myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

खूबसूरत, साफ़ और चमकदार त्वचा हर किसी की चाहत होती है और हो भी क्यों न? आखिर सामान्य त्वचा में समस्याएं जो कम होती हैं। ड्राई और ऑयली स्किन में त्वचा सम्बन्धी समस्याएं बहुत होती हैं।

कई लोगों में, शुष्क त्वचा किसी समस्या या बीमारी का संकेत नहीं होती है, बल्कि कठोर साबुन, खुजली उत्पन्न करने वाले कपड़ों, मॉइस्चराइजर का गलत उपयोग और लम्बे समय तक गर्म पानी से स्नान करने के कारण होती है। लेकिन आप जो दवाएं लेते हैं और यहां तक कि कुछ रोगों जैसे डायबिटीज, सोरायसिस (Psoriasis), हाइपोथायरायडिज्म और कुपोषण आदि के कारण भी त्वचा रूखी हो सकती है। यह समझने के लिए पढ़ें कि ये समस्याएं कैसे और क्यों आपकी त्वचा को सुखा देती हैं। 

सामान्य, स्वस्थ त्वचा पर प्राकृतिक वसा की पतली परत होती है। ये त्वचा में नमी बनाये रखती है और त्वचा को नरम और कोमल रखने में भी मदद करती है। रूखी त्वचा के कई कारण होते है। आमतौर पर, आप अपनी त्वचा पर जो भी उपयोग करते हैं उससे त्वचा का प्राकृतिक तेल कम होता है और त्वचा असुरक्षित हो सकती है। कभी कभी ऐसा आंतरिक कारणों से भी होता है जैसे आपका स्वास्थ्य, रजोनिवृत्ति या आनुवंशिक गड़बड़ी आदि।

जबकि रूखी, खुजली वाली त्वचा के धब्बे शरीर पर कहीं भी प्रकट हो सकते हैं। यह धब्बे, हाथ, निचले पैर और पेट पर सबसे अधिक पड़ते हैं। शुष्क त्वचा को देखने की तुलना में महसूस अधिक किया जाता है, लेकिन कुछ लोगों में यह अधिक रूखी दिखाई देती है जो शर्मनाक भी हो सकती है। कई काले लोगों में रूखी त्वचा एक विशेष चिंता का कारण होती है, क्योंकि उनकी त्वचा पर ग्रे रंग के धब्बे पड़ सकते हैं।

  1. रूखी त्वचा के कारण और इलाज - Dry skin causes and treatment in Hindi
  2. रूखी त्वचा से बचाव के तरीके - Tips to prevent skin dryness in Hindi

रूखी त्वचा के कारण और इलाज - Dry skin causes and treatment in Hindi

यदि रूखी त्वचा का उपचार नहीं किया गया तो यह कभी-कभी एटोपिक डर्मेटाइटिस का कारण भी बन सकती है जैसे: त्वचा में जलन, सूजन और संक्रमण। अच्छी बात ये है कि सूखी त्वचा के अधिकांश कारण बाहरी होते हैं इसलिए उनका उपचार भी बाहरी तरीकों से ही किया जा सकता है। शुष्क त्वचा की देखभाल करके आप इस समस्या का समाधान कर सकती हैं। लेकिन इसके लिए पहले आपको त्वचा के शुष्क होने के कारण पता होने बहुत ज़रूरी है जो इस प्रकार हैं:

  1. मॉइस्चराइजर के गलत उपयोग के कारण हो सकती है त्वचा रूखी - Misuse of moisturizer can cause skin dry in Hindi
  2. शुष्क त्वचा का कारण है शुष्क हवा - Dry air causing dry skin in Hindi
  3. गर्म पानी से लंबे समय तक स्नान करने से भी होती है स्किन ड्राई - Long hot showers bad for skin in Hindi
  4. साबुन का अधिक उपयोग बनाता है त्वचा को रूखा - Dry skin caused by soap in Hindi
  5. कुछ कपड़ों से भी होती है त्वचा शुष्क - Dry skin caused by itchy clothes in Hindi
  6. दवाएं होती हैं रूखी त्वचा का बहुत बड़ा कारण - Medications cause dry skin in Hindi
  7. बीमारियों की वजह से भी त्वचा में आता है रूखापन - Medical conditions causing dry skin in Hindi

मॉइस्चराइजर के गलत उपयोग के कारण हो सकती है त्वचा रूखी - Misuse of moisturizer can cause skin dry in Hindi

कारण - यदि आपकी त्वचा रूखी है, तो संभवतः आपने पहले से ही मॉइस्चराइज़र आदि लगाये होंगे और एक नहीं आपने कई मॉइस्चराइज़र आज़माये होंगे। वास्तव में मॉइस्चराइजर्स सूखी त्वचा की देखभाल का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि लोग उन्हें सही और अच्छी तरह से उपयोग नहीं करते हैं।

कुछ लोग मॉइस्चराइज़र लगाते समय सबसे बड़ी गलती ये करते हैं कि वे उसे सीधा रूखी त्वचा पर लगा लेते हैं। उस स्थिति में यह सही से काम नहीं कर पाता है।

इलाज - मॉइस्चराइज़र का प्रयोग तब करें जब आपकी त्वचा थोड़ी नम हो। अर्थात नहाने के तुरंत बाद या हाथ धोने के तुरंत बाद त्वचा में नमी होती है उस समय इसे लगाना सबसे अच्छा होता है। क्योंकि ऐसा करने से मॉइस्चराइज़र त्वचा की नमी को त्वचा में ही बनाये रखता है। अब ऐसा भी न करें कि आप गीली त्वचा पर उसे प्रयोग कर लें। नहाने के बाद या हाथ पैर धोने के बाद उन्हें तौलिया से पोंछ लें और फिर त्वचा पर मॉइस्चराइज़र लगाएं। इसे कुछ मिनट के लिए त्वचा को सोखने दें।

इसके साथ ही सही प्रकार के मॉइस्चराइज़र का चुनाव भी अहम बात है। विशेषज्ञों का सुझाव है कि शुष्क त्वचा वाले लोगों को हल्के मॉइस्चराइजर का प्रयोग करना चाहिए। जिनमें कोई इत्र या केमिकल नहीं होता है। रूखी त्वचा देखभाल के लिए आवश्यक नमी त्वचा में बनाये रखने के लिए मॉइस्चराइज़र थोड़ा गाढ़ा और चिकना भी होना चाहिए।

शुष्क त्वचा का कारण है शुष्क हवा - Dry air causing dry skin in Hindi

कारण - शुष्क हवा, खासकर सर्दी के मौसम में सूखी त्वचा का सबसे आम कारण है। यह नमी को त्वचा से बाहर निकालती है और सर्दियों में त्वचा के रूखेपन के कारण खुजली भी होती है।

सर्द हवाओं के कारण तो त्वचा सूखती ही है लेकिन इस समय में घरों के अंदर रखे हीटर भी त्वचा के रूखेपन का बहुत बड़ा कारण हैं। गर्मियों के दौरान, एयर कंडीशनर का त्वचा पर यही प्रभाव पड़ता है।

इलाज - इससे बचने के लिए भी मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें। सर्दियों में हीटर की हीटिंग को थोड़ा कम करने से भी मदद मिल सकती है। इसके अलावा आप अपने बेडरूम में एक वायु को नम रखने वाला उपकरण (Humidifier) का उपयोग कर सकते हैं।

गर्म पानी से लंबे समय तक स्नान करने से भी होती है स्किन ड्राई - Long hot showers bad for skin in Hindi

कारण - लंबे समय तक पानी के संपर्क में रहने से (विशेष रूप से गर्म पानी) आपकी त्वचा का प्राकृतिक तेल कम होने लगता है। यदि नहाने के बाद आपकी त्वचा टाइट सी महसूस होती है, तो इसका मतलब है कि यह सूख रही है।

इसके लिए आपको सबसे पहले, नहाने के लिए बाथ टब की जगह शावर (Shower) से स्नान करना शुरु करना चाहिए। यदि आप अधिक देर तक नहाने के आदी हैं तो त्वचा विशेषज्ञों के अनुसार, अपने स्नान की अवधि को थोड़ा कम करें, खासकर गर्म पानी से तो अधिक देर तक बिलकुल न नहाएं।

इलाज - अब प्रश्न उठता है कि सर्दियों में नहा लेना ही बहुत बड़ी बात है तो रूखी त्वचा के चक्कर में ठंडे पानी से कैसे नहाया जाये। इसके लिए आपको ठंडे पानी से नहाने की बिलकुल ज़रूरत नहीं है, बल्कि पानी, बहुत गर्म होने के बजाय गुनगुना होना चाहिए। इसके लिए आप नहाते समय शावर से सिर्फ अपने शरीर को भिगो लें और जब तक आप साबुन लगाएं उतनी देर शावर से दूर रहें।

इसके बाद अपने शरीर को तौलिया से रगड़ कर पोंछने के बजाय हल्के हाथों से तौलिया से पोछें।

साबुन का अधिक उपयोग बनाता है त्वचा को रूखा - Dry skin caused by soap in Hindi

कारण - साबुन का उपयोग त्वचा के प्राकृतिक तेल को तेज़ी से कम करता है, और लोग इसका बहुत अधिक उपयोग करते हैं। शरीर के केवल ऐसे हिस्सों में साबुन या क्लीन्ज़र का उपयोग करना चाहिए जहां आवश्यकता हो। जैसे, चेहरे, हाथ, पैर, जननांग और अंडरआर्म आदि। शरीर के बाकी हिस्सों को केवल पानी से धोना चाहिए।

हालांकि डॉक्टर और मां हमेशा हाथों को अच्छे से धोने के लिए कहते हैं क्योंकि ऐसा न करने पर भी समस्याएं हो सकती हैं। दुविधा यह है कि जब कीटाणुओं से छुटकारा पाने की कोशिश की जाती है तो अत्यधिक हाथ धोने से त्वचा रूखी हो सकती है जिस वजह से त्वचा में दरार और खून निकलने की दिक्कत हो सकती है, जिससे त्वचा में संक्रमण होने की संभावना भी बढ़ जाती है।

बहुत से लोग बाजार से नहाने का साबुन लेते समय बिलकुल भी सावधानी नहीं बरतते और सस्ते या सुगन्धित साबुन का चयन कर लेते हैं जो त्वचा के लिए कठोर होता है। साबुन का झाग त्वचा की सतह से तेल निकालता है जिससे त्वचा रूखी होती है।

इलाज - शुष्क त्वचा की देखभाल के लिए, हल्के और सुगंध रहित साबुन का चुनाव करें। विशेषज्ञों के अनुसार, रूखी त्वचा वाले लोगों के लिए साबुन के बजाय क्लीन्ज़र का उपयोग करना ज्यादा अच्छा होता है।

तो अंततः आप अपनी त्वचा की सफाई के लिए किसी भी कठोर चीज़ का उपयोग न करें। स्पंज और ब्रश आदि के उपयोग से भी त्वचा के प्राकृतिक तेलों की पतली परत दूर हो सकती है जो त्वचा को नम और स्वस्थ रखते हैं। इसलिए त्वचा पर उपयोग होने वाली चीज़ों को सावधानी पूर्वक खरीदें।

कुछ कपड़ों से भी होती है त्वचा शुष्क - Dry skin caused by itchy clothes in Hindi

कारण - कुछ स्वेटर देखने में तो बहुत अच्छे और आकर्षक हो सकते हैं लेकिन इसके बावजूद वो असुविधाजनक होते हैं। यदि किसी स्वेटर को पहनने पर आपको खुजली का अनुभव हो तो वो कितना भी अच्छा हो उसे खरीदने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि वे त्वचा में संक्रमण भी उत्पन्न कर सकते हैं।

इसका उपयोग करने से अधिक खुजली हो सकती है और शुष्क त्वचा वैसे भी संवेदनशील होती है। इसलिए लगातार असुविधाजनक कपड़े पहनने से भी आपकी त्वचा में रूखेपन और खुजली की समस्या हो सकती है।

इलाज - ऐसे कपड़ों को धोने के लिए अच्छे वॉशिंग पाउडर का उपयोग करना भी फायदेमंद हो सकता है। इसलिए ऐसे कपड़े खरीदें जिन्हे एक बार पहनने पर ही कोई असुविधा महसूस न हो और सर्दियों में ऊन की बजाय यदि आपके बजट में हो तो कश्मीरी गर्म कपड़े खरीदने की कोशिश करें।

दवाएं होती हैं रूखी त्वचा का बहुत बड़ा कारण - Medications cause dry skin in Hindi

कारण - कई दवाओं के साइड इफेक्ट से भी त्वचा रूखी होती है। ये दवाएं इस प्रकार हैं:

  1. हाई ब्लड प्रेशर जैसे मूत्रवर्धक दवाएं आदि।
  2. मुँहासे और अन्य त्वचा समस्याओं की स्थिति में ली जाने वाली दवाएं जैसे रेटिनॉयड आदि।

इलाज - यदि कोई भी दवा शुरू करने के बाद आपको त्वचा की समस्या या रूखापन महसूस हो तो डॉक्टर से बात करें वे आपकी दवा को बदल या उसकी खुराक कम कर सकते हैं।

बीमारियों की वजह से भी त्वचा में आता है रूखापन - Medical conditions can cause dry skin in Hindi

कारण - आमतौर पर सूखी त्वचा बाहरी कारकों पर निर्भर करती है। लेकिन कभी-कभी, यह आंतरिक गड़बड़ी का संकेत भी हो सकता है फिर चाहे यह प्राकृतिक शारीरिक परिवर्तन हो या बीमारी।

उदाहरण के लिए, अक्सर बुढ़ापे में त्वचा रूखी हो जाती है, खासकर महिलाओं में। ऐसा हार्मोन के स्तरों में परिवर्तन होने के कारण होता है।

कई बीमारियों के कारण भी त्वचा शुष्क हो सकती है। इन मेडिकल कारणों में से कुछ अधिक सामान्य हैं:

  1. त्वचा की स्थिति, जैसे एक्जिमा और सोरायसिस (Psoriasis): हालांकि इन रोगों का आमतौर पर उपचार किया जाता है, लेकिन सावधानीपूर्वक मॉइस्चराइजर का उपयोग भी इसमें मदद करता है। (और पढ़ें - एक्जिमा के घरेलू उपचार)
  2. डायबिटीज (Diabetes): ब्लड शुगर का खराब स्तर भी निर्जलीकरण का कारण बन सकता है, जिसके कारण त्वचा सूखती है। डायबिटीज में वैसे भी किसी भी रोग का उपचार धीमा हो जाता है और संक्रमण का जोखिम बढ़ जाता है। यह विशेष रूप से उन लोगों के लिए महत्वपूर्ण है जो डायबिटीज से ग्रस्त हैं और अपनी त्वचा को स्वस्थ रखना चाहते हैं।
  3. हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyroidism): थायराइड हार्मोन का निम्न स्तर आपकी त्वचा द्वारा उत्पादित होने वाले तेल की मात्रा को कम करता है। नतीजतन, त्वचा शुष्क और भद्दी हो जाती है। हाइपोथायरायडिज्म के आमतौर पर अन्य लक्षण भी होते हैं, जैसे थकान और वजन बढ़ना आदि।
  4. कुपोषण (Malnutrition): आवश्यक पोषक तत्व अगर आपके शरीर को नहीं मिल पा रहे हैं तो भी आपकी त्वचा सूख सकती है। खाने पीने की आदतों पर भी त्वचा का रूखापन निर्भर करता है।

अन्य बीमारियां, जो कि मामूली और गंभीर दोनों हैं वो भी रूखी त्वचा की समस्या पैदा कर सकती हैं।

इलाज - शुष्क त्वचा का इलाज करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप पहले उसके होने के कारण को पहचाने और उसके अनुसार उसका इलाज करें। इसलिए यदि आप त्वचा के रूखेपन की समस्या से बहुत अधिक परेशान हैं, तो डॉक्टर से सलाह लें। डॉक्टर आपकी शुष्क त्वचा के कारण को पहचान कर सही इलाज में आपकी मदद कर सकते हैं। यदि आपको दवाओं द्वारा इलाज की आवश्यकता होगी तो डॉक्टर आपको सही दवा बताएंगे जिसमें स्टेरॉयड युक्त, एंटीहिस्टामाइन (Antihistamines - वो दवाएं जो एलर्जी आदि समस्याओं के लिए दी जाती हैं) आदि हो सकती हैं, जो रूखी त्वचा की खुजली आदि को भी दूर करने में मदद करती हैं।

रूखी त्वचा से बचाव के तरीके - Tips to prevent skin dryness in Hindi

सर्दियों के दौरान त्वचा, रूखेपन की समस्या से ग्रस्त हो जाती है। बाहर की हवा ठंडी होती है, और ठंडी हवा में नमी कम होती है। इसलिए हवा शरीर की नमी को अवशोषित करके हवा उसकी पूर्ति करने का प्रयास करती है।

इन स्थितियों से निपटने और त्वचा को खुजली, रूखेपन, फटने आदि समस्यायों से रोकने के लिए, आपको अपनी त्वचा को नियमित रूप से मॉइस्चराइज रखना चाहिए और उन आदतों को नियंत्रित करना चाहिए जिनकी वजह से त्वचा रूखी होती है।

अमेरिकन अकादमी के त्वचाविज्ञान के मुताबिक, निम्न कुछ चीज़ों से आप अपनी त्वचा की बेहतर देखभाल करके इसे रूखी होने से बचा सकते हैं:

1. अपने नहाने और शेव करने की आदतें बदलें।
यह थोड़ा अजीब लगता है लेकिन पानी आपकी त्वचा को रूखा बना सकता है, खासकर अगर आप गर्म पानी से नहाती हैं तो। गर्म पानी शरीर के प्राकृतिक तेल को निकाल देता है जो त्वचा को नम बनाए रखने में मदद करते हैं।

  • नहाने का समय फिक्स करें। 10 मिनट से अधिक न नहाएं और नहाने के लिए गर्म पानी के बजाय गुनगुने पानी का उपयोग करें।
  • कोमल, असुगंधित साबुन (Non scented soaps) और क्लीन्ज़र का उपयोग करें। डिओडोरेंट, कठोर साबुन और रसायनों से बने उत्पाद विशेष रूप से ड्राई स्किन का कारण होते हैं।
  • नहाने या शावर लेने के तुरंत बाद शेव करें क्योंकि उस समय आपके बाल नरम होते हैं, जिससे त्वचा में जलन आदि नहीं होती।

2. मॉइस्चराइजर का उपयोग करें।
सर्दियों में त्वचा को, विशेष रूप से चेहरे, हाथों और पैरों को मॉइस्चराइज करने से फायदा होता है।

  • नहाने के ठीक बाद मॉइस्चराइजर का प्रयोग करें। इससे आपकी त्वचा की नमी बरक़रार रहेगी। नहाने के बाद पानी को तौलिये से सोखें न कि रगड़ कर पोछें।
  • जितनी भी बार आप हाथ या चेहरा धोएं उतनी बार मॉइस्चराइजर का उपयोग करें।मॉइस्चराइजर अपने साथ रखें और साबुन का उपयोग करने के बाद इसे ज़रूर लगाएं।
  • लोशन के बजाय क्रीम का उपयोग करें वे अधिक प्रभावी होती हैं क्योंकि उनमें अच्छे तेलों का मिश्रण होता है, निम्नलिखित सूची पूरी सामग्रियों की नहीं है, लेकिन आप क्रीम लेने से पहले एक बार इनकी जांच कर सकती हैं:
    जैतून का तेल, जोजोबा का तेल, शिया बटर (Shea butter), लैनोलिन (Lanolin), खनिज तेल, और पेट्रोलियम जेली आदि अच्छे तेल हैं।
    ग्लिसरीन नमी बनाये रखने में मदद करता है।
    लैक्टिक एसिड, यूरिया, हैलुरोनिक एसिड (Hyaluronic acid) और डायमिथिकोन (Dimethicone) आदि त्वचा को कोमल बनाते हैं।
    एंटी ऑक्सीडेंट (विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई) भी त्वचा की नमी बरक़रार रखते हैं।
  • अपने होंठों की भी देखभाल करना न भूलियेगा। सूखे और फटे हुए होठों में दर्द होता है। एक अच्छा लिपबाम लें जो होठों को कोमल बनाये रखे।

3. शुष्क हवा से बचें।
कुछ चीजें हर किसी को अपनी त्वचा को शुष्क हवा से बचाने के लिए करनी चाहिए।

  • अपनी त्वचा को ठंड, शुष्क हवा आदि से बचाने के लिए सुरक्षात्मक कपड़े पहनें। अधिक सर्दियों में दस्ताने (Gloves) और स्टोल आदि पहनें।
  • मोजे और दस्तानों को सूखा रखें। आपके हाथ और पैर आमतौर पर जल्दी नम या गीले होते हैं। इसकी वजह से भी त्वचा सूख सकती है।
  • चिमनियों आदि के करीब न बैठें। हालांकि सर्दियों में ऐसा करने से शरीर को गर्माहट मिलती है, लेकिन गर्म हवा आपकी त्वचा से नमी छीन सकती है।
  • ऊनी और मोटे कपड़े धोने के लिए उपयोग किये जाने वाले डिटर्जेंट और अन्य रसायनयुक्त उत्पाद आपकी त्वचा को परेशान कर सकते हैं। यदि आपकी त्वचा संवेदनशील है तो सावधानी पूर्वक अच्छे डिटर्जेंट का चयन करें।
  • कमरे का तापमान सामान्य करने वाली मशीन (Humidifier) का उपयोग करें। ये कम से कम कमरे की हवा में नमी उत्पन्न करने में मदद करता है।

4. त्वचा विशेषज्ञ से संपर्क करें।

यदि आप इन युक्तियों का पालन कर चुकी हैं और उसके बाद भी आपकी त्वचा बेहतर नहीं हो रही है, तो हो सकता है कि आपको अन्य कोई त्वचा समस्या या रोग हो। आप उनसे संपर्क करें, वे आपकी समस्या अधिक बेहतर तरीके से समझ कर रूखी त्वचा को दूर करने के लिए आपको सही इलाज बतायेंगे।


और पढ़ें ...