myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हार्ट अटैक के ये छह संकेत महिलाएं न करें नज़रअंदाज़

अक्‍सर छाती में भारीपन और बिना ज्‍यादा काम किए थकान महसूस होना हार्ट अटैक के संकेत होते हैं जिन्हें कभी भी अनदेखा नहीं करना चाहिए।

हार्ट अटैक के संकेत महिलाओं और पुरुषों में भिन्न होते हैं। ऐसा जरूरी नहीं है कि महिलाओं को भी हार्ट अटैक आने पर बाएं हाथ की ओर दर्द होने जैसे संकेत महसूस हों।

(और पढ़ें - दिल का दौरा पड़ने पर क्या करें)

इस उम्र की महिलाओं में होता है सबसे अधिक खतरा 

65 वर्ष या इससे अधिक उम्र की महिलाओं में हार्ट अटैक का खतरा अधिक होता है। जीवनशैली सम्बन्धी विकारों के कारण युवा महिलाओं में भी हार्ट अटैक के लक्षण दिख सकते हैं। ये बात साबित हो चुकी है कि जीवनशैली से जुड़ी आदतों में सुधार लाकर हृदय रोग से जुड़े खतरों को कम किया जा सकता है।

महिलाओं को हार्ट अटैक से पहले मिलते हैं ये 6 संकेत 

अगर किसी महिला को हार्ट अटैक से जुड़े संकेत मिल रहे हैं तो उन्‍हें इसे नज़रअंदाज़ करने की बजाय तुरंत डॉक्‍टर से इस बारे में बात करनी चाहिए। डॉक्टर को इन लक्षणों के बारे में बता कर आप अपने स्‍वास्‍थ्‍य स्थिति को जान सकतीं हैं।   

छाती में दर्द 

छाती में दर्द हार्ट अटैक का सामान्य लक्षण है। हालांकि, ये दर्द ऐसे समय पर उठता जिससे आपको हार्ट अटैक का संदेह नहीं हो सकता है। शुरुआत में यह दर्द सिर्फ बाईं तरफ न होकर छाती में कहीं भी हो सकता है। दूसरी बात, छाती में भारीपन या दबाव जैसा महसूस होगा।

(और पढ़ें - छाती में दर्द होने पर क्या करें)

हाथ, कमर, गले और जबड़े में दर्द  

यह दर्द थोड़े-थोड़े समय में उठता रहता है। ये दर्द लगातार हो सकता है या थोड़ी देर होकर बंद भी हो सकता है। यह दर्द कहीं भी हो सकता है जिसमें हाथ, कमर, गर्दन और यहां तक कि जबड़ा शामिल है। कभी-कभी दर्द इतना ज्‍यादा नहीं होता है कि उसे समझा या पहचाना जा सके लेकिन कोई मेहनत वाला काम करने के दौरान असहज महसूस हाोना शुरू हो जाता है या स्थिति बहुत खराब हो जाती है। इस दर्द की वजह से आपकी नींद भी टूट सकती है। जबड़े में दाईं और बाईं दोनों तरफ ही दर्द हो सकता है।

पेट दर्द 

इसमें पेट दर्द होने पर उसे सीने में जलन या पेट में अल्‍सर या फ्लू समझ लिया जाता है। इसकी वजह से आपको पेट में भारीपन भी महसूस हो सकता है। आपको पेट पर कोई भारी वजन रखने जैसा अहसास होगा।

सांस लेने में तकलीफ, जी मिचलाना और चक्कर आना

कई बार आपको ऐसी स्थिति में भी सांस लेने में दिक्कत हो सकती है जिसके बारे में आपने सोचा ना हो, जैसे कि नींद के दौरान। हालांकि, समय के साथ सांस लेने में तकलीफ और ज्‍यादा बढ़ जाती है। आपको बिना किसी कारण के तनाव भी महसूस हो सकता है।

(और पढ़ें - चक्कर आने पर क्या करें)

पसीना आना 

ठंडे कमरे में बैठने पर भी पसीना आ सकता है। बेवजह घबराहट होना, ज्यादा पसीना आना और शरीर का ठंडा पड़ जाना महिलाओं में हार्ट अटैक के संकेत होते हैं। आपको लगेगा कि ये पसीना तनाव की वजह से आ रहा है। आपको बता दें कि हार्ट अटैक की वजह से आने वाला पसीना गर्मी लगने या दौड़ लगाने से आए पसीने से अलग होता है।

थकान 

दिनभर में महिलाएं कई काम करती हैं और इस वजह से भी उन्‍हें बहुत ज्‍यादा थकावट महसूस हो सकती है। एक समय पर एक से ज्‍यादा काम संभालने की वजह से महिलाओं को सामान्‍य से ज्‍यादा थकान हो सकती है। लेकिन अगरी आपको बहुत ज्‍यादा काम या मेहनत करने पर भी थकान महसूस हो रही है तो ये चिंता का विषय है। 

लक्षणों का पता चलने पर क्या करें

उपरोक्‍त में से कोई भी लक्षण महसूस तो तुरंत इसका इलाज करवाएं और अस्‍पताल जाने में देरी ना करें। खुद अकेले अस्पताल ना जाएं। हो सकता है कि शुरूआत में आपको ज्‍यादा गंभीर लक्षण महसूस ना हों लेकिन रास्‍ते में दर्द बढ़ जाए। गाड़ी चलाते समय दर्द बढ़ना और भी ज्‍यादा खतरनाक साबित हो सकता है। किसी भी तरह की देरी से बचने के लिए आपको एंबुलेंस की मदद लेनी चाहिए। 

हार्ट अटैक के लक्षणों को पहचान कर आप अपनी जान बचा सकतीं हैं। इन लक्षणों को अनदेखा बिलकुल ना करें, ऐसा करना जीवन के लिए घातक हो सकता है।

(और पढ़ें - कार्डियक अरेस्ट और हार्ट अटैक में क्या अंतर है)

और पढ़ें ...