myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

योग के कई लाभ होते हैं। यह आपको मानसिक और शारीरिक दोनों तरह से स्वस्थ रखने का आसान उपाय है। योग में कई आसनों को शामिल किया जाता है। जिसमें योग निद्रा का अपना एक अलग महत्व है। प्राचीन शैली पर आधारित योग निद्रा के कई लाभ हैं, इससे मस्तिष्क व शरीर में नई ऊर्जा का संचार होता है। इसके फायदों के कारण आज कई लोगों द्वारा योग निद्रा को अपनाया जाने लगा है। आगे आप योग निद्रा क्या है, योग निद्रा के लाभ, इसको कैसे करें, योग निद्रा के आसन व ऑडियो को सरलता से समझ व जान पाएंगे।

(और पढ़ें - सूर्य नमस्कार करने का तरीका)

  1. योग निद्रा क्या है - What is yoga nidra in Hindi
  2. योग निद्रा के लाभ - Benefits of yoga nidra in Hindi
  3. योग निद्रा कैसे करें - How to do yoga nidra in Hindi
  4. योग निद्रा का आसान - Yoga nidra poses in Hindi
  5. योग निद्रा ऑडियो - Yoga nidra audio in Hindi
  6. देखें: योग निद्रा परिचय संक्षेप में: भाग 1 - Yoga nidra introduction in Hindi part-1
  7. देखें: योग निद्रा परिचय संक्षेप में: भाग 2 - Yoga nidra introduction in Hindi part-2

आप योग निद्रा को आध्यात्मिक नींद भी कह सकते हैं। योग निद्रा सोने व जागने के बीच की ऐसी अवस्था है जिसमें आप अपने शरीर को आराम पहुंचाते हुए नवीन ऊर्जा को संरक्षित करते हैं। इसके अभ्यास के शुरूआती दौर में आप कुछ समय के लिए सो भी सकते है, परंतु धीरे-धीरे आपको इसे करने का सही तरीका आ जाएगा। इसको करते समय आप जमीन पर आराम से लेट जाएं और अपनी सांसों पर ध्यान देते हुए, अंर्तमन में झांकने का प्रयास करें। कुछ समय बाद आप शांति महसूस करने लगेंगे। इसी अवस्था को योग निद्रा कहा जाता है। स्वामी सत्यानंद कहते हैं कि कुछ समय की योग निद्रा आपकी घंटों की नींद से प्राप्त हुए आराम के सामान ही होती है। योग निद्रा को लगातार करने से आपका मस्तिष्क पहले की अपेक्षा अधिक सक्रिय हो जाता है। योग के अन्य आसनों के पश्चात् जब आप योग निद्रा करते हैं, तो आपका शरीर थकान रहित हो जाता है और आपकी ऊर्जा का स्तर नियत्रंण में आ जाता है।

(और पढ़ें - ध्यान क्या है)

आज के शहरी वातावरण में हर दूसरे व्यक्ति को तनाव व अवसाद की समस्या हो जाती है। इसका सबसे बड़ा कारण समय की कमी है। तनाव व अवसाद होने की वजह से लोग अन्य बीमारियों की चपेट में भी आ जाते हैं। इस तरह की समस्याओं से बचने के लिए योग निद्रा एक कारगर उपाय मानी जाती है। योग निद्रा के द्वारा कई तरह की बीमारियों से बचा जा सकता है। इसके कुछ फायदों को नीचे बताया जा रहा है।

  1. योग निद्रा की मदद से आप अपने मस्तिष्क को आराम पहुंचा सकते हैं। (और पढ़ें - सांस की बीमारियों के लिए योगासन)
  2. योग निद्रा की मदद से योग की अन्य मुद्राओं को करने के बाद शरीर के तापमान को सामान्य स्तर पर लाया जा सकता है।
  3.  इसकी मदद से विभिन्न योगासनों से प्राप्त ऊर्जा को नियंत्रित करके तंत्रिका तंत्र के कार्य को सुचारू किया जा सकता है। (और पढ़ें - तनाव के लिए योग)
  4. योग निद्रा से एकाग्रता में बढ़ोतरी होती है। आप किसी भी काम को करने में एकाग्र हो पाते हैं।
  5. योग निद्रा से आपके मस्तिष्क की थकान दूर होती है। जिसके प्रभाव स्वरूप आप तनाव मुक्त होते हैं।
  6. आपके तंत्रिका तंत्र का कार्य सुचारू होने से शरीर के अन्य अंगों की कार्यक्षमता बढ़ जाती है। (और पढ़ें - जाँघों और कूल्हों को कम करने के लिए योग)  

योग निद्रा को नियमित करने वाली महिलाओं व पुरूषों पर एक अध्ययन किया गया। इस अध्ययन में इनके मस्तिष्क को स्कैन (Scan) किया गया। इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि योग निद्रा के समय इन सभी का मस्तिष्क सोने की अवस्था के समान आराम की स्थिति में पहुंच गया था, जबकि वह लोगों सोए नहीं थे। इससे पता चला कि योग निद्रा से आप अपने मस्तिष्क को नियत्रंण में कर सकते हैं और अपनी कार्यक्षमता को बढ़ा सकते हैं। यह ध्यान करने का बेहद ही सरल तरीका है। इसके साथ ही साथ योग निद्रा के प्रभाव से आप धीरे-धीरे खराब आदतों से भी दूर होने लगते हैं। 

(और पढ़ें - पेट की गैस के लिए योग)

योग निद्रा को सिखने व करने के लिए किसी योग विशेषज्ञ की मदद लेनी चाहिए। किसी योग विशेषज्ञ के निर्देशन में आपको योग निद्रा का लाभ अधिक मिल पाता है। वैसे आप स्वयं भी इसको कर सकते हैं, लेकिन इसके सही स्तर तक पहुंचने के लिए आपको लंबा समय लग सकता है। चलिए जानते हैं योग निद्रा कैसे किया जाता है।

(और पढ़ें - दिन मेँ सोना अच्छा है या नहीं)

  1. योग निद्रा के अभ्यास के लिए आप खुली जगह को चुनें। यह ऐसी जगह होनी चाहिए जहां पर आपको कोई परेशान न करें व आप आसानी से योग निद्रा के अभ्यास को कर पाएं। (और पढ़ें - कमर कम करने के योग)
  2. योग निद्रा के लिए ढीले कपड़ों का चयन करें। इसको करने से पहले जमीन पर बिछाने के लिए कंबल या कोई अन्य कपड़े की भी आवश्यकता होती है।
  3. कंबल को जमीन पर बिछाएं और शवासन (पीठ के बल लेटना) में लेट जाएं। आंखों को बंद कर लें। शुरू में गहरी श्वास लेते हुए धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में आएं।
  4. इसके बाद आपको अपने मन व मस्तिष्क को शांत करना होगा और दिमाग में चलने वाले सभी विचारों को भूल जाना होगा। (और पढ़ें - हाई बीपी के लिए योग)
  5. इसके बाद आप अपने ध्यान को दाएं पैर व पंजे की ओर ले जाएं। इस जगह पर कुछ सेकेंड तक अपने ध्यान को केंद्रित करें। इसके पश्चात ऊपर की ओर आते हुए घुटनों व जांघों की ओर ध्यान ले जाएं। इस दौरान दाएं पैर को पूरी तरह से सचेत अवस्था ध्यान करें।
  6. दाएं पैर के लिए अपनाई गई ध्यान प्रक्रिया को बाएं पैर के लिए भी अपनाएं। 
  7. इसके बाद आप अपने शरीर के मध्य अंगों जैस- जननांग, पेट, नाभि व छाती की ओर ध्यान को ले जाएं। (और पढ़ें - कब्ज के लिए योग)
  8. शरीर के मध्य भाग को पूरा करने के बाद आपको अपना ध्यान एक-एक कर दोनों हाथों की अंगुलियों, हथेलियों, कोहनियों, कंधों से होते हुए गर्दन, चेहरे व मस्तिष्क पर ले जाना होगा।
  9. सभी अंगों पर ध्यान ले जाने के बाद गहरी सांस लें और शरीर में आती स्वस्थ तरंगों को महसूस करें। (और पढ़ें - एक्जिमा के लिए योग)
  10.  इसके बाद आप धीरे-धीरे बाहरी वातावरण की ओर ध्यान को ले जाएं।
  11.  थोड़ी देर बाद आप दाहिने करवट लेटते हुए। बाईं ओर की नासिका से सांस को बाहर छोड़े। इससे आपके शरीर का तापमान सामान्य अवस्था में आ जाएगा।
  12.  कुछ देर बाद धीरे-धीरे उठकर बैठ जाएं और आंखों को खोलें।

(और पढ़ें - आंखों की रोशनी बढ़ाने के घरेलू उपाय)

आप 'नियमित' योग के कई आसनों के बारे में जानते होंगे। आपको बता दें कि योग निद्रा काफी हद तक शवासन से मिलती जुलती कही जा सकती है। जहां एक ओर योग के अन्य आसनों को कुछ मिनटों के लिए किया जाता है, वहीं योग निद्रा को आप लंबे समय तक कर सकते हैं। इसको करते समय जब आप पीठ के बल जमीन पर लेटते हैं तो आपको इस बात का ध्यान देना होगा कि आपकी हथेलियां ऊपर की ओर होनी चाहिए। इसके अलावा जमीन पर लेटने से पहले आप नीचे से किसी कंबल या आराम दायक कपड़े को बिछा सकते हैं। योग निद्रा की गरहाई में आपके शरीर का तापमान कम हो जाता है। इस दौरान जमीन की ठंडक से शरीर को परेशानी न हो व शरीर का तापमान सामान्य बना रहे, इसलिए आपको लेटने से पहले नीचे कोई कपड़ा या कंबल बिछा लेना जरूरी होता है।

(और पढ़ें - जमीन पर सोने के लाभ)

विशेषज्ञ की मदद से आप इस दौरान सांसों के कम्र व ध्यान को शरीर के विभिन्न अंगों पर ले जाने के सही तरीके को समझ पाते हैं और इस निद्रा का पूरा लाभ ले पाते हैं।

(और पढ़ें - अच्छी और गहरी नींद के उपाय)

योग निद्रा एक प्राचीन ध्यान तकनीक है। योग निद्रा सही मायने में तनाव और चिंता से पीड़ित लोगों के लिए एक वरदान है। यह अशांत मन को शांत और तरोताजा करने का आसान तरीका है। योगाभ्यास आम तौर से जागृत अवस्था में किया जाता है परंतु योग निद्रा विशेष है, इसे लेट कर किया जाता है। आमतौर से मनुष्य की दो अवस्था होती हैं - आप या तो जागते हैं या फिर गहरी नींद में सो जाते हैं। लेकिन योगनिद्रा में आप पूर्ण रूप से जागृत होते हुए भी शरीर और मन पर गहरी नींद के तमाम लक्षण अनुभव कर पाते हैं। तो आइए जाने क्या है योग निद्रा और आप वीडियो के साथ इसको करने का प्रयास करें व इसके लाभ उठायें।

(और पढ़ें - तनाव कैसे दूर करें

 

(और पढ़ें - कम सोने के नुकसान)

और पढ़ें ...