myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हम सभी को कभी न कभी गले में तकलीफ या अन्य समस्याएं होती ही हैं और गले में दर्द या खराश होने पर सबसे पहले गरारे करने के लिए ही कहा जाता है। ये हर घर का देसी नुस्खा है जो हमेशा काम आता है। गले की कोई समस्या या बलगम होने पर तो गरारे किए ही जाते हैं, लेकिन रोजाना नियमानुसार गरारे करने से कई समस्याएं होने का खतरा कम होता है और आपके मुंह का स्वास्थ्य भी बरकरार रहता है।

(और पढ़ें - गले की खराश दूर करने के उपाय)

गरारे करने के कई फायदे होते हैं, लेकिन इसके सबसे मुख्य फायदे ये हैं कि इससे गले की खराश व अन्य प्रकार की समस्याएं तो ठीक होती ही हैं, साथ ही गरारे करने से मुंह की बदबू भी कम होती है। ये आपके मुंह में मौजूद कीटाणुओं को निकाल देता है, जिससे कई तरह की परेशानियों से राहत मिलती है।

(और पढ़ें - मुंह की बदबू का घरेलू उपाय)

इस लेख में गरारे कितने प्रकार के होते हैं या आप किन-किन चीजों से गरारे कर सकते हैं, गरारे करने से क्या फायदे होते हैं, गरारे करने का तरीका और ध्यान रखने योग्य बातों के बारे में बताया गया है।

  1. गरारे के प्रकार - Garare ke prakar
  2. गरारे करने के लाभ - Garare kyu karne chahiye
  3. गरारे कैसे करते हैं - Garare kaise kare
  4. गरारे करते समय रखें इन बातों का ध्यान - Garare karte samay in bato ka dhyan rakhe

वैसे हो गरारे करने का सबसे आम तरीका होता है पानी से, लेकिन गरारे कई तरह के मिश्रण से किए जा सकते हैं। पानी में कई अलग-अलग चीजें मिलाकर गरारे किए जाते हैं। ऐसे ही कुछ तरीके निम्नलिखित हैं -

  • नमक के पानी से
    गरारे करने के सबसे आम तरीकों में से एक है नमक के पानी से गरारे करना। नमक में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं, जिससे मुंह में मौजूद कीटाणु तो मरते ही हैं, साथ ही इससे गले की सूजन व दर्द भी ठीक होता है। इसके लिए एक गिलास पानी को हल्का गर्म कर लें और उसमें आधा चम्मच नमक डालकर मिला लें। अब इस मिश्रण से गरारे करें।
    (और पढ़ें - सूजन कम करने के घरेलू उपाय)
     
  • लौंग के पानी से
    लौंग में ऐसे गुण होते हैं जो मुंह के कीटाणु मारते हैं और गले की सूजन भी कम करते हैं। इसके लिए एक गिलास पानी में 2-3 लौंग डालकर उसे उबाल लें और इस मिश्रण से गरारे करें।
    (और पढ़ें - लौंग के तेल के फायदे)
     
  • लाल मिर्च के पानी से
    लाल मिर्च के पानी से गरारे करने से गले की परेशानियों में बहुत आराम मिलता है। इसके लिए एक गिलास पानी उबाल लें और उसमें लाल मिर्च का पाउडर डालकर अच्छे से मिला लें। अब इस पानी से कुछ देर गरारे करें। इससे आपका गला जलेगा जरूर, लेकिन ये गले की परेशानियों से आराम पाने का बहुत अच्छा तरीका है।
    (और पढ़ें - गले में इन्फेक्शन के लक्षण)
     
  • हल्दी के पानी से
    हल्दी में कीटाणु मारने वाले और सूजन कम करने वाले गुण होते हैं, इसीलिए इससे गरारे करने से बहुत फायदे होते हैं। इसके लिए एक गिलास पानी को हल्का गर्म कर लें और उसमें आधा चम्मच हल्दी का पाउडर डालें, आप चाहें तो इसमें थोड़ा सा नमक भी डाल सकते हैं। अब इस मिश्रण से कुछ देर गरारे करें।
    (और पढ़ें - हल्दी कैसे इस्तेमाल करें)
     
  • अदरक के पानी से
    अदरक में ऐसे कई गुण होते हैं जिनसे गले की समस्याएं सही होती हैं। इसके लिए एक गिलास पानी उबाल लें और उसमें अदरक का पाउडर मिलाकर गरारे करें। अगर आप कच्चा अदरक इस्तेमाल कर रहे हैं, तो पानी में थोड़ा सा अदरक काटकर डालें और फिर इस मिश्रण को छान लें। अगर आप चाहें तो इस मिश्रण में शहद या लाल मिर्च भी डाल सकते हैं।
    (और पढ़ें - शहद और गर्म पानी के लाभ)
     
  • सेब के सिरके से
    सेब के सिरके में भी सूजन कम करने और कीटाणु मारने वाले गुण होते हैं, इसीलिए इससे गरारे करने पर गले की कई परेशानियों में राहत मिलती है। इसके लिए आधा गिलास पानी लें और उसमें 1.5 से 2 चम्मच सेब का सिरका मिला लें। इस मिश्रण को उबालें नहीं, बस हल्का सा गर्म कर लें और इससे गरारे करें। (और पढ़ें - गले में दर्द के घरेलू उपाय)
     
  • माउथवाश से
    आप चाहें तो माउथवाश से भी गरारे कर सकते हैं, इसमें भी गले की समस्याओं को सही करने वाले कई गुण होते हैं। इसके लिए एक गिलास पानी में थोड़ा सा माउथवाश लेकर गरारे करें। हालांकि, माउथवाश गले से अंदर जाने पर अन्य समस्याएं हो सकती हैं, इसीलिए इससे गरारे करते समय सावधानी बरतें। (और पढ़ें - गले के कैंसर के लक्षण)

गले की खराश, दर्द, बलगम या अन्य समस्याओं के लिए सबसे पहले गरारे करने की सलाह ही दी जाती है। इसके निम्नलिखित फायदे होते हैं -

  1. गरारे करने से आपके मुंह और दांतों के बीच फंसा खाना निकल जाता है जिससे मुंह में कई समस्याएं होने से बच जाती हैं। (और पढ़ें - दांत में दर्द के कारण)
  2. गरारे करने से गले में मौजूद बैक्टीरिया के द्वारा बनाया जाने वाला एसिड कम होता है और एक सामान्य पीएच स्तर बना रहता है। (और पढ़ें - यूरिक एसिड के लक्षण)
  3. सर्दी या फ्लू से गले में खराश होने पर गरारे करने से कुछ आराम मिल सकता है। (और पढ़ें - फ्लू के घरेलू उपाय)
  4. गरारे करने से आपकी श्वसन नली और नाक में जमा बलगम बाहर निकलता है। (और पढ़ें - बलगम निकालने के उपाय)
  5. इन्फेक्शन में गरारे करने से संक्रमण की गंभीरता कम होती है और उसके लक्षणों से आराम मिलता है। (और पढ़ें - मस्तिष्क संक्रमण के लक्षण)
  6. सूखी खांसी होने पर गरारे करने से बहुत आराम मिलता है। (और पढ़ें - खांसी के लिए घरेलू उपाय)
  7. कभी-कभी एलर्जी के कारण भी गले में सूजन हो जाती है, ऐसे में गरारे करने से राहत मिलती है। (और पढ़ें - एलर्जी होने पर क्या होता है)
  8. ऐसा माना जाता है कि रोजाना नियमित रूप से गरारे करने से ऊपरी श्वसन तंत्र संक्रमण होने का खतरा कम हो जाता है। (और पढ़ें - ब्रोन्किइक्टेसिस के लक्षण)
  9. गरारे करने से मुंह और गले के कीटाणु निकल जाते हैं, जिससे मुंह का स्वास्थ्य अच्छा रहता है। (और पढ़ें - मुंह के छाले के कारण)
  10. बैक्टीरियल संक्रमण या वायरल इन्फेक्शन के कारण टॉन्सिल्स होने का खतरा होता है और इससे गले में कई परेशानियां होने लगती हैं। गरारे करने से टॉन्सिल्स में होने वाली समस्याओं से आराम मिलता है। (और पढ़ें - टॉन्सिल के घरेलू उपाय)
  11. एक अध्ययन में ये पाया गया था कि गरारे करने से थूक में मौजूद खतरनाक बैक्टीरिया निकल जाते हैं और मुंह की कई तरह की समस्याएं होने का खतरा कम हो जाता है। (और पढ़ें - खांसी के कारण)
  12. गरारे करने से मुंह की बदबू से खत्म हो जाती है क्योंकि इससे बदबू करने वाले बैक्टीरिया बाहर निकल जाते हैं। (और पढ़ें - मुंह की बदबू का घरेलू उपाय)
  13. गरारे करने से मसूड़ों की सूजन कम होती है और मुंह में किसी भी प्रकार की चोट भी जल्दी ठीक होती है। (और पढ़ें - मसूड़ों में सूजन के घरेलू उपाय)
  14. कभी-कभी मुंह के बैक्टीरिया के कारण आपके मसूड़ों से खून आने लगता है, ऐसे में गरारे करने से बैक्टीरिया निकल जाते हैं और मसूड़ों से खून आना बंद हो जाता है। (और पढ़ें - खून बहना कैसे रोकें)
  15. नियमित रूप से गरारे करने पर दांतों में कीड़ा लगने की संभावना कम हो जाती है। (और पढ़ें - दांत खराब होने के कारण)
  16. हमारे दांतों पर मैल जमने लगता है, जिसके कारण मसूड़ों में तकलीफ होती है और दांत सड़ने लगते हैं। रोजाना गरारे करने से दांतों का ये मैल निकल जाता है। (और पढ़ें - दांत के मैल के कारण)
  17. गरारे करने से मसूड़ों का एक गंभीर संक्रमण होने का खतरा कम हो जाता है, जिसे पायरिया कहा जाता है। (और पढ़ें - पायरिया के घरेलू उपाय)
  18. हमारे मुंह में अक्सर कई कारणों से छाले हो जाते हैं, जिनमें बहुत दर्द होता है। गरारे करने से ये दर्द कम होता है और छाले जल्दी सही होते हैं। (और पढ़ें - मुंह के छाले दूर करने के घरेलू उपाय)
  19. दांत में दर्द तब होता है जब आपके दांत में पस बनने लग जाती है। ऐसी स्थिति में आपको डेंटिस्ट से इलाज करवाना पड़ता है, लेकिन दर्द के लिए गरारे किए जा सकते हैं। (और पढ़ें - दांतों को सफेद करने के उपाय)
  20. कैंडिडियासिस एक फंगल इन्फेक्शन है जो एक यीस्ट के कारण होता है। इस संक्रमण में आपके मुंह, गले और खाने की नली में सफेद धब्बे होने लगते हैं। इस स्थिति में गरारे करने से काफी आराम मिलता है। (और पढ़ें - फंगल इन्फेक्शन के लक्षण)
  21. गरारे करने से आपकी जीभ भी साफ होती है और उसपर मैल नहीं जमती। (और पढ़ें - जीभ के छाले के कारण)

गरारे करने का सही तरीका निम्नलिखित है -

  • सबसे पहले ये सुनिश्चित कर लें कि आप किस चीज से गरारे करना चाहते हैं। इस लेख के पहले भाग में हमने आपको गरारे करने अलग-अलग प्रकार के बारे में बताया था। (और पढ़ें - मुंह में जलन के कारण)
  • अब अपना गरारे करने का मिश्रण तैयार कर लें। (और पढ़ें - मुंह सूखने के कारण)
  • इसके बाद इस मिश्रण को एक साफ गिलास में डालें। याद रहे कि किसी बड़ी बोतल से गरारे करने की बजाय छोटे गिलास का उपयोग करें। (और पढ़ें - चेहरे का लकवा के लक्षण)
  • अब इस मिश्रण की कुछ मात्रा अपने मुंह में रखें। शुरुआत में थोड़ा सा मिश्रण ही लें क्योंकि ज्यादा मात्रा में मिश्रण को लेने से आपको उल्टी आ सकती है। (और पढ़ें - उल्टी रोकने के घरेलू उपाय)
  • इसके बाद इस मिश्रण को अपने पूरे मुंह में अच्छे से घुमा लें। गरारे करने का उदेश्य होता है कि ये मिश्रण आपके मुंह के हर हिस्से में पहुंच जाए। (और पढ़ें - दांतों में झनझनाहट के लक्षण)
  • इसके लिए अपने गालों को अंदर-बाहर करें और अपनी जीभ को भी आगे-पीछे करें। (और पढ़ें - गाल भरने के उपाय)
  • अब अपने सिर को थोड़ी पीछे की तरफ झुका लें ताकि गरारे वाला मिश्रण आपके मुंह की पिछली तरफ और गले में पहुंच जाए। (और पढ़ें - सिर में खुजली के लिए घरेलू उपाय)
  • अब अपनी जीभ को पीछे की ओर खीचें और अपने गले से कुछ समय के लिए ऐसी आवाज निकालें जैसे ‘आह’ बोलते हैं।
  • इससे आपके गले और मुंह में होने वाली कंपन से मिश्रण के बुलबुले बनने लगेंगे और मिश्रण अच्छी तरह से आपके पूरे मुंह और गले में पहुंच जाएगा। (और पढ़ें - ज्यादा हिचकी आने पर क्या करें)
  • कुछ सेकंड तक ये करें और फिर मिश्रण को मुंह से बाहर फेंक दें।
  • अब फिर से थोड़ा मिश्रण अपने मुंह में रखें और इस प्रक्रिया को दोहराएं।
  • जब तक आप सही महसूस करें तब तक गरारे करें और फिर बंद कर दें।
  • आप जुकाम के लिए रोजाना 2 से 3 बार गरारे कर सकते हैं और अगर कोई और समस्या है तो ज्यादा बार भी कर सकते हैं। (और पढ़ें - सर्दी जुकाम में क्या खाएं)
  • गरारे करना सीखने में कुछ समय लगता है, लेकिन बार-बार प्रयास करने से ये आसानी से सीखा जा सकता है।

गरारे करते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें -

  1. अगर आपको नमक के पानी से गरारे करने में तकलीफ हो रही है, तो सादे पानी से गरारे करें। (और पढ़ें- समुद्री नमक के फायदे)
  2. अगर आप पानी में नमक डाल रहे हैं, तो पानी को हल्का गर्म कर लें ताकि नमक पूरी तरह से पानी में घुल जाए। (और पढ़ें - तांबे के बर्तन में पानी पीने के फायदे)
  3. गरारे करने से पहले नमक को पानी में अच्छे से घोल लें क्योंकि अगर नमक पूरी तरह नहीं घुलेगा तो इसके दाने आपके मुंह और गले को छील सकते हैं। (और पढ़ें - कटने पर क्या करें)
  4. ऐसे माउथवाश से गरारे न करें जिसमें अल्कोहल हो, इससे दुष्प्रभाव हो सकते हैं। (और पढ़ें - शराब पीने के नुकसान)
  5. गरारे करते समय हमेशा अपना सिर पीछे की तरह झुकाएं।
  6. अगर आप गर्म पानी का उपयोग कर रहे हैं, तो गरारे करने से पहले देख लें कि पानी कितना गर्म है, नहीं तो आपका मुंह जल सकता है। (और पढ़ें - जलने पर प्राथमिक उपचार)
  7. अगर आप सादे पानी की जगह किसी और तरीके से गरारे कर रहे हैं, तो उस मिश्रण को गले से अंदर न ले जाएं। (और पढ़ें - नारियल पानी के फायदे)
  8. अगर आपको नमक के पानी का स्वाद अच्छा नहीं लग रहा है, तो आप उसमें थोड़ा शहद या नींबू का रस डाल सकते हैं। (और पढ़ें - नींबू के फायदे)
  9. गरारे वाला मिश्रण ज्यादा मात्रा में अपने मुंह में न रखें, इससे ये आपके गले में अटक सकता है और आप ठीक से गरारे नहीं कर पाएंगे। (और पढ़ें - गले में कुछ अटक जाए तो क्या करें)
  10. मिश्रण को एकदम से मुंह से बाहर न फेंक दें। कम से कम 30 से 40 तक इस मिश्रण से गरारे करें।
  11. गरारे हमेशा सब्रपूर्वक और सही तरीके से किए जाने चाहिए। (और पढ़ें - दिमाग शांत करने के उपाय)
     

नोट: प्राथमिक चिकित्सा या फर्स्ट ऐड देने से पहले आपको इसकी ट्रेनिंग लेनी चाहिए। अगर आपको या आपके आस-पास किसी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की आपातकालीन स्वास्थ्य समस्या है, तो डॉक्टर या अस्पताल​ से तुरंत संपर्क करें। यह लेख केवल जानकारी के लिए है।

और पढ़ें ...