myUpchar प्लस+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मार्जरी आसन का नाम "मार्जार" शब्द पर रखा गया है। मार्जार का मतलब होता है बिल्ली। इस आसन में आप एक बिल्ली की तरह अपनी पीठ में खिचाव लाते हैं, और इस लिए इसे "मार्जरी आसन" नाम दिया गया है।

आगे इस लेख में जानिए कि मार्जरी आसन कैसे करें, लाभ और इस आसन को करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए। साथ ही इस लेख में हमने मार्जरी आसन का विडियो भी दिया गया है।

  1. मार्जरी आसन के फायदे - Marjariasana ke labh
  2. मार्जरी आसन करने से पहले यह आसन करें - Marjariasana karne se pehle yeh aasan kare
  3. मार्जरी आसन करने का तरीका - Marjariasana karne ka trarika
  4. मार्जरी आसन करने का आसान तरीका - Marjariasana karne ka aasaan trarika
  5. मार्जरी आसन करने में क्या सावधानी बरती जाए - Marjariasana karne me kya savdhani barti jaye
  6. मार्जरी आसन करने के बाद आसन - Marjariasana ke baad kare ye aasan
  7. मार्जरी आसन का वीडियो - Marjariasana ka video

हर आसन की तरह मार्जरी आसन के भी कई लाभ होते हैं। उनमें से कुछ हैं यह:

  1. मार्जरी आसन रीढ़ की हड्डी और पेट के अंगों को एक सौम्य मालिश प्रदान करता है।
  2. पीठ और गर्दन में खिचाव लाता है मार्जरी आसन।
  3. दमा के लिए चिकित्सिए है।
  4. मार्जरी आसन पीठ दर्द के लिए चिकित्सिए है।

(और पढ़ें - ध्यान लगाने की विधि)

मार्जरी आसन करने से पहले आप यह आसन कर सकते हैं:

  1. बालासन (Balasana or Child's Pose)
  2. गरुडासन (Garudasana or Eagle Pose)

मार्जरी आसन करने का तरीका हम यहाँ विस्तार से दे रहे हैं, इसे ध्यानपूर्वक पढ़ें।

  1. अपने घुटनों और हाथों के बल आ जायें जैसे कि आप "घोड़े" की मुद्रा में हों। हाथ एकदम सीधे होने चाहिए।
  2. अब श्वास छोड़ते हुए सिर को छाती की तरफ लायें और ऊपेरी कमर को बाहर की तरफ गोल करें। इस मुद्रा में आपकी ऊपरी पीठ में खिचाव आएगा।
  3. अब श्वास लेते हुए सिर को छत की तरफ ले जाएं, ऊपेरी कमर को अंदर की तरफ गोल करें। इस मुद्रा में आपकी छाती में खिचाव आएगा।
  4. जितनी बार आपको ठीक लगे, यह दोनो मुद्रा दौहरायें। शुरुआत में 2-3 मिनिट से ज़्यादा ना करें। अभ्यास होने पर ज़्यादा देर तक कर सकते हैं।

यदि आपको ऊपरी पीठ को गोल करने में कठिनाई हो रही है, तो इस क्षेत्र को सक्रिय करने में आपकी मदद करने के लिए एक मित्र को बस ऊपरी पीठ और कंधो के बीच में हाथ रख कर मदद करने के लिए कहें। इस से आपको ऊपेरी पीठ को गोल करने में आसानी होगी।

अगर आपकी गर्दन में चोट हो तो मार्जरी आसन ना करें।

मार्जरी आसन के बाद आप यह आसन कर सकते हैं।

  1. भुजंगासन (Bhujangasana or Cobra Pose)
  2. बितिलासन (Bitiliasana or Cow Pose)
  3. ऊर्ध्व मुख श्वानासन (Urdhva Mukha Svanasana or Upward-Facing Dog Pose)

और पढ़ें ...