myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

यह बात हम सभी जानते हैं कि शरीर को स्वस्थ और मन को खुश रखने के लिए व्यायाम बेहद ही ज़रूरी है। पर कड़ा व्यायाम करना थोड़ा मुश्किल होता है। यहाँ तक कि अगर कुछ व्यायामों को ग़लत तरीके से किया जाए तो उससे हमारे शरीर पर विपरीत असर भी पड़ सकता है।

लेकिन एक व्यायाम ऐसा है जिसे आप बड़ी सरलता से कर सकते हैं। रोज सुबह सैर करना बेहद सरल और उपयोगी व्यायाम है। प्रातः काल की चहलकदमी का आनंद ही कुछ और है।

रोजाना चलने के कई गुण और लाभ हैं। और यदि आपने व्यायाम नियमित रूप से शुरू नहीं किया है तो यह सचमुच एक बेहतरीन शुरूआत है।

रोजाना चलने से शरीर में सारा दिन चुस्ती बनी रहती है। चलने से शरीर के प्रत्येक अंग की कसरत होती है, स्वास्थ्य अच्छा रहता है और चेहरे पर तेज बना रहता है।

  1. सैर करने के फायदे - Sair karne ke fayde in Hindi
  2. टहलने का समय - Sair karne ka sahi samay in Hindi
  3. सैर पर जाने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखें - Sair karne ke liye tips in Hindi

सैर करने  के फायदे निम्म हैं -

  • चलते समय आपको अन्य व्यायाम की तुलना में अधिक प्रयास की ज़रूरत नहीं होती है। चलना बेहद ही आसान है। यह एक ऐसी गतिविधि है जो कोई भी कर सकता है।
  • रोजाना चलने से शरीर की हड्डियां मजबूत होती है।
  • इससे अतिरिक्त वजन कम करने में भी मदद मिलती है। (और पढ़ें - वजन कम करने के लिए योगासन)
  • इससे तनाव कम होता है और आप फ्रेश भी महसूस करते हैं।
  • कई तरह की बीमारियों जैसे कैंसर, डाइयबिटीस होने का खतरा कम हो जाता है।
  • इसमें किसी तरह का जोखिम भी नहीं है। इसमें आपको किसी तरह की चोट नहीं लगती है।
  • मांसपेशी मजबूत होती है और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।
  • गर्भकाल के दौरान चलना टहलना सबसे अच्छा व्यायाम माना जाता है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को सुबह शाम टहलना चाहिए।
  • रक्त का संचार सही तरह से होता है जिससे रक्तचाप नियंत्रण में सहायता मिलती है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है।
  • सैर से अवसाद का खतरा भी कम हो जाता है जिससे आप सकारात्मक महसूस करते हैं।
  • अन्य व्यायाम की तुलना में चलने में सबसे ज्यादा आनंद आता है। चलते वक्त आप संगीत भी सुन सकते हैं। और यदि आप अपने जीवन साथी या फिर मित्र को भी अपने साथ चलने के लिए बुला लें तो आप कि मॉर्निंग वॉक और भी आनंदनीय हो जाती है। 

(और पढ़ें – सुबह जल्दी उठने के आयुर्वेदिक तरीके)

गर्मियों में लगभग सुबह 4-5 बजे और सर्दियों में 6 बजे का समय भ्रमण के लिए उपयुक्त है। प्रातःकाल की सैर का महत्व ही कुछ और है। सुबह का वातावरण चारों और से शांत होता है और इसमें चलने का अलग ही मज़ा आता है। हमें जल्दी उठने में शुरू में थोड़ी मुश्किल ज़रूर होती है। पर फिर धीरे धीरे हम इसके आदि हो जाते हैं और हमें आनंद आने लगता है।

इसके अलावा शाम की सैर से भी आप अपने शरीर को स्वस्थ और फिट रख सकते है। शाम में  30 मिनट से एक घंटे के लिए सैर करना आपकी ऊर्जा का स्तर बढ़ा देता है। आजकल प्रदूषण की समस्या बढ़ जाने के कारण दिल्ली जैसी कई जगहों पर सुबह की बजाए शाम को सैर करने की सलाह दी जा रही है, खासतौर से सर्दियों के मौसम में जब प्रदूषण का स्तर सुबह के समय बहुत अधिक पाया गया है।

दिन में कम से कम आधा घंटा चलने का लक्ष्य बनाएं। लेकिन आप दैनिक रूप में जितना चलते हैं, उसके अलावा आपको आधा घंटा चलना ज़रूरी है। यदि आपको लगातार 30 मिनट चलना मुश्किल लग रहा है, तो आप 10-10 मिनट का अंतराल लेते हुए चलें। चलने को अपने हर दिन का हिस्सा बना लें जैसे कि ब्रश करना और नहाना आपके जीवन शैली का हिस्सा है।

और अगर इसके बावजूद भी आपको लगे कि आधा घंटा ज्यादा है, तो आप 15 मिनट से शुरूआत कर सकते हैं। अपनी क्षमता से कम मेहनत करते हुए चलने से कोई नुकसान नहीं है। लेकिन तकलीफ उठाते हुए ज़बरदस्ती चलने से परेशानी हो सकती है और यह निराशाजनक हो सकता है। 

(और पढ़ें - पैदल चलने के फायदे)

सैर पर जाने के लिए कुछ बातों का रखें ध्यान -

  • भ्रमण पर जाने से पहले शौच जाना ज़रूरी है।
  • ऋतु के अनुसार चुस्त कपड़े पहननें चाहिए।
  • पैदल चलने के लाभ उठाने के लिए हरा भरा क्षेत्र अच्छा होता है। अगर आप शहर में रहते हों तो आपको आस पास ऐसे बगीचे भी मिल जाएँगे जहाँ जाकर आप सैर कर सकते हैं। बाग और हरी हरी घास में नंगे पाव चलना भ्रमण का महत्व बढ़ा देता है।
  • यदि आपको पहले से दिल से संबंधित कोई बीमारी है, जिससे चलने में तकलीफ़ हो रही हों जैसे की साँस का फूलना, सीने में दर्द या किसी भी तरह की अन्य समस्या आ रही हो तो तुरंत अपने चिकित्सक की सलाह लें।
  • सुबह जल्दी उठकर सैर करने के फायदे आपकी समझ में आ ही गए होंगे। ये सब रोगों की एक दवा है, सुबह जल्दी उठने की कोशिश कीजिए और निकल जाइये सैर पर फिर देखिये सारा दिन आपका है और हमेशा आपके चेहरे पे रौनक और मुस्कान बनी रहेगी। अन्य व्यायाम की तुलना में आपको इसमें खर्च करने की ज्यादा ज़रूरत नही होती, ना ही इसके लिए आपको महँगे साधन खरीदने पड़ेंगे।
और पढ़ें ...

References

  1. Centre for Clinical Interventions. Practical Techniques To Stop Procrastination. [Internet]
  2. Yasuyo Hijikata, Seika Yamada. Walking just after a meal seems to be more effective for weight loss than waiting for one hour to walk after a meal . Int J Gen Med. 2011; 4: 447–450. PMID: 21731896
  3. Zahra Alizadeh et al. Acute Effect of Morning and Afternoon Aerobic Exercise on Appetite of Overweight Women . Asian J Sports Med. 2015 Jun; 6(2): e24222. PMID: 26448839
  4. Rachel C. Veasey et al. The Effect of Breakfast Prior to Morning Exercise on Cognitive Performance, Mood and Appetite Later in the Day in Habitually Active Women. Nutrients. 2015 Jul; 7(7): 5712–5732. PMID: 26184302
  5. Morris JN, Hardman AE. Walking to health. Sports Med. 1997 May;23(5):306-32. PMID: 9181668
  6. Boussetta N et al. The effect of air pollution on diurnal variation of performance in anaerobic tests, cardiovascular and hematological parameters, and blood gases on soccer players following the Yo-Yo Intermittent Recovery Test Level-1. Chronobiol Int. 2017;34(7):903-920. PMID: 28613960
  7. Zhao S et al. Annual and diurnal variations of gaseous and particulate pollutants in 31 provincial capital cities based on in situ air quality monitoring data from China National Environmental Monitoring Center. Environ Int. 2016 Jan;86:92-106. PMID: 26562560
  8. Edward M. Wojtys. Keep on Walking . Sports Health. 2015 Jul; 7(4): 297–298. PMID: 26137172
  9. Lee IM, Buchner DM. The importance of walking to public health. Med Sci Sports Exerc. 2008 Jul;40(7 Suppl):S512-8. PMID: 18562968