आज के इस तकनीकी युग में बच्चों घर से बाहर जा कर नहीं खेल पा रहे हैं क्योंकि वे टीवी, वीडियो गेम, मोबाइल अदि पर लगे रहते हैं। कई बार हम बच्चों को उन पर लगे रहने देते हैं ताकि वह शांत रहें और हम अपना काम कर सकें। पर ऐसा करने से बच्चों को इन चीज़ों की आदत पद जाती है और वह घर से निकलना ही नहीं चाहते हैं। यह बिलकुल भी ठीक नहीं है क्योंकि बच्चों को इन चीज़ों में लगे रहने के बजाय ताजी हवा में जाकर खेलना कूदना चाहिए। बच्चों को इसके नुकसान का पता नहीं होता है तो आपको चाहिए कि उनसे बात करें और उन्हें बाहर खेलने के लिए भेजें। बाहर जाकर खेलना बच्चों के लिए क्यों ज़रूरी है, आइए जानते हैं-

  1. बाहर के खेल करते हैं बच्चों की रचनात्मकता को विकसित - Outdoor activities to develop children's creativity in hindi
  2. बच्चों के लिए घर से बाहर खेलना है अच्छा व्यायाम - playing outside is good exercise for kids in hindi
  3. बच्चों को बाहर खेलने से लाभ सामाजिक सिस्टम को समझे के लिए - social benefits of playing outside in hindi
  4. बच्चों को घर से बाहर खेलने से बढ़ती है उनकी जिज्ञासा - Outdoor play important for raising child's curiosity in hindi
  5. बच्चों के बाहर खेलने का फायदा रखे रोग मुक्त - outdoor play keeps the doctor away in hindi

आपके बढ़ते हुए बच्चे का दिमाग उनके मन की कल्पना का विशाल समंदर होता है। टीवी शो देखने या कंप्यूटर गेम खेलने से उन्हें इसका प्रयोग करने का मौका नहीं मिल पाता है क्योंकि इनमें एक निर्धारित रूप रेखा पहले से ही तैयार होती है और बच्चे को अपनी कल्पना का प्रयोग करने का मौका नहीं मिलता। जब बच्चे बाहर खेलने जाते हैं तो उनकी कल्पना मुफ्त हो जाती है, वे कुछ नया सोचते हैं। अपने लिए खुद खेल का आविष्कार करते हैं, वे मिट्टी से सुन्दर घर बनाते हैं, दूसरों की नक़ल करते हैं, तरह तरह के किरदार निभाते हैं। कल्पना एक कौशल है जो उनके लिए उपयोगी होता है इसलिए सुनिश्चित करें कि उन्हें इसे विकसित करने का अच्छा मौका मिले।

(और पढ़ें – गोटू कोला के फायदे मानसिक स्पष्टता के लिए)

जब आपके बच्चे बड़े होंगे तो उन्हें पूरे दिन कंप्यूटर के सामने व्यस्त रहने का पर्याप्त समय मिलेगा। पर अभी वे बच्चे हैं उन्हें बाहर जाकर खेलने कूदने की जरूरत है और उस ऊर्जा को जलाने की जरूरत है जो उनके भीतर है। पर्याप्त व्यायाम उनके जीवन को भी आसान बनाने में मदद करता है। घर के अंदर बंद होकर बच्चे बेचैन हो जाते हैं। इससे पहले की वो घर का सामान तोडे और आप उन पर गुस्सा करें और वो रोने लगें, उन्हें बाहर ले जाएँ और उनकी ऊर्जा को गैर-विनाशकारी तरीके से उपयोग होने दें। यदि आपके आस पास कोई खेलने की जगह नहीं है तो उन्हें स्थानीय पार्क या खेल के मैदान में ले जाएँ।

(और पढ़ें – व्यायाम से सम्बंधित मिथ्स जिन्हें दूर करना है अच्छी सेहत के लिए ज़रूरी)

अकेले घर में बैठे बच्चों को सामाजिक कौशल विकसित करने का मौका नहीं मिल पाता है। आज के समय में हम कई लोगों को देखते हैं जिन्हें आमने-सामने बैठ कर बातचीत में भी असुविधा होती है, दूसरों के प्रति उनको सहानुभूति भी नहीं होती है। इसलिए ज़रूरी है की वह अपनी उम्र के बच्चों के साथ बात करें, उनके साथ खेलें। इससे उनके सामाजिक वार्तालाप करने की क्षमता में वृद्धि होगी। यह क्षमता बच्चों को साथ में घर में बैठ कर वीडियो गेम आदि खेलने से नहीं मिल सकती है। इसलिए अपने बच्चों को बाहर खेलने के लिए भेजें जिससे वे अपने सामाजिक सिस्टम, उसके नियमों और अपेक्षाओं को समझें। यह उन्हें दूसरों की भावनाओं को बेहतर ढंग से समझने और दूसरों के साथ घनिष्ठ संबंधों को बनाने में मदद करेगा।

(और पढ़ें – ग्रूप एक्सरसाइज रखे सामाजिक रूप से सक्रिय)

बच्चे स्वाभाविक रूप से सभी चीजों के बारे में जानने के लिए उत्सुक होते हैं क्योंकि इस तरह ही वे इस बड़ी दुनिया के बारे में जानना शुरू करते हैं। पूरे दिन घर के अंदर रहने से उनके भीतर की यह इच्छा नष्ट हो जाती है। बच्चे घर के अंदर इतने चिपक जाते हैं कि घर से बाहर निकलने की रूचि खो देते हैं। इसलिए यह सुनिश्चित करें कि उन्हें घर से बाहर निकलने का पर्याप्त समय मिले जिससे उनके अंदर नई नई चीज़ों के बारे में जाने की भावना पैदा हो। इसके लिए आप उन्हें बाग में ले जाएं, विभिन्न प्रकार के जानवरों को दिखाएं ताकि उनमें अलग अलग प्रकृति से सम्बंधित चीज़ों के बारे में दिलचस्पी पैदा हो।

(और पढ़ें – कम सोने से आपके मस्तिष्क को रीचार्ज करने के लिए समय नहीं मिलता है)

घर से बाहर जा कर खेलना आपके बच्चों के स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। कई माता-पिता को चिंता होती है कि उनके बच्चे बाहर खेलेंगे तो संक्रमण की चपेट में आ जाएंगे लेकिन परिणाम इससे विपरीत होता है। अक्सर देखा गया है की जो बच्चे घर के अंदर समय बिताते हैं, वे बाहर खेलने वाले बच्चों की तुलना में अधिक बीमार होते हैं। बाहर जाकर खेलने से बच्चों को पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी मिलता है जिससे उनका स्वास्थ्य अच्छा रहता है। शारीरिक गतिविधियों के कारण उनकी मांसपेशियों और हड्डियों को भी मजबूती मिलती है। उनका दिल तेजी से धड़कता है जिससे उनके परिसंचरण में सुधार होता है जो उनके शरीर के ठीक से काम करने के लिए बहुत जरूरी है।

(और पढ़ें – हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जूस रेसिपी)

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ