आजकल की महिलाएं अपने जीवन में दोहरी जिम्मेदारियां निभा रही हैं. उनका पूरा समय घर, करियर और ऑफिस के कामों में ही निकल जाता है. ऐसे में वे खुद के लिए समय नहीं निकाल पाती हैं. वहीं, मां बनते ही उनकी जिम्मेदारियां और बढ़ जाती हैं. मां बनने के बाद तो महिलाएं अपना सारा ध्यान और समय अपने बच्चे को देने लगती हैं. मां और बच्चे के बीच के रिश्ते को सबसे खास माना जाता है, लेकिन मां बनने के बाद महिलाओं को तनाव का सामना भी करना पड़ता है. मां अपने बच्चे के पालन-पोषण को लेकर, उसकी पढ़ाई और करियर को लेकर चिंतित होने लगती है. इसके अलावा भी कई ऐसे कारण हैं, जो एक मां को तनाव महसूस करवा सकते हैं.

आज इस लेख में आप मांओं को होने वाले तनाव के कारणों के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

  1. मांओं को होने वाले तनाव के कारण
  2. सारांश
मांओं को तनाव होने के कारण के डॉक्टर

एक मां बनने के बाद महिलाएं अक्सर तनावग्रस्त महसूस कर सकती हैं, क्योंकि मां बनने के बाद उनकी जिम्मेदारियां बढ़ जाती है, ऐसे में वे खुद को समय नहीं दे पाती हैं और तनाव महसूस कर सकती हैं. मांओं को तनाव होने के कारण इस प्रकार हैं -

समय न निकाल पाना

बच्चों की देखभाल और पालन-पोषण के साथ घर के अन्य लोगों की मांगों को पूरा करना या फिर ऑफिस के काम में लगे रहने की वजह से अक्सर महिलाओं के पास खुद के लिए समय ही नहीं बच पाता है. खुद के लिए समय न निकाल पाने की वजह से वे तनाव महसूस कर सकती हैं. कई बार मांओं को अपने बच्चे के साथ खेलने, अपने अन्य कामों को करने के लिए भी समय नहीं मिल पाता है. जब वे लंबे समय तक बिजी शेड्यूल के साथ जीती हैं, तो चिड़चिड़ी हो सकती हैं और तनाव में आ सकती है.

(और पढ़ें - तनाव के लिए आयुर्वेदिक दवाएं)

खराब आर्थिक स्थिति

खराब आर्थिक स्थिति महिलाओं को होने वाले तनाव का मुख्य कारण हो सकता है. दरअसल, मां बनने के बाद खर्चें बढ़ जाते हैं, क्योंकि मां बनने के बाद बच्चों की देखभाल करनी होती है, उनके लिए नए कपड़े, खिलौने आदि लाने होते हैं. इसके अलावा, जब बच्चा बड़ा होता है, तो उसकी मांगों को पूरा करने के लिए भी बजट गड़बड़ा जाता है. ऐसे में उन्हें कम बजट में ही पूरे घर को चलाना होता है, इस स्थिति में तनावग्रस्त होना आम हो जाता है. 

(और पढ़ें - तनाव का चेहरे पर क्या असर होता है)

पार्टनर को समय न दे पाना

मां अपने बच्चों के साथ अधिक समय बिताने लगती है, जिसकी वजह से वे अपने पार्टनर या घर के अन्य सदस्यों को अधिक समय नहीं दे पाती है. खासकर जब बच्चे छोटे होते हैं, तो वे अपने पुरुष पार्टनर के लिए समय नहीं निकाल पाती है. ऐसे में जब पुरुष पार्टनर को महिला पार्टनर से पूरी अटेंशन नहीं मिलती है या फिर महिलाएं सेक्स के प्रति कम दिलचस्पी दिखाती हैं, तो यह स्थिति दोनों के बीच मन-मुटाव पैदा कर सकती है. ऐसे में पति-पत्नी के बीच लड़ाई-झगड़े हो सकते हैं, जो तनाव पैदा कर सकते हैं.

(और पढ़ें - एक्यूट स्ट्रेस डिसऑर्डर का इलाज)

बच्चों के बढ़ने पर होने वाली समस्याएं

जब बच्चे छोटे होते हैं, तो अधिक तनाव होना स्वाभाविक होता है. वहीं, जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते हैं, मांताओं की जिम्मेदारियां बढ़ जाती है. बच्चों के बड़े होने पर हर मां को उसे अच्छे संस्कार देने होते हैं, उसे सामाजिक व्यवहार के बारे में बताना होता है. इसके अलावा, उसे दुनियादारी को समझना भी सिखाती है. जब बच्चे कॉलेज में पढ़ने या ऑफिस में काम करने के लिए घर से बाहर निकलते हैं, तो चिंता और बढ़ जाती है. उन्हें बच्चों के खाने-पीने, सेहत और अन्य समस्याओं की चिंता होने लगती है.

(और पढ़ें - काम के तनाव से कैसे बचें)

बच्चों का खराब व्यवहार

हर मां अपने बच्चे को अच्छा व्यवहार करना सिखाती है, उन्हें अच्छे संस्कार देती है, लेकिन कई बार बच्चा मां के नक्शे कदम पर नहीं चलता है और गलत राह पकड़ लेता है. ऐसे में जब बच्चा कोई गलत काम करता है या खराब व्यवहार करता है, तो मां का तनाव में आना स्वाभाविक हो जाता है. इसके अलावा, बड़े होने पर बच्चे कई समस्याओं में फंस जाते हैं, जिन्हें सुलझाने के लिए मां को आगे आना होता है, बच्चों को हर संकटों से निपटाना होता है. ऐसे में न सिर्फ एक छोटा बच्चा, बल्कि बड़ा बच्चा भी मां के तनाव का कारण हो सकता है. 

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के लिए क्या खाएं)

खुद पर ध्यान न देना

हर महिला खूबसूरत नजर आना चाहती है, लेकिन बच्चों के बाद वे अपनी स्किन या शरीर पर ध्यान ही नहीं दे पाती हैं. कई बार महिलाओं को पार्लर जाने तक का समय नहीं मिल पाता है. ऐसे में जब वे अपने छोटे-छोटे कामों के लिए भी समय नहीं निकाल पाती हैं, तो तनाव महसूस करने लगती है, क्योंकि आखिर वे भी खूबसूरत दिखना चाहती है, ऐसे में जब समय की वजह से वे स्पा, थ्रेडिंग या फेशियल ट्रीटमेंट लेने तक का समय नहीं निकाल पाती हैं, तो तनाव या चिंतित होना सामान्य है.

(और पढ़ें - क्रोनिक स्ट्रेस का इलाज)

वैसे लड़कियां शादीशुदा हो या अविवाहित, दोनों ही अपने जीवन में दोहरी जिम्मेदारियों को निभा रही हैं. शादी के बाद स्वाभाविक रूप से महिलाओं की जिम्मेदारियां काफी बढ़ जाती है, खासकर बच्चे को जन्म देने के बाद. अगर आप भी अक्सर ही तनाव में रहती हैं, तो आपको इससे बचने की कोशिश करनी चाहिए. तनाव न सिर्फ आपको मानसिक, बल्कि शारीरिक रूप से भी परेशान कर सकता है और बीमारियों को न्यौता दे सकता है. आप महीने या दो महीने में छोटे-छोटे ट्रिप से अपने तनाव को कम करने की कोशिश कर सकती हैं. 

(और पढ़ें - तनाव के लिए योग)

Dr. Sameer Arora

Dr. Sameer Arora

न्यूरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Khursheed Kazmi

Dr. Khursheed Kazmi

न्यूरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Muthukani S

Dr. Muthukani S

न्यूरोलॉजी
4 वर्षों का अनुभव

Dr. Abhishek Juneja

Dr. Abhishek Juneja

न्यूरोलॉजी
12 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ