myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

क्या आप घर में ही ब्लड प्रेशर चेक करते हैं? अगर हां, तो यह बहुत अच्छी बात है। दरअसल घर में ब्लड प्रेशर चेक करने का मतलब है कि आप अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग हैं और अपने हृदय की पूरी देखभाल कर रहे हैं। लेकिन सवाल ये उठता है कि क्या आप घर में सही समय पर ब्लड प्रेशर चेक करते हैं? दरअसल ज्यादातर लोगों को यह नहीं पता होता कि किस समय ब्लड प्रेशर को चेक करना चाहिए? अगर आप भी इन्हीं लोगों में शामिल हैं, तो परेशान न हों। हम आपको बताते हैं।

कब करें जाँच
क्या अलग-अलग समय पर ब्लड प्रेशर चेक करने की वजह से इससे परिणाम अलग-अलग होते हैं? जी, हां। असल में ब्लड प्रेशर की रेंज पूरे दिन में कई बार बदलती है और इसमें उतार-चढ़ाव आते हैं। इसलिए ब्लड प्रेशर को पूरे दिन में 5 से 6 बार जांचना चाहिए। जब आप एक बार ब्लड प्रेशर का स्तर समझ जाते हैं, तो इसके बाद आप पूरे दिन में एक या दो बार ही ब्लड प्रेशर चेक कर सकते हैं।

(और पढ़ें - हाई बीपी की आयुर्वेदिक दवा)

दवाई लेने के पहले करें बीपी की जाँच
अगर आप हाई बीपी की दवा लेते हैं, तो दिन में किसी भी समय बीपी की जांच करने के बजाय दवा लेने के कुछ देर पहले ही बीपी की जांच करें। दरअसल यह वह समय होता है, जब दवा का प्रभाव निम्न स्तर पर पहुंच जाता है। इससे आपको यह भी पता चल जाएगा कि दवा कितनी असरकारक है।

(और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर में परहेज)

बीपी को प्रभावित करने वाले कारक
जब आप घर में बीपी चेक करें, तो यह ध्यान रखें कि कुछ वजहों से बीपी का स्तर बढ़ सकता है। ये कारक इस प्रकार हैं-

  • जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं कि पूरे दिन में बीपी में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। आपका ब्लड प्रेशर नींद से उठने के बाद आमतौर पर सबसे कम होता है और दिनभर में 30 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। ऐसा दरअसल खानपान, गतिविधियां और हार्मोन में हो रहे बदलाव की वजह से होता है।
  • बीपी की जाँच करते वक्त अपनी अवस्था का ध्यान रखें। वर्कआउट के अलावा भर पेट खाना खाने के बाद या खड़े होकर बीपी चेक करना सही नहीं है। अगर आप सही रिजल्ट पाना चाहते हैं, तो कोशिश करें कि रोजाना एक ही समय में बीपी चेक करें। इसके साथ ही अपनी दिनचर्या में थोड़ी स्थिरता रखने की कोशिश करें।
  • जब भी बीपी चेक करने के लिए सही समय चुनें, तो सुनिश्चित करें कि ऐसा समय न हो, जिस समय आप शारीरिक रूप से सक्रिय हों। कहने का मतलब है कि अगर आप कामकाज में उलझी हैं, तो इस दौरान बीपी चेक करने से बचें। इसके बजाय जब काम खत्म हो जाए या काम की शुरुआत करनी हो, उससे पहले बीपी चेक करें। इससे बीपी का रिजल्ट सटीक आता है।

(और पढ़ें - हाई बीपी की होम्योपैथिक दवा)

बीपी चेक करने से पहले रखें ध्यान
बीपी की जांच करने के पहले कुछ बातों पर गौर किया जाना जरूरी है। मसलन जब भी बीपी चेक करें, किसी शांत जगह पर बैठें। दरअसल बीपी की जांच के दौरान पल्स रेट जानने के लिए ध्यान से सुनना पड़ता है इसलिए शांत जगह होना जरूरी है। इसके बाद अगर आपने फुल बाजू की शर्ट पहनी है, तो उसे ऊपर की ओर उठाएं। अगर संभव हो तो बीपी की जांच करने के लिए बाएं हाथ का इस्तेमाल करें। अब एक चेयर में आराम मुद्रा में सीधे होकर 5 से 10 मिनट के लिए बैठें। पीठ सीधी रखें और पैरों को क्राॅस न करें। अपने हाथ को टेबल पर रखें और हथेली ऊपर की तरफ रखें। इस तरह बीपी चेक करने से परिणाम सही आते हैं।

(और पढ़ें - हाई बीपी के घरेलू उपाय)

कहने की बात यह है कि घर में बीपी चेक करना अच्छी बात है। इससे यह तो पता चलता है कि आप अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग हैं। लेकिन यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि बीपी चेक किस समय कर रहे हैं। इसके साथ ही बीपी चेक करने के पहले अपनी अवस्था पर भी गौर करें। ऐसा करने के बाद ही आपका रिजल्ट सौ फीसदी सही आएगा।

(और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर डाइट चार्ट)

और पढ़ें ...