myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

म्यूकुना प्रुरियन्स को काऊ हैज (cowhage), कपिकच्छु (Kapikacchu) के रूप में जाना जाता है। आयुर्वेदिक चिकित्सा में प्राचीन काल से इसका उपयोग किया जाता रहा है और आयुर्वेद में 350 से अधिक दवाइयों में कपिकच्छु का उपयोग किया जाता हैं। इसके बीज, पत्ती, जड़ सभी का प्रयोग औषधि के रूप में किया जाता है। इसकी 10-12 फीट लंबी एक बेल होती है। इसके फूल बैगनी रंग के और 5-10 cm लम्बी होती है। इसके बीज अंडाकार और काले या सफ़ेद रंग के होते हैं। आयुर्वेद इसकी शक्तिशाली कामोत्तेजक प्रकृति और शरीर को स्थिर रखने वाले गुणों के लिए इसकी सराहना करता है।

कपैकैचु में लेवोडोपा या एल-डोपा रसायन पाया जाता है, जो डोपामाइन, एड्रेनालाईन और नॉरएड्रेनालाईन हॉर्मोन्स के लिए बहुत अच्छा होता है। इसके रासायनिक घटकों की वजह से यह मानसिक स्थिति में बदलाव, स्लीप डिसऑर्डर, मूड से संबंधित समस्याओं आदि के लिए उपयोग किया जाता है।

  1. कपिकच्छु के फायदे - Kapikachhu Benefits in Hindi
  2. कपिकच्छु के नुकसान - Kapikachhu Side Effects in Hindi
  3. कपिकच्छु खुराक - Kapikachhu Dosage in Hindi

काऊ हैज पाउडर का उपयोग बदन दर्द में - Cowhage Itching Powder for Bodyache in Hindi

1 चम्मच कपिकच्छु -1 चम्मच शतावरी और 1 चम्मच गोक्षुरा बराबर को एक साथ 2 कप पानी में उबाले और आधा कप रह जाने के बाद छान लें। इसे न्यूरलजिया (नसों का दर्द), थकान, शरीर के दर्द, पीठ दर्द आदि के इलाज के लिए एक दिन में एक या दो बार 50 मिलीलीटर की खुराक में लेने की सलाह दी जाती है। 

(और पढ़ें - थकान दूर करने और ताकत के लिए क्या खाएं)

कौंच के बीज के फायदे हैं पीठ दर्द में लाभकारी - Kapikachhu ke Fayde for Back Ache in Hindi

5 ग्राम म्यूकुना के मोटे पाउडर को गाय के दूध के साथ पकाया जाता है। इसे एक चम्मच घी और आधा चम्मच चीनी के साथ मिलाया जाता है। यह पीठ दर्द और बुढापे की दुर्बलता के इलाज में उपयोगी है।

(और पढ़ें - पीठ दर्द के लिए योगासन है ताड़ासन)

किवांच पाउडर करे वजन बढ़ाने में मदद - Kaunch Beej for Weight Gain in Hindi

2 चम्मच कपिकच्छु का बारीक़ पाउडर को एक कप दूध के साथ अच्छी तरह पकाया जाता है जब तक यह गाढ़ा नहीं हो जाता है। अब इसे घी एक चम्मच घी के साथ भूरे रंग का होने तक पकाइये। जब तक लगातार सरगर्मी के साथ हल्के गर्मी में पकाया जाता है तो यह पूरी तरह से एक केक में बदल जाता है। यदि आवश्यक हो तो इलायची, केसर, लौंग को स्वादानुसार मिलाया जा सकता है।

(और पढ़ें - वजन बढ़ाने के लिए क्या खाना चाहिए?)

यह थोड़े से घी के साथ थाली पर फैलाया जाता है। ठंडा होने के बाद इसे स्टोर किया जा सकता है। इस स्वादिष्ट केक में वजन बढ़ाने और दुर्बलता को दूर करने के लिए प्रभावी पोषक तत्व होते हैं।

कौंच के गुण बढ़ाएं एकाग्रता - Mucuna seed for Concentration in Hindi

कपिकच्छु बीज के काढ़े का नियमित उपयोग दिमाग की असंतोष और चिड़चिड़ापन को दूर करने में मदद करता है। कपिकच्छु के काढ़े को 40-50 मिलीलीटर की खुराक में देने की सलाह दी जाती है। 

(और पढ़ें - कैफीन के लाभ बढ़ाए एकाग्रता)

कपिकच्छु रूट पाउडर साइटिका के लिए - Kapikacchu Powder for Sciatica in Hindi

कपिकच्छु रूट पाउडर में भी कायाकल्प लाभ और नेटविन (netvine) टॉनिक प्रभाव होते हैं। पीठ दर्द, नसों के दर्द और कटिस्नायुशूल के उपचार में इसका पाउडर या काढ़ा उपयोगी होता है।

(और पढ़ें - साइटिका के दर्द से निजात पाने के लिए करें ये एक्सरसाइज)

म्यूकुना प्रुरियन्स है पार्किंसंस के इलाज में उपयोगी - Mucuna Pruriens for Parkinson's Disease in Hindi

कपिकच्छु तंत्रिका तंत्र संबंधी परेशानियों के लिए एक खास दवा के रूप में इस्तेमाल की जाती है। आधुनिक चिकित्सा में यह पार्किंसंस के इलाज में और समग्र मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए इसका अच्छा प्रभाव दिखाती है। 

(और पढ़ें - अजीनोमोटो का हानिकारक प्रभाव तंत्रिकाओं पर)

  • म्यूकुना के साइड इफेक्ट्स पर कोई निश्चित शोध नहीं किया गया है। लेकिन दवा के कामोद्दीपक और न्यूरोलॉजिकल प्रभाव हैं और क्योंकि इसमें एल डोपा की उच्च मात्रा है तो इस दवा को सख्त चिकित्सा पर्यवेक्षण के तहत लिया जाना चाहिए।
  • यह गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान इस दवा से बचना सबसे अच्छा है। बच्चों को केवल मेडिकल पर्यवेक्षण के तहत ही दवा दी जानी चाहिए। (और पढ़ें - गर्भावस्था में पेट दर्द और गर्भ में लड़का कैसे हो से जुड़े मिथक)
  • हालांकि, एल डोपा के सभी साइड इफेक्ट्स म्यूकुना प्रुरियन्स से सम्बंधित नहीं हो सकते हैं। यह फाइटो-केमिक्स के एक स्वस्थ मिश्रण के साथ एक प्राकृतिक जड़ी बूटी है और एल डोपा उनके बीच सिर्फ एक केमिकल है।
  • बीज पाउडर - वयस्कों के लिए प्रतिदिन 6 से 10 ग्राम तक की मात्रा।
  • बीज अर्क - 250 - 500 मिलीग्राम भोजन के बाद दिन में एक या दो बार।
  • काढ़ा - 5 - 15 मिलीलीटर, एक या दो बार दिन में विभाजित मात्रा में।
Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
More Power Capsule 40 CapsulesMore Power Capsule 40 Capsules170.0
Baidyanath Dhatupaushtik ChurnaBaidyanath Dhatupaushtik Churna110.0
Baidyanath Shatavaryadi ChurnaBaidyanath Shatavaryadi Churna Combo Pack Of 2124.0
Zandu Kesari JivanZandu Kesari Jivan370.0
Baidyanath Agastya Haritaki Combo Pack of 3 By BaidyanathAgastya Haritaki Combo Pack of 3 By Baidyanath147.0
Baidyanath Badam PakBaidyanath Badam Pak235.0
Zandu VigorexZandu Vigorex Capsule170.0
Zandu Vigorex SFZandu Vigorex Sf Capsule175.0
Zandu Zandopa PowderZandopa Powder109.17
Deemark Shakti PrashShakti Prash
Baidyanath Vita-ex gold plusbaidyanath vita-ex gold plus cap 20 capsules585.0
Baidyanath Manmath Ras Manmath Ras By Baidyanath122.0
Baidyanath Shakti Ras CapsuleBaidyanath Shaktiras Capsule650.0
Baidyanath Chyawan Vit SugarfreeBaidyanath Chyawan Vit (Sf)179.0
Baidyanath Swarna Shakti RasBaidyanath Swarna Shakti Ras Capsule472.0
Himalaya Confido TabletsHimalaya Confido Tablets100.0
Himalaya Speman TabletsHimalaya Speman Tablets110.0
Himalaya Tentex Forte TabletHimalaya Tentex Forte Tablets529.0
Charak Neo TabletsCharak Neo Tablets196.0
Himalaya Geriforte TabletHimalaya Geriforte Tablets115.0
Himalaya Geriforte SyrupHimalaya Geriforte Syrup90.0
Himalaya Kapikachhu CapsulesHimalaya Kapikachhu Capsules110.0
और पढ़ें ...