myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मस्सा त्वचा की सबसे आम समस्या है जो शरीर पर कहीं भी दिखाई दे सकते हैं लेकिन ये आमतौर पर हाथों और पैरों पर पाए जाते हैं। मस्सा समूह में या अकेले और किसी न किसी रूखी त्वचा पर निकल सकते हैं। कभी कभी एक काला धब्बा इसके मध्य में दिखाई देता है।

मानव पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) मस्से का कारण बनता है। वायरस किसी अन्य व्यक्ति से भी आ सकता है जो कट या खरोंच के माध्यम से किसी के भी शरीर के दूसरे हिस्सों में फैल सकता है। मस्से कई प्रकार के होते हैं। मस्सों के प्रकार जैसे सामान्य मस्सा, फ्लैट मस्सा और प्लांटर मस्सा हैं। ज्यादातर मामलों में मस्से 6 महीने से 2 साल के भीतर गायब हो जाते हैं। लेकिन ये शर्मिंदगी का कारण बन सकते हैं। आप कुछ सरल घरेलू उपायों का उपयोग करके उनसे जल्दी से छुटकारा पा सकते हैं।

तो आज हम आपको मस्से के कुछ घरेलू उपाय बताने वाले हैं जिनके इस्तेमाल से आप अपने मस्से को हटा सकते हैं –

  1. मस्से का घरेलू उपाय है लहसुन - Masse hatane ke upay kare garlic se in Hindi
  2. मस्से से छुटकारा दिलाता है सेब का सिरका - Masso se chutkara paye apple vinegar se in Hindi
  3. मस्से का घरेलू नुस्खा है विटमिन सी का पेस्ट - Masse hatane ka gharelu nuskha hai vitamin c in Hindi
  4. मस्से दूर करने का उपाय है गर्म पानी - Masse dur karne ka upay hai hot water in Hindi
  5. मस्सा हटाने का तरीका है बेकिंग सोडा - Massa hatane ka gharelu nuskhe hai baking soda in Hindi
  6. मस्सा हटाने का नुस्खा है एलो वेरा - Masse khatam karne ka tarika hai aloe vera in Hindi
  7. मस्से को हटाने के घरेलू उपाय है टी ट्री आयल - Masse hatane ke tips me kare tea tree oil ka upyog in Hindi
  8. मस्से खत्म करने का उपाय है अरंडी का तेल - Masa hatane ka tarika hai castor oil in Hindi
  9. मस्से को हटाने के उपाय करे केले के छिलके से - Masse ko hatane ka gharelu upay hai banana peel in Hindi
  10. मस्सा हटाने की विधि करे तुलसी का उपयोग - Masse hatane ki vidhi hai basil leaves in Hindi

लहसुन में एंटीवायरल, जीवाणुरोधी और एंटिफंगल गुण होते हैं जो वायरल संक्रमण से लड़ते हैं।

लहसुन का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. लहसुन की फांकों को सबसे पहले क्रश कर लें और फिर इसे प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं। अब इसे किसी कैसे से कवर कर लें।
  2. बीस मिनट के लिए इसे कवर करके रखें और फिर इस क्षेत्र को साफ़ कर लें।
  3. इस इलाज को रोज़ाना कुछ हफ़्तों तक करते रहें। लहसुन का प्रभाव मस्से को हटाने में मदद करेगा। बड़े मस्से को ठीक करने में अधिक समय लग सकता है।
  4. अगर आप लहसुन की गंध को पसंद नहीं करते हैं तो आप लहसुन के कैप्सूल का इस्तेमाल पूरे दिन में तीन बार कुछ हफ़्तों तक करते रहें।

(और पढ़ें - लहसुन के फायदे और नुकसान

ऐप्पल साइडर सिरका में एंटीवायरल, जीवाणुरोधी और एंटिफंगल गुण पाए जाते हैं।

सेब के सिरके का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. एक कप पानी में दो चम्मच सेब का सिरका मिलाएं।
  2. अब इस मिश्रण में रूई को डुबोएं और उसे अपने प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।
  3. अब इस क्षेत्र को किसी टेप या बैंडेज से ढक लें।
  4. इस सरल उपाय का इस्तेमाल कुछ हफ्ते तक करते रहें। कुछ दिनों के भीतर, मस्सा काला पड़ना शुरू हो जाएगा।
  5. काला पड़ने के बाद मस्सा हटकर एक धब्बा छोड़ जाएगा जो ये भी धीरे-धीरे गायब होता नज़र आएगा।

(और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे और नुकसान

विटामिन सी में अत्यधिक अम्लीय पाया है जिसकी मदद से मस्से को हटाने और वायरस से लड़ने में मदद मिलती है।

विटामिन सी का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. एक कटोरे में विटामिन सी की टेबलेट क्रश कर लें।
  2. अब उसमे थोड़ा पानी मिलाये और एक पेस्ट तैयार कर लें।
  3. अब इस पेस्ट को मस्से पर रगड़ें और फिर किसी कपडे से उस क्षेत्र को ढक लें।
  4. हालाँकि इससे आपको जलन महसूस हो सकती है लेकिन ये जल्दी गयाब भी हो जाएगी।

(और पढ़ें - विटामिन सी के स्रोत, फायदे और नुकसान

थोड़े गर्म पानी में मस्से को डुबो दें। इससे आप मस्से के प्रभाव को कम कर सकेंगे। गर्म पानी वायरस से लड़ेगा साथ ही संक्रमण से भी बचाव करेगा। साधारण गर्म पानी ठीक है, लेकिन आप इसके प्रभाव को और बढ़ाने के लिए इसमें थोड़ा सिरका या सेंधा नमक भी मिला सकते हैं।

इस उपाय का पालन करने से पहले, बेहतर परिणाम के लिए आप प्रभावित क्षेत्र पर प्यूमिक स्टोन या एमरी बोर्ड से घिसाव कर सकते हैं। ध्यान रहे पानी ज़्यादा गर्म नहीं होना चाहिए इससे आपकी त्वचा जल सकती है।

बेकिंग सोडा में मौजूद एंटीसेप्टिक और मजबूत सूजनरोधी गुण होते हैं जो वायरस से लड़ने में मदद करते हैं जिसकी वजह से मस्सा उत्पन्न होता है।

बेकिंग सोडा का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. एक चम्मच सिरका को बेकिंग सोडा में मिला दें और इसका पेस्ट तैयार कर लें।
  2. अब इस पेस्ट को अपने प्रभावित क्षेत्र पर पूरे दिन में दो बार ज़रूर लगाएं (एक बार सुबह और एक बार शाम)।
  3. इसके अलावा आप बेकिंग सोडा को अरंडी के तेल के साथ मिक्स करके लगा लें और फिर उस क्षेत्र को किसी कपडे से ढक दें।
  4. इस कपडे को रातभर ऐसे ही बंधे रहने दें और सुबह कपडे को खोल लें।
  5. इस उपाय का इस्तेमाल कुछ दिनों तक करते रहें जब तक मस्सा नहीं चला जाता।

(और पढ़ें - बेकिंग सोडा के फायदे और नुकसान

एलो वेरा अपने सूजनरोधी गुणों के लिए जाना जाता है जो मस्से के उपचार में बहुत प्रभावी होता है।

एलो वेरा का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. एलो वेरा के पत्तों में से सबसे पहले जेल को निकाल लें।
  2. अब रूई की मदद से प्रभावित क्षेत्र पर एलो वेरा जेल को लगाएं।
  3. अब इसे ढकने के लिए किसी कपडे का इस्तेमाल करें।
  4. इस प्रक्रिया को पूरे दिन में दो बार दो हफ्ते के लिए ज़रूर करें।
  5. अगर आपके पास एलो वेरा का पौधा नहीं है तो आप दूकान से भी एलो वेरा जेल खरीद सकते हैं।
  6. एलो वेरा जेल को फिर अपने प्रभावित क्षेत्र पर लगा लें।

(और पढ़ें - एलोवेरा के फायदे और नुकसान

चाय के पेड़ के तेल में मजबूत एंटीवायरल गुण होते हैं। जो मस्सों का इलाज करने में एक प्रभावी प्राकृतिक घरेलू सामग्री मानी जाती है।

टी ट्री तेल का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. टी ट्री तेल बहुत ज़्यादा प्रभावी होता है तो इसे और एलो वेरा जेल को प्रभावित क्षेत्र पर लगाने से पहले दोनों को पानी में मिला लें।
  2. अब टी ट्री तेल को अपने मस्से पर पूरे दिन में कई बार लगाएं और खासकर रात को सोने से पहले।
  3. ये तेल आसानी से त्वचा द्वारा अवशोषित हो जाएगा जो कि बहुत जल्दी से वायरस से लड़ने में मदद करेगा।

(और पढ़ें - टी ट्री ऑयल के फायदे और नुकसान

ठंडा अरंडी का तेल लगाने से मस्सा समेत कई त्वचा से संबंधित परेशानियां दूर हो जाती है। अरंडी के तेल का मुख्य घटक रिसिनोलिक एसिड है जो सूजनरोधी और जीवाणुरोधी गुणों के लिए जाना जाता है। अरंडी का तेल चेहरे के मस्से, फ्लैट मस्से और पीठ के मस्सों के लिए सबसे अच्छा काम करता है।

अरंडी के तेल का इस्तेमाल कैसे करें

  1. अरंडी के तेल को पूरे दिन में कई बार लगाएं। ध्यान रहे तेल अच्छे से अवशोषित हो जाना चाहिए और तेल से मस्सा पूरा ढका रहना चाहिए।
  2. रात को सोने से पहले एक रूई लें और उसे अरंडी के तेल में डुबाकर अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगा लें।
  3. सुबह को मस्से को साफ़ कर लें और कुछ मिनट के लिए गुनगुने पानी में उस क्षेत्र को डुबो दें।
  4. फिर मृत त्वचा को प्यूमिक स्टोन से रगड़ें।
  5. इस उपाय का इस्तेमाल कुछ दिनों के लिए ज़रूर करें।
  6. इसके इस्तेमाल से मस्सा बिलकुल काला पड़ जाएगा और अपने आप हैट जाएगा।

(और पढ़ें - अरंडी के तेल के फायदे और नुकसान

केले के छिलके में मजबूत एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो सफलतापूर्वक मस्से का इलाज करते हैं। केले के छिलके में मौजूद रसायन और तेल मस्से को हटते हैं और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को वायरस से लड़ने में मदद करते हैं।

केले का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. केले को आधा छील लें और उसके छिलके को अपने मस्से पर लगाएं।
  2. इस प्रक्रिया को आप जितनी बार चाहे कर सकते हैं, खासकर रात को सोने से पहले ज़रूर करें।
  3. इसे फिर रातभर ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें। अच्छे परिणाम के लिए आप हरा केले के छिलके का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  4. आप प्रभावित क्षेत्र को ताज़े केले के टुकड़े से भी रगड़ सकते हैं।
  5. निर्भर उसके आकर और प्रकार पर करता है। आप इस उपाय को कुछ दिनों से कुछ हफ़्तों तक ज़रूर अपनाएँ।

(और पढ़ें - अरंडी के तेल के फायदे और नुकसान

तुलसी के पत्तों में एंटीवाइरल, जीवाणुरोधी और सूजनरोधी गुण होते हैं जो मस्से का स्वाभाविक रूप से इलाज करते हैं।

तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. सबसे पहले तुलसी के पत्तों को क्रश कर लें और फिर उन्हें अपने प्रभावित क्षेत्र पर रगड़ लें।
  2. आप क्रश की हुई तुलसी के पत्तों को ऐसे भी मस्से पर लगा हुआ छोड़ सकते हैं और फिर उसे कपडे से ढक दें।
  3. जल्दी परिणाम पाने के लिए आप इस प्रक्रिया को रोज़ाना पूरे दिन में दो बार ज़रूर अपनाएँ।

(और पढ़ें - तुलसी के फायदे और नुकसान)

उम्मीद है कि इन प्राकृतिक घरेलू उपायों में से एक आपके मस्से को कम करने में मदद करेगा। अगर ऐसा नहीं होता तो आप डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं।


मस्सों से छुटकारा पाइए, इन उपायों को अपनाएं सम्बंधित चित्र

और पढ़ें ...

References

  1. InformedHealth.org [Internet]. Cologne, Germany: Institute for Quality and Efficiency in Health Care (IQWiG); 2006. What are the treatment options for warts?.2014 Jul 30 [Updated 2017 May 4].
  2. InformedHealth.org [Internet]. Cologne, Germany: Institute for Quality and Efficiency in Health Care (IQWiG); 2006-. Warts: Overview. 2014 Jul 30 [Updated 2017 May 4].
  3. Nader Pazyar, Amir Feily. Garlic in dermatology. Dermatol Reports. 2011 Jan 31; 3(1): e4. PMID: 25386259
  4. Anca Gaston, Robert F Garry. Topical vitamin A treatment of recalcitrant common warts. Virol J. 2012; 9: 21. PMID: 22251397
  5. Carol S. Johnston, Cindy A. Gaas. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC1785201/. MedGenMed. 2006; 8(2): 61. PMID: 16926800
  6. Stephanie Feldstein, Maryam Afshar, Andrew C. Krakowski. Chemical Bum from Vinegar Following an Internet-based Protocol for Self-removal of Nevi. J Clin Aesthet Dermatol. 2015 Jun; 8(6): 50. PMID: 26155328
  7. Michelle M. Lipke. An Armamentarium of Wart Treatments. Clin Med Res. 2006 Dec; 4(4): 273–293. PMID: 17210977
  8. Health Harvard Publishing. Harvard Medical School [Internet]. How to get rid of warts. Harvard University, Cambridge, Massachusetts.
  9. Nahida Tabassum, Mariya Hamdani. Plants used to treat skin diseases. 2014 Jan-Jun; 8(15): 52–60. PMID: 24600196