जब व्यक्ति को उसकी त्वचा लाल नजर आए या त्वचा पर सूजन महसूस हो तो यह एक्जिमा के लक्षण हो सकते हैं. यह त्वचा संबंधित समस्या होती है, जिसके कारण व्यक्ति खुजली और जलन महसूस करता है. यह समस्या चेहरे के अलावा कंधे, गर्दन, हाथ, पैर आदि पर हो सकती है.

इस लेख में हम बात कर रहे हैं हाथों पर एग्जिमा होने की. जब रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है तब शरीर में एक्जिमा की समस्या हो सकती है. बता दें कि सर्दियों की सर्द हवा और गर्मियों की गर्म हवा एक्जिमा जोखिम को और बढ़ा सकती है और व्यक्ति खुजली के साथ दर्द भी महसूस कर सकता है.

(और पढ़ें - एक्जिमा के घरेलू उपाय)

हाथों पर एक्जिमा होने के लक्षण - Symptoms of Hand Eczema in Hindi

हाथों पर एक्जिमा होने के दौरान हाथों पर लाल या गहरे भूरे रंग के चकते दिखाई देते हैं. इसके अलावा कुछ और भी लक्षण हैं, जैसे

(और पढ़ें - एक्जिमा में क्या खाना चाहिए)

हाथों पर एक्जिमा होने के कारण और प्रकार - Causes and Types of Hand Eczema in Hindi

हाथों पर एक्जिमा अलग-अलग कारणों के आधार पर अलग-अलग प्रकार से हो सकता है. यह कारण और प्रकार निम्न हैं -

इरिटेंट कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस

इरिटेंट कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस को इरिटेंट एक्जिमा के नाम से भी जाना जाता है. जब आप धूल या किसी रासायनिक पदार्थ के संपर्क में आते हैं तो यह समस्या हो सकती है. कई बार हाथ धोने के बाद या हाथ साफ होने के बाद भी व्यक्ति इस समस्या से ग्रस्त हो सकता है.

एलर्जिक कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस

यह समस्या एलर्जी एक्जिमा के नाम से भी जानी जाती है. यदि किसी व्यक्ति को तेज गंध, रबड़ या किसी प्लांट से एलर्जी होती है, तो वह एलर्जी एक्जिमा कहलाती है.

(और पढ़ें - एक्जिमा के लिए योग)

डिसहाईड्रोटिक डर्मेटाइटिस

डिसहिड्रॉटिक एक्जिमा को पॉम्फॉलीक्स एक्जिमा (Pompholyx dyshidrotic eczema) के नाम से जाना जाता है. यह समस्या आमतौर पर 40 साल से कम उम्र के लोगों को प्रभावित करती है. हालांकि इसके पीछे का कारण अभी ज्ञात नहीं है. पॉम्फॉलीक्स एक्जिमा की समस्या व्यक्ति के अलग वातावरण या अलग स्थान पर जाने से बढ़ती है. जब पॉम्फॉलीक्स एक्जिमा से प्रभावित व्यक्ति को ज्यादा पसीना आता है या उसे कोई अन्य एलर्जी भी होती है तब पॉम्फॉलीक्स एक्जिमा का खतरा बढ़ सकता है. इसके अलावा ऐसी स्थिति से ग्रसित लोगों को तनाव होने पर उनकी त्वचा की स्थिति खराब हो सकती है.

(और पढ़ें - एक्जिमा का होम्योपैथिक इलाज)

ध्यान रखने योग्य बातें

  • सबसे पहले इसके लक्षणों को पहचानने के लिए ‘पैच टेस्ट’ करवाना चाहिए, इससे आपको यह भी पता चल जाएगा कि रोजमर्रा के जीवन में ऐसी कौन सी चीजें हैं, जिससे आपको यह समस्या हो रही है.
  • बार-बार हाथ धोना भी ठीक नहीं है. आप अपने हाथ तब धोएं जब आप बाथरूम का इस्तेमाल कर रहे हैं या आपके हाथ गंदे हैं. अगर आप बार-बार अपने हाथ धोएंगे तो उनका प्राकृतिक तेल नष्ट हो जाएगा.
  • कुछ साबुन के अंदर कठोर रसायन मौजूद होते हैं ऐसे में साबुन का चुनाव करते वक्त सतर्कता बरतें.

(और पढ़ें - एक्जिमा का आयुर्वेदिक इलाज)

हाथों में एक्जिमा के डॉक्टर
Dr Shishpal Singh

Dr Shishpal Singh

डर्माटोलॉजी
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Sarish Kaur Walia

Dr. Sarish Kaur Walia

डर्माटोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Rashmi Aderao

Dr. Rashmi Aderao

डर्माटोलॉजी
13 वर्षों का अनुभव

Dr. Moin Ahmad Siddiqui

Dr. Moin Ahmad Siddiqui

डर्माटोलॉजी
4 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें