myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

नाखून में चोट लगना क्या है?

आपकी उंगलियों के नाखून के किसी भी हिस्से में चोट लग सकती है। इसमें नाखून, नाखून के नीचे की त्वचा, नाखून की सतह (Cruticle) और नाखून के आसपास की त्वचा शामिल है। 

नाखून की चोट कई प्रकार की हो सकती है, जैसे नाखून कट जाना, छिल जाना, टूट जाना और उंगली से पूरी तरह से अलग हो जाना।

(और पढ़ें - नाखूनों में कवक का इलाज​)

नाखून में चोट लगने के लक्षण क्या हैं?

नाखून की चोट के अनुसार ही उसके लक्षण विकसित होते हैं, जैसे:

  • नाखून में नील पड़ना:
    इस स्थिति में नाखून के नीचे खून जमा हो जाता है। इसमें नाखून का रंग नीला या काला हो जाता है और पूरी उंगली में दर्द होता है। उंगली को हिलाने से दर्द और बढ़ जाता है।
    (और पढ़ें - नील क्यों पड़ते हैं)
     
  • नाखून फट जाना:
    इस स्थिति में नाखून फट कर उंगली से दूर हो जाता है। यह काफी दर्दनाक स्थिति हो सकती है और इसमें काफी खून बह सकता है। 
     
  • नाखून त्वचा से अलग होना:
    जब नाखून त्वचा से अलग होकर ऊपर उठ जाता है। इस स्थिति में भी काफी खून आ सकता है और दर्द भी हो सकता है। 
     
  • नाखून के नीचे की हड्डी में फ्रैक्चर होना:
    नाखून के नीचे की हड्डी टूटना भी नाखून की चोट से जुड़ा होता है। यह स्थिति आमतौर पर उंगली किसी भारी वस्तु के नीचे दब जाने के कारण होती है। इस स्थिति को डिस्टल टर्फ फ्रैक्चर कहा जाता है। 

(और पढ़ें - नाखूनों की देखभाल के लिए टिप्स)

नाखून में चोट लगने क्यों लगती है?

नाखून में चोट मुख्य रूप से तीन तरीकों से लगती है, जैसे:

  • पिस या कुचला जाना: जैसे उंगली पर हथोड़ा लगना, दरवाजे के बीच में आ जाना, किसी व्यक्ति या जानवर द्वारा काट लेना या किसी मशीन में उंगली आ जाने पर नाखून क्षतिग्रस्त हो जाना।
  • कट जाना: जैसे नाखून पर चाकू लगना या किसी अन्य मशीन के द्वारा उंगली या नाखून कट जाना
  • फट जाना: ठोकर लगना या कोई बाहरी वस्तु नाखून व उंगली के बीच में घुस जाना जैसे कील, पिन या लकड़ी का टुकड़ा आदि।

(और पढ़ें - नाखून बढ़ाने के पाँच अचूक घरेलू उपाय)

नाखून में चोट लगने का इलाज कैसे किया जाता है?

यदि आपके नाखून में गंभीर रूप से चोट लगी है, तो आपको जल्द से जल्द डॉक्टर के पास चले जाना चाहिए। डॉक्टर सबसे पहले चोट को साफ करते हैं और बहते खून को रोकते हैं। इलाज के दौरान आमतौर पर प्रभावित उंगली या अंगूठे को सुन्न कर दिया जाता है, जिससे मरीज को दर्द महसूस नहीं होता। 

यदि चोट गंभीर नहीं है, तो दर्द को घर पर भी कम कर सकते हैं जैसे पहले दिन हर दो घंटे में एक बार चोट की बर्फ के साथ लगातार 20 मिनट तक सिकाई करें। पूरे दिन में से 4 बार इसकी सिकाई करें। 

दर्द व पीड़ा को कम करने के लिए प्रभावित नाखून को हृदय के स्तर से ऊंचाई पर रखने की कोशिश करें।

(और पढ़ें - चोट की सूजन का इलाज)

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Nail Trauma
  2. Bharathi RR, Bajantri B. Nail bed injuries and deformities of nail. Indian J Plast Surg. 2011 May-Aug;44(2):197-202. PMID: 22022029
  3. Tos P, Titolo P, Chirila NL, Catalano F, Artiaco S. Surgical treatment of acute fingernail injuries. J Orthop Traumatol. 2012 Jun;13(2):57-62. PMID: 21984203
  4. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Nails - fingernail and toenail problems
  5. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Wounds and Injuries
और पढ़ें ...