myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

दर्द हमारी रोज़मर्रा की जिंदगी और हमारी दिनचर्या को खराब करता है। पीड़ादायक मांसपेशियों में दर्द और जोड़ों में दर्द को सहन करना कठिन हो सकता है, खासकर अगर यह समस्या लंबे समय से चली आ रही हो।

ऐसी बीमारियां अक्सर अत्यधिक गतिविधि के कारण होती हैं, जैसे एक स्थिति में बहुत लंबे समय तक खड़े रहना, हैवी वेट लिफ्टिंग, अनुचित मुद्रा या उम्र बढ़ना आदि। दर्द कई स्थितियों का लक्षण भी हो सकता है, जैसे गठिया या फाइब्रोमाइल्जी।

इन मेडिसिन से दर्द तो कम या ठीक हो जाता है पर ये शरीर पर बुरा असर डालती है। इन दुष्प्रभावों में मतली, दाने, पेट में परेशानी, जलन और थकान शामिल हो सकते हैं। जब ये मेडिसिन उच्च मात्रा में ली जाती है तो ये दवाएं लीवर को क्षति भी पहुचा सकती हैं और दिल के दौरे के खतरे को बढ़ा सकती हैं।

(और पढ़ें - जोड़ों में दर्द के घरेलू उपाय)

यह दर्द बाम एक किफायती विकल्प है जो आपके जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द और सूजन को कम करने में मदद करेगा। 

(और पढ़ें - मांसपेशियों में दर्द के घरेलू उपाय)

  1. दर्द बाम के लिए आवश्यक सामग्री
  2. पेन रिलीफ बाम बनाने की विधि
  3. पेन बाम प्रयोग करने का तरीका
  4. कुछ बातों पर ध्यान दें
  1. एक चौथाई कप नारियल तेल
  2. 2 चम्मच ग्रेटेड बीसवैक्स (beeswax)
  3. 1 बड़ा चम्मच कपूर
  4. 9 बूँदें पुदीने के तेल
  5. 7 बूँदें आर्निका तेल
  6. 5 बूँदें लौंग का तेल
  7. एक कंटेनर

कपूर में सूजन को कम करने वाले गुण होते हैं जो दर्द और सूजन को दूर करने में सहायता करते हैं।

पेपरमिंट ऑयल में ठंडक देने वाले गुण हैं, जो गले की मांसपेशियों को राहत देते हैं और शरीर पर शांत प्रभाव डालते हैं।

आर्निका तेल सूजन को कम करने में मदद करता है और इसके एनाल्जेसिक गुण दर्द को सुन्न कर देते हैं। इसका उपयोग दर्द, मस्तिष्क और अन्य बीमारियों का इलाज करने के लिए किया जाता है।

लौंग तेल में दर्द से राहत के लिए एनाल्जेसिक गुण भी होते हैं और यह गले की मांसपेशियों को भी आराम देता है।

  1. एक चौथाई कप नारियल तेल को एक कटोरे में डालें।
  2. इसमें 2 चम्मच ग्रेटेड बीज़्वैक्स (Grated beeswax) को मिलाएँ।
  3. इसे 30 सेकंड से 1 मिनट तक माइक्रोवेव में गरम करें, जब तक कि सामग्री पूरी तरह से पिघल नहीं जाती है।
  4. अब इस मिश्रण में कपूर डाले और 20 सेकंड के लिए माइक्रोवेव में गरम करें, जब तक कि कपूर पूरी तरह पिघल ना जाएँ।
  5. अब 9 बूंदें पुदीने, 7 बूँदें आर्निका और 5 बूँदें लौंग के तेलों की मिलाएँ।
  6. सामग्री को अच्छी तरह से एक लकड़ी की छड़ी का उपयोग करके मिलाएं।
  7. एक साफ कंटेनर में इस मिश्रण को भर लें।
  8. कमरे के तापमान पर कुछ घंटों के लिए इसे ठंडा होना छोड़ दें।

अपनी उंगली में कुछ बाम लें।
धीरे से प्रभावित क्षेत्र में इसे लगाएँ, 5 मिनट के लिए एक परिपत्र गति में मालिश करें।
इस क्षेत्र को कवर करने की कोई जरूरत नहीं है। बाम को ऐसे ही छोड़ दे और ध्यान रहें इसे धोना नहीं है।

वैसे तो प्राकृतिक दर्द बाम से दुष्प्रभाव दुर्लभ ही होते हैं, लेकिन फिर भी सुनिश्चित करना मदद करता है कि आप उचित सावधानी बरटेन

  1. सुनिश्चित करें कि आपको इसमें उपयोग किसी भी सामग्री से एलर्जी तो नहीं है।
  2. खुले घाव, नाक या आंखों पर बाम को ना लगाएँ।
  3. यह केवल बाह्य उपयोग के लिए है। इसे निगल मत।
  4. यदि आपकी त्वचा को बाम लगाने के बाद परेशानी महसूस होती है, तो बाम को तुरंत मिटा दें।
और पढ़ें ...