myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

पूर्ण रक्त गणना (कम्पलीट ब्लड काउंट) या सीबीसी या सिर्फ "ब्लड टेस्ट", एक आसान और बहुत ही आम टेस्ट है जो आपके स्वास्थ्य पर असर डालने वाले कुछ विकारों के लिए खून का टेस्ट करता है।

  1. कम्पलीट ब्लड काउंट टेस्ट (खून की जांच) क्या होता है? - What is Complete Blood Count Test in Hindi?
  2. ब्लड टेस्ट (खून की जांच) क्यों किया जाता है - What is the purpose of Blood Test in Hindi
  3. खून की जांच (ब्लड टेस्ट) से पहले - Before Complete Blood Count Test in Hindi
  4. रक्त परिक्षण (ब्लड टेस्ट) के दौरान - During Complete Blood Count Test in Hindi
  5. ब्लड टेस्ट (खून की जांच) के क्या जोखिम होते हैं - What are the risks of Blood Test (CBC) in Hindi
  6. ब्लड टेस्ट (सीबीसी) के परिणाम का क्या मतलब होता है - What do the results of Complete Blood Count Test mean in Hindi

सीबीसी यह निर्धारित करता है कि आपके रक्त कोशिकाओं की गिनती में कोई वृद्धि या कमी हुई है या नहीं। आपकी उम्र और आपके लिंग के आधार पर सामान्य गिनती अलग हो सकती है। प्रयोगशाला से मिलने वाली सीबीसी रिपोर्ट आपको आपकी उम्र और लिंग के लिए सामान्य गिनती बताएगी।

सीबीसी एनीमिया, आम संक्रमण से लेकर कैंसर तक कई स्वास्थ्य समस्याओं का पता लगाने में मदद कर सकता है।

आपकी रक्त कोशिकाओं के स्तर में परिवर्तन को मापने से आपके डॉक्टर आपके समग्र स्वास्थ्य और विकारों का पता लगा सकते हैं। यह टेस्ट तीन मुख्य प्रकार की रक्त कोशिकाओं को मापता है -

1. लाल रक्त कोशिकाएं

लाल रक्त कोशिकाएं आपके शरीर में ऑक्सीजन पहुँचाती हैं और कार्बन डाइऑक्साइड को हटा देती हैं। सीबीसी आपकी लाल रक्त कोशिकाओं के दो घटकों को मापता है -

  1. हीमोग्लोबिन: ऑक्सीजन-ले जाने वाले प्रोटीन
  2. हेमटोक्रिट: आपके रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं का प्रतिशत

हीमोग्लोबिन और हेमटोक्रिट का कम होना अक्सर एनीमिया का लक्षण होता है (एनीमिया खून में आयरन की कमी से होता है)। 

2. सफेद रक्त कोशिकाएं

श्वेत रक्त कोशिकाएं आपके शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करती है। सीबीसी आपके शरीर में सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या और प्रकार को मापता है। सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या या प्रकार में कोई असामान्य वृद्धि या कमी संक्रमण, इन्फ्लमेशन (inflammation) या कैंसर का संकेत हो सकती है।

3. प्लेटलेट्स

प्लेटलेट्स आपके खून के थक्के और ब्लीडिंग को नियंत्रण करने में मदद करते हैं। जब किसी घाव से खून बहना बंद हो जाता है, तो इसका मतलब है कि प्लेटलेट्स अपना काम कर रहे हैं। प्लेटलेट्स के स्तर में कोई भी बदलाव से आपको अत्यधिक खून बहने का खतरा हो सकता है और यह एक गंभीर चिकित्सा स्थिति का संकेत हो सकता है।

आपके डॉक्टर नियमित जांच के लिए सीबीसी टेस्ट करने के लिए कह सकते हैं। या अगर आपको कुछ ऐसे लक्षण हैं जिनका पता टेस्ट कराये बिना नहीं सकता, जैसे कि ब्लीडिंग (खून बहना) या चोट जिसका कारण ना पता हो।
 
सीबीसी टेस्ट निम्नलिखित के लिए आपके डॉक्टर की मदद कर सकता है -
  1. संपूर्ण स्वास्थ्य की जांच - आपके स्वास्थ्य की जांच के लिए सीबीसी उपयोगी होता है। यह आपके डॉक्टर को आपके सम्पूर्ण स्वास्थ्य की एक अच्छी तस्वीर देता है। सीबीसी से डॉक्टर कुछ बिमारियों के होने के जोखिम का अंदाजा भी लगा सकते हैं।
  2. किसी बीमारी का निदान - किसी बिमारी या स्वास्थ्य समस्या का निदान करने के लिए भी आपके डॉक्टर सीबीसी टेस्ट करवाने को कह सकते हैं। इसके अलावा अगर आपको कुछ ऐसे लक्षण हैं जिनका कारण पता नहीं चल पा रहा है, जैसे कमजोरी, थकानबुखार, लालिमा, सूजन, चोट या रक्तस्राव, तो उनके बारे में ज़्यादा जानने के लिए भी सीबीसी उपयोगी होता है।
  3. किसी चल रही बीमारी पर नज़र रखना - अगर आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है, तो उस पर नियमित रूप से नज़र रखने के लिए आपके डॉक्टर सीबीसी टेस्ट करवाने के लिए कह सकते हैं। यह ख़ास तौर पर तब लागू होता है जब आपको एक ऐसा विकार हो जो रक्त कोशिकाओं की संख्या को प्रभावित करता है।

जब आप टेस्ट करवाने जाएं, तो एक छोटी बाजू की शर्ट पहन कर जाएं या फिर एक ऐसी शर्ट जिसकी बाज़ू आप आसानी से फोल्ड कर सकें।

आम तौर पर आप सीबीसी से पहले सामान्य तौर से खा और पी सकते हैं। हालांकि, आपकी स्थिति के अनुसार, आपके डॉक्टर आपको टेस्ट से पहले एक कुछ अवधि के लिए कुछ न खाने के लिए कह सकते हैं। अगर आपके ब्लड सैंपल का उपयोग कुछ अन्य टेस्ट करने के लिए होना है, तो ये बिलकुल सामान्य बात है। 

सीबीसी के दौरान, एक लैब तकनीशियन हाथ या बाज़ू की नस से खून का सैंपल निकालता है। सैंपल लेने की प्रक्रिया में चंद मिनट ही लगते हैं। इस दौरान तकनीशियन निम्नलिखित कार्य करता है -

  1. एंटीसेप्टिक पट्टी से आपकी त्वचा को साफ करेगा।
  2. आपकी ऊपरी बांह के आस-पास एक बैंड बांधा जाएगा। ऐसा इसलिए ताकि जिस नस से खून का सैंपल लेना है, वह नस खून से भर कर सूज जाए, और आसानी से दिखने लगे। 
  3. इस दौरान एक तकनीशियन आपकी नस में एक सुई को डालकर रक्त निकालेगा और एक या एक से अधिक शीशियों में ब्लड सैंपल को रखेगा।
  4. उसके बाद बैंड को निकाल दिया जाएगा।
  5. अगर सुईं निकालने के बाद भी खून बेहता रहे तो उसे रोकने के लिए पट्टी या बैंड-ऐड लगाकर उसे रोका जाएगा।
  6. इसके बाद सैंपल की शीशी पर नाम लिखकर उसे विश्लेषण के लिए प्रयोगशाला में भेज दिया जाएगा।

अधिकांश सीबीसी के परिणाम, टेस्ट के कुछ ही घंटों से लेकर एक दिन के बीच में उपलब्ध हो जाते हैं।

आम तौर से सीबीसी के कुछ साइड इफेक्ट्स नहीं होते। लेकिन निम्नलिखित परेशानियां देखने में आईं हैं -

  • रक्त परीक्षण थोड़ा असुविधाजनक हो सकता है। जब सुई आपकी त्वचा में जाती है, तो आपको एक चुभन या सनसनी महसूस हो सकती है।
  • खून देखने पर कुछ लोगों को चक्कर आ जाते हैं या सिर में भारीपन महसूस होता है।
  • जिस जगह सुई लगाई जाती है , उधर हल्का घाव हो सकता है। लेकिन यह जल्द ही ठीक हो जाता है।

आपकी रक्त कोशिकाओं की गणना के आधार पर टेस्ट के परिणाम अलग-अलग हो सकते हैं। यहां वयस्कों के लिए सामान्य परिणाम दिए गए हैं -

ब्लड कॉम्पोनेन्ट  सामान्य स्तर
लाल रक्त कोशिका महिलाओं में: 39.0-50.3 लाख कोशिकाएं / एमसीएल
पुरुषों में: 43.2 - 57.2 लाख कोशिकाएं / एमसीएल
हीमोग्लोबिन महिलाओं में : 120-155 ग्राम / ली
पुरुषों में : 135-175 ग्राम / ली
हीमेटोक्रिट महिलाओं में: 34.9-44.5 प्रतिशत
पुरुषों में: 38.8-50.0 प्रतिशत
सफेद रक्त कोशिका की गणना 3,500 से 10,500 कोशिकाएं / एमसीएल
प्लेटलेट की गणना 150,000 से 450,000 / एमसीएल

सीबीसी के परिणाम के आधार पर हमेशा ही कुछ निश्चित कहा जा सके, ऐसा मुश्किल होता है। रक्त कोशिकाओं की बहुत अधिक या कम गिनती कई प्रकार की स्थितियों को संकेत हो सकती है। समस्या की पुष्टि करने के लिए कुछ विशिष्ट परीक्षणों की आवश्यकता होती है। कुछ समस्याओं के उदाहरण जिनकी वजह से असामान्य लोशिकाओं की गिनती हो सकती है, वह इस प्रकार हैं - 

  1. आयरन या अन्य विटामिन और खनिज की कमी
  2. ब्लीडिंग डिसऑर्डर
  3. दिल की बीमारी
  4. प्रतिरक्षा विकार
  5. अस्थि मज्जा (बोन मैरो; bone marrow) समस्याएं
  6. कैंसर
  7. संक्रमण या सूजन
  8. दवा का साइड इफ़ेक्ट

यदि आपका सीबीसी असामान्य स्तर दिखाता है, तो आपके डॉक्टर परिणाम की पुष्टि करने के लिए एक और रक्त परीक्षण करवाने को कह सकते हैं। वे आपकी स्थिति का निदान करने या निदान की पुष्टि करने में सहायता के लिए अन्य परीक्षण करवाने को कह सकते हैं।

ब्लड टेस्ट (सीबीसी) की जांच का लैब टेस्ट करवाएं

CBC (Complete Blood Count)

20% छूट + 10% कैशबैक
और पढ़ें ...

References

  1. Yuko, S. et. al. (2013 October). Examination of the Percentage of Immature Platelet Fraction in Term and Preterm Infants at Birth J Clin Neonatol. 2013 Oct-Dec; 2(4): 173–178.
  2. Adeli K, Raizman JE, Chen Y, Higgins V, Nieuwesteeg M, Abdelhaleem M, Wong SL, Blais D. Clin Chem. 2015 Aug;61(8):1075-86. PMID: 26044509
  3. CLSI. Defining, Establishing, and Verifying Reference Intervals in the Clinical Laboratory; Approved Guideline, Third Edition. CLSI document EP28-A3c. Wayne, PA, Clinical and Laboratory Standards Institute, 2008
  4. Soldin J, Brugnara C, Wong EC: Pediatric Reference Intervals. Fifth Edition. AACC Press. Washington, DC, 2005. ISBN 1-594250-32-4
  5. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Complete Blood Count (CBC)
  6. Bain B J. The peripheral blood smear. In Goldman L, Schafer AI. (© 2012). Goldman's Cecil Medicine 24th Edition: Elsevir Saunders, Philadelphia, PA. Pp 1024-1031.7
  7. Pagana, Kathleen D., Pagana, Timothy J., and Pagana, Theresa N. (© 2015). Mosby's Diagnostic and Laboratory Test Reference 12th Edition: Mosby, Inc., Saint Louis, MO. Pp 497-501, 786-789, 991-995.
  8. National Heart, Lung, and Blood Institute [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; Anemia
  9. National Heart, Lung, and Blood Institute [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; Lymphocytopenia
  10. National Heart, Lung, and Blood Institute [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; Thrombocytopenia
  11. National Heart, Lung, and Blood Institute [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; Thrombocythemia and Thrombocytosis
  12. Sakurai Yuko, Tomohiro Takeda et al. Examination of the Percentage of Immature Platelet Fraction in Term and Preterm Infants at Birth. J Clin Neonatol. 2013 Oct-Dec; 2(4): 173–178. PMID: 24404529
  13. Hoffman, J.J. (2014).Reticulated platelets: analytical aspects and clinical utility. Clin Chem Lab Med. 2014; 52(8):1107-17.
  14. Keohane, E, Smith, L. and Walenga, J. (© 2016). Rodak's Hematology Clinical Principles and Applications 5th Edition: Elsevier Saunders, Saint Louis, MO. Pp 145, 173.