ल्यूकोरिया (योनि से सफेद पानी आना) - White Discharge (Leucorrhea) in Hindi

Dr. Rajalakshmi VK (AIIMS)MBBS

March 27, 2017

April 10, 2021

ल्यूकोरिया

लिकोरिया (सफेद पानी आना) क्या है?

लिकोरिया (ल्यूकोरिया) या योनि से सफेद पानी आना महिलाओं में देखी जाने वाली एक नार्मल और आम स्थिति है। यह एक क्लियर लिक्विड (तरल पदार्थ) या म्यूकस का स्राव है जो योनि को नमी और चिकनाई देता है और योनि में संक्रमण को रोकता है।

यौवन से रजोनिवृत्ति तक एक महिला के वयस्क जीवन के दौरान हार्मोनल स्तर में उतार-चढ़ाव के कारण ल्यूकोरिया होता है। ल्यूकोरिया के लक्षण, जैसे कि एक बिना खुजली के सफेद स्राव (डिस्चार्ज) और गीलेपन की भावना, हानिरहित होते हैं और बिना किसी जटिलताओं के हल किए जा सकते हैं।

ल्यूकोरिया के कारणों में यौन संचारित और अन्य संक्रमण शामिल हैं। इन मामलों में योनि में खुजली, लालिमा, बदबू और दर्द जैसे लक्षण हो सकते हैं।

इस तरह के संक्रमण को दवाओं के साथ-साथ अन्य एहतियाती उपायों की आवश्यकता होती है ताकि संक्रमण के फैलने या जटिलताओं को रोका जा सके। जब तक ल्यूकोरिया अत्यधिक या असामान्य नहीं होता तब तक उपचार की आवश्यकता नहीं होती है।

लिकोरिया (सफेद पानी आने) के लक्षण - Leucorrhea Symptoms in Hindi

आमतौर पर अगर इन्फेक्शन न हो तो ल्यूकोरिया एक पतला, क्लियर पानी सा डिस्चार्ज होता है। अगर संक्रमण भी हो तो स्राव की मात्रा, गाढ़ापन और रंग अलग होते हैं। इनके आलावा यह अन्य लक्षणों भी साथ में हो सकता हैं जैसे -

(और पढ़ें - योनि से ब्लीडिंग के कारण)

ल्यूकोरिया (सफेद पानी आने) के कारण - Leucorrhea Causes in Hindi

लिकोरिया क्यों होता है या सफेद पानी क्यों आता है?

मुख्य रूप से प्यूबर्टी, पीरियड्स, प्रेगनेंसी और मीनोपॉज के दौरान हार्मोनल परिवर्तन के परिणामस्वरूप ल्यूकोरिया होता है।

इसके अन्य कारणों में शामिल हैं -

किन कारकों की वजह से लिकोरिया होने की आशंका बढ़ जाती है?

बिना किसी विकृति के ल्यूकोरिया होने का खतरा महिला की उम्र, गर्भधारण की संख्या, गर्भ निरोधकों के उपयोग और प्रसव की विधि जैसे कई कारकों पर निर्भर करता है। असामान्य योनि स्राव का खतरा मामलों में बढ़ जाता है -

लिकोरिया (सफेद पानी आने) से बचाव - Prevention of Leucorrhea in Hindi

लिकोरिया को रोकने का सबसे अच्छा तरीका पूरी तरह से पर्सनल हाइजीन (व्यक्तिगत स्वत्छता) के साथ-साथ पीरियड्स में स्वच्छता भी बनाए रखना है। ल्यूकोरिया से बचाव के कुछ उपाय इस प्रकार हैं -

  • कपड़े की जगह सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • योनि वाश, स्प्रे, टैम्पोन जैसे महिला हाइजीन (स्वच्छता) उत्पादों के अधिक उपयोग से बचें।
  • इलाज पूरा होने तक सेक्स न करें। संभोग के दौरान कंडोम, डायाफ्राम और अन्य बाधा विधियों का उपयोग करें।
  • सुनिश्चित करें कि आपकी डिलीवरी एक अस्पताल या प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल केंद्र में योग्य मेडिकल और नर्सिंग स्टाफ और पर्याप्त सुविधाओं की मौजूदगी में हो। उचित परिवार नियोजन की विधि को भी अपनाया जाना चाहिए।

लिकोरिया (सफेद पानी आने) की जांच - Diagnosis of Leucorrhea in Hindi

लिकोरिया की जांच कैसे होती है?

गैर-रोग संबंधी ल्यूकोरिया का निदान चिकित्सा इतिहास के अनुसार किया जा सकता है। हालांकि, पूर्ण निदान किए जाने से पहले असामान्य योनि स्राव की जांच करने की आवश्यकता होती है।

मेडिकल इतिहास

महिला की पूरी मेडिकल हिस्ट्री (चिकित्सा इतिहास) ली जाता है। इसमें यौन इतिहास, यौन साथियों की संख्या और पिछले यौन व गैर-यौन संक्रमण का इतिहास भी शामिल होता है। गर्भनिरोधक उपकरणों और परिवार नियोजन उपायों का उपयोग भी नोट किया जाता है। घावों या फफोलों की जांच के लिए शारीरिक परीक्षा, प्रभावित क्षेत्र के चारों ओर लालिमा की जांच भी की जाती है। यदि महिला गर्भवती है, तो पूरी तरह से प्रसवपूर्व जांच की जाएगी।

लैब टेस्ट

यौन संचारित संक्रमणों का निदान कुछ खास लैब टेस्ट की मदद से किया जाता है। संक्रमण के लिए यूरिन सैंपल या योनि स्राव को कल्चर और सेंसिटिविटी टेस्ट के लिए भेजा जाता है। कुछ मामलों में सीडी 4 टेस्ट, सीडी 8 काउंट, एलिसा टेस्ट को अन्य कारणों को खारिज करने के लिए करवाने की सलाह दी जा सकती है।

लिकोरिया (सफेद पानी) का इलाज - Leucorrhea Treatment in Hindi

सफेद पानी (लिकोरिया) की दवा और टेबलेट

लिकोरिया का इलाज रोगाणुरोधी दवाओं के एक छोटे से कोर्स से किया जा सकता है। असामान्य योनि स्राव के का इलाज इन्फेक्शन के प्रकार पर निर्भर करेगा। कैंडिडा संक्रमण के लिए आमतौर पर एंटीफंगल दवाओं का एक कोर्स दिया जाता है। बैक्टीरियल वेजिनोसिस के लक्षण बिना किसी उपचार के कम हो जाते हैं। जेनिटल हर्पीस के लिए कोई इलाज उपलब्ध नहीं है। एंटीवायरल दवाएं इसके प्रकोप को कम कर सकती हैं। संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए भी एंटीवायरल दवाएं दी जा सकती हैं। वर्तमान में हर्पीस के लिए कोई वैक्सीन उपलब्ध नहीं है, हालांकि इस पर रिसर्च जारी है।

(और पढ़ें - योनि में इन्फेक्शन के उपाय)

सही जीवन शैली

दवाओं के साथ ल्यूकोरिया के इलाज का सबसे अच्छा तरीका है हमेशा स्वच्छता बनाये रखना -

  • सिंथेटिक पैंटी के बदले कॉटन या लिनन पैंटी पहनें। एक सौम्य साबुन का इस्तेमाल करें। जननांग क्षेत्र को ज्यादा न धोएं क्योंकि यह पीएच संतुलन बिगड़ सकता है और बैक्टीरिया पनपने का कारण बन सकता है।
  • योनि के संक्रमण को रोकने के लिए मलत्याग के बाद आगे से पीछे की दिशा में धोएं (इससे गुदा में कोई बैक्टीरिया हो तो वह योनि तक नहीं फैलते)।
  • हर बार बाथरूम जाने के बाद योनि क्षेत्र को साफ करें।

इसके आलावा जीवन शैली कुछ इस प्रकार रखें -

लिकोरिया में क्या खाना चाहिए, क्या नहीं और परहेज - What to eat and avoid in Leucorrhea in Hindi?

अपने आहार में मेथी, सूखे धनिया, पके केले जैसे हर्बल उपचार हल्के ल्यूकोरिया को नियंत्रित कर सकते हैं। "पीपल" के पेड़, फिकस रेसमोसा, और थेस्पिया से तैयार आयुर्वेदिक तैयारी भी निर्वहन को कम करने में मदद करने के लिए जानी जाती है।

लिकोरिया कितने समय में ठीक हो जाता है? - How long does Leucorrhea last in Hindi?

ल्यूकोरिया एक प्राकृतिक योनि स्राव है। हालांकि, मध्यम से गंभीर मामलों में लक्षणों से दवाओं की मदद से तुरंत राहत मिल सकती है। यह दवाएं बहुत असरदार होती हैं। यदि डिस्चार्ज असामान्य है तो ठीक होने का समय संक्रमण के कारण पर निर्भर करता है। उदाहरण के तौर पर बैक्टीरियल वेजिनोसिस से जल्दी आराम मिल जाता है जबकि पीआईडी की वजह से प्रैग्नेंसी होने में परेशानी हो सकती है।

लिकोरिया (सफेद पानी आने) के नुकसान - Leucorrhea Complications in Hindi

क्या ल्यूकोरिया होने से कोई नुकसान या अन्य बीमारियां हो सकती हैं?

लिकोरिया एक नार्मल शारीरिक प्रक्रिया है। हालांकि, अगर यह पेल्विक दर्द, बुखार, डिस्चार्ज में दुर्गंध, पेल्विक एरिया में खुजली और लालिमा, पीले या हरे रंग के डिस्चार्ज जैसे अन्य लक्षणों से जुड़ी हो तो यह एक अंतर्निहित बीमारी या यौन संचारित रोग का संकेत हो सकता है। यदि इन बीमारियों का इलाज न किया जाए तो वे अन्य बीमारियों के होने या बढ़ने का कारण बन सकती हैं, जैसे -

  • लगातार (क्रोनिक) पेट दर्द
  • आपके यौन साथियों को यौन संचारित रोग जैसे गोनोरिया, एचआईवी, हर्पीज होना
  • बार-बार इन्फेक्शन होना
  • पीआईडी (श्रोणि सूजन की बीमारी)


ल्यूकोरिया (योनि से सफेद पानी आना) के डॉक्टर

Dr. Deepika Manocha Dr. Deepika Manocha प्रसूति एवं स्त्री रोग
9 वर्षों का अनुभव
Dr. Prachi Tandon Dr. Prachi Tandon प्रसूति एवं स्त्री रोग
3 वर्षों का अनुभव
Dr. Sravanthi Sadhu Dr. Sravanthi Sadhu प्रसूति एवं स्त्री रोग
7 वर्षों का अनुभव
Dr. Satish Chandra  Saroj Dr. Satish Chandra Saroj प्रसूति एवं स्त्री रोग
2 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

ल्यूकोरिया (योनि से सफेद पानी आना) की दवा - Medicines for White Discharge (Leucorrhea) in Hindi

ल्यूकोरिया (योनि से सफेद पानी आना) के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

दवा का नाम

कीमत

₹69.5

20% छूट + 5% कैशबैक


₹91.3

20% छूट + 5% कैशबैक


₹197.1

20% छूट + 5% कैशबैक


₹143.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹225.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹197.1

20% छूट + 5% कैशबैक


₹225.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹80.0

20% छूट + 5% कैशबैक


₹71.1

20% छूट + 5% कैशबैक


Showing 1 to 10 of 846 entries

ल्यूकोरिया (योनि से सफेद पानी आना) की ओटीसी दवा - OTC Medicines for White Discharge (Leucorrhea) in Hindi

ल्यूकोरिया (योनि से सफेद पानी आना) के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

ल्यूकोरिया (योनि से सफेद पानी आना) पर आम सवालों के जवाब

सवाल एक साल के ऊपर पहले

ओवुलेशन के दौरान सफेद डिस्चार्ज क्यों होता है?

Dr. Haleema Yezdani MBBS , सामान्य चिकित्सा

हार्मोनल बदलाव की वजह से ओवुलेशन के दौरान सफेद डिस्चार्ज होता है। अगर डिस्चार्ज पतला हो रहा है तो यह नॉर्मल है और किसी संक्रमण का संकेत नहीं है। मासिक चक्र के दौरान किसी भी समय व्हाइट डिस्चार्ज बढ़ सकता है।

सवाल एक साल के ऊपर पहले

मुझे नॉर्मली व्हाइट डिस्चार्ज प्रॉब्लम नहीं होती है लेकिन पीरियड्स के बाद ऐसा होता है, क्यों?

Dr. Anjum Mujawar MBBS , मधुमेह चिकित्सक

मासिक धर्म की शुरुआत और आखिर में हल्का और पतला डिस्चार्ज होना आम बात है। आमतौर पर व्हाइट डिस्चार्ज में खजुली नहीं होती है। अगर आपको सामान्य तौर पर डिस्चार्ज नहीं होता है और सिर्फ पीरियड खत्म होने के बाद ही ऐसा होता है और इसके साथ खुजली भी होती है तो आपको यीस्ट संक्रमण हो सकता है। इसके लिए स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लें।

सवाल एक साल के ऊपर पहले

व्हाइट डिस्चार्ज होने के साथ पीठ में दर्द क्यों होता है?

Dr. Manoj Meena MBBS , सामान्य चिकित्सा

अगर आपको ईस्ट इंफेक्शन की वजह से पीठ के निचले हिस्से में दर्द और सफेद डिस्चार्ज हो रहा है तो डॉक्टर आपको एंटीफंगल ट्रीटमेंट की सलाह दे सकते हैं। अगर आपको बैक्टीरियल संक्रमण है जैसे कि बैक्टीरियल वेजिनोसिस तो डॉक्टर Flagyl नामक दवा प्रिस्क्राइब कर सकते हैं।

सवाल एक साल के ऊपर पहले

अगर प्रेगनेंसी में व्हाइट डिस्चार्ज हो तो क्या ये नार्मल है और क्या इससे बच्चे को कोई नुकसान हो सकता है?

Dr. Anand Singh MBBS , सामान्य चिकित्सा

प्रेगनेंसी के दौरान नॉर्मल व्हाइट डिस्चार्ज होने को ल्यूकोरिया कहा जाता है और यह पतला, सफेद,  दूधिया होता है जिसमें से हल्की गंध भी आती है। ल्यूकोरिया सामान्य बात है और आपको इसे लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं है। हालांकि, अगर आपको खुजली भी हो रही है या डिस्चार्ज बहुत ज्यादा होने लग गया है तो गायनेकोलॉजिस्ट से बात करें।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ