myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आंवले के पेड़ की ऊंचाई 30 फीट तक होती है। मूल रूप से आंवला भारत और नेपाल में पाया जाता है। आंवला हलके हरे रंग का होता है जिसके अंदर एक कठोर बीज भी होता है। आंवले के पेड़ को भारत में पवित्र माना जाता है। प्राचीन काल से ही "पृथ्वी मां" के रूप में इसकी पूजा होती आ रही है। 

आंवले का मुरब्बा आंवला से बनाई गई एक स्वादिष्ट मिठाई है। आंवला मुरब्बा, ताजे आंवलों को चीनी में संरक्षित करके बनाया जाता है। ऐसा करने से यह फल लंबे समय के बाद भी प्रयोग किया जा सकता है और उनका स्वाद भी अच्छा हो जाता है। आंवले का मुरब्बा अत्यंत पौष्टिक और स्वादिष्ट होता है। यह दिमाग, आँतो और लीवर के लिए एक टॉनिक होता है। आंवले के मुरब्बे में विटामिन सी समृद्ध होता है और इसमें कई खनिज और विटामिन, जैसे कैल्शियम, फॉस्फोरस, आयरन, कैरोटीन और विटामिन बी कॉम्प्लेक्स मौजूद होते हैं। विटामिन सी एक अच्छा एंटीऑक्सीडेंट एजेंट है, जो अनेक बीमारियों के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के कैंसर की भी रोकथाम करने में मदद करता है। गर्भवती महिलाओं और बच्चों को तो इसका सेवन रोज़ करना चाहिए।

आंवला का मुरब्बा खाने के बहुत से लाभ होते हैं। एक दिन में केवल 1 से 2 मुरब्बे ही खाने चाहिए। इसे खाने से शरीर को ताकत मिलती है। यह जलन, बढ़े हुए पित्त, कब्ज़, बवासीर, रक्त-विकार, चमड़ी के रोगों में लाभकारी है। अगर किसी को अधिक गुस्सा आता हो तो उसे एक दिन में एक या दो आंवला का मुरब्बा खाना चाहिए। यह शरीर को पोषण और ठंडक प्रदान करता है। इसके उपयोग से हार्मोन असंतुलन के कारण होने वाला बालों का झड़ना भी रूक जाता है। इसमें विटामिन सी होने के कारण यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाने में भी मदद करता है।

(और पढ़ें- गुस्सा कम कैसे करें)

  1. आंवला मुरब्बा के फायदे - Amla Murabba ke Fayde in Hindi
  2. आंवला मुरब्बा के अन्य फायदे - Other benefits of Amla Murabba in Hindi
  3. आंवला मुरब्बा के नुकसान - Amla Murabba ke Nuksan in Hindi
  4. आंवला मुरब्बा खाने का तरीका - Amla Murabba Khane ka Tarika in Hindi
  5. आंवले का मुरब्बा बनाने की रेसिपी

आंवले के मुरब्बे के फायदे एसिडिटी अल्सर के लिए - Amla Murabba for Acidity in Hindi

आंवला फाइबर में समृद्ध होता है। चिकित्सक, पाचन के लिए आंवला खाने की सलाह देते हैं। यह गैस्ट्राइटिस और अन्य दूसरी गैस्ट्रिक समस्यायों जैसे अल्सर, जलन, एसिड रिफ्लक्स आदि विकारों का इलाज कर सकता है। यह एसिडिटी को कम करता है। एसिडिटी के मामले में, कम से कम 3 महीने के लिए आप हर दिन सुबह के समय इसे खाली पेट खाएँ। जो लोग पेप्टिक अल्सर से परेशान हैं उनको आंवले के मुरब्बे के सेवन से बहुत आराम मिलता है। यह घाव को जल्दी भरने में मदद करता है।

(और पढ़ें - एसिडिटी में क्या खाना चाहिए​)

अमला मुरब्बा बेनिफिट्स हैं कब्ज में उपयोगी - Amla Murabba for Constipation in Hindi

आंवले का मुरब्बा कब्ज के लिए एक पारंपरिक उपाय है। आप बच्चों को कब्ज के इलाज के लिए इसका उपयोग करवा सकते हैं। यह स्वादिष्ट होता है और कब्ज को दूर करने में बहुत मदद कर सकता है। आंवला मुरब्बा खाने के बाद दूध पीने से लंबे समय से चले आ रहे कब्ज के इलाज में मदद मिलती है।

(और पढ़ें - कब्ज के रामबाण इलाज)

आंवला मुरब्बा के फायदे रखें अपच से दूर - Amla Murabba for Digestive System in Hindi

आंवला के मुरब्बे में अधिक फाइबर होने के कारण डॉक्टर पाचन और गैस्ट्रिक समस्याओं को ठीक करने के लिए इसका सेवन करने को कहते हैं। आंवले का मुरब्बा पेट में पाचन प्रक्रिया को सही और जिगर के लिए सहायता प्रदान करता है। इसलिए यदि आपको भोजन के बाद भारीपन महसूस हो रहा है और एसिड रिफ्लक्स या जलन के साथ अपच महसूस हो रहा हो तो यह आपको इससे छुटकारा पाने के लिए मदद कर सकता है। आंवले का रस पेट की पाचन क्रिया को बढाता है। आंवला को चीनी और शहद के साथ मिलाकर, इसका सेवन करने से कब्ज को ठीक किया जा सकता है।

(और पढ़ें- अपच के घरेलू उपाय)

आंवले का मुरब्बा बनाए इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत - Amla Murabba ke Labh for Immunity system in Hindi

आंवले का मुरब्बा हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। आंवला में विटामिन सी की मौजूदगी के कारण यह एक मजबूत एंटी ऑक्सीडेंट है। यह एंटीबैक्टीरियल भी है और सर्दी-जुकामबुखार और ऊपरी श्वास नलिका में संक्रमण के खिलाफ लड़ने में सक्षम होता है।

(और पढ़ें - बुखार का घरेलू इलाज)

आंवला मुरब्बा खाने के लाभ त्वचा के लिए - Benefits of Amla ka Murabba for Skin in Hindi

आंवले का मुरब्बा विटामिन सी का बहुत अच्छा स्रोत है, जिसकी वजह से यह त्वचा के रंग में काफी सुधार कर सकता है। यह त्वचा को प्राकृतिक चमक प्रदान करता है। आंवला एक प्राकृतिक एक्स्फोलीऐशन के रूप में कार्य करता है। आंवले का मुरब्बा एंटी-एस्ट्रिंजेंट गुणों के कारण त्वचा को ठंडक देता है और झुर्रियों का इलाज करता है। आंवले का मुरब्बा विटामिन सी के अलावा विटामिन ए और विटामिन ई का भी समृद्ध स्रोत है, जो उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को कम करते में मदद करते है।

विटामिन ए कोलेजन पैदा करता है जो कि त्वचा को लोचदार और युवा बनाता है। यह चेहरे से काले धब्बे और मुँहासों के निशानों को भी हटाता है। काले धब्बों को कम करने के लिए कम से कम छह महीने तक आंवला के मुरब्बे का उपयोग करें।

(और पढ़ें – चेहरे से काले दाग हटाने का तरीका​)

आंवला मुरब्बा के उपयोग बचाएं हृदय रोगों से - Amla Murabba for Heart in Hindi

आंवले का मुरब्बा क्रोमियम, जिंक और कॉपर में समृद्ध है जो कि शरीर के लिए आवश्यक घटक होते हैं। विशेष रूप से क्रोमियम में, कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बनाय रखने और हृदय रोगों के खतरे को कम करने की क्षमता होती है।

(और पढ़ें- हृदय रोग के कारण)

आंवले का मुरब्बा खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) के स्तर को कम करता है। यह मानव शरीर में से वीएलडीएल और ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को भी कम कर देता है। मगर आवंले का मुरब्बा अधिक कोलेस्ट्रॉल, स्ट्रोक और दिल के दौरे के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार नहीं होता है। आंवले का मुरब्बा रक्त वाहिकाओं की सूजन को खत्म करने में मदद करता है और कोलेस्ट्रॉल प्लैक के गठन से बचाता है।

(और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय)

(और पढ़ें - सूजन कम करने की विधि)

आंवला का मुरब्बा है एनीमिया के लिए उपयोगी - Amla ka Murabba Khane ke Fayde for Anemia in Hindi

आंवले का मुरब्बा आयरन का एक समृद्ध स्रोत है, इसलिए इसमें हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने की क्षमता होती है। पीरियड्स के दौरान ज्‍यादा ब्‍लीडिंग के कारण होने वाली आयरन की कमी की भरपाई करने के लिए महिलाओं को भी आंवले के मुरब्बे का उपयोग करना चाहिए। आंवले का मुरब्बा मासिक धर्म में होने वाली ऐंठन को कम करने के लिए भी मदद करता है। स्थायी रूप से मासिक धर्म की ऐंठन से छुटकारा पाने के लिए महिलाओं को कम से कम तीन महीने के लिए आंवले के मुरब्बे का सेवन करना चाहिए।

(और पढ़ें - एनीमिया​ के लिए घरेलू उपाय)

आमला का मुरब्बा करे आंतरिक अंगों की सूजन दूर - Awale ke Murabbe ke Fayde for Organ Inflammation in Hindi

आंवले का मुरब्बा ऑस्टियोआर्थराइटिस या हड्डियों और जोड़ों की सूजन में अकेले फायदेमंद नहीं होता है, लेकिन यह आंतरिक अंगों की सूजन में अच्छी तरह से काम करता है। इसमें अग्नाशयशोथ (pancreatitis) और हेपेटाइटिस जैसी बीमारियां भी शामिल हैं। यह अग्नाशय की सूजन को कम करता है और जिगर के उचित कार्यों का समर्थन करता है।

(और पढ़ें - अग्राश्य कैंसर के लक्षण)

आंवले का मुरब्बा खाने के फायदे गर्भावस्था के लिए - Amla Murabba Benefits in Pregnancy in Hindi

आंवले का मुरब्बा एक अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करता है। यह पाचन को ठीक रखता है और भूख को बेहतर बनाता है। भारत में, यह गर्भावस्था के दौरान टॉनिक के रूप में प्रयोग किया जाता है। यह एक प्राकृतिक आरोग्य के रूप में कार्य करता है और इसलिए इसे 'जीवन का अमृत' भी बोला जाता है। आंवले का मुरब्बा गर्भवती महिला और भ्रूण को शक्ति देता है। यह माँ और बच्चे दोनों को ही विटामिन सी प्रदान करता है। आंवले का मुरब्बा गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान एक सीमित मात्रा में ही लेना सुरक्षित होता है।

(और पढ़ें - गर्भवती महिला के लिए भोजन और लड़का पैदा करने के उपाय)

  • आंवले के मुरब्बे का नियमित सेवन बालों की जड़ों को विटामिन की खुराक प्रदान करता है। यह समय से पहले बालों को सफेद होने से रोकता है और बालों की चमक बनाए रखता है। (और पढ़ें- सफेद बालों से छुटकारा)
  • यह सूर्य की स्ट्रोक और हानिकारक यूवी किरणों से आपके शरीर को बचाने के लिए मदद करता है। (और पढ़ें- पराबैंगनी किरणों के प्रभाव)
  • आंवले का मुरब्बा तनाव और अनिद्रा का इलाज करता है। (और पढ़ें - अनिद्रा के घरेलू उपचार)
  • यह शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो कि मुक्त कणों से शरीर की रक्षा करता है।
  • आंवले का मुरब्बा शरीर में आवश्यक पोषक तत्वों, फाइटो पोषक तत्वों, वजन घटाने में सहायता करने के लिए विटामिन की आपूर्ति करता है। (और पढ़ें- वजन घटाने के उपाय)
  • यह बवासीर के इलाज के लिए मदद करता है।
  • आंवले का मुरब्बा जिगर स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। यह जिगर की विषाक्त पदार्थो से सुरक्षा करता है।

(और पढ़ें - बवासीर में क्या खाना चाहिए)

(और पढ़ें - डायबिटीज डाइट चार्ट)

आंवला मुरब्बा खाने के लिए इस तरीके को अपनाएं - 

  • आंवले का मुरब्बा मस्तिष्क, हृदय, जिगर, पाचन और प्रजनन प्रणाली के लिए एक टॉनिक है।
  • आंवले का मुरब्बा 15-20 ग्राम (1-2 टुकड़े) की खुराक में लिया जा सकता है।
  • आप दैनिक रूप से सुबह नाश्ते से पहले एक गिलास दूध के साथ या दिन में दो बार भोजन के बाद इसे खा सकते हैं।

(और पढ़ें - प्रजनन क्षमता बढ़ाने के उपाय)

और पढ़ें ...

References

  1. Tambekar et al. ANTIBACTERIAL POTENTIAL OF SOME HERBAL PREPARATION: AN ALTERNATIVE MEDICINE IN TREATMENT OF ENTERIC BACTERIAL INFECTION. Int J Pharm Pharm Sci, Vol 2, Suppl 4, 176­179
  2. United States Department of Agriculture Agricultural Research Service. Basic Report: 09107, Gooseberries, raw. National Nutrient Database for Standard Reference Legacy Release [Internet]
  3. AK Meena et al. EVALUATION OF PHYSICOCHEMICAL AND PRELIMINARY PHYTOCHEMICAL STUDIES ON THE FRUIT OF EMBLICA OFFICINALIS GAERTN. National Institute of Ayurvedic Pharmaceutical Research, Patiala, Punjab, India.
  4. Grover HS, Deswal H, Singh Y, Bhardwaj A. Therapeutic effects of amla in medicine and dentistry: A review. J Oral Res Rev 2015;7:65-8
  5. Akhtar MS, Ramzan A, Ali A, Ahmad M. Effect of Amla fruit (Emblica officinalis Gaertn.) on blood glucose and lipid profile of normal subjects and type 2 diabetic patients. Int J Food Sci Nutr. 2011 Sep;62(6):609-16.
  6. Swetha Dasaroju, Krishna Mohan Gottumukkala. Current Trends in the Research of Emblica officinalis (Amla): A Pharmacological Perspective. Int. J. Pharm. Sci. Rev. Res., 24(2), Jan – Feb 2014; nᵒ 25, 150-159
  7. Poonam Mishra, Charu Lata Mahanta. Comparative Analysis of Functional and Nutritive Values of Amla (Emblica officinalis) Fruit, Seed and Seed Coat Powder. American Journal of Food Technology
  8. Ekta Singh et al. Phytochemistry, traditional uses and cancer chemopreventive activity of Amla (Phyllanthus emblica): The Sustainer. Journal of Applied Pharmaceutical Science 02 (01); 2011: 176-183
  9. Biswas Gopa, Jagatkumar Bhatt, Kovur G. Hemavathi. A comparative clinical study of hypolipidemic efficacy of Amla (Emblica officinalis) with 3-hydroxy-3-methylglutaryl-coenzyme-A reductase inhibitor simvastatin . Indian J Pharmacol. 2012 Mar-Apr; 44(2): 238–242. PMID: 22529483
  10. Baliga MS, Dsouza JJ. Amla (Emblica officinalis Gaertn), a wonder berry in the treatment and prevention of cancer. Eur J Cancer Prev. 2011 May;20(3):225-39. PMID: 21317655
  11. Tiejun Zhao, Qiang Sun, Maud Marques, Michael Witcher. Anticancer Properties of Phyllanthus emblica (Indian Gooseberry) . Oxid Med Cell Longev. 2015; 2015: 950890. PMID: 26180601