myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 560 के पार चली गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार सुबह बताया कि अभी तक 562 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इनमें 519 भारतीय नागरिकों से जुड़े हैं। शेष मरीज विदेशी नागरिक हैं। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, मंगलवार को दिल्ली और मुंबई तथा बुधवार को तमिलनाडु में कोविड-19 से पीड़ित एक-एक व्यक्ति की मौत हो गई। इस तरह देश में कोविड-19 के मृतकों की संख्या 12 हो गई है। हालांकि स्वास्थ्य मंत्रालय इस बारे में अभी राज्यों के आंकड़े का इंतजार कर रहा है।

नए मरीजों के मामले में मंगलवार का दिन सोमवार की अपेक्षा थोड़ी राहत देने वाला रहा। बताया गया है कि सोमवार को जहां देशभर से 99 मामलों की पुष्टि हुई, वहीं, मंगलवार को यह संख्या 64 रही। इसके अलावा, मरीजों की रिकवरी को लेकर भी अच्छी खबर है। मीडिया में आई जानकारी के मुताबिक, कोरोना वायरस से ठीक हुए मरीजों की संख्या 40 से बढ़ कर 48 हो गई है। हालांकि सरकार की वेबसाइट पर यह संख्या अभी 40 है।

(और पढ़े - कोरोना वायरस के चलते आज से पूरा भारत बंद)

आज से 21 दिनों तक भारत बंद
इससे पहले कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार शाम आठ बजे नागरिकों को संबोधित किया। इसमें उन्होंने बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि कोविड-19 से निपटने के लिए उनकी सरकार ने पूरे भारत को अगले तीन हफ्तों यानी 21 दिनों तक के लिए लॉकडाउन करने का फैसला किया है। प्रधानमंत्री के मुताबिक, नया कोरोना वायरस सार्स-सीओवी-2 जिस साइकिल (तरीका) के तहत लोगों को बीमार कर रहा है, उसे तोड़ने के लिए यह लॉकडाउन जरूरी है ताकि लोगों को घरों में ही रखा जा सके। संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'यह (लॉकडाउन) एक तरह का कर्फ्यू ही है... कोरोना से बचने का इसके अलावा कोई और तरीका नहीं है, कोई और रास्ता नहीं है। इसे फैलने से रोकने के लिए इसके संक्रमण की साइकिल को तोड़ना ही होगा।'

उत्तर प्रदेश में 'कम्युनिटी ट्रांसमिशन' का मामला
भारत में कई लोगों का मानना है कि यहां कोरोना वायरस की तीसरी स्टेज शुरू हो चुकी है। इसका मतलब है कि वायरस से कम्युनिटी लेवल पर लोगों को संक्रमित करना शुरू कर दिया है। लेकिन सरकार ने अभी तक इसकी पुष्टि नहीं की है। हालांकि देश के अलग-अलग राज्यों से इस तरह की खबरें आती रही हैं। ताजा मामला उत्तर प्रदेश का है। यहां लखनऊ स्थित किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में एक 33 वर्षीय व्यक्ति में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। पीड़ित उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले का रहने वाला है।

अस्पताल के प्रवक्ता ने कहा कि मरीज ने हाल में किसी भी तरह की यात्रा नहीं की। उसने पुष्टि करते हुए कहा कि कोविड-19 का यह मामला 'कॉन्टेक्ट ट्रांसमिशन' से जुड़ा है। इससे पहले तमिलनाडु में भी एक ऐसा युवक कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था जिसने हाल में किसी भी देश की यात्रा नहीं की थी। खुद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने इसकी जानकारी दी थी।

(और पढ़ें - एपिडेमिक और पैंडेमिक का मतलब महामारी ही है तो इनमें अंतर क्या है?)

निजी अस्पताल भी शुरू करेंगे इलाज
कोविड-19 के मरीजों के उपचार के लिए अभी तक केवल सरकारी अस्पताल भूमिका निभा रहे थे। लेकिन अब निजी अस्पताल भी इस मुहिम में शामिल होने जा रहे हैं। अभी तक चिकित्सा संस्थानों को केवल संदिग्धों के ब्लड सैंपल इकट्ठा करने को कहा गया था। लेकिन संक्रमण से ग्रस्त लोगों की संख्या बढ़ते देख सरकार ने कहा कि अब निजी क्षेत्र के अस्पताल भी मरीजों को भर्ती करना शुरू करें। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, गुरुवार से देश के निजी अस्पताल कोविड-19 के मरीजों का इलाज शुरू करेंगे।

डॉक्टरों की आई मुसीबत
कोविड-19 से लड़ाई में देशभर के डॉक्टर कई दिनों से लगातार काम कर रहे हैं। मरीजों के इलाज के दौरान खुद उनके भी संक्रमित होने का डर बना हुआ है। इसके बावजूद वे लोगों की जान बचाने में लगे हुए हैं। लेकिन दूसरी तरफ उनके लिए नई मुसीबतें खड़ी हो रही हैं। खबर है कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान से जुड़े रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने शिकायत की है कि जो डॉक्टर किराए पर रह रहे हैं, उन्हें मकान मालिकों की तरफ से कमरा खाली करने को कहा जा रहा है। शिकायत में डॉक्टरों ने कहा है कि मकान मालिकों को डर है कि उन्हें डॉक्टरों के जरिये कोरोना वायरस हो सकता है।

(और पढ़ें - डब्ल्यूएचओ ने कहा, तेजी से बढ़ रहा कोरोना वायरस)

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, इस बारे में एसोसिएशन ने गृह मंत्रालय को एक पत्र लिखा है। बता दें कि दिल्ली, नोएडा, वारंगल, चेन्नई, कोलकाता समेत देश के कई हिस्सों से मकान मालिकों द्वारा डॉक्टरों से भेदभाव किए जाने की खबरें आई हैं। हालांकि डॉक्टरों की शिकायत के बाद बुधवार को सरकार ने क्षेत्रीय स्तर के अधिकारियों को उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने को अधिकृत किया है, जिन पर कथित रूप से डॉक्टरों से भेदभाव करने के आरोप लगे हैं।

भारत में कोविड-19 से जुड़ी अन्य अहम मीडिया अपडेट्स

  • महाराष्ट्र में मरीजों की संख्या 112 हुई
  • तेलंगाना में तीन नए मरीजों की पुष्टि
  • गुजरात में तीन नए केसों के साथ मरीजों की संख्या 38 हुई
  • सरकार जरूरी चीजों की उपलब्धता पर नजर बनाए हुए है: राम विलास पासवान, केंद्रीय खाद्य मंत्री
  • ईरान से और 277 लोगों को लाया गया: सेना
  • पश्चिम बंगाल सरकार ने कोलकाता स्थित सरकारी अस्पताल को आइसोलेशन वॉर्ड में तब्दील किया
  • पूर्वोत्तर में कोरोना वायरस की दस्तक, मणिपुर के बाद अब मिजोरम में कोविड-19 के पहले मरीज की पुष्टि
  • भारत सरकार ने मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा हाइड्रोक्साइक्लोरोक्वीन के निर्यात पर रोक लगाई
  • बिहार में एक और मरीज की पुष्टि, अब तक चार मामले सामने आए
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
2069 भारत
86आंध्र प्रदेश
10अंडमान निकोबार
5असम
24बिहार
16चंडीगढ़
9छत्तीसगढ़
219दिल्ली
5गोवा
87गुजरात
43हरियाणा
3हिमाचल प्रदेश
62जम्मू-कश्मीर
1झारखंड
110कर्नाटक
265केरल
13लद्दाख
99मध्य प्रदेश
335महाराष्ट्र
1मणिपुर
1मिजोरम
4ओडिशा
3पुडुचेरी
46पंजाब
108राजस्थान
234तमिलनाडु
107तेलंगाना
7उत्तराखंड
113उत्तर प्रदेश
53पश्चिम बंगाल

मैप देखें