मस्तिष्क में बादाम के आकार के ग्लैंड को हाइपोथैलेमस कहा जाता है. यह हार्मोन सिस्टम को कंट्रोल करता है. यह पिट्यूटरी ग्लैंड के ऊपर स्थित होता है. ये ब्रेन के बेस पर डायरेक्ट ब्रेनस्टेम के ऊपर रहता है. हाइपोथैलेमस हार्मोंस को रिलीज करने का काम करता है. सेक्स ड्राइव, व्यवहार और भावनाओं के लिए इसे जरूरी माना गया है. इसके कुछ और फंक्शन हैं, जैसे - ये भूख, प्यास, वजन और स्ट्रेस इत्यादि को कंट्रोल करता है.

आज इस लेख में आप जानेंगे कि हाइपोथैलेमस किसे कहते हैं, ये कहां होता है और इसके काम क्या-क्या हैं -

(और पढ़ें - हार्मोन असंतुलन का इलाज)

  1. हाइपोथैलेमस किसे कहते हैं?
  2. हाइपोथैलेमस कहां होता है?
  3. हाइपोथैलेमस के काम
  4. सारांश
हाइपोथैलेमस किसे कहते हैं, कहां होता है व कार्य के डॉक्टर

हाइपोथैलेमस ब्रेन का एक छोटा और अहम भाग होता है. ये शरीर के कई जरूरी कार्यप्रणालियों को नियंत्रित करता है. ये नर्व्स सिस्टम और एंडोक्राइन सिस्टम के बीच की सबसे अहम कड़ी होती है. हाइपोथैलेमस शरीर को होमियोस्टैसिस (homeostasis) नामक स्टेबल स्टेट में संतुलित रखता है. इसका मुख्य काम हार्मोंस को रिलीज या रोकना होता है.

(और पढ़ें - एंडोर्फिन हार्मोन का महत्त्व)

हाइपोथैलेमस ब्रेन में मौजूद लगभग बादाम के आकार का अहम हिस्सा होता है. ये ब्रेन के बेस में थैलेमस के नीचे और पिट्यूटरी ग्लैंड के ऊपर स्थापित होता है. ये ब्रेन के बेस पर डायरेक्ट ब्रेनस्टेम के ऊपर रहता है, जो हार्मोन सिस्टम को कंट्रोल करता है.

(और पढ़ें - हार्मोन चिकित्सा के फायदे)

हाइपोथैलेमस ब्रेन का ऐसा भाग है, जो हार्मोन सिस्टम को कंट्रोल करता है. ये मस्तिष्क के अहम हिस्से पिट्यूटरी ग्लैंड में भी हार्मोन रिलीज करता है. यही से शरीर के अलग-अलग अंगों, जैसे - एड्रेनल, थायराइड, ओवरीज और टेस्टिकल्स को हार्मोन भेजता है. आइए, हाइपोथैलेमस के कामों के बारे में विस्तार से जानते हैं -

शरीर का संतुलन बनाए

हाइपोथैलेमस शरीर को नियंत्रित बनाए रखने का काम करता है. इसके लिए ये प्रत्यक्ष रूप से ऑटोनोमिक नर्व्स सिस्टम को प्रभावित करता है या हार्मोंस को नियंत्रित करता है.ऑटोनोमिक नर्व्स सिस्टम स्वतंत्र रूप से काम करते हैं. ये कई अहम कार्यों को कंट्रोल करते हैं, जैसे हार्ट रेट और ब्रीदिंग आदि.

(और पढ़ें - प्रोजेस्टेरोन का स्तर घटने-बढ़ने का इलाज)

शरीर का स्मार्ट कंट्रोल सेंटर

हाइपोथैलेमस शरीर के लिए एक प्रकार से कॉर्डिनेटिंग ‘स्मार्ट कंट्रोल’ सेंटर होता है. हाइपोथैलेमस साइक्लोजिकल साइकिल, सेक्सुअल बिहेवियर, बॉडी टेंपरेचर, ब्लड प्रेशर, खाते समय पेट भर जाने का अहसास, भूख, प्यास, मूड और तनाव आदि को कंट्रोल करता है.

(और पढ़ें - महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए हार्मोन का महत्व)

अन्य कार्यों को करे नियंत्रित

हाइपोथैलेमस शरीर के कई और कार्यों को भी नियंत्रित करता है. ये सेक्स ड्राइव, बिहेवियर और भावनाओं के लिए जरूरी है. इसके अलावा, ये वजन, ब्रेस्ट मिल्क प्रोडक्शन, शरीर में नमक व पानी का संतुलन, शिशु का जन्म व सोने-जागने के चक्र को कंट्रोल करता है. इसके अलावा, ये इमोशनल रिस्पॉन्स को भी कंट्रोल करता है.

(और पढ़ें - ग्रोथ हार्मोन की कमी का इलाज)

डोपामाइन हार्मोन का निर्माण

हाइपोथैलेमस का एक अन्य काम डोपामाइन हार्मोन का निर्माण करना है. डोपामाइन ‘फील गुड’ हार्मोन के नाम से जाना जाता है. ये हार्मोन आपको खुशी महसूस करवाता है. जब आप खुशी महसूस करते हैं, तो ये आपको कुछ काम करने का मोटिवेशन देता है. डोपामाइन पिट्यूटरी ग्लैंड से प्रोलैक्टिन हार्मोन को कंट्रोल करने या रोकने का संकेत देता है.

(और पढ़ें - ग्रोथ हार्मोन इंसेंसिटिविटी का इलाज)

हाइपोथैलेमस लगभग बादाम के आकार का मस्तिष्क में मौजूद एक भाग होता है, जो हार्मोन सिस्टम को कंट्रोल करने का काम करता है. ये नर्व्स सिस्टम और एंडोक्राइन सिस्टम के बीच की सबसे अहम कड़ी होता है. ये शरीर की काई कार्यप्रणाली, जैसे - सेक्सुअल बिहेवियर, बॉडी टेंपरेचर, ब्लड प्रेशर, भूख, प्यास, मूड और स्ट्रेस को कंट्रोल करता है. साथ ही शरीर के संतुलन को बनाए रखने का काम करता है. ये हैप्पी हार्मोन डोपामाइन को रिलीज करता है.

(और पढ़ें - हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी के फायदे)

Dr. Narayanan N K

Dr. Narayanan N K

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
16 वर्षों का अनुभव

Dr. Tanmay Bharani

Dr. Tanmay Bharani

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
15 वर्षों का अनुभव

Dr. Sunil Kumar Mishra

Dr. Sunil Kumar Mishra

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
23 वर्षों का अनुभव

Dr. Parjeet Kaur

Dr. Parjeet Kaur

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
19 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ