myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

शरीर में मांसपेशियों की एक जटिल प्रणाली होती है और शरीर के किसी भी हिस्सों की मांसपेशियों में आपको कभी भी और कहीं भी दर्द हो सकता है। यह बहुत आम शिकायत है जो ज़रूरत से ज़्यादा कार्य करने पर उत्पन्न होने लगती है। आमतौर पर दर्द 12 से 48 घंटों के भीतर महसूस होने लगता है। कुछ मामलों में मांसपेशियों में दर्द एक छोटी सी झुंझलाहट से शुरू होता है लेकिन कई बार यह आपके स्वास्थ्य के लिए गंभीर भी हो जाता है। जिस वजह से आप अपनी दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को पूरा करने में कठिनाई महसूस करने लगते हैं। 

(और पढ़ें – मांसपेशियों में दर्द के लक्षण)

अगर आप मांसपेशियों के दर्द से झूझ रहे हैं तो सबसे पहली चीज़ आपको अपने शरीर को पर्याप्त पानी से हाइड्रेटेड रखना होगा। अगर आपके शरीर में पर्याप्त पानी नहीं रहेगा तो आपकी मांसपेशियां अकड़ जाएंगी, और साथ ही आसानी से उन्हें चोट भी लग सकती है। इसके अलावा आप कुछ प्राकृतिक घरेलू उपायों को भी अपना सकते हैं जिससे आपकी मांसपेशियां स्वस्थ रहेंगी और किसी भी प्रकार का दर्द भी महसूस नहीं होगा।

तो आइये जानते है मांसपेशियों के दर्द को कम करने के लिए कुछ घरेलू उपाय –

  1. मांसपेशियों के दर्द का उपाय है बर्फ - Cold pack for muscle pain in Hindi
  2. गर्म पानी है मांसपेशियों के दर्द से छुटकारा पाने का तरीका - Hot water treatment for muscle pain in Hindi
  3. मांसपेशियों के दर्द से बचने का उपाय है खट्टी चेरी - Tart cherry juice for muscle pain in Hindi
  4. मांसपेशियों के दर्द को दूर करने के लिए हल्दी है फायदेमंद - Turmeric for muscle pain in Hindi
  5. अदरक है मांसपेशियों के दर्द के घरेलू उपाय - Ginger benefits for muscle pain in Hindi
  6. सेब का सिरका है मांसपेशियों के दर्द से बचने का नुस्खा - Apple cider vinegar for muscle pain in Hindi
  7. मांसपेशियों में दर्द होने पर लाल मिर्च है फायदेमंद - Cayenne pepper for muscle pain in Hindi
  8. मांसपेशियों में दर्द का उपाय है रोज़मरी - Rosemary for muscle pain in Hindi
  9. मांसपेशियों में दर्द का घरेलू नुस्खा है सरसों का तेल - Mustard oil for muscle pain in Hindi
  10. मांसपेशियों के दर्द का रामबाण उपाय है केला - Banana for muscle pain in Hindi

जहां जहां आपको मांसपेशियों में दर्द है वहां अगर आप बर्फ के पैक को लगाते हैं तो इससे आपको दर्द और सूजन को कम करने में मदद मिलेगी। बर्फ रक्त वाहिकाओं (blood vessels) को कसने में मदद करेगा जिससे कि आपके रक्त का प्रवाह प्रभावित क्षेत्रों में कम होगा। (और पढ़ें - जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए घर पर ही बनाएँ यह पेन रिलीफ बाम)

बर्फ पैक का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक पतले तौलिये में मुट्ठीभर बर्फ को रखें।
  2. अब इस तौलिये को लपेटकर प्रभावित क्षेत्रों पर लगभग 15 मिनट के लिए लगाकर रखें।
  3. इस प्रक्रिया को हर घंटे बाद दोहराएं।
  4. 24 से 72 घंटों के लिए इस प्रक्रिया को ज़रूर करें। 

दर्द के शुरू होने के 24 घंटे बाद एक गर्म पानी से अपने प्रभावित क्षेत्रों पर सिकाई करें। इससे आपके मांसपेशियों में दर्द नहीं होगा और जल्द राहत भी मिलेगी। इसका उपयोग करने से रक्त के प्रवाह में वृद्धि होगी और उपचार प्रक्रिया को भी एक गति मिलेगी। दर्द शुरू होने के 24 घंटों के भीतर इस प्रक्रिया का इस्तेमाल न करें। (और पढ़ें - चोट की सूजन का इलाज करें ये घरेलु उपचार)

गर्म पानी का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. अपने नहाने के टब में सबसे पहले गर्म पानी भरे और एक कप उसमे सेंधा नमक मिलाएं। सेंधा नमक में मैग्नीशियम मौजूद होता है जो आपकी मांसपेशियों के दर्द को कम करता है।
  2. इस टब में कम से कम बीस मिनट के लिए बैठे रहें।
  3. पूरे दिन में इस प्रक्रिया को एक या दो बार ज़रूर करें। इसकी मदद से आपके मांसपेशियों के अकड़न और दर्द को कम करने में मदद मिलेगी।
  4. अगर आपके पास टब नहीं है तो आप मग से भी अपने प्रभावित क्षेत्रों पर पानी को डाल सकते हैं।

खट्टी चेरी आपको व्यायाम के बाद होने वाले मांसपेशियों के दर्द से राहत दिलाती है। अध्ययन के अनुसार खट्टी चेरी में कई एंटीऑक्सिडेंट और सूजनरोधी गुण होता हैं जो सूजन और मांसपेशियों में होने वाले दर्द को कम करने में मदद करते हैं। (और पढ़ें - चेरी के फायदे और नुकसान)

ट्टी चेरी का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. व्यायाम के बाद मांसपेशियों में होने वाले दर्द के लिए आप एक कप या आधा कप खट्टी चेरी का सेवन करें।
  2. मांसपेशियों की सूजन और पीड़ा को कम करने के लिए आप बिन चीनी के खट्टी चेरी के जूस का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। 

हल्दी एक दर्द निवारक और सूजनरोधी गुण के रूप में कार्य करती है।

हल्दी का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक कप दूध में एक चम्मच हल्दी को मिला लें। अब इस मिश्रण को हल्की आंच पर गर्म करें। अब इस मिश्रण को गर्म होने के बाद पी जाएँ।
  2. इसके अलावा आप ताज़ी हल्दी, नींबू का जूस और नमक को एक साथ मिलाकर लेप तैयार कर लें। अब इस लेप को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं और इसे 30 मिनट के लिए ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें। 30 मिनट के बाद लेप को पानी से धो लें। इस मिश्रण को पूरे दिन में दो बार ज़रूर लगाएं। 

(और पढ़ें - हल्दी के फायदे और नुकसान)

अदरक एक प्राकृतिक सूजनरोधी गुण के रूप में कार्य करता है और रक्त परिसंचरण और रक्त प्रवाह को बेहतर बनाता है। अदरक के सेवन से मांसपेशियों का दर्द दूर होता है। एक अध्ययन के अनुसार अगर आप कच्ची अदरक का सेवन करते हैं या उसे जलाकर खाते हैं तो आपकी मांसपेशियों और चोट का इलाज बहुत अच्छे से होगा। 

अदरक का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक कपडे में कसी हुई अदरक को कसकर लपेटकर रख दें। अब इस कपडे को गर्म पानी में डाल दें। ध्यान रहे एक मिनट से कम अवधि तक इस कपडे को गर्म पानी में डाले रखना है। अब पानी में से कपडे को निकाल लें और ठंडा होने के लिए रख दें। ठंडा होने के बाद अपने प्रभावित क्षेत्रों पर इस कपडे को 15 मिनट के लिए लगाकर रखें। दो से तीन दिनों के लिए इस प्रक्रिया को पूरे दिन में कई बार दोहराएं।
  2. इसके अलावा आप तीन कप अदरक की चाय को रोज़ाना पियें। ये हर्बल चाय बनाने के लिए, अदरक को छोटा छोटा काट लें और उसे दो कप गर्म पानी में डाल दें। 10 मिनट के लिए अदरक को उबलने दें। अब इस मिश्रण को छान लें और इसमें थोड़ा शहद मिलाकर पी लें। 

(और पढ़ें - अदरक के फायदे और नुकसान)

सेब का सिरका आपके मांसपेशियों के दर्द को दूर करने के लिए एक और महान उपाय है। इसमें सूजनरोधी और क्षारीय गुण भी होते हैं जो दर्द और सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

सेब का सिरका का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. अपने नहाने के टब में सबसे पहले गुनगुना पानी डालें और इसमें दो कप सेब का सिरका मिलाएं। अब इस टब में 15 से 20 मिनट तक बैठे रहें। इस प्रक्रिया का इस्तेमाल रोज़ करें तब तक जब तक कि आपकी मांसपेशियों को आराम नहीं मिल जाता।
  2. इसके अलावा आप एक चम्मच सेब का सिरका और एक चम्मच शहद को गर्म पानी में मिलाकर पी सकते हैं। हफ्ते भर के लिए इस मिश्रण का प्रयोग रोज़ाना एक बार ज़रूर करें। 

(और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे और नुकसान)

लाल मिर्च में सूजनरोधी और पीड़ा को दूर करने के गुण मौजूद होते हैं। जिसकी मदद से मांसपेशियों में दर्द, अकड़न और सूजन कम होती है।

लाल मिर्च का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. सबसे पहले दो चम्मच जैतून के तेल में दो चम्मच लाल मिर्च मिलाएं। अब इस मिश्रण को प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं। अब मिश्रण को लगाने के बाद उस जगह को किसी कपडे से लपेट लें और पूरी रात उसे ऐसे ही छोड़ दें। इस लेप को दो से तीन दिन तक इस्तेमाल ज़रूर करें।
  2. इसके अलावा एक या आधा कप नारियल के तेल में पांच चम्मच लाल मिर्च को मिलाएं। अब इस मिश्रण को हल्का गर्म कर लें और 24 घंटे तक उसे ऐसे ही छोड़ दें। 24 घंटे के बाद मिश्रण को छान लें और अपने प्रभावित क्षेत्रों पर इस मिश्रण को पूरे दिन में दो से तीन बार ज़रूर लगाएं। इस मिश्रण का प्रयोग तब तक करें जब तक आपकी मांसपेशियों का दर्द न चला जाए।
  3. इसके साथ ही आप लाल मिर्च को सलाद, सूप और अन्य आहार में ऊपर अलग से डालकर भी खा सकते हैं। 

(और पढ़ें - लाल मिर्च के फायदे और नुकसान)

ताज़ा और सूखे रोजमेरी की पत्तियों में सूजनरोधी गुण होते हैं जो मांसपेशियों की सूजन और दर्द से जल्द रहत दिलाने में मदद करते हैं।

रोज़मरी का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. आठ कप पानी में तीन मुट्ठी सूखे रोजमेरी की पत्तियों को डालें।
  2. अब उसे उबलने के लिए रख दें।
  3. उबलने के बाद उसे आंच पर से हटा दें और 20 मिनट तक ऐसे ही छोड़ दें।
  4. इस मिश्रण को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर 15 मिनट के लिए लगाकर रखें।
  5. मिश्रण का उपयोग पूरे दिन में दो से तीन बार ज़रूर करें। 

(और पढ़ें - रोजमेरी के फायदे और नुकसान)

सरसों का तेल को एक प्राकृतिक औषधि माना जाता है। जिसके उपयोग से त्वचा की सतह पर रक्त प्रवाह को बढ़ाने में मदद मिलती है। इसके उपयोग से आपकी मांसपेशियों की अकड़न कम होगी और दर्द से भी जल्द राहत मिलेगी।

सरसों का तेल का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. 10 लहसुन के फाकों को तोड़ लें।
  2. सरसों के चार चम्मच में उन्हें गर्म करें जब तक कि फाके सुनहरे भूरे रंग की न हो जाएं।
  3. इसमें आप कपूर के थोड़े टुकड़े भी डाल सकते हैं। (वैकल्पिक)
  4. मिश्रण को अब ठंडा कर लें और इसे छान लें।
  5. धीरे-धीरे प्रभावित क्षेत्रों पर इस तेल से मालिश करें।
  6. कुछ दिनों के लिए इस उपाय को एक दिन में कई बार करने की कोशिश करें। 

(और पढ़ें - सरसों के तेल के फायदे और नुकसान)

केला मांसपेशियों के दर्द को कम करने के लिए एक बहुत अच्छा घरेलु उपाय है। यह फल पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत है। पोटेशियम की कमी से मांसपेशियों में कमजोरी, थकान और ऐंठन शुरू होने लगती है। (और पढ़ें – थकान कम करने के घरेलू उपाय)

केले का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. मांसपेशियों के दर्द और अकड़न से छुटकारा पाने के लिए रोज़ केला ज़रूर खाएं।
  2. इसके अलावा आप केले का मिल्क शेक भी पी सकते हैं। इस मिश्रण के सेवन से आपके शरीर को पोटैशियम और कैल्शियम उच्च मात्रा में उपलब्ध होंगे। (और पढ़ें - केले के फायदे और नुकसान)

अगली बार जब आपको मांसपेशियों में दर्द हो तो दर्द की दवाइयां लेने के बजाय इन उपायों का इस्तेमाल करें। अगर मांसपेशियों में दर्द ज़्यादा बढ़ने लगे तो अपने डॉक्टर से इस बारे में जानकारी लें।


मांसपेशियों के दर्द के लिए घरेलू उपाय सम्बंधित चित्र

और पढ़ें ...

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia [Internet]. US National Library of Medicine. Bethesda. Maryland. USA; Muscle aches
  2. Michigan Medicine: University of Michigan [internet]. US; Rest, Ice, Compression, and Elevation (RICE)
  3. University of Minnesota [Internet]. US; How Does Massage Work?
  4. Guo Jianmin, et al. Massage Alleviates Delayed Onset Muscle Soreness after Strenuous Exercise: A Systematic Review and Meta-Analysis. Front Physiol. 2017; 8: 747. PMID: 29021762.
  5. Johns Hopkins Medicine [Internet]. The Johns Hopkins University, The Johns Hopkins Hospital, and Johns Hopkins Health System; Therapeutic Massage
  6. Gröber Uwe, Werner Tanja, Vormann Jürgen, Kisters Klaus. Myth or Reality—Transdermal Magnesium?. Nutrients. 2017 Aug; 9(8): 813. PMID: 28788060.
  7. Nicol LM, Rowlands DS, Fazakerly R, Kellett J. Curcumin supplementation likely attenuates delayed onset muscle soreness (DOMS). Eur J Appl Physiol. 2015;115(8):1769–1777. PMID: 25795285.
  8. Gauri Md Izhar. Local application of turmeric on delayed onset muscle soreness. Br J Sports Med. 2010; 44(Suppl I): i1–i82.
  9. Meamarbashi Abbas. Herbs and natural supplements in the prevention and treatment of delayed-onset muscle soreness. Avicenna J Phytomed. 2017 Jan-Feb; 7(1): 16–26. PMID: 28265543.
  10. Kim Jooyoung and Lee Joohyung. A review of nutritional intervention on delayed onset muscle soreness. Part I. J Exerc Rehabil. 2014 Dec; 10(6): 349–356. PMID: 25610818.
  11. Caldwell AR, Tucker MA, Butts CL, et al. Effect of Caffeine on Perceived Soreness and Functionality Following an Endurance Cycling Event. J Strength Cond Res. 2017;31(3):638–643. PMID: 27552210.
  12. US Food and Drug Administration (FDA) [internet]. Maryland. US; Spilling the Beans: How Much Caffeine is Too Much?
  13. Grgic Jozo, Trexler Eric T., Lazinica Bruno, Pedisic Zeljko. Effects of caffeine intake on muscle strength and power: a systematic review and meta-analysis. J Int Soc Sports Nutr. 2018; 15: 11. PMID: 29527137.
  14. Cleary Michelle A, Sitler Michael R, Kendrick Zebulon V. Dehydration and Symptoms of Delayed-Onset Muscle Soreness in Normothermic Men. J Athl Train. 2006; 41(1): 36–45. PMID: 16619093.
  15. Lau Wing Yin, Kato Haruyasu, Nosaka Kazunori. Water intake after dehydration makes muscles more susceptible to cramp but electrolytes reverse that effect. BMJ Open Sport Exerc Med. 2019; 5(1): e000478. PMID: 30899546.
ऐप पर पढ़ें