भारत में बहुत से ऐसे लोग हैं जो समझते हैं कि उन्हें स्वास्थ्य बीमा करवाने की जरूरत नहीं हैं, जबकि कुछ लोगों का मानना है कि स्वास्थ्य बीमा के लिए प्रीमियम भरना उनके बजट से बाहर है। यही कारण है कि देश की एक बड़ी आबादी के पास आज भी कोई हेल्थ इन्शुरन्स प्लान नहीं है। दुनियाभर में ऐसे कई देश हैं जहां पर हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदना अनिवार्य है और न खरीदने पर जुर्माना देना पड़ता है। फिलहाल भारत में तो ऐसा कोई नियम नहीं है, लेकिन सरकार लोगों को स्वास्थ्य बीमा खरीदने के लिए समय-समय पर प्रोत्साहित करती है। जगह-जगह कैंपेन चलाए जाते हैं और गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले लोगों को तो यहां तक कि निशुल्क बीमा लाभ प्रदान किए जाते हैं। इतना होने के बावजूद भी कई लोगों को लगता है कि हेल्थ इन्शुरन्स प्लान एक अतिरिक्त खर्च है।

इस लेख में हम जानेंगे कि हेल्थ इन्शुरन्स न खरीदना कितना अनुचित है और इससे हमे किन-किन समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यह लेख विशेष रूप से उन लोगों को जरूर पढ़ना चाहिए, जो हेल्थ इन्शुरन्स प्लान का अतिरिक्त खर्च समझते हैं। नीचे कुछ पॉइंट्स के माध्यम से आपको बताया जाएगा कि स्वास्थ्य बीमा के बिना आपको किस प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है -

  1. लगातार वित्तीय बोझ बढ़ना
  2. मेडिकल क्षेत्र में गुणवत्ता की कमी
  3. भुगतान करने संबंधी समस्याएं
  4. इनकम टैक्स का बोझ
  5. myUpchar बीमा प्लस हो सकता है आपके लिए एक अच्छा विकल्प

स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं किसी भी समय और किसी भी रूप में आ सकती हैं, चाहे वह कोई सड़क दुर्घटना, सामान्य बीमारी हो या फिर कोई गंभीर स्वास्थ्य समस्या हो। बीमारी चाहे कोई भी हो एक बात तय है कि आपको उसका इलाज कराने के लिए अस्पताल में जाना पड़ेगा। ऐसे में यदि आपने कोई हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदा हुआ नहीं है, तो समस्या आपके लिए थोड़ी जटिल हो सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि इलाज के दौरान खर्च होने वाला सारा पैसा आपको अपनी जेब से देना पड़ सकता है और ऐसे में आपकी सेविंग प्रभावित हो सकती है। इतना ही नहीं आर्थिक तंगी से जूझ रहे लोगों के पास अक्सर कोई सेविंग भी नहीं होती है और ऐसे में अस्पताल का खर्च उठाने के लिए उन्हें कर्जदार होना पड़ सकता है। इसलिए अपने व परिवार के लिए हेल्थ इन्शुरन्स प्लान न खरीदना एक नुकसानदायक विकल्प हो सकता है।

(और पढ़ें - व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा क्या है)

भारत में काफी जनसंख्या गरीबी रेखा के नीचे रहती है और इस कारण से वे अच्छी गुणवत्ता वाले उत्पाद व सेवाएं प्राप्त करने में असमर्थ रहते हैं। हालांकि, जब बात किसी बीमारी या दुर्घटना की आती है, तो अच्छी से अच्छी मेडिकल सेवाएं प्राप्त करना सभी का अधिकार होता है। लेकिन पैसे की कमी के कारण कुछ लोग अच्छी चिकित्सा सुविधाएं प्राप्त नहीं कर पाते हैं। ऐसे में स्वास्थ्य बीमा योजना काफी मदद कर सकती है और एक अच्छी स्वास्थ्य बीमा योजना उपलब्ध करा सकती है। लेकिन इसके विपरीत जो लोग हेल्थ इन्शुरन्स प्लान नहीं खरीदते हैं, वे भी अक्सर पर्याप्त धन की कमी के कारण अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं प्राप्त नहीं कर पाते हैं।

(और पढ़ें - स्वास्थ्य बीमा योजना क्यों जरूरी है)

जब आपके परिवार का कोई व्यक्ति गंभीर बीमारी के कारण अस्पताल में भर्ती हो जाता है, तो उस समय आपको काफी चिंताएं हो रही होती हैं। इस दौरान यदि आपको अस्पताल में पेमेंट करते समय दिक्कत हो रही हो तो आपकी परेशानियां और चिंताएं कई गुना बढ़ सकती हैं। कई बार दुर्घटना जैसी स्थितियों में हड़बड़ाहट में अस्पताल जाना पड़ता है और इस दौरान अक्सर पैसा का इंतजाम भी नहीं हो पाता है। ऐसी स्थितियों के लिए भी एक उचित हेल्थ इन्शुरन्स प्लान बहुत सही विकल्प है, क्योंकि इसमें आप बिना पैसे की चिंता किए डॉक्टर के पास जा सकते हैं। इतना ही नहीं कुछ हेल्थ इन्शुरन्स कंपनियां कैशलेस सुविधा भी देती है, जिसमें कंपनी सीधे अस्पताल से संपर्क करके आपके मेडिकल खर्च का भुगतान करती है। किसी भी आकस्मिक बीमारी या दुर्घटनाओं से निपटने के लिए एक उचित हेल्थ इन्शुरन्स प्लान जरूरी है।

(और पढ़ें - भारत में सबसे अच्छी कैशलेस मेडिक्लेम पॉलिसी)

यदि आपने खुद अपने और परिवार के लिए एक स्वास्थ्य बीमा योजना खरीदी हुई है, तो आपको सिर्फ मेडिकल खर्च पर कवरेज के लाभ ही नहीं मिलते हैं साथ ही साथ इनकम टैक्स पर भी विशेष छूट मिलती है। इसके विपरीत जिन लोगों ने हेल्थ इन्शुरन्स नहीं लिया है उन्हें मेडिकल इलाज का खर्च अपनी जेब से भरने के साथ-साथ इनकम टैक्स भी भरना पड़ता है। इसलिए यदि आप आयकर देते हैं, तो आपको हेल्थ इन्शुरन्स के इस लाभ के बारे में एक बार जरूर सोचना  चाहिए।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स से मिलने वाले इनकम टैक्स के लाभ)

यह सच है कि हेल्थ इन्शुरन्स प्लान के प्रीमियम भरते समय आपके बजट पर थोड़ा बोझ पड़ सकता है, लेकिन इससे मिलने वाले सभी लाभों को दखते हुए यह एक समझदारी का विकल्प है। क्योंकि एक थोड़ी सी मात्रा में प्रीमियम देकर आप बड़ी से बड़ी बीमारियों पर कवरेज प्राप्त कर सकते हैं।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स और लाइफ इन्शुरन्स में अंतर)

बढ़ती महंगाई और गंभीर बीमारियों को देखते हुए आजकल हर किसी के लिए हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदना जरूरी हो गया है। यदि आप भी अपने व परिवार के लिए एक उचित स्वास्थ्य बीमा योजना खरीदने के बारे में सोच रहे हैं, तो myUpchar बीमा प्लस आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। यह प्लान आपको 24×7 फ्री टेली ओपीडी की सुविधा प्रदान करता है। आजकल कोरोना वायरस संक्रमण महामारी जैसी स्थितियों को देखते हुए अस्पतालों में जाना बिलकुल भी सुरक्षित नहीं है और फ्री टेली ओपीडी एक ऐसा फीचर है जिसकी मदद से आप बिना पैसे खर्च किए घर बैठे डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं। साथ ही myUpchar बीमा प्लस में आपको काफी कम प्रीमियम भरना पड़ता है, जिससे आपकी जेब पर भी कोई असर नहीं पड़ता है। 

(और पढ़ें - कोरोना वायरस हेल्थ इन्शुरन्स पालिसी क्यों जरूरी है)

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ