myUpchar सुरक्षा+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत
  1. स्किन कैंसर की सर्जरी क्या है?
  2. स्किन कैंसर की सर्जरी की ज़रुरत कब होती है?
  3. स्किन कैंसर की सर्जरी के लिए तैयारी
  4. स्किन कैंसर की सर्जरी कैसे की जाती है?
  5. स्किन कैंसर की सर्जरी के बाद देखभाल
  6. स्किन कैंसर की सर्जरी के बाद संभव जटिलताएं और जोखिम

स्किन कैंसर की सर्जरी क्या है? - What is Skin Cancer Surgery in Hindi?

जब स्किनकोशिकाएं असामान्य प्रकार से बढ़ती हैं, तो इससे स्किन का कैंसर हो सकता है। स्किन कैंसर की सर्जरी इस रोग के लिए प्राथमिक उपचार है। कैंसर के प्रारंभिक चरण में ही इसे हटा देने से रोगियों को कई जटिलताओं से बचाया जा सकता है। 

आपकी त्वचाआपके शरीर की बाहरी परत है। कैंसर कोशिकाओं का विकास इतनी तेज़ी से होता है कि यह बाहरी परत से भीतरी परत तक फैलने में ज्यादा समय नहीं लेती हैं। इसलिए, इसका निष्कासन एक आवश्यकता बन जाता है। इन कैंसरयुक्त त्वचा कोशिकाओं को सर्जरी द्वारा निकालना जीवनरक्षी साबित हो सकता है।  

स्किन कैंसर की सर्जरी की ज़रुरत कब होती है? - When is Skin Cancer Surgery required in Hindi?

स्किन कैंसर मुख्य रूप से शरीर की ऊपरी बाहरी परतों पर होता है। इससे पहले कि ऊपरी कैंसर-ग्रस्त परत अंदरूनी परत को संक्रमित करे, कैंसर-ग्रस्त परत को सर्जरी के माध्यम से हटा देना चाहिए। ऐसे सर्जिकल तरीके हैं जिसमे सर्जन आपकी कैंसर-ग्रस्त तवचा को परत दर परत हटाते हैँ जब तक की कैंसर रहित स्किन की परत न मिले।

स्किन कैंसर की सर्जरी इस घातक बीमारी से छुटकारा पाने का एक आसान और प्रभावी तरीका है। इस सर्जरी का संचालन कैंसर या डर्मेटोलॉजिस्ट (Dermatologist; स्किन रोग विशेषज्ञ) द्वारा किया जाता है। सर्जरी को आमतौर पर उपचार पद्धति के रूप में प्रयोग किया जाता है ताकि कैंसरग्रस्त स्किन को हटाया जा सके और साथ ही यदि आवश्यक हो, तो उसे ग्राफ्ट (graft; उपरोपण) भी किया जा सके। 

स्किन कैंसर की सर्जरी के लिए तैयारी - Preparing for Skin Cancer Surgery in Hindi

सर्जरी की तैयारी के लिए आपको निम्न कुछ बातों का ध्यान रखना होगा और जैसा आपका डॉक्टर कहे उन सभी सलाहों का पालन करना होगा: 

  1. सर्जरी से पहले किये जाने वाले टेस्ट्स/ जांच (Tests Before Surgery)
  2. सर्जरी से पहले एनेस्थीसिया की जांच (Anesthesia Testing Before Surgery)
  3. सर्जरी की योजना (Surgery Planning)
  4. सर्जरी से पहले निर्धारित की गयी दवाइयाँ (Medication Before Surgery)
  5. सर्जरी से पहले फास्टिंग / खाली पेट रहना (Fasting Before Surgery)
  6. सर्जरी का दिन (Day Of Surgery)
  7. सामान्य सलाह (General Advice Before Surgery)
  8. सर्जरी से पहले की जाने वाली स्किन बायोप्सी (Skin Biopsy before surgery)
    शेव बायोप्सी (Shave Biopsy): शेव बायोप्सी या स्पर्शरेखा बायोप्सी (Tangential Biopsy) में आपकी त्वचा की ऊपरी परत को सर्जिकल ब्लेड की सहायता से निकाल दिया जाता है। डॉक्टर इन नमूनों को इकट्ठा करते हैं और विश्लेषण के लिए प्रयोगशाला में भेजते हैं। शेव किये गए क्षेत्र के रक्तस्त्राव को रोकने के लिए घाव को विद्युत प्रवाह से दागा जाता है।
    पंच बायोप्सी (Punch Biopsy): पंच बायोप्सी की प्रक्रिया में, आपका सर्जन एक कुकी कटर (cookie cutter) जैसे उपकरण का प्रयोग आपकी त्वचा से सैंपल निकालने के लिए करेगा। इस उपकरण की सहायता से आपकी त्वचा में छिद्र किया जाता है जब तक की सभी ज़रूरी परतें न कट जाएं। एक छोटा सा नमूना एकत्र किया जाता है और घाव को सी दिया जाता है।
    इंसिज़नल और एक्सिज़नल बायोप्सी (Incisional & Excisional Biopsies): ट्यूमर या तो आपकी त्वचा पर उभर सकता है या आपकी त्वचा के नीचे बढ़ सकता है। इसके आधार पर, आपका डॉक्टर इंसिज़नल या एक्सिज़नल बायोप्सी का उपयोग करता है। इन प्रतिक्रियाओं में, एक सर्जिकल चाकू का आपके शरीर पर चीरा काटने के लिए उपयोग किया जाता है। आपकी त्वचा का एक टुकड़ा विश्लेषण के लिए निकाला जाता है और कटे हुए क्षेत्र को वापिस सिल दिया जाता है।
    इंसिज़नल बायोप्सी में ट्यूमर के केवल एक भाग को हटाते हैं, जबकि एक्सिज़नल बायोप्सी में पूरे ट्यूमर को हटाया जाता है। इसलिए, अधिकतम, एक्सिज़नल बायोप्सी विधि का संदिग्ध स्किन कैंसर रोग के लिए उपयोग किया जाता है।
    ऑप्टिकल बायोप्सी (Optical Biopsy): रिफ्लेक्टेंस कन्फोकल माइक्रोस्कोपी (Reflectance Confocal Microscopy (RCM)) एक नवीनतम बायोप्सी विधि है। इसमें त्वचा से सैंपल नहीं काटा जाता, केवल आपके एपिडर्मिस (epidermis) और इसकी निचली परतों पर नॉन-इनवेसिव विज़ुअलाइज़ेशन तकनीक (non-invasive visualization technique) का उपयोग किया जाता है।
    फाइन नीडल एस्पिरेशन बायोप्सी (Fine Needle Aspiration (FNA) Biopsy): FNA का उद्देश्य मोल्स या कैंसर ट्यूमर के आसपास मौजूद लिम्फ नोड्स को लक्षित करना होता है। इस प्रक्रिया में ट्यूमर या लिम्फ नोड्स को हटाने के लिए एक खोखली सुई का उपयोग किया जाता है। रक्त परीक्षणों के लिए उपयोग की जाने वाली सुई की तुलना में यह सुई काफी छोटी होती है। यह परीक्षण आमतौर पर दर्द रहित होता है और इंजेक्शन वाले क्षेत्र पर निशान नहीं छोड़ता है। जो लिम्फ नोड्स त्वचा के नीचे मौजूद होते हैं उनका पता लगाना आसान होता हैं लेकिन, शरीर के अन्य हिस्सों में जैसे जिगर आदि में लिम्फ नोड्स का पता लगा कर सुई का इस्तेमाल करने के लिए सीटी स्कैन की आवश्यकता हो सकती है।
    सर्जिकल लिम्फ नोड बायोप्सी (Surgical Lymph Node Biopsy): इस प्रक्रिया का मुख्य रूप से इस्तेमाल एक छोटे चीरे का उपयोग करके बढ़े हुए लिम्फ नोड को निकालने के लिए किया जाता है। यदि लिम्फ नोड शरीर के अंदर गहराई में है, तो रोगियों को इस प्रक्रिया से पहले बेहोश किया जाता है। स्किन के नीचे स्थित लिम्फ नोड्स के लिए, एक लोकल एनेस्थेसिया दिया जा सकता है।
    सेंटिनल लिम्फ नोड बायोप्सी (Sentinel Lymph Node Biopsy): यदि स्किन कैंसर का पता लग गया है और कुछ चिंताजनक लक्षण नज़र आते हैं, तो संभावित है कि कैंसर आसपास के लिम्फ नोड्स में फैल गया है। ऐसे समय पर, उपचार के विकल्प प्रभावित होते हैंI प्रभावित लिम्फ नोड्स के बारे में जानने के लिए कुछ परीक्षण किए जाते हैं। ऐसे लिम्फ नोड्स को सेंटिनल नोड्स (sentinel nodes) के रूप में नामित किया गया है।
  9. सर्जरी से पहले कुछ विशिष्ट परिक्षण (Some important tests before surgery)
    इस सर्जरी से पहले कैंसर के कारण जीन में बदलाव का पता करने के लिए परिक्षण किये जा सकते हैं और कैंसर शरीर के किसी अन्य हिस्से में तो नहीं फैला है यह पता लगाने के लिए पोजीशन एमिशन टोमोग्राफी (Position Emission Tomography (PET) Scan) भी किया जा सकता है।

इन सभी के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लिंक पर जाएँ - सर्जरी से पहले की तैयारी

स्किन कैंसर की सर्जरी कैसे की जाती है? - How is Skin Cancer Surgery done?

अधिकांश प्रकार के कैंसर के लिए सर्जरी मुख्य उपचार श्रेणी के अंतर्गत आती है। आमतौर पर सर्जरी त्वचा कैंसर के शुरुआती चरणों का इलाज करने के लिए उपयोगी है।

वाइड एक्सिज़न (Wide Excision)

अगर स्किन कैंसर का निदान शुरूआती स्टेज पर ही हो जाता है तो इसे सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि कैंसर पूरी तरह से ख़तम हो गया है। छोटे ऑपरेशन त्वचा की पतली परतों की कैंसर कोशिकाओं को ठीक कर सकते हैं। प्रारंभ में, उपचार किये जाने वाले क्षेत्र पर लोकल एनेस्थेसिया का इस्तेमाल किया जाता है। ट्यूमर की साइट के साथ साथ आस पास के कुछ हिस्से को भी काटा जाता है। त्वचा का यह छोटा खंड मार्जिन के रूप में जाना जाता है। ट्यूमर जितना मोटा/ बड़ा होता है, मार्जिन भी उतना ही बड़ा होता है। मार्जिन निकलने के बाद घाव को सिल दिया जाता है और यह निशान छोड़ सकता है।  

मार्जिन की जांच माइक्रोस्कोप के तहत की जाती है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि इस त्वचा की परत के किनारों पर कोई कैंसर कोशिका मौजूद नहीं है।

मार्जिन ट्यूमर के स्थान के अनुसार भी भिन्न होते हैं। उदाहरण के लिए, चेहरे पर मौजूद ट्यूमर के लिए, मार्जिन छोटा होना चाहिए ताकि यह बड़े निशान न छोड़े। लेकिन, इसकी यह खामी है कि छोटे मार्जिन कैंसर के पुनः होने की संभावना को बढ़ा सकते हैं।

मोह्स सर्जरी (Mohs Surgery)

अधिकांश प्रकार के स्किन कैंसर का इलाज मोह सर्जरी से होता है यह सर्जरी एक डर्मेटोलॉजिस्ट (dermatologist; त्वचा रोग  विशेषज्ञ) या सर्जन द्वारा की जाती है। मोहस सर्जरी प्रक्रिया में, कैंसर-ग्रस्त परत को परत दर परत हटाया जाता है। माइक्रोस्कोप के तहत प्रत्येक परत का विश्लेषण किया जाता है। यदि कैंसर कोशिकाएं पाई जाती हैं, तो सर्जन त्वचा की दूसरी परत को भी हटा देता है। यह तब तक चलता रहता है जब तक सर्जन को ऐसी त्वचा की परत न मिले जो कैंसर से प्रभावित न हो। इस सर्जरी का लाभ यह होता है की आसपास के क्षेत्र ऊतकों को कैंसर से बचाया जा सकता है।

विच्छेदन (Amputation)

यदि आपकी हाथों की उंगलियों या पैर की उंगलियों में त्वचा कैंसर है और वह गहराई से फैल गया है, तो कैंसरग्रस्त हिस्से या उस पूरे खंड का विच्छेदन हो सकता है।

काइरोसर्जरी (Cyrosurgery)

काइरोसर्जरी में एक चिकित्सीय साधन का उपयोग करते हैं जिसमें तरल नाइट्रोजन मौजूद होता है। तरल नाइट्रोजन का कैंसर प्रभावित त्वचा पर छिड़काव किया जाता है, जो उन ऊतक कोशिकाओं को जमा देता है और नष्ट करता है।

एलेक्ट्रोडेसिकेशन और क्युरेटेज (Electrodesiccation and Curettage)

इस सर्जरी में कैंसर के प्रभावित ऊतकों को खत्म कर दिया जाता है। यह एक तेज शल्य चिकित्सा उपकरण का उपयोग करके किया जाता है जिसे क्योरेट (curette) कहा जाता है। प्रक्रिया पूरी होने के बाद, एक इलेक्ट्रो सर्जिकल यूनिट (electro-surgical unit) से घाव को दाग दिया जाता है।

लिम्फ नोड विच्छेदन (Lymph Node Dissection)

लिम्फ नोड विच्छेदन सर्जरी में कैंसरग्रस्त क्षेत्र के आस-पास के सभी लिम्फ नोड्स को हटाया जाता है। उदाहरण के लिए, यदि वर्तमान में पैर पर कैंसर है, तो सर्जन पेट और जांध के बीच के भाग से  लिम्फ नोड्स का टुकड़ा निकाल सकता है, जहां कैंसर फैलने की सम्भावना हो सकती है। 

असामान्य रूप से बड़े लिम्फ नोड्स के मामले में, FNA या एक्सीजनल बायोप्सी (excisional biopsy) का उपयोग किया जाता है इन्हे काटने के लिए। जो लिम्फ नोड्स बढे हुए नहीं होते हैं उनके लिए सेंटिनल बायोप्सी (Sentinal biopsy) का उपयोग किया जा सकता है।

मेटास्टैटिक त्वचा कैंसर के लिए सर्जरी (Surgery for Metastatic Skin Cancer)

अगर कैंसर त्वचा से शरीर के अन्य अंगों में मेटास्टासाइज (Metastasize; फ़ैल गया है) कर गया है, तो यह सर्जरी द्वारा ठीक नहीं किया जा सकता। 

अगर कैंसर से दो से अधिक क्षेत्र प्रभावित होते हैं, तो सर्जरी इसके फैलाव को नियंत्रित करने के उद्देश्य से की जाती है न कि इलाज के उद्देशय से। यदि 1 या अधिक मेटास्टेस हो चुके हैं और इसे पूरी तरह हटाया जा सकता है, तो यह सर्जरी रोगी को लंबे समय तक जीवित रहने में मदद कर सकती है। मस्तिष्क जैसे स्थानों से मेटास्टाज़ को हटाने से लक्षणों को रोकने और राहत देने में भी सहायता हो सकती है। इससे रोगी के जीवन की गुणवत्ता में सुधार होता है। 

पूर्ण लिम्फ नोड विच्छेदन के कारण दीर्घकालिक साइड इफेक्ट होते हैं। उनमें से एक दुष्प्रभाव लिम्फेडेमा है। बाजुओं के नीचे मौजूद लिम्फ नोड्स अंगों से तरल पदार्थ निकालने के लिए जिम्मेदार होते हैं। यदि इनका विच्छेदन किया जाता है तो, ये द्रव्यों के जमाव का कारण हो सकता है। जिसके परिणामस्वरूप सूजन होती है। यह अंगों में गंभीर समस्याएं पैदा कर सकता है और संक्रमण के जोखिम को भी बढ़ा सकता है। ऐसे रोगियों के लिए कम्प्रेशन बेल्ट उपयोगी हो सकती है।

इसलिए, लिम्फ नोड्स विच्छेदन सर्जरी तब तक नहीं की जाती जब तक यह वास्तव में आवश्यक नहीं है। हालांकि, सेनिटल लिम्फ नोड बायोप्सी के कारण ऐसे दुष्प्रभावों के होने की संभावना नहीं है।

स्किन कैंसर की सर्जरी के बाद देखभाल - What to do after Skin Cancer Surgery ?

ज्यादातर रोगियों को शल्य चिकित्सा के बाद भी बेहोशी होती है क्योंकि उन्हें सर्जरी के बाद आराम करने के लिए कुछ समय की आवश्यकता होती है। आराम करने के लिए, डॉक्टरों और नर्सों की टीम आपको सामान्य वार्ड में स्थानांतरित करेगी। कुछ रोगियों को ग्लूकोस चढाने की आवश्यकता पड़ सकती है इसके अलावा, कभी-कभी कुछ आवश्यक दवाएं भी इसके साथ दी जाती हैं।

आपके चिकित्सक के सफलतापूर्वक सर्जरी आयोजित करने के बाद, पोस्ट प्रक्रिया अवधि के दौरान अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने का काम रोगी का होता है। उचित स्वास्थ्य देखभाल के कारण रोगी जल्दी स्वस्थ हो सकता है। स्वास्थ्य देखभाल में उचित सावधानी बरतना, सभी आवश्यक उपायों का पालन करना, अपने डॉक्टर से समय-समय पर जांच करना, और कई अन्य महत्वपूर्ण कदम शामिल हैं।

सावधानियां

सर्जरी के जरिए कैंसर निकालने के बाद आपका शरीर कमजोर हो जाता है। इसे ठीक होने के लिए अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता है। आवश्यक सावधानी बरतने से रोगियों को जल्दी स्वस्थ होने में मदद मिलती है। ऐसा करने में नाकाम रहने से आपके स्वस्थ होने में देरी हो सकती है या आपकी स्वास्थ्य स्थितियों में बदलाव आ सकता है।

  1. अतिरिक्त सूरज एक्सपोजर (exposure) से बचें
  2. धूम्रपान से बचें
  3. शराब पीने से बचें, खासकर जब आप दवाइयां ले रहे हों
  4. संक्रमण से बचने के लिए समय पर ड्रेसिंग बदलें

घर पर रिकवरी (Recovery at Home)

डॉक्टर आपकी त्वचा के सर्जिकल क्षेत्रों पर लगाने के लिए क्रीम या लोशन की सलाह देंगे। दवाओं का सेवन समय पर किया जाना चाहिए। बहुत सारी दवाओं का सेवन आपके शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है इसलिए, इस अवधि के दौरान आपके शरीर को स्वस्थ और पौष्टिक आहार की आवश्यकता होती है।

कैंसर मरीज को शारीरिक और मानसिक रूप दोनों से प्रभावित करता है। ज़्यादातर रोगियों को जब यह मालूम पड़ता है की उन्हें कैंसर है तो वह बहुत खतरा महसूस करते हैं। ऐसे तनावपूर्ण परिस्थितियों का सामना करने के लिए, चिकित्सक रोगियों के लिए कुछ थेरेपी सेशन प्रदान करते हैं। ये सेशन शारीरिक भी हो सकते हैं। मानसिक और शारीरिक तनाव को झेलने के लिए चिकित्सक ध्यान (Meditations), योग (yoga), आदि का प्रबंध करते हैं रोगियों के लिए ।

फॉलो-अप अपॉइंटमेंट्स

एक सफल त्वचा कैंसर की सर्जरी के बाद भी आपके डर्मेटोलॉजिस्ट (dermatologist; त्वचा रोग विशेषज्ञ) या कैंसर विशेषज्ञों के साथ फॉलो-अप अपॉइंटमेंट्स आवश्यक हैं ताकि आपके डॉक्टर निम्नलिखित बातों की जाँच कर सकें:

  1. हीलिंग और स्वास्थ्य की स्थिति
  2. क्या कैंसर पुनः हो सकता है?
  3. पट्टियों को बदलने के लिए
  4. सामान्य नियमित चेक-अप

सर्जरी के बाद जीवन

विभिन्न परिवर्तनों के चलते सर्जरी के बाद जीवन कठिन हो जाता है। जो रोगी कैंसर के कारण त्वचा की सर्जरी करा चुके हैं, उनकी बाहरी दिखावट में बहुत बदलाव आ जाता है; मुख्य रूप से उदाहरण के लिए, उनके चेहरे, हाथों या पैरों पर त्वचा की सर्जरी उनके ऑपरेशन के बाद ध्यान देने योग्य परिवर्तन का कारण बन जाती हैं।

ज्यादातर चिकित्सक त्वचा उपरोप (skin grafts; त्वचा प्रत्यारोपण, त्वचा को आपके शरीर या दाता (donor) के शरीर के विभिन्न हिस्से से लिया जाता है) या त्वचा फ्लैप्स (स्वस्थ त्वचा या ऊतक जो आपके घावों को कवर करने के लिए जुड़ा हुआ है) का उपयोग करते हैं। तो आपकी संलग्न त्वचा (attached skin) का रंग और बनावट आपकी मूल त्वचा से थोड़े भिन्न होते हैं।

स्किन कैंसर की सर्जरी के बाद संभव जटिलताएं और जोखिम - Risks and Complications of Skin Cancer Surgery in Hindi

हर त्वचा कैंसर की सर्जरी के साथ जुड़े कुछ जोखिम और जटिलताएं हैं। इन जटिलताओं को उनके होने के आधार पर विभिन्न भागों में विभाजित किया जाता है।

सर्जरी के तुरंत बाद होने वाली जटिलताएं

जटिलताएं जो आमतौर पर त्वचा कैंसर की सर्जरी के दौरान या तुरंत बाद होती हैं:

  1. त्वचा की महत्वपूर्ण संरचनाओं को क्षति, जैसे आस पास की तंत्रिकाओं या ग्रंथियों को 
  2. घावों को टांकने में कठिनाई
  3. रक्तस्त्राव
  4. कुछ दवाओं की प्रतिकूल प्रतिक्रियाएं
  5. नील पड़ना

सर्जरी के बाद विलंबित जटिलताएं 

जटिलताएं जो सर्जरी के कुछ घंटों बाद या सर्जरी के कुछ दिनों बाद होती हैं। ऐसी आम जटिलताओं में शामिल हैं:

  1. सर्जिकल क्षेत्रों के आसपास संक्रमण
  2. सिवनी प्रतिक्रियाएं
  3. स्वस्थ होने की प्रक्रिया में देरी
  4. घाव का ख़राब होना
  5. अपूर्ण एक्ससीजन
  6. लगातार सूजन

सर्जरी के ज़्यादा समय बीतने के बाद होने वाली जटिलताएं

त्वचा कैंसर की सर्जरी के काफी समय बाद होने वाली जटिलताएं निम्नानुसार हैं:

  1. अदम्य कॉस्मेटिक परिणाम
  2. आवर्ती त्वचा कैंसर या कैंसर के अन्य रूप
  3. आवर्ती ट्यूमर

यदि आप अपनी त्वचा के साथ कोई भी असामान्य परिवर्तन देखते या महसूस करते हैं, तो जितनी जल्दी हो सके अपने चिकित्सक से जांच कराएं। प्रारंभिक इलाज हमेशा बेहतर होता है।

और पढ़ें ...