आज भी भारत की आधी से ज्यादा आबादी हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदना जरूरी नहीं समझती है। बढ़ती महंगाई के कारण आजकल हर व्यक्ति को अपने व परिवार के लिए एक उचित हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदना बहुत जरूरी हो गया है। विशेष रूप से प्राइवेट अस्पतालों आदि में मेडिकल सेवाएं बहुत ही महंगी होती हैं, जो एक आम आदमी के बस से पूरी तरह से बाहर होती हैं। भारत में रहने वाले मिडिल क्लास परिवारों में से जब कोई बीमार पड़ जाता है और उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ता है, तो ऐसे में परिवार के कमाने वाले व्यक्ति का बजट कई सालों के लिए डगमगा जाता है। हालांकि, इन बीमारियों को तो टाला नहीं जा सकता है, लेकिन इनसे निपटने के लिए आप खुद को तैयार कर सकते हैं।

आप वार्षिक तौर पर एक छोटी सी राशि प्रीमियम के रूप में देकर खुद को इन गंभीर बीमारियों के लिए तैयार कर सकते हैं। एक अच्छा हेल्थ इन्शुरन्स प्लान आमतौर पर हॉस्पिटलाइजेशन खर्च, डॉक्टर की फीस, दवाएं, टेस्ट और भर्ती होने से पहले व बाद के खर्च पर भी कवरेज प्रदान करते हैं, ताकि आपको उचित इलाज मिल सके। इस लेख में हम आपको कुछ विशेष पॉइंट्स की मदद से बताने की कोशिश करेंगे कि हेल्थ इन्शुरन्स आपके लिए क्यों जरूरी है।

(और पढ़ें - मेडिक्लेम पॉलिसी क्या है)

  1. दिन-प्रतिदिन व्यस्त होती जा रही जीवनशैली
  2. लगातार बढ़ रही जानलेवा बीमारियां
  3. लगातार बढ़ रहा इलाज पर होने वाला खर्च
  4. हेल्थ इन्शुरन्स है आपात समय में मददगार
  5. इनकम टैक्स में छूट प्राप्त करने का अच्छा विकल्प
  6. एक अच्छा हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदने का तरीका क्या है

हमारी जीवनशैली का असर सबसे ज्यादा हमारे स्वास्थ्य पर ही पड़ता है। जाहिर है यदि हमारी जीवनशैली बहुत व्यस्त है, तो हम अपने स्वास्थ्य का ध्यान नहीं रख पाएंगे और परिणामस्वरूप अलग-अलग प्रकार की बीमारियां होने लगेंगी। आजकल खराब जीवनशैली ने तनाव काफी बढ़ा दिया है और साथ ही साथ खान-पान संबंधी खराब आदतें, व्यायाम न करना व अन्य बुरी आदतें हमे लग चुकी हैं जो अंत में स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं। यही कारण है कि हर हालत में हमें बार-बार डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता पड़ती है, चाहे आप उसके लिए वित्तीय रूप से तैयार हैं या नहीं। ऐसे में यदि आपके पास एक अच्छा स्वास्थ्य बीमा है, तो आप पैसे की चिंता किए अपनी स्वास्थ्य समस्याओं का इलाज करा सकते हैं।

(और पढ़ें - सांस की बीमारियों के लिए हेल्थ इन्शुरन्स)

जीवनशैली के बारे में हम ऊपर बात कर ही चुके हैं और गंभीर बीमारियों का फैलाव भी उसी से संबंधित है। पिछले कुछ वर्षों में जानलेवा बीमारियों की चपेट में आने वाले लोगों की संख्या में तेजी से बढ़ी है। यदि प्राइवेट अस्पतालों व अन्य मेडिकल इंस्टीट्यूट्स की बात करें तो इन गंभीर बीमारियों का इलाज एक अच्छी मोटी रकम देकर किया जा सकता है। यदि आपके पास एक अच्छा हेल्थ इन्शुरन्स प्लान है, तो लगभग सभी गंभीर बीमारियों को उसमें कवर किया जा सकता है। बढ़ती गंभीर बीमारियों और अस्पतालों की महंगाई को देखते हुए, एक उचित हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदना अच्छा विकल्प हो सकता है।

(और पढ़ें - लंग कैंसर के लिए हेल्थ इन्शुरन्स)

जिस प्रकार लगातार मेडिकल क्षेत्र में टेक्नोलॉजी का विस्तार हो रहा है, उसी प्रकार महंगाई भी अपने पैर पसार रही है। अस्पताल में जाकर इलाज कराना आज हर व्यक्ति के बस की बात नहीं रही है। कई बार आम आदमी को इलाज के लिए अस्पताल में जाना भी पड़ जाता है और पैसे का इंतजाम करने के लिए उसे कई अनुचित कदम उठाने पड़ जाते हैं। यदि आपके पास एक उचित हेल्थ इन्शुरन्स प्लान है, तो आपको मेडिकल क्षेत्र में लगातार बढ़ रही महंगाई की चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। आप वार्षिक तौर पर आसान प्रीमियम भरते रहें और बाकी की चिंता अपने हेल्थ इन्शुरन्स प्लान पर छोड़ दें।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स और लाइफ इन्शुरन्स में अंतर)

भारत में आज भी अधिकतर लोग ऐसे हैं, जो हेल्थ इन्शुरन्स प्लान को महत्वपूर्ण नहीं समझते है। वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो आर्थिक तंगी के कारण प्लान खरीद ही नहीं पाते हैं। लेकिन हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदन बहुत ही जरूरी है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह आपको आपात स्थितियों के समय वित्तीय रूप से सहायता प्रदान करता है, ताकि आप अपना व परिवार के सदस्य का अच्छे से इलाज करा सकें और उसका जीवन बचा सकें। भारत की वह आबादी जो हेल्थ इन्शुरन्स प्लान को जरूरी नहीं समझती है, उन्हें बाद में बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। सिर्फ परेशानी ही नहीं समय पर पैसे का इंतजाम न होने पर मरीज का जीवन भी संकट में पड़ सकता है। बढ़ती बीमारियों और महंगाई को देखते हुए एक अच्छा हेल्थ इन्शुरन्स प्लान आज के समय में सिर्फ एक विकल्प ही नहीं बल्कि जरूरत बन गया है।

(और पढ़ें - व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा क्या है)

जैसा कि हम ऊपर भी बात कर रहे थे कि महंगाई लगातार बढ़ती ही जा रही है और ऐसे में व्यक्ति अपने रोजाना के खर्चों को ही बड़ी मुश्किल से संभाल पाता है। साथ ही उसे आयकर जैसे टैक्स स्थिति को और बदतर बना सकते हैं। लेकिन आपको इस बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि इसमें भी एक अच्छा हेल्थ इन्शुरन्स आपकी मदद कर सकता है। यदि आप हेल्थ इन्शुरन्स के लिए निश्चित अवधि में प्रीमियम राशि का भुगतान कर रहे हैं, तो आप आयकर अधिनियम की धारा 80डी के तहत कर कटौती के लिए पात्र हैं।

हालांकि, आपको इस बात पर भी ध्यान देना चाहिए कि जिस समय स्वास्थ्य बीमा योजना प्रदान की जाती है, उस समय प्लान खरीदने वाले व्यक्ति की वर्तमान स्वास्थ्य स्थिति को ध्यान में रखा जाता है। हमेशा हेल्थ इन्शुरन्स प्लान को पहले से ही खरीद लेना चाहिए क्योंकि गंभीर बीमारियां कभी भी बताकर नहीं आती हैं।

(और पढ़ें - स्वास्थ्य बीमा में डिडक्टिबल क्या है)

स्वास्थ्य बीमा सेवाएं प्रदान करने वाली कंपनियों की संख्या काफी अधिक हो गई है और इनके प्लान भी लगभग एक जैसे ही होते हैं। एक सामान्य स्वास्थ्य बीमा योजना में कुछ फीचर ऐसे होते हैं, जिनकी आपको जरूरत नहीं होती है और इनके लिए आपको बिना बात ही प्रीमियम देना पड़ता है। हालांकि, कुछ ऐसे फीचर हैं जो किसी भी स्वास्थ्य बीमा योजना में होने जरूरी हैं। यदि आप हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदने जा रहे हैं, तो यह सुनिश्चित कर लें कि आपको निम्न फीचर मिल रहे हैं या नहीं-

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स कंपनी क्लेम न दे तो क्या करें)

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ