myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

नाक या मुंह में पानी जाने के कारण सांस न ले पाने की स्थिति को डूबना या "ड्राउनिंग" (Drowning) कहते हैं।

शुरुआत में डूब रहे व्यक्ति के फेफड़ों में थोड़ा सा पानी जाता है, जिससे मांसपेशियां ऐंठने लगती हैं और शरीर में सांस व पानी जाना बंद हो जाता है और व्यक्ति बेहोश होने लगता है। इसका मतलब है कि डूबने वाला व्यक्ति चिल्ला कर मदद नहीं मांग पाता क्योंकि उसे पर्याप्त हवा नहीं मिलती। शोर न मचा पाने की वजह से व्यक्ति को मदद नहीं मिल पाती और आस-पास लोग मौजूद होने के बाद भी वह बच नहीं पाता।

इस लेख में डूबते हुए व्यक्ति को कैसे बचाते हैं, खुद डूबने पर कैसे बचते हैं, डूबने का पता कैसे चलता है और पराचिकित्सा सहयोगी मदद कैसे करते हैं के बारे में बताया गया है।

(और पढ़ें - first aid in hindi)

  1. कैसे पता चलता है कि पानी में कोई डूब रहा है - Pani me doobne ka pata kaise chalta hai
  2. पराचिकित्सा सहयोगी व्यक्ति की मदद कैसे करते हैं - Parachikitsa sehyogi kaise sahayta karte hain
  3. पानी में डूबने के लिए प्राथमिक उपचार - Pani me doobne par prathmik upchar
कैसे पता चलता है कि पानी में कोई डूब रहा है - Pani me doobne ka pata kaise chalta hai

निम्नलिखित स्थितियों में समझ जाएं कि व्यक्ति डूब रहा है -

  • व्यक्ति अपने सिर और मुंह को पानी से बाहर रखने का प्रयास कर रहा है और सफल नहीं हो पा रहा है।
  • व्यक्ति का सर पीछे की तरफ झुका हुआ है और मुंह खुला है।
  • व्यक्ति किसी एक जगह पर नहीं देख रहा है।
  • व्यक्ति तेज़ी से सांस ले रहा है या हांफ रहा है। (और पढ़ें - हांफने का इलाज)
  • व्यक्ति एक दिशा में तैरने की कोशिश कर रहा है परन्तु ऐसा कर नहीं पा रहा।
  • व्यक्ति तैरने के लिए अपनी पीठ के बल घूमने की कोशिश कर रहा है।
  • व्यक्ति अपने हाथों व पैरों को तेज़ी से हिला रहा है।

(और पढ़ें - तैराकी के फायदे)

अगर आपके सामने कोई व्यक्ति डूब रहा है, तो तुरंत मदद को बुलाएं। मदद आने पर पराचिकित्सक सहयोगी निम्नलिखित तरीके से व्यक्ति की मदद करेंगे -

  • सबसे पहले व्यक्ति की सांस, धड़कन और ब्लड प्रेशर को स्थिर किया जाता है। (और पढ़ें - सांस फूलने के लक्षण)
  • कार्डियक अरेस्ट की स्थिति वाले व्यक्ति की दिल की धड़कन समान्य करने के लिए उसे सीपीआर दिया जाता है।
  • दिल, फेफड़ों और मस्तिष्क की समस्या वाले लोगों को उनकी समस्या के अनुसार उपचार दिया जाता है।
  • डूबने से हुई अन्य समस्याओं के लिए व्यक्ति की जांच की जाती है, जैसे:
    • ऑक्सीजन की सप्लाई कम होने के कारण मस्तिष्क व दिल की मांसपेशियों का नुकसान।
    • फेफड़ों में पानी जाने के कारण इन्फेक्शन
    • गुर्दों को नुक्सान।

(और पढ़ें - फर्स्ट ऐड बॉक्स)

पानी में डूब रहे व्यक्ति को कैसे बचाएं - Doob rahe vyakti ko kaise bachaye

पानी में डूब रहे व्यक्ति को कैसे बचाएं - Doob rahe vyakti ko kaise bachaye

अगर आपके सामने कोई व्यक्ति पानी में डूब रहा है, तो आप निम्नलिखित तरीके से उसे बचा सकते हैं -

  • सबसे पहले अास-पास मौजूद लोगों से मदद मांगें और एम्ब्युलेंस को बुलाएं।
  • अगर आपको यह करने का सही तरीका पता है और इसमें प्रशिक्षण हासिल है, तो व्यक्ति को पानी से बाहर निकालें।
  • व्यक्ति के पास कोई तैरने वाली वस्तु, जैसे ट्यूब या लाइफ जैकेट फेंकें या व्यक्ति को पकड़ने के लिए लम्बा डंडा देने की कोशिश करें।
  • अगर व्यक्ति सांस ले रहा है, तो उसे तरफ कर के लिटा दें।
  • अगर व्यक्ति सांस नहीं ले रहा है और उसकी नब्ज भी नहीं चल रही है, तो उसे सीपीआर दें।

चेतावनी: अगर आप इसमें प्रशिक्षित नहीं हैं और आपको सही तरीका नहीं पता है, तो डूबते व्यक्ति को बचाने की कोशिश न करें। ऐसा करने से आपकी जान को भी खतरा हो सकता है।

(और पढ़ें - पल्स देखने का तरीका)

खुद डूबने पर क्या करें - Doobte samay kya kare

खुद डूबने पर क्या करें - Doobte samay kya kare

अगर आप डूब रहे हैं, तो निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें -

  • सबसे पहले शांत हो जाएं और घबराएं नहीं क्योंकि घबराहट में मासपेशियां अधिक ऑक्सीजन इस्तेमाल करने लगती हैं और ऐसी स्थीति में यह खतरनाक हो सकता है।
  • अपने सिर को ऊपर रखें और सामान्य तरीके से सांस लेने की कोशिश करें। फेफड़ों में हवा होने से शरीर बेहतर तरीके से तैरता है लेकिन अधिक तेज़ी से सांस न लें।
  • जितना हो सके उतना तेज़ चिल्लाएं ताकि लोग आपको सुन सकें।
  • पानी को उछालें ताकि लोग आपको देख पाएं।
  • अगर कोई भी चीज़ आपका वजन बढ़ा रही है, तो उसे हटा दें, जैसे जूते या बैग।
  • अपने सिर को पानी से बाहर रखने का प्रयास करें।
  • पानी में शरीर को खड़ा रखने की बजाय लिटाने की कोशिश करें और सिर को पीछे की तरफ झुका लें।

नोट: प्राथमिक चिकित्सा या फर्स्ट ऐड देने से पहले आपको इसकी ट्रेनिंग लेनी चाहिए। अगर आपको या आपके आस-पास किसी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की आपातकालीन स्वास्थ्य समस्या है, तो डॉक्टर या अस्पताल​ से तुरंत संपर्क करें। यह लेख केवल जानकारी के लिए है।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
187197 भारत
3221कर्नाटक
1269केरल
74लद्दाख
8089मध्य प्रदेश
67655महाराष्ट्र
71मणिपुर
27मेघालय
1मिजोरम
43नगालैंड
1948ओडिशा
70पुडुचेरी
2263पंजाब
8831राजस्थान
1सिक्किम
22333तमिलनाडु
2698तेलंगाना
313त्रिपुरा
907उत्तराखंड
7823उत्तर प्रदेश
5501पश्चिम बंगाल
3783आंध्र प्रदेश
22अरुणाचल प्रदेश
1390असम
33अंडमान निकोबार
3926बिहार
294चंडीगढ़
547छत्तीसगढ़
3दादर नगर हवेली
20834दिल्ली
71गोवा
17200गुजरात
2356हरियाणा
340हिमाचल प्रदेश
2601जम्मू-कश्मीर
659झारखंड

मैप देखें