myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कई बीमारियां हमारे शरीर में हाथों के जरिए ही फैलती हैं। जब हम गंदे हाथों से कुछ खाते हैं तो कीटाणु सीधा हमारे शरीर में प्रवेश कर जाते हैं और यहीं से कई तरह की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं की शुरुआत होती है।

हर साल 15 अक्‍टूबर को ‘ग्‍लोबल हैंड वॉशिंग डे’ मनाया जाता है। हाथों को अच्‍छी तरह से धोने के फायदों और महत्‍व के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए ये दिवस मनाया जाता है। बीमारियों से बचने का ये सबसे असरदार और किफायती तरीका है। अक्‍सर लोग खाना खाने से पहले हाथ नहीं धोते हैं जिसकी वजह से उनका शरीर कई बीमारियों का शिकार बन जाता है। इसी स्थिति को दूर करने और लोगों को स्‍वस्‍थ बनाने के लिए हर साल 15 अक्‍टूबर को ‘ग्‍लोबल हैंड वॉशिंग डे’ मनाया जाता है।

स्‍वच्‍छ विद्यालय स्‍वच्‍छ भारत

भारत में स्‍वच्‍छ विद्यालय स्‍वच्‍छ भारत अभियान को यूनिसेफ (यूनाइटेड नेशंस चिल्‍ड्रेंस फंड) का समर्थन प्राप्त है। इसका उद्देश्‍य 11 करोड़ बच्‍चों को मिड-डे मील से पहले हाथ धोना सिखाना है।

क्‍यों जरूरी है हाथ धोना

गंदे हाथों से खाना खाने या कुछ पीने पर कीटाणु हमारे शरीर के अंदर चले जाते हैं।  ये कीटाणु बढ़कर शरीर को बीमार बनाने लगते हैं। कई स्‍टडी में भी ये बात सामने आ चुकी है कि हाथ धोकर खाना स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी होता है।

खाने से पहले ही नहीं बल्कि खाना बनाने से पहले भी हाथ धोना जरूरी है। इससे बच्‍चों में दस्‍त का खतरा कम रहता है। अध्‍ययनों की मानें तो हाथ धोने से दस्‍त के मामलों में 30 फीसदी तक कमी आ सकती है। खाना खाने से पहले हाथ धोने से सांस से संबंधित संक्रमण का खतरा कम हो सकता है। इससे कमजोर इम्‍यून सिस्‍टम वाले लोगों जैसे कि एड्स के मरीजों में दस्‍त की संभावना कम रहती है।

कब-कब धोने चाहिए हाथ

निम्‍न स्थितियों में एंटीसेप्टिक साबुन से हाथ धोना जरूरी है:

  • खाना बनाने से पहले और बाद में
  • भोजन के साथ हानिकारक बैक्‍टीरिया को शरीर में जाने से रोकने के लिए भोजन से पहले हाथ धोना
  • टॉयलेट इस्‍तेमाल करने और बच्‍चे की नैपी बदलने के बाद
  • बीमार बच्‍चे या वयस्‍क के पास आने के बाद और पहले
  • बगीचे या धूल-मिट्टी से भरी किसी जगह पर काम करने के बाद
  • पशुओं को छूने के बाद

सैनिटाइजर से क्‍यों बेहतर है साबुन

सैनिटाइजर में 60 से 90% मात्रा एल्‍कोहल की होती है जो कि हाथों पर मौजूद कीटाणुओं को नष्‍ट करने में असरकारी है लेकिन ये कीटाणुओं को पूरी तरह से खत्‍म नहीं करता है। इसके अलावा सैनिटाइजर कुछ तरह के बैक्‍टीरिया जैसे कि क्लोस्ट्रिडियम डिफ्फिसिल को खत्‍म करने में सक्षम नहीं होते हैं।

हालांकि, सैनिटाइजर सबसे ज्‍यादा संचारित (एक-दूसरे से फैलने वाली) बीमारियों से बचाने में मदद कर सकता है।

अगर आप भी खुद को और अपने परिवार के सभी सदस्‍यों को स्‍वस्‍थ रखना चाहते हैं तो हाथ धोने के महत्‍व को समझें। अपने बच्‍चों को शुरुआत से ही खाना खाने से पहले और उपरोक्‍त बताई गई स्थितियों में हाथ धोने की आदत डालें।

जो महिलाएं घर में खाना बनाती हैं, उन्‍हें खाना बनाने से पहले अच्‍छे एंटीसेप्टिक साबुन या हैंडवॉश से हाथ धोने चाहिए। इससे उनके परिवार के सभी सदस्‍य और बच्‍चों में बीमारियों के खतरे को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

और पढ़ें ...