myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हाइपरटेंशन को अस्‍वस्‍थ जीवनशैली की देन कहा जा सकता है। वर्तमान पीढ़ी में में हाइपरटेंशन की समस्‍या होना आम बात है। उनका मानना है कि जिंदगी में ज्‍यादा रिस्‍क लेने से ज्‍यादा सफलता मिलती है लेकिन क्‍या इस तरह की जीवनशैली से सच में स्‍वस्‍थ रहा जा सकता है।

उदाहरण के तौर पर, अधिकतर लोग तनाव दूर करने के लिए शराब का सेवन करते हैं लेकिन ये शरीर को ज्यादा लाभ देने से ज्यादा नुकसान पहुंचाती है। इसकी वजह से जीवनशैली से संबंधित बीमारियां जैसे कि हाइपरटेंशन हो सकता है।

शराब और हाइपरटेंशन के बीच एक जटिल संबंध है जिसके बारे में इस लेख के ज़रिए हम आपको बताने जा रहे हैं।

(और पढ़ें - शराब की लत का इलाज)

क्‍या सच में दिल के लिए अच्‍छी है शराब?

अक्सर लोग ऐसे नए अध्‍ययनों का हवाला देते हैं जो शराब पीने से चिकित्‍सीय लाभ मिलने का दावा करते हैं। हालांकि, ये पूरा सच नहीं है।

कई वर्षों से शराब और हाइपरटेंशन के बीच संबंध, अध्‍ययन का विषय रहा है। सबसे पहले फ्रांसीसी चिकित्सक जैसे कि लियान ने सन् 1900 में लिखा था कि कैसे रोज कई लीटर शराब पीकर नाविक उच्च रक्तचाप से ग्रस्‍त पाए गए थे।

इसके बाद आधुनिक अध्‍ययनों में मानव ह्रदय पर पॉलीफेनोल्‍स (रेड वाइन में मौजूद) के फायदों का विश्‍लेषण कर शराब के सकारात्‍मक प्रभावों पर ध्‍यान दिया गया। वास्‍तव में शराब के अत्‍यधिक सेवन के कारण मानसिक और स्‍वास्‍थ्‍य संबंधित परेशानियां जैसे कि हाइपरटेंशन हो सकता है। अगर आप स्‍वस्‍थ जीवनशैली के साथ थोड़ी मात्रा में शराब का सेवन करते हैं तो आपको शराब का नहीं बल्कि स्‍वस्‍थ जीवनशैली का लाभ मिलता है और इसका संबंध शराब के सेवन से बिलकुल नहीं है।

(और पढ़ें - शराब के साथ एनर्जी ड्रिंक मिलाना हो सकता खतरनाक)

सेहत के लिए फायदेमंद है रेड वाइन?

रेड वाइन के कुछ स्वास्थ्यवर्धक लाभ भी हैं जिनमें ह्रदय रोगों का खतरा कम होना, सूजन एवं कैंसर घटने के साथ-साथ आयु बढ़ना शामिल हैं। दुर्भाग्‍यपूर्ण, रेड वाइन को दिल की सेहत का खजाना कहना केवल एक मिथ्‍या है। इनमें से कई अध्‍ययनों में स्‍वास्‍थ्‍य लाभों का संबंध शराब की बजाय जीवनशैली संबंधित अन्य कारकों जैसे कि कम नमक वाला भोजन करने, संतुलित वजन रखने और व्‍यायाम करने से है।

रेड वाइन का सच

अंगूरों में प्राकृतिक रूप से रेस्वेराट्रोल और प्रोएंथोसाइनाइडिन्स जैसे एंटीऑक्‍सीडेंट्स से प्रचुर होते हैं। इन एंटीऑक्‍सीडेंट्स की वजह से ही रेड वाइन को सेहत के लिए लाभकारी माना जाता है। रेस्वेराट्रोल एक ऐसा एंटीऑक्‍सीडेंट है जिससे मिलने वाले फायदों से अपने आप ही हृदय रोग का खतरा कम हो सकता है।

हालांकि, कोई स्वास्थ्यवर्धक लाभ देने के लिए रेड वाइन में बहुत कम मात्रा में रेस्वेराट्रोल होता है। रेड वाइन से मिलने वाले फायदों को पाने के लिए ज्‍यादा मात्रा में इसका सेवन करना पड़ता है जो कि सही नहीं है।

अपनी जीवनशैली और आनुवांशिक जोखिम कारकों पर भी ध्‍यान दें, जैसे कि अगर आपके परिवार में किसी करीबी को शराब की लत या फिर ह्रदय या लिवर रोग रहा है तो आपको किसी भी कीमत पर शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।

इसका निष्‍कर्ष यह है कि अगर आपके परिवार में कोई आनुवांशिक बीमारी नहीं है तो दिन में महिलाएं एक गिलास और पुरुष दो गिलास रेड वाइन पी सकते हैं। लेकिन इसका ये मतलब बिलकुल नहीं है कि रेड वाइन से सेहत को फायदा पहुंचता है, तो आप रोज इसे पी सकते हैं। आपको बता दें कि नियमित रेड वाइन पीने से इसके एंटीऑक्‍सीडेंट से होने वाले फायदे कम हो जाते हैं।

(और पढ़ें - हाई बीपी का आयुर्वेदिक इलाज)

अत्‍यधिक शराब से ब्‍लड प्रेशर पर असर?

अत्‍यधिक शराब पीने से ब्‍लड प्रेशर बढ़ सकता है। जितना ज्‍यादा आप शराब पीएंगें, उतना ही ज्‍यादा आपका बीपी बढ़ेगा। एक दिन में तीन या इससे ज्‍यादा गिलास शराब का सेवन करने से हाइपरटेंशन का खतरा लगभग दोगुना हो जाता है।

उम्र, वजन (या बॉडी मास इंडेक्‍स), सोडियम और पोटेशियम की मात्रा का सेवन, धूम्रपान और शिक्षा जैसे अन्‍य कारकों पर विचार करने के बावजूद भी शराब और हाइपरटेंशन के बीच उपरोक्‍त संबंध बना रहता है। अगर आपकी जांच में हाइपरटेंशन या बी.पी का लेवल बढ़ा हुआ आया है तो डॉक्‍टर आपको कम मात्रा में शराब का सेवन करने की सलाह दे सकते हैं।

शराब पीते हैं तो रखें इन बातों का ध्‍यान

अगर आप भी शराब पीते हैं तो आपके लिए निम्‍न बातों का ध्‍यान रखना बहुत जरूरी है:

  • शराब का अधिक सेवन बिलकुल भी सही नहीं है। एक बार में तीन से ज्‍यादा गिलास शराब पीना ब्‍लड प्रेशर को खतरनाक रूप से बढ़ा सकता है।
  • अगर आप हाइपरटेंशन के मरीज हैं तो शराब पीने की आदत को कंट्रोल करना आपके लिए बहुत जरूरी है। इससे बीपी के स्तर का कुछ मि.मी कम करने में मदद मिल सकती है।
  • यदि कोई व्‍यक्‍ति हाइपरटेंशन की दवा ले रहा है तो उसे शराब पीने से बचना चाहिए क्‍योंकि इसकी वजह से आपको हानिकारक प्रभाव झेलने पड़ सकते हैं।
  • ऐसा पता चला है कि अगर आप शराब पीना बंद कर देते हैं तो कुछ ही दिनों के अंदर उसके हाइपरटेंसिव (ब्‍लड प्रेशर) प्रभाव में कमी आने लगती है। वहीं दूसरी ओर, पिछले 24 घंटों में शराब पीने के दौरान बी.पी सबसे ज्‍यादा बढ़ता है।
  • शराब पीने से वजन और ब्‍लड प्रेशर बढ़ने का खतरा भी बढ़ सकता है।
  • शराब और बीपी के बीच संबंध होने का निष्‍कर्ष यही निकलता है कि एक दिन में दो से ज्‍यादा गिलास शराब पीने से ब्‍लड प्रेशर बढ़ सकता है और आगे चलकर इसकी वजह से स्‍ट्रोक जैसी परेशानियां भी हो सकती हैं।

35 साल की उम्र तक के पुरुषों को एक दिन में दो से ज्‍यादा गिलास शराब नहीं पीनी चाहिए। 35 के बाद दिन में केवल एक गिलास अल्कोहल (एक गिलास बीयर में 355 एमआई, वाइन में 148 एमआई या 44 मि.मी होता है) लेना सही रहता है। जबकि किसी भी उम्र की महिला के लिए दिनभर में एक से ज्‍यादा गिलास एल्‍कोहल पीना खतरनाक रहता है।

डॉक्‍टर को इस बारे में जरूर बताएं कि आप एक दिन में कितनी मात्रा में शराब का सेवन करते हैं। हालांकि, इसमें कुछ बदलाव करके भी इसके दुष्‍प्रभाव को कम किया जा सकता है।

(और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर में परहेज)

और पढ़ें ...