myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

टोक्सोप्लाज़मोसिज़ क्या है?

टोक्सोप्लाज़मोसिज़ रोग एक प्रोटोजोआ टोक्सोप्लाज्मा गोंडी नामक अंतः कोशिकीय परजीवी के संक्रमण से होता है। यह संक्रमण मनुष्यों, भूमि और समुद्र में रहने वाले स्तनधारियों तथा पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों में कई प्रकार के क्लीनिकल ​​सिंड्रोम उत्पन्न करता है। टी गोंडी अंटार्कटिका को छोड़कर दुनिया भर के सभी स्थानों पर पाया गया है।

(और पढ़ें - परजीवी संक्रमण का इलाज)

टोक्सोप्लाज़मोसिज़ के लक्षण क्या हैं?

पशुओं और इंसानों में टोक्सोप्लाज़मोसिज़ रोग का संक्रमण होने पर अधिकांश मामलों में यह किसी भी लक्षण का कारण नहीं बनता है। संक्रमण का एकमात्र सबूत हमारे खून में टोक्सोप्लाज़मोसिज़ परजीवी के खिलाफ बनने वाले एंटीबॉडी का पता लगाना है।

टोक्सोप्लाज़मोसिज़ रोग क्यों होता है?

संक्रमित पशुओं के मल के संपर्क में आने से मनुष्यों को टोक्सोप्लाज़मोसिज़ परजीवी से संक्रमण हो जाता है। बिल्लियां इस रोग को फैलाने वाली मुख्य वाहक हैं। वे संक्रमित चूहों या पक्षियों को खाने से टी गोंडी परजीवी संक्रमण प्राप्त करती हैं और फिर संक्रमण को उनके साथ रहने वाले मनुष्य में फैला सकती हैं।

यदि व्यक्ति कच्चा या कम पका हुआ भेड़ का मांस, सूअर का मांस या कंगारू का मांस छूता या खाता है तो संक्रमण फैल सकता है। यह परजीवी इन पशुओं के मांस में पाया जाता है। संक्रमित कच्चा दूध पीना भी टोक्सोप्लाज़मोसिज़ परजीवी से होने वाले संक्रमण का कारण बन सकता है।

(और पढ़ें - बर्ड फ्लू का इलाज)

टोक्सोप्लाज़मोसिज़ रोग का इलाज कैसे होता है?

टोक्सोप्लाज़मोसिज़ रोग से आमतौर पर कोई नुकसान नहीं होता है, लेकिन दुर्लभ मामलों में इससे गंभीर समस्याएं पैदा हो सकती हैं। यदि आप गर्भावस्था में इससे संक्रमित हो जाती हैं, तो आप के जोखिम अधिक बढ़ जाते हैं, टोक्सोप्लाज़मोसिज़ मिसकैरेज का कारण बन सकता है। यह आपके बच्चे में भी फैल सकता है और उसे गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए)

यदि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो गई है, उदाहरण के लिए, यदि आपको एचआईवी है या आपका कीमोथेरेपी इलाज हो रहा है, तो भी आपको इस रोग से नुकसान हो सकते हैं। यह संक्रमण आपकी आंखों या मस्तिष्क को प्रभावित कर सकता है।

जब तक कि किसी की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर न हो या वह गर्भवती न हो, अक्सर टोक्सोप्लाज़मोसिज़ संक्रमण के इलाज की कोई आवश्यकता नहीं होती है। इस रोग के लक्षण आमतौर पर कुछ हफ्तों या महीनों में अपने आप दूर जाते हैं। हालांकि, बच्चों को यह संक्रमण होने पर हमेशा डॉक्टर द्वारा जांच करवानी चाहिए।

(और पढ़ें - एड्स की जांच कैसे होती है)

  1. टोक्सोप्लाज़मोसिज़ की दवा - Medicines for Toxoplasmosis in Hindi

टोक्सोप्लाज़मोसिज़ की दवा - Medicines for Toxoplasmosis in Hindi

टोक्सोप्लाज़मोसिज़ के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine Name
Septran खरीदें
Malocide खरीदें
Sulphadiazine खरीदें
Bactrim खरीदें
Laridox खरीदें
Co Trimoxazole SS खरीदें
Cotrimoxazole खरीदें
Cotrimoxazole DS खरीदें
Laridox forte खरीदें
Sepmax खरीदें
Rovamycin Forte खरीदें
Spiratox खरीदें
Macromycin खरीदें
Spiramycin Miu खरीदें
Spye खरीदें
Toxocare खरीदें
Daramin खरीदें
Oriprim DS खरीदें
Spiramycin खरीदें

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Parasites - Toxoplasmosis (Toxoplasma infection).
  2. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Epidemiology & Risk Factors.
  3. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Toxoplasmosis.
  4. National Health Service [Internet]. UK; Toxoplasmosis: diagnosis, epidemiology and prevention.
  5. Dubey JP. Toxoplasma Gondii. In: Baron S, editor. Medical Microbiology. 4th edition. Galveston (TX): University of Texas Medical Branch at Galveston; 1996. Chapter 84. Toxoplasma Gondii.
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें