myUpchar प्लस+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

क्या आप जोड़ों के दर्द से परेशान हैं या फिर हृदय की समस्या, तनाव, अवसाद या मोटापे से पीड़ित हैं? अगर ऐसा हैं तो आपको सभी स्वास्थ्य समस्याओं से निजात पाने के लिए चलने का (वाकिंग) प्रयास करना चाहिए। एक रिसर्च के अनुसार, चलने से सभी पुरानी बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है। वास्तव में, अधिकांश हेल्थ प्रोफेशनल्स रनिंग की बजाय चलने (वाकिंग) की सलाह देते हैं क्योंकि यह कम प्रभाव वाला व्यायाम है जो आपके दिल और जोड़ों के लिए अच्छा होता है।

(और पढ़ें - सैर करने के फायदे)

तो आइये जानते हैं चलने के लाभों के बारे में -

  1. चलने का सही तरीका - The right way to walk in Hindi
  2. पैदल चलने के फायदे रखें हृदय के स्वास्थ्य को बेहतर - Walking Improves Heart Health in Hindi
  3. पैदल चलने से होता है वजन कम - Walking Helps to Reduce Weight in Hindi
  4. पैदल चलने के लाभ करें हाई ब्लड प्रेशर कम - Walking Benefits for High Blood Pressure in Hindi
  5. वाकिंग फॉर कैंसर - Walking for Cancer in Hindi
  6. चलना करें परिसंचरण में सुधार - Walking Improves Circulation in Hindi
  7. वाकिंग करने के फायदे डायबिटीज को रोकने के लिए - Walking Good for Diabetes in Hindi
  8. वॉक के फायदे रखें हड्डियों को मजबूत - Walking Good for Bones in Hindi
  9. वाकिंग बेनिफिट्स फॉर मसल्स - Walking Benefits for Muscles in Hindi
  10. घूमने के फायदे करें पाचन में सुधार - Walking Improves Digestion in Hindi
  11. वाकिंग के फायदे बनाएं इम्यून सिस्टम को मजबूत - Walking for Immune System in Hindi
  12. पैदल चलना बचाएं डिमेंशिया से - Walking Prevents Dementia in Hindi
  13. वॉक करने के फायदे करें फेफड़ों की क्षमता में सुधार - Walking Good for Lungs in Hindi
  14. पैदल चलना करें तनाव के स्तर को कम - Walking Reduces Stress in Hindi
  15. पैदल चलकर करें याददाश्त में सुधार - Walking Good for Memory in Hindi

 

कुछ लोग कहते हैं कि तेज चलने से फायदा होता है। यहीं इसके विपरीत कुछ लोग कहते हैं कि धीरे चलना ज्यादा फायदेमंद है। तो आपको बता दें तेज या धीमा यह आप पर निर्भर करता है। आप अपनी सेहत के हिसाब से चलने की गति निर्धारित कर सकते हैं। क्योंकि तेज़ और धीमे दोनों तरीके से चलने पर हमारे शरीर को फायदा मिलता है। लेकिन आप रात के खाने के बाद टहल रहे हों तो धीरे धीरे ही टहलें। शाम की सैर से दिन भर की विभिन्न शारीरक और मानसिक तनाव से कुछ देर के लिए आराम मिलता है। शाम को खाना खाने के बाद टहलने से अच्छी नींद आती है।

(और पढ़ें – मजबूत हिप्स और कूल्हे के दर्द से राहत के लिए हिप्स एक्सरसाइज)

चलना (वाकिंग) आपके दिल की स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। आयरिश वैज्ञानिकों के अनुसार, हृदय और हृदय रोगों के जोखिम को कम करने के लिए वाकिंग व्यक्तियों, विशेषकर वयस्कों के लिए सबसे अच्छा व्यायाम होता है। अमेरिकन गेराट्रिक्स सोसाइटी के जर्नल में प्रकाशित एक और अध्ययन में वैज्ञानिकों ने पुष्टि की है कि 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र के पुरुष और महिलाएं, जिन्होंने हर हफ्ते कम से कम 4 घंटे वाकिंग की, उनमें हृदय संबंधी रोगों के जोखिम कम थे। इसलिए, सप्ताह में 4 घंटे चलना सुनिश्चित करें ताकि स्ट्रोक, हार्ट अटैक और अन्य हृदय रोग का खतरा कम किया जा सकें।

(और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए आहार)

चलना एक बहुत ही अच्छी एक्सरसाइज होती है जो आपका वजन कम करने में मदद करती है। आप अपने शरीर से 70 से 75 कैलोरी को 4 किलोमीटर चलने से जला सकते हैं। इसलिए अगर आप रोजाना कम से कम 2 किलोमीटर पैदल चलते हैं तो आप अपना वजन कम कर सकते हैं।

(और पढ़ें - वजन कम करने के उपाय)

इसलिए, अपनी कार की बजाय, अपने आस-पास की जगहों पर जाने के लिए वाक करना एक अच्छा विचार हो सकता है। 

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए कितना पैदल चलें)

 

पैदल चलना हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में भी मदद कर सकता है। वकायामा मेडिकल कॉलेज, जापान के शोधकर्ताओं ने हल्के उच्च रक्तचाप वाले व्यक्तियों पर एक प्रयोग किया, जहां 83 प्रतिभागी 12 सप्ताह के लिए प्रति दिन 10,000 कदम चलें। 12 सप्ताह के अंत में, शोधकर्ताओं ने संबंधित व्यक्तियों के रक्तचाप में एक महत्वपूर्ण गिरावट देखी। यहां तक कि अगर आप प्रतिदिन 10,000 कदम पूरा करने में असमर्थ हैं, तो आपको अपने रक्तचाप के स्तर को ठीक रखने के लिए हर दिन कम से कम 60 मिनट चलना चाहिए।

(और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर कम करने के लिए योग)

प्रतिवर्ष  कैंसर से दस लाख से अधिक लोगों की मौत होती है और इसका मुख्य कारण है, एक गतिहीन जीवनशैली। गतिहीन जीवनशैली कैंसर के कई कारणों में से एक है। वैज्ञानिकों ने पाया है कि घूमना वजन घटाने में मदद कर सकता है, जिससे कैंसर का खतरा कम हो सकता है। इसके अलावा केमोथेरेपी के साइड इफेक्ट को कम करने के लिए पैदल चलना सहायक पाया गया है। पैदल चलने से स्तन कैंसर का खतरा भी कम हो सकता है।

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाना चाहिए)

आप मानो या न मानो, लेकिन चलना वास्तव में आपकी बुद्धिमत्ता (Intelligence) में वृद्धि कर सकता है। घूमना ऑक्सीजन और ग्लूकोज की आवश्यक मात्रा को मस्तिष्क में आपूर्ति करने में मदद करता है, जिससे दिमाग को बेहतर कार्य करने में मदद मिलती है। यह एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम करता है, जो धमनियों को रोकता है और इस प्रकार यह स्ट्रोक के जोखिम को कम करता है। पैदल चलना रक्त परिसंचरण और मस्तिष्क व सेलुलर फंक्शन को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

(और पढ़ें - दिमाग तेज करने के उपाय)

गतिहीन जीवनशैली ने सबसे आम रोगों में से जिस एक रोग को जन्म दिया है, उसका नाम है डायबिटीज। वैज्ञानिकों ने टाइप 2 डायबिटीज के इलाज के लिए प्रति दिन 3,000 से 7,500 कदम चलने की सलाह दी हैं। हर दिन चलना रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है, जो बदले में टाइप 2 डायबिटीज को रोकने में आपकी मदद कर सकता है। 

(और पढ़ें - डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज)

आपकी हड्डियां बढ़ती उम्र के साथ कमजोर होने लगती हैं। लेकिन, अच्छी बात यह है कि अगर आप नियमित रूप से पैदल घूमना शुरू कर दें तो इससे आपकी हड्डियां मजबूत हो सकती है। यह लौ इम्पैक्ट एक्सरसाइज आपको अस्थि घनत्व (Bone Density) के नुकसान से बचाती है, जिससे ऑस्टियोपोरोसिस, फ्रैक्चर और चोट के जोखिम कम हो जाते हैं। मजबूत और स्वस्थ हड्डियों से पोस्चर, सहनशक्ति और संतुलन को बेहतर बनाने में मदद मिलती है। पैदल चलने से गठिया को भी रोका जा सकता है और साथ ही साथ यह गठिया से जुड़े दर्द को कम कर सकता है। 

(और पढ़ें - हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जूस रेसिपी)

हड्डियों की तरह, आपको बढ़ती उम्र के साथ-साथ मांसपेशियों के नुकसान का भी अनुभव हो सकता है। यहां भी पैदल चलना आपकी मांसपेशियों को मजबूत बनाने, टोन करने और मांसपेशियों को किसी भी प्रकार के नुकसान से बचाने के लिए आपकी मदद कर सकता है। नियमित रूप से चलना आपके पैर और पीठ की मांसपेशियों को मजबूत कर सकता है।

(और पढ़ें - बॉडी बनाने के तरीके)

अनुचित पाचन जठरांत्र संबंधी असुविधा, सूजन, कब्ज, दस्त और यहां तक कि बृहदान्त्र कैंसर (Colon Cancer) का कारण भी हो सकता है। इसलिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप अपने पाचन तंत्र को स्वस्थ रखें। अच्छी भोजन की आदतें और पीने के पानी के अलावा, आपको पाचन सुधारने के लिए पैदल भी चलना चाहिए। भोजन के बाद कुछ देर पैदल चलना बहुत ही अच्छा माना जाता है। यह वजन कम करने में आपकी सहायता करता है और आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करता है। 

(और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)

संक्रमण, बीमारियों और मृत्यु को रोकने के लिए आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को हर समय ठीक से कार्य करना चाहिए। चलना आपकी प्रतिरक्षा को मजबूत करने का एक शानदार तरीका है। प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट चलना प्रतिरक्षा कोशिकाओं, बी-कोशिकाओं (जिसे बी लिम्फोसाइट्स भी कहा जाता है) और टी-कोशिकाओं (लिम्फोसाइट सफेद रक्त कोशिका का एक प्रकार है। ये एंटीबॉडी शरीर की बाह्य पदार्थों से रक्षा करने के लिए जाने जाते हैं।) की गतिविधियों को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। इससे सफ़ेद रक्त कोशिकाओं को जल्दी से रिलीज़ करने में सहायता मिलती है, जिससे शरीर को जल्दी से ठीक करने में मदद मिलती है। 

(और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

डिमेंशिया एक तंत्रिका संबंधी समस्या होती है जिसमें धीरे-धीरे याददाश्त कमजोर होने लगती है और संज्ञानात्मक कार्य करने में मुश्किल होती है। यह अंततः आपको दिन-प्रतिदिन के कार्य करने में असमर्थ बना सकता है और पूरी तरह से दूसरों पर निर्भर करता है। नियमित रूप से चलना डिमेंशिया को रोकने, स्मृति में सुधार और वृद्ध व्यक्तियों में आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद कर सकता है।

(और पढ़ें - मानसिक रोग की दवा)

पैदल चलना आपके फेफड़े की क्षमता में भी वृद्धि कर सकता है। जब आप चलते हैं, तो आपको स्थिर होने के मुकाबले ज्यादा ऑक्सीजन मिलती है। ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड का एक बड़ी मात्रा में आदान-प्रदान, आपके फेफड़ों की क्षमता में वृद्धि करने में मदद कर सकता है, जिससे आपकी ताकत बढ़ सकती है।

(और पढ़ें - फेफड़ों को स्वस्थ रखने के लिए आहार)

पैदल चलना परिसंचरण में सुधार करके तनाव के स्तर को कम करने में मदद करता है। इसके साथ ही साथ कोशिकाओं को पोषक तत्व और ऑक्सीजन प्रदान करता है। यह तंत्रिका तंत्र रिसेप्टर्स को उत्तेजित करता है और तनाव हार्मोन के उत्पादन में कमी करता है। चलने के दौरान श्वास बाहर और अंदर लेने से तनाव को बाहर निकालने में मदद मिलती है।

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के लिए योग)

जापानी वैज्ञानिकों ने पाया है कि चलने से वृद्ध रोगियों की याददाश्त में सुधार करने में मदद मिल सकती है। शारीरिक व्यायाम हिप्पोकैम्पस (एक जटिल तंत्रिका संरचना) के आकार को बढ़ाने में मदद करता है, जबकि एक गतिहीन जीवन शैली हिप्पोकैम्पस को कम करती है, जिससे याददाश्त कमजोर हो जाती है। तो अपनी याददाश्त को बढ़ाने के लिए हर दिन पैदल चलें। 

(और पढ़ें - याददाश्त बढ़ाने के घरेलू उपाय)

और पढ़ें ...