रभावी उपाय यानी घर पर ही रहकर देशव्यापी लॉकडाउन का पालन करना चाहिए।

11 मार्च 2020 को जैसी ही मामले की गंभीरता को देखते हुए डब्ल्यूएचओ ने कोविड-19 को महामारी घोषित किया वैसे ही बाजारों से हैंड सैनिटाइजर और मास्क गायब होने लगे। भारत में भी इसी तरह के मामले सामने आए। हालांकि बाद में सरकार ने इन सामानों की जमाखोरी करने वाले के खिलाफ कार्यवाई करने की बात कही तो फिर से केमिस्ट की दुकानों में यह वापस मिलने शुरू हुए। बावजूद इसके बाजार में अब भी मास्क की आपूर्ति कम ही है जिसने स्वास्थ्य सेवा से जुड़े कर्मचारियों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। असल में इन लोगों को संक्रमित रोगियों की सेवा में लगाया गया है, ऐसे में मास्क की कमी ने संक्रमण के खतरे को बढ़ा दिया है।

मास्क की कमी को देखते हुए विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने आम जनता के लिए एक नई तरकीब सुझाई है।  31 मार्च को, भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार ने इस कमी से निपटने के लिए घर पर ही मास्क बनाने का काम शुरू करने का सुझाव दिया है।

  1. घर पर मास्क कैसे बनाएं?
  2. मास्क को इस्तेमाल और साफ करने का तरीका
  3. विशेष ध्यान रखने योग्य बातें
  4. मास्क की कमी है तो घर पर ही मास्क बनाएं और कोविड-19 के संक्रमण से बचें के डॉक्टर

मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार भारत सरकार के कार्यालय में वरिष्ठ सलाहकार डॉ शैलजा वैद्य गुप्ता के अनुसार, "यह मुख्य रूप से उन लोगों के लिए है जिनको मास्क की जरूरत है लेकिन किसी कारणवश उन्हें यह मिल नहीं पा रहा है। एक बार गंदे हो जाने के बाद इन मास्कों को दोबारा साफ कर इस्तेमाल किया जा सकता है।

मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार कार्यालय द्वारा जारी किए गए मैनुअल में यह जानकारी भी शामिल है कि कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए मास्क पहनना क्यों महत्वपूर्ण है? इसके साथ ही एक अध्ययन का हवाला देते हुए कहा गया है कि अगर देश की 80% आबादी मास्क पहनने के साथ बताए गए सुरक्षा के सभी नियमों का पालन करती है तो तत्काल प्रभाव से इस संक्रमण पर काबू पाया जा सकता है।  पुराने सूती कपड़ों का इस्तेमाल करके घर पर ही मास्क बनाया जा सकता है। मास्क बनाने के लिए निम्न चीजों की आवश्यकता होगी।

  • 100% सूती कपड़ा
  • नमक
  • पानी
  • एक टब या बर्तन
  • सुई और धागा
  • कैंची

कैसे बनाएं मास्क

  • एक टब में पानी रखें और कपड़े को उसमें डाल दें। अब इसमें नमक मिलाएं और इसे 5 मिनट तक उबलने दें। इसके बाद कपड़े को अच्छी तरह से सुखा लें।
  • वयस्कों के लिए मास्क बनाने के लिए कपड़े से 9x7 इंच का टुकड़ा काट लें। वैसे तो इस समय बच्चों को बाहर ले जाने से बचना चाहिए। फिर भी अगर बच्चों के लिए मास्क की ज़रूरत है, तो कपड़े से 7x5 इंच का टुकड़ा काटें।
  • अब इस कपड़े को तीन परत इस तरह से बनाएं कि पूरी लंबाई 9 इंच से घटकर 5 इंच रह जाए। तीनों परतें बराबर होनी चाहिए। अब इन्हें सिलें।
  • अब कपड़े से 1.5x5 इंच की पट्टियां काट लें। इन पट्टियों को मास्क के दोनो ओर लगाकर सिल दें।
  • अब बीच से एक लम्बी स्ट्रिप को मास्क के ऊपर ले जाकर सिल दें। इसी तरह एक अन्य लंबे स्ट्रिंग को मास्क के निचले हिस्से पर सिल दें। ध्यान रखें कि ये पट्टियां इतनी बड़ी होनी चाहिए जिससे सिर के पीछे की ओर तक इन्हें बांधा जा सके।

यदि आपके पास सिलाई किट नहीं है, तो आप रुमाल और दो रबर बैंड के साथ भी  मास्क बना सकते हैं। ध्यान रखें कि मास्क पहनने के साथ दूसरे लोगों से छह फीट की दूरी बनाए रखें साथ ही हाथों की स्वच्छता का भी विशेष ध्यान रखें। रुमाल से निम्न विधि के द्वारा मास्क बना सकते हैं। इसके लिए आपको चाहिए—

  • एक बड़ा रुमाल
  • दो बड़े रबर बैंड

मास्क को बताए गए तरीके से बना सकते हैं:

  • रुमाल के तीन तह बनाएं।
  • कपड़े के प्रत्येक तरफ एक रबर बैंड बांधें। बीच में इतना जगह बचा होना चाहिए जिससे आपका मुंह और नाक ढका जा सके। कपड़े के दो बाहरी किनारों को रबर बैंड में बांध दें।
  • अब रबर बैंड को दोनों तरफ से पकड़ें, अपने चेहरे और नाक को कपड़े से ढकें। अब अपने कानों पर रबड़ बैंड को लपेट लें।

संक्रमण से बचने के लिए मास्क पहनने और निकालने का एक उचित तरीका बताया गया है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मास्क की सतह को छूने से बचें। इसके साथ ही निम्न नियमों का भी पालन करें।

  • मास्क केवल एक तरफ से पहना जाना चाहिए और दोबारा उपयोग के लिए कभी भी उलट कर नहीं पहनना चाहिए।
  • मास्क को लगाने के लिए इसे केवल नाक, मुंह और ठुड्डी के ऊपर रखें और सिर्फ इसकी पट्टियों को ही छुएं, सतह को नहीं।
  • सिर के पीछे की ओर पट्टियों को बांधें।
  • अब यह सुनिश्चित करें कि मास्क अच्छी तरह से फिट है,चेहरे और कपड़े के बीच और किनारों की ओर कोई भी जगह खाली नहीं है।
  • मास्क के सामने के हिस्से को छूने से बचें।

घर लौटते ही मास्क को हटाने के लिए केवल इसकी पट्टियों को ही स्पर्श करें, मास्क के सामने वाले हिस्से को नहीं। इसके बाद मास्क को धोने के लिए डाल दें और अपने हाथों को अच्छी तरह से धो लें। प्रत्येक उपयोग के बाद मास्क को धोने और सुखाने का प्रयास करें। इसके लिए आप निम्न तरीकों को प्रयोग में ला सकते हैं।

  • प्रेशर कुकर में पानी उबालें और उसमें नमक डालें। अब इसी पानी में अपने मास्क को भी डाल दें। इसे 10 मिनट के लिए गैस पर ही छोड़ दें। अब मास्क को अच्छी तरह से सुखा लें।
  • दूसरा तरीका यह है कि मास्क को आप डिटर्जेंट और पानी के साथ अच्छी तरह धो लें। इसे कम से कम पांच घंटे के लिए धूप में रखें।
  • अगर आपके पास सिर्फ एक ही मास्क है और इसे जल्दी ही दोबारा इस्तेमाल करना है तो सबसे पहले डिटर्जेंट और पानी से मास्क को अच्छी तरह से धो लें। कम से कम पांच मिनट के लिए इसे आयरन करें। सुनिश्चित करें कि पुन: उपयोग करने से पहले मास्क पूरी तरह से सूखा है।

देश भर में मास्क की कमी चिंता का विषय बनी हुई है। यह उन लोगों के लिए और चिंता बढ़ाने वाली है जो संक्रमण के सबसे ज्यादा खतरे में हैं जैसे- कोविड-19 रोगी के परिवार के सदस्य, मरीजों की देखरेख करने वाले स्वास्थ्य कर्मचारी।

जो लोग अपने लिए रेडीमेड मास्क नहीं खरीद पाए हैं, उन्हें खुद मास्क बनाने की कोशिश करनी चाहिए जिससे वह संक्रमण के खतरे से स्वयं को सुरक्षित रख सकें। इसके साथ ही संक्रमण से बचने के लिए अनिवार्य सभी सुरक्षा दिशा-निर्देशों का पालन भी करते रहना बहुत आवश्यक है।

Dr. Neha Gupta

Dr. Neha Gupta

संक्रामक रोग

Dr. Lalit Shishara

Dr. Lalit Shishara

संक्रामक रोग

Dr. Alok Mishra

Dr. Alok Mishra

संक्रामक रोग

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
AlzumabAlzumab Injection6995.16
AnovateANOVATE OINTMENT 20GM90.0
Pilo GoPilo GO Cream67.5
Proctosedyl BdPROCTOSEDYL BD CREAM 15GM66.3
ProctosedylPROCTOSEDYL 10GM OINTMENT 10GM63.9
RemdesivirRemdesivir Injection15000.0
Fabi FluFabi Flu Tablet3500.0
CoviforCovifor Injection5400.0
और पढ़ें ...

References

  1. Ministry of Health and Family Welfare [Internet] Government of India, New Delhi. Advisory on use of Homemade Protective Cover for Face & Mouth.
  2. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Personal Protective Equipment FAQs.
  3. Australian Government: Department of Health [Internet]. Canberra, Australia. Coronavirus (COVID-19) information on the use of surgical masks.
  4. Davies A et al. Testing the Efficacy of Homemade Masks: Would They Protect in an Influenza Pandemic?  Disaster Medicine and Public Health Preparedness. 2013 Aug; 7(4): 413-418.
  5. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Recommendation Regarding the Use of Cloth Face Coverings, Especially in Areas of Significant Community-Based Transmission.
  6. World Health Organization [Internet]. Geneva (SUI): World Health Organization; Coronavirus disease (COVID-19) advice for the public: When and how to use masks.
ऐप पर पढ़ें