myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कोविड-19 महामारी ने दुनियाभर के लाखों लोगों को संक्रमित कर रखा है। ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) समेत ज्यादातर हेल्थ एक्सपर्ट्स का यही मानना है कि कोविड-19 संक्रमण से बचने के लिए हाथों को साफ रखना बेहद जरूरी है। यही वजह है कि लोगों को दिनभर में कई बार साबुन-पानी से हाथ धोने या फिर अल्कोहल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने की सलाह दी जा रही है। 

बेहद तेजी से बढ़ती कोरोना वायरस महामारी हो या फिर कोई दूसरी संक्रामक बीमारी, अपने हाथों को धोकर और हाथों की सफाई का ध्यान रखकर हम बीमारी को फैलने से रोक सकते हैं। लेकिन मौजूदा समय में चूंकि हम पहले की तुलना में ज्यादा बार हैंडवॉश कर रहे हैं और हैंड सैनिटाइजर का भी इस्तेमाल कर रहे हैं, ऐसे में इसका हमारी स्किन पर भी असर पड़ रहा है। साबुन, लिक्विड सोप या हैंड सैनिटाइजर में मौजूद केमिकल की वजह से हमारे हाथों की स्किन में दरारें पड़ रही हैं और स्किन ड्राई हो रही है। कई बार तो स्किन इतनी ज्यादा रूखी हो जाती है कि पपड़ी भी निकलनी शुरू हो जाती है।

कोविड-19 संक्रमण का अब तक कोई इलाज या वैक्सीन नहीं बनी है लिहाजा बीमारी से बचने के लिए हाथों को बार-बार धोते रहना जरूरी है। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं कुछ घरेलू नुस्खों के बारे में जिससे आप हैंडवॉश करना भी जारी रख पाएंगे और हाथों में ड्राईनेस भी नहीं होगी।

इन वजहों से हाथ हो जाते हैं ड्राई
दरअसल, हमारी त्वचा की सबसे बाहरी सतह ऑइल और वैक्स जैसी चीजों से बनी है। यह एक तरह का नैचरल बैरियर है जो स्किन की प्राकृतिक नमी बनाए रखने के साथ-साथ बाहरी चीजों से स्किन की सुरक्षा भी करता है। जब हम बार-बार साबुन-पानी से हाथ धोते हैं तो स्किन का यहद नैचरल बैरियर टूटने लगता है जिस वजह से स्किन में रुखापन (ड्राईनेस) होने लगता है, खुजली होने लगती है, पपड़ी जमने लगती है, रेडनेस हो जाती है और कई बार तो स्किन में दरारें भी आ जाती हैं। 

हाथ धोते वक्त इन बातों का रखें ध्यान
हाथों को साफ करने के लिए बहुत ज्यादा केमिकल वाले कठोर साबुन इस्तेमाल करने की बजाए सौम्य, बिना खुशबू वाले साबुन का इस्तेमाल करें। साथ ही हाथों को धोने के लिए गर्म पानी की बजाए गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें क्योंकि गर्म पानी स्किन के नैचरल ऑइल को खत्म कर स्किन को बहुत ज्यादा ड्राई बना देता है। लिहाजा हाथों में साबुन लगाकर करीब 20 सेकंड तक अच्छी तरह से हथेली के आगे-पीछे, उंगलियों के बीच में, नाखून आदि सभी जगहों को अच्छे से रगड़ें और फिर गुनगुने पानी से धो लें। इसके बाद साफ तौलिए से हाथों को अच्छे से सुखा लें। 

हाथों में मॉइश्चराइजर लगाएं
हाथों को धोकर तौलिए से सुखाने के बाद मॉइश्चराइजर या हैंड क्रीम लगाना न भूलें। हाथों को ड्राई होने से बचाने के लिए हर बार हैंडवॉश करने के बाद क्रीम लगाना जरूरी है क्योंकि इससे स्किन की खोई नमी वापस आ जाती है। बहुत ज्यादा क्रीम लगाने की जरूरत नहीं, हल्के से लेयर से भी काम चल जाएगा। लेकिन हाथों में नमी बनाए रखने के लिए लोशन इस्तेमाल करने की बजाए क्रीम या ऑइंटमेंट लगाएं क्योंकि लोशन में वॉटर कन्टेंट ज्यादा होता है।  

नारियल तेल लगाएं
हाथों के रूखेपन को दूर करने का बेहद आसान तरीका है हाथों में नारियल तेल लगाना। नारियल तेल में फैटी ऐसिड होता है जो स्किन के रूखेपन को दूर करने में मदद करता है। बेहतर यही होगा कि आप रात में सोने से पहले हाथों में नारियल तेल लगाकर सो जाएं ताकि तेल रातभर हाथों पर लगा रहे और स्किन के रुखेपन को दूर करने में मदद मिले।

एलोवेरा जेल इस्तेमाल करें
एलोवेरा जेल में मॉइश्चराइजिंग और आराम दिलाने वाले (सूदिंग) प्रॉपर्टीज होती है जिससे आपके ड्राई हैंड्स की समस्या दूर करने में मदद मिल सकती है। अगर आपके घर में एलोवेरा का पौधा हो तो उसमें से ताजा एलोवेरा जेल निकालकर उसे हाथों पर लगाएं या फिर बाजार में बिकने वाले डिब्बाबंद एलोवेरा जेल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

हाथों में ग्लव्स पहनें
कोविड-19 संक्रमण से बचने के कारण बार-बार हाथ धोने के अलावा लॉकडाउन की वजह से डोमेस्टिक हेल्प के नहीं आने के कारण भी घर का सारा काम आपको खुद ही करना पड़ रहा है। इस वजह से भी हाथ बार-बार गीले हो रहे हैं। बर्तन साफ करने से लेकर, कपड़े धोने, घर में पोछा लगाने जैसे कामों के दौरान आप चाहें तो हाथों में ग्लव्स पहन सकती हैं। इससे भी हाथों के नैचरल ऑइल को खत्म होने और हाथों को ड्राई होने से बचाया जा सकता है। 

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें