myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम एक आनुवंशिक स्थिति है। इसमें नवजात शिशु में एक्स गुणसूत्र (क्रोमोसोन) की अतिरिक्त कॉपी होती है।

बता दें कि मनुष्य में गुणसूत्र के 23 जोड़े होते हैं। चूंकि एक जोड़े में दो गुणसूत्र होते हैं ऐसे में कुल गुणसूत्रों की संख्या 46 है। इन 23 जोड़ों में से एक जोड़े (एक्स क्रोमोसोन और वाई क्रोमासोन) को सेक्स क्रोमोसोन कहा जाता है, जिसके जरिये लिंग का निर्धारण किया जाता है।

यह सिंड्रोम सिर्फ पुरुषों को प्रभावित करता है और इसका निदान वयस्क होने पर होता है। क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम वृषण के विकास पर गलत असर डाल सकता है। इसकी वजह से अंडकोष सामान्य आकार की तुलना में छोटा होता है, जिससे टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन कम होता है। इस सिंड्रोम के कारण मांसपेशियों में कमी, शरीर और चेहरे पर बालों का कम निकलना और स्तन ऊतकों का बढ़ना जैसी समस्या हो सकती है। क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम के प्रभाव अलग-अलग होते हैं और जरूरी नहीं है कि हर व्यक्तियों में एक जैसे संकेत और लक्षण दिखाई दें।

क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम से ग्रस्त ज्यादातर पुरुष या तो शुक्राणु की कमी से जूझते हैं या उनमें शुक्राणु पैदा नहीं होते हैं, लेकिन मौजूदा समय में कुछ ऐसी सहायक प्रजनन प्रक्रियाएं हैं, जिनकी मदद से इस सिंड्रोम से ग्रस्त लोग पिता बनने का सुख प्राप्त कर सकते हैं।

(और पढ़ें - शुक्राणु की कमी का आयुर्वेदिक इलाज)

  1. क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम के लक्षण - Klinefelter Syndrome Symptoms in Hindi
  2. क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम के कारण - Klinefelter Syndrome Causes in Hindi
  3. क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम का उपचार - Klinefelter Syndrome Treatment in Hindi
  4. क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम के डॉक्टर

क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम के लक्षण - Klinefelter Syndrome Symptoms in Hindi

कुछ बच्चों में भी क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम के लक्षण देखने को मिले हैं, लेकिन ज्यादातर लोगों में इसकी पहचान तब तक नहीं होती है जब तक वे वयस्क नहीं हो जाते। कुछ ऐसे भी मामले हैं जिनमें, लोगों को यह एहसास नहीं होता है कि वे क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम से ग्रस्त हैं।

क्लाइनफेल्टर के लक्षण उम्र के साथ बदलते हैं, इसमें शामिल हैं -

शिशुओं में

बच्चे

  • दोस्त बनाने और अपनी भावनाओं के ​बारे में बताने में समय लगाना
  • एनर्जी कम रहना
  • लिखने, पढ़ने और गणित समझने में समस्या
  • शर्माना और आत्मविश्वास की कमी

किशोर

  • सामान्य से बड़े स्तन होना
  • चेहरे और शरीर पर कम बाल आना और बहुत देर से बाल आना
  • मांसपेशियों की कमी और मांसपेशियों के विकास में देरी
  • लंबे हाथ और पैर, बड़े कूल्हे और उनकी उम्र के अन्य लड़कों की तुलना में धड़ छोटा होना
  • छोटा लिंग और छोटा अंडकोष
  • परिवार की तुलना में अधिक लंबाई

वयस्क

  • पर्याप्त शुक्राणु न बनने के कारण बच्चे न पैदा कर पाना
  • सेक्स ड्राइव में कमी
  • टेस्टोस्टेरोन स्तर में कमी
  • लिंंग में तनाव बनाने में दिक्क्त

(और पढ़ें - टेस्टोस्टेरोन की कमी के कारण)

क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम के कारण - Klinefelter Syndrome Causes in Hindi

ज्यादातर लोगों में 46 क्रोमोसोम होते हैं। इसमें व्यक्ति के सभी जीन और डीएनए शामिल होते हैं। इनमें से दो सेक्स क्रोमोसोम (एक्स और वाई) यह निर्धारित करते हैं कि आप लड़का या लड़की में से क्या बनेंगे। लड़कियों में आमतौर पर दो एक्स क्रोमोसोम होते हैं, जबकि लड़कों में एक एक्स और एक वाई क्रोमोसोम होता है।

जब कोई लड़का एक्स क्रोमोसोम की अतिरिक्त कॉपी के साथ पैदा होता है तो इसे क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम या एक्स एक्स वाई सिंड्रोम कहा जाता है। क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम 500 से 1,000 शिशु लड़कों में से किसी को होता है।

(और पढ़ें - शुक्राणु बढ़ाने वाले आहार)

क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम का उपचार - Klinefelter Syndrome Treatment in Hindi

जितनी जल्दी इस बीमारी का उपचार कर दिया जाए, उतना ही बेहतर माना जाता है। सामान्य उपचार के तौर पर टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट थेरेपी की जाती है। इससे चेहरे के बाल वापस आना और पुरुष जैसी आवाज प्राप्त करने में मदद मिलती है। यह लिंग के आकार, मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत करने में भी मदद कर सकता है, लेकिन यह अंडकोष के आकार या प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं कर सकता है।

अन्य उपचारों में शामिल हैं -

  • मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियों के लिए काउंसलिंग
  • फर्टिलिटी ट्रीटमेंट (कुछ मामलों में, पिता बनने के लिए अपने शुक्राणु का उपयोग भी किया जा सकता है)
  • मांसपेशियों के विकास व उनमें तालमेल बनाने के लिए ऑक्यूपेशनल थेरेपी और फिजिकल थेरेपी
  • स्तन के आकार को कम करने के लिए प्लास्टिक सर्जरी
  • बच्चों के लिए स्पीच थेरेपी
  • सामाजिक कौशल और सीखने में देरी जैसी समस्या को ठीक करने के लिए स्कूल मदद कर सकता है।
  • प्रभावित व्यक्ति मांसपेशियों के विकास के लिए खेल और अन्य शारीरिक गतिविधियों में भाग ले सकते हैं।

उपरोक्त कोई भी इलाज डॉक्टर के परामर्श के बिना करना खतरनाक हो सकता है, ऐसे में स्थिति के बारे में अपने डॉक्टर को बताएं।

Dr. Yatin Aggarwal

Dr. Yatin Aggarwal

सामान्य चिकित्सा

Dr. Juhi Gupta

Dr. Juhi Gupta

सामान्य चिकित्सा

Dr. Nilufar Mondal

Dr. Nilufar Mondal

सामान्य चिकित्सा

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें