myUpchar प्लस+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

बाल आपकी पर्सनालिटी में चार चांद लगाने में आपकी मदद करते हैं, इसलिए लोग रोजाना बालों को खुबसूरत बनाने के लिए क्या-क्या नहीं करते। कमजोर व पतले बाल, बालों का झड़ना, बालों का सफेद होना, डैंड्रफ बालों से जुडी समस्याएं आपका पीछा नहीं छोड़ती और इन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप लोगों से राय भी लेते होंगे। पर क्या आप जानते हैं कि लोगों द्वारा बताए गए मिथक कितने सही और कितने गलत होते हैं? अगर नहीं तो इस लेख को जरूर पढ़ें। इस लेख में बालों से जुड़े कुछ मिथक बताए गए हैं, जिन्हें जानने के बाद आप कभी भी अपने बालों के साथ गलत तरीके से पेश नहीं आएंगे।

(और पढ़ें - बालों की देखभाल कैसे करें)

तो चलिए आपको बताते हैं बालों से जुड़े मिथक:

1. मिथक: हर छः हफ्ते में बालों को काटने से बाल तेजी से बढ़ते हैं?

बाल आपकी सिर की त्वचा से उगते हैं। बालों का बढ़ना इस बात पर निर्भर नहीं करता कि आप कितनी बार बाल कटवाते हैं। यह मिथक आपने इसलिए ज्यादा सुना है क्योंकि नियमित रूप से बालों को ट्रिम करवाने से दोमुहें बाल नहीं होते हैं और बाल नीचे से खराब भी नहीं होते। इसलिए बालों को स्वस्थ रखने के लिए 8 से 12 हफ्ते के बीच उन्हें ट्रिम करवा सकते हैं।

(और पढ़ें - दो मुंहे बालों से छुटकारा पाने का तरीका)

2. मिथक: बालों को रोजाना धोने से बाल रूखे होते हैं?

आप अपने बाल बिना किसी परेशानी के रोज धो सकते हैं, बस उन्हें स्वस्थ रखने के लिए अच्छे कंडीशनर का इस्तेमाल करें। बाल रूखे तब होते हैं जब आप अपने बालों को स्टाइलिश बनाने के लिए किसी गर्म उपकरण का इस्तेमाल करते हैं, इनसे आपके बाल वाकई में खराब हो सकते हैं।

(और पढ़ें - रूखे बालों की देखभाल कैसे करें )

3. मिथक: तनाव के कारण बाल झड़ सकते हैं?

अत्यधिक तनाव की वजह से आपके बाल प्रभावित हो सकते हैं। इससे आपके बालों पर बुरा प्रभाव तो पड़ता है, लेकिन एकदम से असर शुरू नहीं हो जाता। तनाव की वजह से बालों को नुकसान पहुंचने में कुछ महीने लगते हैं।

(और पढ़ें - बालों को मोटा करने के उपाय)

4. मिथक: बालों को बांधने से क्या बाल झड़ सकते हैं?

ढीली चोटी बालों के लिए ठीक है, लेकिन लगातार कसकर बाल बांधने से बाल कमजोर और खराब हो सकते हैं, क्योंकि इससे आपके बालों की रोम में तनाव बढ़ता है और इस तरह बाल आसानी से टूटने लगते हैं। आप बालों को बांध सकते हैं लेकिन रबड़ बैंड को ज्यादा टाइट न रखें।

(और पढ़ें - बाल टूटने से कैसे रोकें)

5. मिथक: बालों को ठंडे पानी से धोने से क्या बाल चमकदार होते हैं?

ज्यादातर लोग या हेयर स्टाइलिस्ट बालों को ठंडे पानी से इसीलिए धोते हैं ताकि उनकी उपरी परत बंद हो जाए और बालों में चमक आ जाए। हालांकि बालों में कोई भी जीवित कोशिकाएं नहीं होती है, इसीलिए उन्हें गर्म या ठंडे पानी से धोने पर कोई फर्क नहीं पड़ता। अगर आप बालों को चमकदार बनाना चाहते हैं तो एक अच्छे कंडीशनर का इस्तेमाल करें।

(और पढ़ें - रूखे और बेजान बालों का घरेलू उपाय)

6. मिथक: डैंड्रफ सिर की रूखी त्वचा के कारण होता है?

डैंड्रफ आमतौर पर एक प्रकार के खमीर के कारण होता है जो एक तैलीय वातावरण में पनपता है। तो अगर आप चिंतित हैं कि रोज-रोज बाल धोने से सिर की त्वचा रूखी हो सकती है और इससे डैंड्रफ हो सकता है तो आप औषधीय शैम्पू का इस्तेमाल कर सकते हैं और उससे बालों को धो सकते हैं।

(और पढ़ें - झड़ते बालों के लिए शैम्पू​)

7. मिथक: जितना आप बालों में कंघी करेंगे उतने ही बाल स्वस्थ होंगे?

बालों को कंघी करने से प्राकृतिक तेल पूरे बालों में फैलता है, लेकिन अत्यधिक कंघी करने से आपके बालों को ही नुकसान पहुंचता है। बल्कि जितना आप ज्यादा कंघी करेंगे उतना ही ज्यादा बालों में घर्षण पैदा होगा, जिसके कारण बाल झड़ सकते हैं। जरूरत पड़ने पर ही बालों को कंघी करें और आराम-आराम से बालों को काढ़ें।

(और पढ़ें - बालों को झड़ने से रोकने के घरेलू उपाय​)

8. मिथक: एक सफेद बाल तोड़ने से और अधिक सफेद बालों की समस्या शुरू हो जाती है?

यह मिथक इसलिए सुनने को मिलता है क्योंकि लोग एक सफेद बाल तोड़ते हैं तो उसके बाद और अधिक सफेद बाल उन्हें दिखाई देने लग जाते हैं। हालांकि सच यह है कि इन दोनों बातों का आपस में कोई संबंध नहीं है।

(और पढ़ें - सफेद बालों को काला करने के उपाय​​)​)

9. मिथक: बालों को रंगने से बाल खराब हो जाते हैं?

यह आधा सच है कि बालों को रंगने से बाल खराब हो जाते हैं, क्योंकि यह पूरी तरह इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस प्रकार के केमिकल वाले उत्पाद और डाई का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा हर किसी के बाल और सिर की त्वचा अलग होती है तो परिणाम भी उसी आधार पर अलग-अलग हो सकते हैं।

(और पढ़ें - बाल बढ़ाने का तेल)

और पढ़ें ...