अश्वगंधा, जिसे विथानिया सोम्निफेरा के नाम से भी जाना जाता है, का उपयोग वर्षों से आयुर्वेदिक उपचार के रूप में किया जा रहा है और ये भारत में पैदा होने वाली अनोखी और बहुत फायदेमंद जड़ी बूटी है। अश्वगंधा को एडाप्टोजेन यानि शरीर से तनाव को बेहतर ढंग से खत्म करने के लिए जाना जाता है । इसे यौन प्रदर्शन, प्रजनन क्षमता और कामेच्छा में सुधार करने के लिए भी जाना जाता है । हम अक्सर सुनते हैं कि अश्वगंधा को टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने के लिए उपयोग किया जा रहा है , ये सेक्स ड्राइव बढ़ाने , मांसपेशियों को ठीक रखने और प्रजनन क्षमता को अच्छा बनाने के लिए लाभदायक है हालांकि टेस्टोस्टेरोन को पुरुष हार्मोन माना जाता है, लेकिन हर किसी को कुछ शारीरिक कार्यों के लिए टेस्टोस्टेरोन की आवश्यकता होती है।

(और पढ़ें -टेस्टोस्टेरोन क्या है, महत्त्व, लाभ )

 
  1. क्या अश्वगंधा से टेस्टोस्टेरोन बढ़ता है?
  2. अश्वगंधा कैसे टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाता है ?
  3. क्या बहुत अधिक मात्रा में अश्वगंधा का सेवन कर सकते हैं?

क्या अश्वगंधा से टेस्टोस्टेरोन बढ़ता है? और अगर बढ़ता है तो इसकी कितनी मात्रा का सेवन प्रतिदिन करना चाहिए ?

अश्वगंधा और टेस्टोस्टेरोन के बीच संबंध पर और अध्ययन की आवश्यकता है, लेकिन कुछ अध्ययनों से पता चला है कि अश्वगंधा से टेस्टोस्टेरोन बढ़ता है। अधिकांश अध्ययनों में, पुरुषों को प्रति दिन लगभग 300 मिलीग्राम से 5 ग्राम अश्वगंधा दिया गया । कुछ समय इसके सेवन के बाद , इन पुरुषों ने टेस्टोस्टेरोन के स्तर में सुधार का अनुभव किया। उनके ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन, कूप-उत्तेजक हार्मोन और प्रोलैक्टिन का स्तर भी बढ़ गया, साथ ही शुक्राणुओं की संख्या और शुक्राणु गतिशीलता में भी वृद्धि हुई। जिन पुरुषों को अश्वगंधा प्राप्त हुआ उनमें टेस्टोस्टेरोन के स्तर में वृद्धि देखी गई। विशेष रूप से वो पुरुष जो अधिक तनाव ग्रस्त थे उनके टेस्टोस्टेरोन के स्तर और शुक्राणु की संख्या में सुधार हुआ।  

(और पढ़ें -टेस्टोस्टेरोन की कमी )

 
Ashwagandha Tablet
₹359  ₹399  10% छूट
खरीदें

अश्वगंधा से टेस्टोस्टेरोन बढ़ता है इसके बारे में अभी और अध्ययन की जरूरत है लेकिन अश्वगंधा टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने के लिए कुछ तरीकों से काम कर सकता है।

अश्वगंधा में  एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो टेस्टीकल की कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव क्षति से बचाने में सहायक हैं क्यूँकि टेस्टीकल्स में ही टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन होता है, इसलिए अगर टेस्टीकल्स को कम नुकसान होगा तो टेस्टोस्टेरोन के स्तर में वृद्धि जरूर होगी। 

(और पढ़ें -टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के घरेलू उपाय)

अश्वगंधा को ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन के उत्पादन को बढ़ाने के लिए भी जाना जाता है । ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन पिट्यूटरी ग्रंथि में बनता है, और यह प्रजनन प्रणाली को बेहतर बनाने में सहायक है ।पुरुषों में, ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन को ट्रिगर करता है। अगर इसका स्तर ज्यादा होगा तो टेस्टोस्टेरोन का स्तर भी ज्यादा होगा। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि अश्वगंधा के तनाव-रोधी गुण टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में एक महत्वपूर्ण कारक हो सकते हैं क्यूँकि लंबे समय तक तनाव और कोर्टिसोल के निरंतर उत्पादन के कारण कई प्रकार के नकारात्मक शारीरिक प्रभाव हो सकते हैं। बहुत ज्यादा तनाव  कामेच्छा और शुक्राणु की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है, और कोर्टिसोल टेस्टोस्टेरोन के स्तर और कार्यों में हस्तक्षेप कर सकता है। एक प्राकृतिक टेस्टोस्टेरोन बूस्टर के रूप में, अश्वगंधा शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद कर सकता है और साथ ही कम टेस्टोस्टेरोन के कुछ लक्षणों को भी कम कर सकता है।

(और पढ़ें -टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने की एक्सरसाइज)

अश्वगंधा को आयुर्वेदिक चिकित्सा में विशेष स्थान प्राप्त है। यह माना जाता है कि यह शरीर को फिर से नया बनाने में , ऊर्जा बढ़ाने में सहायक है,स्टेमिना को बढ़ा कर लंबी उम्र देने में ये सहायक है। 

 
myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas T-Boost Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को शुक्राणु की कमी, मांसपेशियों की कमजोरी व टेस्टोस्टेरोन की कमी जैसी समस्या के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Testosterone Booster
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

एक दिन में कितने अश्वगंधा का सेवन कर सकते हैं इसकी कोई सीमा नहीं है लेकिन उत्पाद पर लिखी गई विधि और मात्रा के अनुसार ही इसका सेवन करना लाभकारी है।  

अश्वगंधा सहित किसी भी स्वास्थ्य उत्पाद का उपयोग करने से पहले किसी डॉक्टर से परामर्श करना सबसे अच्छा है।

(और पढ़ें -टेस्टोस्टेरोन बूस्टर फूड )

 
ऐप पर पढ़ें