myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

बेंजोडाइजेपाइन दवाओं का एक समूह है, जो कि मस्तिष्क के कुछ विशेष विकारों का इलाज करने के लिए किया जाता है। ये शान्ति प्रदान करते हैं, मांसपेशियों को आराम पहुंचाते हैं और साथ ही एक सीडेटिव की तरह कार्य करते हैं। इस दवा की सलाह खासतौर पर चिंता विकार के मरीजों को दी जाती है। बेंजोडाइजेपाइन दौरे आदि पड़ने से रोकने में मदद करती है, नींद लाने में सहायता करती है और मरीजों को शांत करके मांसपेशियों को आराम पहुंचाती है। हालांकि, इस दवा का अत्यधिक प्रयोग करने से इसकी लत लग सकती है।

कुछ लोग बेंजोडाइजेपाइन दवा का दुरुपयोग नशे के लिए करते हैं। आमतौर पर बेंजोडाइजेपाइन को नर्व पिल या डोनर्स कहा जाता है।

बेंजोडाइजेपाइन ब्लड टेस्ट को बेंजोडाइजेपाइन ड्रग स्क्रीन टेस्ट भी कहा जाता है। यह टेस्ट न केवल रक्त में बेंजोडाइजेपाइन के स्तरों का पता लगाने में मदद करता है। बल्कि इसकी अत्यधिक खुराक व विषाक्तता का भी पता लगाता है। इस दवा की अत्यधिक मात्रा लेने से व्यक्ति कोमा की स्थिति में आ सकता है। इसीलिए व्यक्ति के लिए सही खुराक निर्धारित करना डॉक्टर के लिए आवश्यक हो जाता है। कुछ डॉक्टर इसके साथ ब्लड शुगर टेस्ट करवाने को कह सकते हैं या फिर इसके साथ बेंजोडाइजेपाइन यूरिन टेस्ट करवाने को भी कहा जा सकता है। आमतौर पर यह टेस्ट एक गुणात्मक टेस्ट है, जिसका मतलब है कि यह टेस्ट केवल बेंजोडाइजेपाइन की मौजूदगी का पता लगा सकता है, लेकिन मौजूद मात्रा का नहीं।

  1. बेंजोडाइजेपाइन ब्लड टेस्ट क्यों किया जाता है - Benzodiazepines Blood Test Kyu Kiya Jata Hai
  2. बेंजोडाइजेपाइन ब्लड टेस्ट से पहले - Benzodiazepines Blood Test Se Pahle
  3. बेंजोडाइजेपाइन ब्लड टेस्ट के दौरान - Benzodiazepines Blood Test Ke Dauran
  4. बेंजोडाइजेपाइन ब्लड टेस्ट के परिणाम का क्या मतलब है - Benzodiazepines Blood Test Ke Parinam Ka Kya Matlab Hai

डॉक्टर बेंजोडाइजेपाइन टेस्ट की सलाह दवा के प्रभाव पर नजर रखने या उसकी विषाक्तता का पता लगाने के लिए जांच के एक भाग के रूप किया जा सकता है। जांच निम्न कारणों से की जा सकती है -

  • यह जांचने के लिए कि व्यक्ति दवा की उतनी ही खुराक ले रहा है या नहीं, जितनी डॉक्टर द्वारा सुझाई गई है
  • व्यक्ति में ड्रग की विषाक्तता की जांच करने के लिए
  • नौकरी पर रखने से पहले यह पता लगाने के लिए कहीं यह व्यक्ति किसी प्रकार का नशा तो नहीं करता है
  • कानूनी कारणों से यह जानने के लिए कि व्यक्ति गैर कानूनी तरीके से दवा न ले रहा हो

 अत्यधिक खुराक और ड्रग की विषाक्तता के निम्न लक्षण हैं, जिन्हें देखकर डॉक्टर टेस्ट करने की सलाह दे सकते हैं -

बेंजोडाइजेपाइन के कुछ प्रकार डेट रेप ड्रग्स के रूप में भी प्रयोग में लाए जाते हैं। यौन उत्पीड़न के मामलों में डॉक्टर इस टेस्ट की सलाह यह जानने के लिए कर सकते हैं कि व्यक्ति ने शारीरिक उत्पीड़न होने या करने से पहले किसी प्रकार का नशा तो नहीं किया।

इस टेस्ट से पहले आपको किसी भी तैयारी की जरूरत नहीं है। हालांकि, कुछ मेडिकल परिस्थितियों के रहते टेस्ट के परिणाम प्रभावित हो सकते हैं। यदि आपको लंबे समय से या फिर हाल ही में कोई रोग हुआ है तो इसके बारे में डॉक्टर को बता दें। यह भी जरूरी है कि आप जो भी दवा, सप्लीमेंट या हर्ब ले रहे हैं तो उसके बारे में डॉक्टर को बताएं।

यह टेस्ट दिन में किसी भी समय पर किया जा सकता है। नर्स या लैब टेक्नीशियन एक कीटाणुरहित सुई की मदद से आपकी बांह की नस से ब्लड सैंपल ले लेंगे। इससे पहले वे नस ढूढ़ने के लिए आपकी ऊपरी बांह में एक इलास्टिक बैंड बांध सकते हैं। एक टेस्ट ट्यूब में ब्लड सैंपल लिया जाएगा और लैब में इसे टेस्टिंग के लिए भेज दिया जाएगा।

रक्त ले लेने के बाद, आपको सुई लगी जगह पर नील भी पड़ सकता है, जो कि जल्दी ही ठीक हो जाएगा। यदि नील ठीक नहीं होता है तो कृपया डॉक्टर से मिलें।

सामान्य परिणाम -

यदि लिए गए सैंपल में बेंजोडाइजेपाइन नहीे पाया गया है, तो इसका मतलब हे कि टेस्ट का रिजल्ट नेगेटिव अथवा सामान्य है। यह दवा आमतौर पर मेटाबॉलाइट फॉर्म में पाई जाती है। मेटाबॉलाइट वो पदार्थ हैं, जो कि रक्त में किसी भी दवा के मोलेक्यूल के शरीर में टूटने से बनते हैं।

नेगेटिव परिणाम का मतलब हर बार यह नहीं होता है कि व्यक्ति के रक्त में बेंजोडाइजेपाइन के स्तर नहीं पाए गए हैं। इसका मतलब यह भी हो सकता है कि ड्रग के मेटाबॉलाइट इतने कम हैं कि उन्हें टेस्ट में पहचाना नहीं जा सका।

असामान्य परिणाम -

बेंजोडाइजेपाइन ब्लड टेस्ट के असामान्य परिणाम को पॉजिटिव लिखा जाता है। इसका मतलब है कि दिए गए सैंपल में बेंजोडाइजेपाइन की मात्रा पाई गई है।

पॉजिटिव परिणाम हालांकि, रक्त में किसी दवा की मौजूदगी के बारे में ज्यादा नहीं बताता है, यह केवल उपस्थिति के बारे में ही पता लगा सकता है, उसकी मौजूदा मात्रा के बारे में नहीं। यह ड्रग इन टेक का सूचक है। इतना ही नहीं कुछ लैब में आधुनिक तकनीक और प्रक्रिया का इस्तेमाल करके रक्त में ड्रग की मात्रा का भी पता लगाया जाता है।

कभी-कभी टॉक्सिकोलॉजी स्क्रीन के परिणाम गलत तरह से पॉजिटिव भी आ सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि कुछ दवाएं टेस्ट के परिणाम को प्रभावित कर सकती हैं। उनमें अन्य दवाएं जैसे सर्दी, खांसी, जुकाम, दर्द और संक्रमण की शामिल होती हैं। यदि आप प्रक्रिया के परिणाम के बारे में चिंतित हैं, तो इसके बारे में डॉक्टर से बातचीत कर सकते हैं। डॉक्टर आपके लिंग, जाती और स्वास्थ्य इतिहास के अनुसार आपके परिणामों की ठीक तरह से जानकारी दे पाएंगे।

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. University of Rochester Medical Center [Internet]. Rochester (NY): University of Rochester Medical Center; Benzodiazepines (Blood)
  2. Harvard Health Publishing. Harvard Medical School [internet]: Harvard University; Benzodiazepines (and the alternatives)
  3. Provan D. Oxford Handbook of Clinical and Laboratory Investigation. Poisoning and Overdose. 4th ed. United Kingdom: Oxford University Press. 2018. Pp:700. Chapter 11.
  4. Wilson DD. McGraw-Hill’s Manual of Laboratory & Diagnostic Tests. McGraw-Hill. 2008. Pp:560.
  5. National Health Service [internet]. UK; Blood Tests
ऐप पर पढ़ें
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ