myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

दांतों का ढीला होना आमतौर पर पीरियॉडोन्टिटिस नाम की समस्या के कारण होता है। इसके कारण कई बार लोगों को मसूडों के धीरे विकसित होने, हड्डियों के विकास में रुकावट और मसूड़ों की लंबे समय तक रहने वाली बीमारी हो जाती है। यह एक तरह का संक्रमण होता है। यह संक्रमण आपके दांत के आसपास की टीशू और हड्डियों को नुकसान पहुंचा सकता है। ढीले यानी हिलते दांतों के आसपास के टीशू लाल हो जाते हैं। उनमें सूजन आ जाती है। इसके कारण भोजन या किसी चीज को चबाते समय तकलीफ होती है। यहां हम आपको इन्हीं तरह की समस्याओं को बताने जा रहे हैं।

  1. दांत हिलने का घरेलू उपाय है आंवला - Dant hilne ka gharelu upay hai avala
  2. दांत हिलने का घरेलू उपाय है नींबू - Dant hilne ka gharelu upay hai nibu
  3. दांत हिलने का घरेलू उपाय है नमक और सरसों का तेल - Dant hilne ka gharelu upay hai namak aur saraso ka tel
  4. दांत हिल रहा है तो करें लौंग के तेल का इस्तेमाल - Dant hil rahe hai to kare laung ke tel ka istemal
  5. दांत हिलने का घरेलू उपाय है पुदीने का तेल - Dant hilne ka gharelu upay hai pudine ka tel
  6. दांत हिलने पर करें ओरेगेनो के तेल का इस्तेमाल - Dant hilne par kare oregano ke tel ka istemal
  7. दांत हिलने का घरेलू उपाय है अमरूद की पत्तियां - Dant hilne ka gharelu upay hai amarud ki pattiya

आमतौर पर आंवले का इस्तेमाल आयुर्वेदिक उपचार में किया जाता है। 

आवश्यक सामग्री:

  • कुछ आंवले
  • जूस निकालने वाली मशीन

इस्तेमाल करने का तरीका:

  • आंवले को अच्छे से धो लीजिए।
  • उन्हें चाकू से छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें।
  • इसके बाद आंवले को किसी मशीन में डालकर उसका जूस निकाल लें।
  • अब आंवले के उस जूस को पानी में मिलाकर उसे मुंह में लेकर रोज कुल्ला करें।

कैसे काम करता है:
आंवला टीशूज को जोड़ने और मसूड़ों को मजबूत करने में मदद करता है। आंवला हिलते हुए दांतों के लिए भी फायदेमंद होता है।

(और पढ़ें - आंवला का मुरब्बा खाने के फायदे)

दांत हिलने के मामले में नींबू का रस बहुत फायदेमंद होता है।

आवश्यक सामग्री:

  • एक नींबू
  • एक गिलास पानी

इस्तेमाल करने का तरीका:

  • उसे चाकू से आधा काट लें।
  • इस आधे हिस्से को एक गिलास पानी में निचोड़कर घोल बना लें।
  • अब इस नींबू पानी से गरारा करें।
  • इसी तरह से रोज आप घोल बनाकर कुल्ला करें।

कैसे काम करता है:
नींबू दांत के उन वैक्टेरिया से लड़ने में मदद करता है, जो दांत को मजबूती से जमने में दिक्कतें पैदा करते हैं।

हिलते हुए दांतों और मसूड़ों की मजबूती के लिए नमक और सरसो का तेल सबसे बेहतरीन घरेलू उपचार हैं। 

आवश्यक सामग्री:

  • दो बूंद सरसो का तेल
  • उसमें एक चुटकी नमक

इस्तेमाल करने का तरीका:

  • इन दोनों को अच्छे से मिलाकर मिश्रण बना लें।
  • अब इस मिश्रण को ऊंगलियों के मदद से मसूड़ों में हल्के-हल्के मालिस करें।
  • उसके बाद ठंडे पानी से 5 मिनट तक कुल्ला कर दें।

कैसे काम करता है: 
नमक और सरसों का तेल हिलते दांतों को मजबूती प्रदान करता है। इससे हिलते हुए दांत मजबूती से मसूड़ों में जम जाते हैं।

लौंग का तेल दांत हिलने की समस्या में किसी रामबाण से कम नहीं है।

आवश्यक सामग्री:
लौंग का तेल

इस्तेमाल करने का तरीका: 

  • लौंग के तेल को ऊंगलियों की मदद से हिलते दांतों और मसूड़ों पर लगाएं।
  • इसके 5 मिनट बाद कुल्ला कर लें।

कैसे काम करता है:
लौंग का तेल मसूड़ों को स्वस्थ रखने, हिलते दांतों को बचाने और सूजन को रोकने का काम करता है।

(और पढ़ें - मसूड़ों से खून आने के इलाज)

दांत हिलने से रोकने के लिए पुदीने का तेल भी एक बढ़िया विकल्प है। इसके इस्तेमाल से आप अपने हिलते दांतों को टूटने से बचा सकते हैं। इसे इस्तेमाल करने की प्रक्रिया भी अन्य तेलों की तरह ही है। 

आवश्यक सामग्री:
पुदीने का तेल

इस्तेमाल करने का तरीका:

  • तेल को ऊंगलियों से हिलते हुए दांतों व कमजोर या सूजे हुए मसूड़ों पर लगाएं।
  • पुदीने के तेल को इस्तेमाल करने के लिए तेल को मुंह में लेकर कुल्ला भी कर सकते हैं।

कैसे काम करता है:
पुदीने का तेल हिल रहे दांतो पर नियमित लगाने से राहत मिलती है।

(और पढ़ें - दांत टूटने के कारण)

ओरेगेनो तेल का इस्तेमाल मुंह के जर्म्स को मारने में किया जाता है।

आवश्यक सामग्री:
ओरेगेनो का तेल

इस्तेमाल करने का तरीका:
इसके तेल को ऊंगलियों की मदद से हिल रहे दांतों और मसूड़ों पर लगाएं।

कैसे काम करता है:
ओरेगेनो का तेल इस्तेमाल वैक्टेरिया मारने, दांत को हिलने, मसूड़ों में सूजन से राहत के लिए किया जाता है। 

(और पढ़ें - बैक्टीरियल संक्रमण के इलाज)

अमरूद की पत्तियों के लाभ से हम सभी परिचित हैं। इसकी पत्तियां कई तरह से इस्तेमाल की जाती हैं। यहां हम आपको बताने जा रहे हैं कि अमरूद की पत्तियों को इस्तेमाल दांत और मसूड़ों से संबंधित बीमारियों या परेशानियों में किस तरह से किया जाता है। अमरूद की पत्तियां दांत के हिलते हुए दर्द से राहत में बहुत कारगर होती हैं। 

आवश्यक सामग्री:
अमरूद की कुछ ताजी पत्तियां

इस्तेमाल करने का तरीका:

  • उन्हें अच्छे से धुल लें।
  • धुलने के बाद उन्हें अच्छे से किसी तरह पीसकर उनका पेस्ट बना लें।
  • अब इस पेस्ट को अपने दांतों पर मसाज करें।

कैसे काम करता है:
इसके सेवन से आपके दांतों की सेंसिटिविटी दूर हो जाएगी। अमरुद की पत्तियों के पेस्ट का सेवन करने से मुंह के वैक्टेरिया मरने लगते हैं और कुछ ही दिनों में आपके मुंह से दुर्गंध आना भी दूर हो जाएगा। इसके अलावा आप अमरूद की पत्तियों को अच्छे से धुलकर चबा भी सकते हैं। इससे आपके मसूड़ों से खून आना और हिलते दांतों से दर्द दूर हो जाएगा। इस प्रक्रिया को दिन में दो बार करें।

(और पढ़ें - दांतों में झनझनाहट के इलाज)

और पढ़ें ...