myUpchar Call

यौन स्वास्थ्य से जुड़ी बहुत सी ऐसी बातें हैं जिनके बारे में बात करने में महिलाएं असहज होती हैं, जैसे वजाइना में खुजली होना, योनि से गंध आना, योनि में जलन होना या व्‍हाइट डिस्‍चार्ज की समस्‍या, ऐसी समस्‍याएं हैं जिनके बारे में महिलाएं आमतौर पर बात करने में शर्मिंदगी महसूस करती हैं. आज इस लेख में हम जानेंगे यौन स्वास्थ्य से जुड़ी ऐसी बातों के बारे में जिन्‍हें जानकर महिलाएं खुद को संक्रमण से बचा सकती हैं.

(और पढ़ें - योनि में संक्रमण के उपाय)

अलग तौलिए का करें इस्‍तेमाल

जब भी आप सार्वजनिक शौचालय, स्‍विमिंग पूल, स्‍टीम बाथ, बाथटब या स्‍पा इत्‍यादि का इस्‍तेमाल करती हैं तो आपको बैक्टीरियल वेजिनोसिस से बचने के लिए अपने निजी तौलिए का इस्‍तेमाल करना चाहिए क्‍योंकि इन जगहों पर मौजूद टॉवल की सतहों पर मौजूद बैक्‍टीरिया से ट्रांसमिटेड इंफेक्‍शन का शिकार आसानी से हो सकते हैं. 

एंटीबैक्‍टीरियल साबुन का इस्‍तेमाल करने से बचें

अगर आप लंबे समय तक घर से बाहर हैं तो वजाइना की साफ पानी से सफाई करें और इसे अच्‍छी तरह से ड्राई करें, साथ ही वजाइना को लंबे समय तक गीलेपन से बचाएं. वजाइना की सफाई के लिए कैमिकल-युक्‍त एंटीबैक्‍टीरियल साबुन का इस्‍तेमाल करने से बचना चाहिए, क्‍योंकि इससे वजाइना में मौजूद पीएच स्‍तर का संतुलन बिगड़ जाता है. इतना ही नहीं, साबुन के अधिक इस्‍तेमाल से खराब बैक्‍टीरिया के साथ अच्‍छे बैक्‍टीरिया के नष्‍ट होने की भी आशंका होती है. ऐसी स्थिति में योनि से गंध भी आने की संभावना रहती है.

(और पढ़ें - योनि को साफ कैसे रखें)

सिंथेटिक अंडरविडर पहनने से बचें

वजाइना और इसके आसपास के क्षेत्र को ड्राई रखने के लिए हमेशा कॉटन की अंडरवियर का ही इस्‍तेमाल करें. सिंथेटिक अंडरविडर पहनने से एलर्जी और रैशेज पड़ने की आशंका रहती है.

तंग कपड़े पहनने से बचें

कोशिश करें कि आप बहुत अधिक टाइट पैंट लंबे समय तक ना पहनें, इससे वजाइना में वेंटिलेशन नहीं हो पाता. हवादार या ढीले कपड़े पहनने से वजाइना ड्राई रहती है और असहनीय गंध से भी बचा जा सकता है.

नियमित जांच हैं जरूरी

बेशक आप अविवाहित हैं या फिर सेक्‍सुअली एक्टिव नहीं हैं, फिर भी आपको गायनोकोलॉजिस्‍ट से समय-समय पर जांच करवाकर ये जानना चाहिए कि वजाइना में किसी तरह का कोई इंफेक्‍शन तो नहीं, वजाइना हेल्‍दी है या नहीं.

(और पढ़ें - शादी से पहले सेक्स)

यदि आप सेक्‍सुअली एक्टिव हैं तो संबंध बनाने के बाद डिस्‍चार्ज होना शुरू हो गया है तो आपको गायनोकोलॉजिस्‍ट से सलाह लेनी चाहिए और जानना चाहिए कि आपको कोई एसटीडी (सेक्‍सुअली ट्रांसमेटिड डिजीज़) तो नहीं. अगर आपको किसी भी तरह का कोई इंफेक्‍शन है तो आपको और आपके साथी को बिना देर किए इलाज शुरू कर देना चाहिए.

(और पढ़ें - सुरक्षित सेक्स करने का तरीका)

इस स्थिति में ना करें वजाइनल सेक्‍स

यदि आपने अप्राकृतिक यानि एनल सेक्‍स किया है तो आपको इसी सेशन में वजाइनल सेक्‍स करने से बचना चाहिए. ऐसा करने पर नुकसानदायक बैक्‍टीरिया वैजाइना में ट्रांसमिट हो सकते हैं. साथ ही आप गंभीर बीमारी जैसे सिस्टिटिस, एंडोमेट्राइटिस, पैल्विक इंफेक्‍शन और पहले से हो रहे पैल्विक पेन और प्रजनन समस्याओं का भी शिकार हो सकती हैं. इतना ही नहीं, यदि आप एनल सेक्‍स करते हैं तो कंडोम का इस्तेमाल अवश्‍य करना चाहिए जिससे आप और आपका पार्टनर दोनों ही बैक्‍टीरियल इंफेक्‍शन से बच सकें. इसके अलावा वजाइनल और एनल सेक्‍स के दौरान एक ही कंडोम का इस्‍तेमाल करने से भी बचें. ऐसा करके आप सेक्‍सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज से बच सकते हैं.

लंदन के क्वींसवे गायनोकोलॉजी की प्रमुख गायनोकोलॉजिस्‍ट डॉ अहमद इस्माइल का कहना है कि एक स्वस्थ वजाइना गंधहीन और लक्षण मुक्त होती है. इनका कहना है कि महिलाएं चाहे सेक्‍सुअली एक्टिव हो या नहीं लेकिन उन्‍हें नियमित तौर पर अपनी जांच करवाते रहना चाहिए, जिससे किसी भी संभावित गंभीर समस्‍या से बचा जा सके.

(और पढ़ें - योनि को स्वस्थ रखने के उपाय)

हर महिला को जाननी चाहिए यौन स्वास्थ्य से जुड़ी ये अहम बातें के डॉक्टर
Dr. Vrinda Khemani

Dr. Vrinda Khemani

प्रसूति एवं स्त्री रोग
6 वर्षों का अनुभव

Dr Megha Apsingekar

Dr Megha Apsingekar

प्रसूति एवं स्त्री रोग
4 वर्षों का अनुभव

Dr. Dyuti Navadia

Dr. Dyuti Navadia

प्रसूति एवं स्त्री रोग
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Sheetal Aggarwal

Dr. Sheetal Aggarwal

प्रसूति एवं स्त्री रोग
15 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ