myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

एंटीसेप्टिक एक ऐसा पदार्थ है जो सूक्ष्मजीवों के विकास को रोकता या धीमा कर देता है। सर्जरी और अन्य प्रक्रियाओं के दौरान संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए अक्सर अस्पतालों और अन्य चिकित्सा सेटिंग्स में उनका उपयोग किया जाता है।

एंटीसेप्टिक उत्पादों में सक्रिय रासायनिक एजेंटों (बायोसाइड्स) की एक विस्तृत विविधता पाई जाती है, जिनमें से अल्कोहल, फिनोल, आयोडीन और क्लोरीन सहित कई रासायनिक एजेंट सैकड़ों वर्षों से उपयोग किए जाते रहे हैं।

(और पढ़े - अल्कोहल से करें मुंहासे का इलाज)

यदि आपने कभी भी किसी प्रकार की सर्जरी देखी है, तो संभवतः आपने सर्जन को अपने हाथों और बाहों को नारंगी रंग के पदार्थ से रगड़ते हुए देखा होगा। यह एक एंटीसेप्टिक है।

चिकित्सा सेटिंग्स में विभिन्न प्रकार के एंटीसेप्टिक्स का उपयोग किया जाता है। इनमें हाथों को रगड़ना, धोना और त्वचा को साफ करना शामिल हैं। कुछ एंटीसेप्टिक्स घरेलू उपयोग के लिए ओटीसी के रूप में मेडिकल पर भी उपलब्ध हैं।

19वीं शताब्दी में एंटीसेप्टिक रसायनों और सिद्धांतों की खोज और विकास शुरू हुआ और आज अधिकांश देशों में बड़े पैमाने पर इनका उपयोग किया जाता है।

एंटीसेप्टिक्स के बारे में और जानने के लिए पढ़ें यह लेख इसमें विस्तार से बताया गया है कि एंटीसेप्टिक क्या है, एंटीसेप्टिक क्रीम, लोशन, साबुन, तरल और एंटीसेप्टिक पाउडर आदि एंटीसेप्टिक उत्पादों के बारे में जानकारी के साथ ही एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक में अंतर के बारे में भी बताया गया है।

  1. एंटीसेप्टिक क्या है - Antiseptic kya hai in hindi
  2. एंटीसेप्टिक के प्रकार - Antiseptic types in hindi
  3. एंटीसेप्टिक क्रीम - Antiseptic cream in hindi
  4. एंटीसेप्टिक साबुन - Antiseptic soap in hindi
  5. एंटीसेप्टिक लोशन - Antiseptic lotion in hindi
  6. एंटीसेप्टिक लिक्विड - Antiseptic liquid in hindi
  7. एंटीसेप्टिक पाउडर - Antiseptic powder in hindi
  8. एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक में अंतर - Difference between Antiseptic and Antibiotic in hindi

एंटीसेप्टिक एक रासायनिक एजेंट है जो शरीर की बाहरी सतहों पर सूक्ष्म जीवों (रोगाणुओं) के विकास को धीमा करता है या रोक देता है और संक्रमण को रोकने में मदद करता है। एंटीसेप्टिक्स और एंटीबायोटिक्स दोनों अलग-अलग हैं, क्योंकि एंटीबायोटिक्स शरीर के अंदर सूक्ष्म जीवों को नष्ट करती है। इनके अंतर के बारे में अंतिम सेक्शन में विस्तार से बताया गया है।

कीटाणुनाशक से भी एंटीसेप्टिक्स को अलग माना जाता है, क्योंकि कीटाणुनाशक निर्जीव (गैर-जीवित) वस्तुओं पर पाए जाने वाले सूक्ष्म जीवों को नष्ट करते है जबकि एंटीसेप्टिक्स जीवित जीवों के शरीर पर उपयोग किये जाते हैं। हालांकि, एंटीसेप्टिक्स को अक्सर त्वचा के कीटाणुनाशक के रूप में जाना जाता है।

अधिकांश रासायनिक एजेंटों को एंटीसेप्टिक और कीटाणुनाशक दोनों के रूप में उपयोग किया जा सकता है। किस उद्देश्य के लिए इसका उपयोग किया जाता है वह इसके कंसंट्रेशन से निर्धारित होता है। उदाहरण के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड का 6% सॉल्युशन घावों को साफ करने के लिए उपयोग किया जाता है, जबकि 30% से भी अधिक मात्रा के स्ट्रांग सॉल्युशन को उद्योगों में ब्लीच और ऑक्सीडाइजिंग एजेंट के रूप में उपयोग किया जाता है।

बीमारी के कारण रोगाणुओं की भूमिका की खोज 1800 के दशक के अंत से पहले तक नहीं की जा सकी थी, इसलिए 20 वीं शताब्दी आने से पहले तक स्वच्छता का वास्तविक चिकित्सा महत्व व्यापक रूप से नहीं समझा गया था।

एक अस्पताल में एंटीसेप्टिक नीतियों का पहला कार्यान्वयन 1840 के उत्तरार्ध में ऑस्ट्रिया के वियना में हुआ, जो डॉ इग्नाज़ सेममेलवेइस द्वारा संचालित किया जा रहा था। वे एक चिकित्सक थे जो अपने अस्पताल में मरीजों की विशाल मृत्यु दर को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे थे।

इस बुरी स्थिति से निकलने के लिए, सेममेलवेइस ने अपने उन डॉक्टरों को रोगियों को देखने से पहले क्लोरीन ब्लीच सॉल्यूशन में अपने हाथ धोने के निर्देश दिए जो मृत शरीर के पास थे। इससे रोगियों की मौत की दर तुरंत गिर गई और वास्तव में कैसे या क्यों जाने बिना ही डॉ सेममेलवेइस ने दवा जगत में पहला संक्रमण नियंत्रण प्रोटोकॉल सफलतापूर्वक कार्यान्वित किया था।

एंटीसेप्टिक के कुछ विशिष्ट उपयोग निम्नलिखित हैं -

  • हाथ धोने के लिए - चिकित्सा पेशेवर अस्पतालों में अपने हाथों को साफ रखने के लिए एंटीसेप्टिक्स का उपयोग करते हैं।
  • श्लेष्म झिल्ली (म्यूकस मेम्बरेन) में कीटाणुनाशक के रूप में - कैथेटर डालने से पहले क्षेत्र को साफ करने के लिए एंटीसेप्टिक्स को मूत्रमार्ग, मूत्राशय या योनि में उपयोग किया जा सकता है। वे इन क्षेत्रों में संक्रमण का इलाज करने में भी मदद कर सकते हैं।
  • ऑपरेशन से पहले त्वचा की सफाई - एंटीसेप्टिक्स किसी भी तरह की सर्जरी से पहले त्वचा पर पाए जाने वाले किसी हानिकारक सूक्ष्मजीव के खिलाफ बचाव के लिए त्वचा पर उपयोग किये जाते हैं।
  • त्वचा के संक्रमण का इलाज - मामूली कटने पर, जलने पर और घावों में संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए आप ओटीसी के रूप में मिलने वाले एंटीसेप्टिक्स खरीद सकते हैं। उदाहरण के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड और अल्कोहल इत्यादि। (और पढ़े - कट लगने पर प्राथमिक उपचार)
  • गले में इन्फेक्शन और मुंह में संक्रमण का इलाज - बैक्टीरिया से संक्रमण के कारण होने वाली गले में दर्द की परेशानी में मदद करने के लिए कुछ गले के लोजेंज (गले में खराश दूर करने के लिए गोलियां जैसे कि विक्स) में एंटीसेप्टिक्स होते हैं।

ध्यान रखें कि पानी के साथ मिलाए बिना त्वचा पर लगाने पर कुछ स्ट्रांग एंटीसेप्टिक्स के रासायनिक से त्वचा जल सकती है या गंभीर जलन हो सकती है। यहां तक ​​कि अगर लंबे समय तक उन्हें त्वचा पर रहने दिया जाता है तो पानी में घोलने पर भी एंटीसेप्टिक्स से कुछ लोगों को जलन हो सकती है। इस प्रकार की जलन को “इर्रिटेट कांटेक्ट डर्मेटाइटिस” (एक प्रकार का त्वचा रोग) कहा जाता है।

यदि आप घर पर एंटीसेप्टिक का उपयोग कर रहे हैं, तो इसे एक समय में एक सप्ताह से अधिक समय तक उपयोग न करें।

निम्नलिखित अधिक गंभीर घावों के लिए ओटीसी के रूप में मिलने वाले एंटीसेप्टिक्स का उपयोग न करें, जैसे -

ये सभी परेशानिया एक अच्छे डॉक्टर द्वारा ही ठीक करवानी चाहिए। यदि आप एंटीसेप्टिक से घाव का इलाज कर रहे हैं और आपको ऐसा लगता है कि इससे इलाज नहीं हो रहा है तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

एंटीसेप्टिक्स को उनके रासायनिक ढांचे के अनुसार वर्गीकृत किया जा सकता है। सभी प्रकार के एंटीसेप्टिक्स त्वचा को कीटाणु रहित करने के काम आते हैं, लेकिन कुछ के अतिरिक्त उपयोग भी होते हैं।

विभिन्न उपयोगों वाले एंटीसेप्टिक्स के कुछ सामान्य प्रकार निम्नलिखित हैं -

  • क्लोरोक्साइडिन और अन्य बिगुअनाइड्स - इन्हें खुले घावों और मूत्राशय की सफाई के लिए उपयोग किया जाता है। (और पढ़े - घाव के निशान हटाने के तरीके)
  • जीवाणुरोधी डाई - घावों और जलन के इलाज के लिए ये मदद करते हैं।
  • पेरोक्साइड और परमैंगनेट - इन्हें अक्सर एंटीसेप्टिक माउथ वाश और खुले घावों में उपयोग किया जाता है।
  • हलोजनेटेड फेनोल डेरिवेटिव - इसका प्रयोग मेडिकल-ग्रेड साबुन और सफाई करने के सॉल्यूशन में किया जाता है।

(और पढ़ें - एंटीबायोटिक क्या है)

एंटीसेप्टिक क्रीम क्या है?

एंटीसेप्टिक क्रीम, जिसे एंटीबायोटिक या प्राथमिक चिकित्सा क्रीम भी कहा जाता है, मेडिकल पर बेचे जाते हैं। उनमें या तो स्ट्रेप्टोमाइसिन या पेनिसिलिन एंटीबायोटिक्स मिले होते हैं जो संक्रमण का कारण बनने वाले जीवाणुओं को मारने में सक्षम होते हैं। कुछ एंटीसेप्टिक क्रीमों में हल्के एनेस्थेटिक भी होते हैं जो मामूली दर्द से राहत देते हैं और उपचार प्रक्रिया के दौरान त्वचा को शांत रखते हैं।

एंटीसेप्टिक क्रीम का इस्तेमाल

शरीर पर लगाने से एंटीसेप्टिक क्रीम सूक्ष्मजीवों के विकास को रोकता है। ज्यादातर मामलों में, काम करने के लिए एंटीसेप्टिक क्रीम की केवल एक पतली परत आवश्यक है।

एंटीसेप्टिक क्रीम घावों का दर्द दूर करता है और घावों को ठीक करता है, संक्रमण के खिलाफ सुरक्षा करता है और कट और छिलने, मामूली जलन और भाप से जलना, छोटे क्षेत्र में सनबर्न, शुष्क उखड़ी त्वचा, बच्चों को डायपर पहनाने से होने वाले दाने, कीड़े के काटने, दाग और मुंहासे के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

(और पढ़े - डायपर के रैशेस हटाने के घरेलू नुस्खे)

इस दवा का उपयोग करने से पहले यह ध्यान रखें कि यदि आपको इस प्रकार की क्रीम में पायी जाने वाली किसी भी सामग्री से एलर्जी है तो इसका उपयोग न करें। केटोस्टराइल अल्कोहल त्वचा पर रिएक्शन का कारण बन सकता है, उदाहरण के लिए कांटेक्ट डर्मेटाइटिस इत्यादि। यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं तो इस दवा का उपयोग कर सकती है।

इस प्रकार की किसी क्रीम का उपयोग करने के लिए सबसे पहले अपने डॉक्टर से बात करें, अगर वे इसके उपयोग की अनुमति देते हैं तो निम्नलिखित तरीके से इसे उपयोग कर सकते हैं -

  • उपयोग से पहले ट्यूब की सील टूटी नहीं है, यह जाँच लें। यदि ऐसा है, तो क्रीम का उपयोग न करें।
  • इसे केवल त्वचा पर लगाएं।
  • बार-बार या लंबे समय तक इसका उपयोग न करें।
  • उपयोग से पहले और बाद में अच्छी तरह से हाथ धोएं
  • नल के पानी के नीचे त्वचा के प्रभावित क्षेत्र को धो लें और सूखा कर अपनी अंगुलियों या गौज का उपयोग करके क्रीम को धीरे-धीरे लगा सकते हैं।
  • अतिरिक्त सुरक्षा के लिए प्लास्टर या ड्रेसिंग का उपयोग करें, लेकिन जलने वाले और भाप से जलने वाले क्षेत्र को खुला छोड़ना सबसे अच्छा होता है।

यदि लक्षण दूर नहीं होते हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें। अगर कोई गलती से इस क्रीम को निगल जाता है तो उसे बहुत सारा दूध पीलाएं और अगर जलन हो तो डॉक्टर के पास ले कर जाएं।

एंटीसेप्टिक क्रीम के साइड इफ़ेक्ट

इस प्रकार की क्रीम्स के कुछ संभावित साइड इफेक्ट्स, एलर्जीक रिएक्शन जैसे त्वचा पर दाने, लाल या खुजली वाली त्वचा इत्यादि। हालाँकि, ज्यादातर लोगों को कोई समस्या नहीं होगी। यदि आप इन साइड इफेक्ट्स का सामना करते हैं तो क्रीम का उपयोग करना बंद कर दें और डॉक्टर से जाकर मिलें।

एंटीसेप्टिक साबुन क्या है?

एंटीसेप्टिक साबुन, जिसे कभी-कभी एंटीबैक्टीरियल साबुन या एंटी-फंगल साबुन कहा जाता है, तरल या ठोस रूप में आने वाला साबुन होता है जिसमें त्वचा पर लगाने से संक्रमण की संभावना कम होने का गुण होता है।

इन उत्पादों में एंटीमाइक्रोबायल गुण भी होते हैं, जिसका अर्थ है कि वे बैक्टीरिया, वायरस या कवक जैसे सूक्ष्म जीवों के विकास को रोकते हैं या उन्हें मारते हैं। अल्कोहल, ट्राइकलोसन और टेट्रसोडियम ईडीटीए आमतौर पर साबुन में उपयोग किए जाने वाले तीन एंटीसेप्टिक्स होते हैं तथा ये एंटीबैक्टीरियल एंटीसेप्टिक्स के भी उदाहरण हैं, जिसका अर्थ है कि वे बैक्टीरिया के खिलाफ भी प्रभावी साबित हुए हैं।

कई एंटीसेप्टिक्स में इन विभिन्न गुणों का संयोजन होता है। चाय के पेड़ के तेल जैसे कुछ एसेंशियल ऑयल्स में प्राकृतिक रूप से होने वाले एंटीसेप्टिक्स होते हैं जिन्हें “टेर्पेन्स” कहा जाता है जिनमें एंटीबैक्टीरियल, एंटी-फंगल और एंटीवायरल गुण होते हैं। साबुन में इन विभिन्न प्रकार के एंटीसेप्टिक अवयवों का भी उपयोग किया जाता है।

(और पढ़े - फंगल इंफेक्शन का इलाज)

एंटीसेप्टिक साबुन के हानिकारक प्रभाव

कुछ वैज्ञानिक और चिकित्सा जगत के पेशेवर एंटीसेप्टिक साबुन के बढ़ते उपयोग और इतने सारे सफाई उत्पादों में जीवाणुरोधी अवयवों को मिलाने की आलोचना करते हैं। उनका मानना ​​है कि इस तरह से बैक्टीरिया के अधिक अवशेष एंटीबैक्टीरियल एजेंटों के प्रतिरोधी बन सकते हैं और इससे अंत में एंटीबायोटिक दवाएं कम प्रभावी हो सकती हैं।

अपनी प्राथमिक चिकित्सा के तौर पर अन्य त्वचा से संबंधित स्थितियों के साथ-साथ एंटीसेप्टिक लोशन का उपयोग एक मामूली कट या छिलने वाली जगह से कीटाणु साफ करने के लिए, जलने के इलाज के लिए, घाव की सफाई के लिए किया जा सकता है।

एंटीसेप्टिक लोशन क्लीनर भी उपलब्ध हैं। ये ऐसे बैक्टीरिया को कम करने में मदद कर सकते हैं, जो संभावित रूप से बीमारी का कारण बन सकता है और हाथ के संपर्क से होने वाले क्रॉस कंटैमिनेशन को रोक सकता है।

इस बात का विशेष ध्यान रखें कि ये लोशन केवल बाहरी उपयोग के लिए है और आंखों के नजदीक इसका उपयोग न करें। इसे बच्चों की पहुंच से दूर रखें। गलती से आंखों के संपर्क में आ आ जाने पर 15 मिनट तक पानी आँख पर डालें और यदि जलन बनी रहती है, तो डॉक्टर के पास जाएं।

एंटीसेप्टिक लिक्विड क्या है?

एंटीसेप्टिक लिक्विड पदार्थ जीवाणुरोधी और एंटीमाइक्रोबायल एजेंट होते हैं। इसका मतलब यह है कि उनका रासायनिक फॉर्मूलेशन उस क्षेत्र में मौजूद सूक्ष्मजीवों या बैक्टीरिया के गठन को दबाने में या मारने में सक्षम है जहां वे उपयोग किये जाते हैं।

एंटीसेप्टिक लिक्विड के उपयोग

एंटीसेप्टिक लिक्विड संक्रमण से आपकी सुरक्षा करता है और इसका उपयोग निम्नलिखित परेशानियों के लिए किया जा सकता है -

एंटीसेप्टिक्स के सबसे आम घटक अल्कोहल आधारित इथेनॉल, 1-प्रोपेनॉल, आइसोप्रोपोनोल इत्यादि होते हैं, जैसे की त्वचा पर एक इंजेक्शन लगाने से पहले इस्तेमाल किये जाते हैं, इन्हें सर्जिकल अल्कोहल कहा जाता है। बोरिक एसिड, आयोडीन और हाइड्रोजन पेरोक्साइड का उपयोग संक्रमण और घावों के इलाज के लिए किया जाता है।

डेटोल एंटीसेप्टिक लिक्विड जैसे उत्पाद क्लोरोक्साइलेनॉल का उपयोग करते हैं, जो एक व्यापक स्पेक्ट्रम एंटीमाइक्रोबायल एजेंट है और 100 से अधिक बीमारियों के रोगाणुओं को मारने में सक्षम होता है। ऐसे उत्पाद त्वचा पर उपयोग के लिए होते हैं और किसी भी हानिकारक साइड इफेक्ट्स का कारण नहीं बनते हैं।

एंटीसेप्टिक लिक्विड के नुकसान

एंटीसेप्टिक लिक्विड एक सुरक्षित उत्पाद है। किंतु यदि आपको इस तरह के एंटीसेप्टिक लिक्विड के किसी भी तत्व से एलर्जी हैं तो ऐसे उत्पादों का उपयोग न करें।

एंटीसेप्टिक पाउडर का उपयोग

एंटीसेप्टिक पाउडर एक दवा है जिसका उपयोग हल्के त्वचा संक्रमण, ओरल प्लेक, संक्रमण, एक्जिमा, त्वचा की जलन, बवासीर और अन्य स्थितियों के इलाज के लिए किया जाता है।

(और पढ़े - बवासीर के घरेलू उपाय)

एंटीसेप्टिक पाउडर हमारे शरीर पर हानिकारक सूक्ष्मजीवों को नष्ट करने का काम करता है। त्वचा के उस भाग के ऊपर यह एक सुरक्षा कवच बना लेता है जो नमी और परेशानियों से उस क्षेत्र की रक्षा करता है।

एंटीसेप्टिक पाउडर के नुकसान

एंटीसेप्टिक पाउडर के सबसे अधिक रिपोर्ट किए गए दुष्प्रभावों में से कुछ निम्नलिखित हैं -

एंटीबायोटिक्स और एंटीसेप्टिक्स दोनों ही रासायनिक पदार्थ हैं जो सूक्ष्मजीवों के वृद्धि और विकास को रोकते हैं, लेकिन एंटीबायोटिक्स केवल बैक्टीरिया के खिलाफ प्रभावी होते हैं जबकि एंटीसेप्टिक सूक्ष्मजीवों की एक विस्तृत श्रृंखला के खिलाफ कार्य करते हैं। ये दो शब्द भ्रमित करते हैं क्योंकि वे कुछ समान विशेषताओं को साझा करते हैं, लेकिन वे कई तरीकों से भिन्न होते हैं।

एंटीसेप्टिक्स और एंटीबायोटिक दवाओं के बीच एक महत्वपूर्ण अंतर यह है कि जीवाणु में अधिक उपयोग के बाद कुछ एंटीबायोटिक्स के प्रति प्रतिरोधकता विकसित करने की संभावना है या यदि एंटीबायोटिक थेरेपी पूरी नहीं होती है। हालाँकि, यह पुष्टि नहीं की जा सकी है कि क्या बैक्टीरिया में एंटीसेप्टिक के अधिक उपयोग से भी प्रतिरोध विकसित करने का गुण है।

नोट - ये लेख केवल जानकारी के लिए है। myUpchar किसी भी सूरत में किसी भी तरह की चिकित्सा की सलाह नहीं दे रहा है। आपके लिए कौन सी चिकित्सा सही है, इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करके ही निर्णय लें।

और पढ़ें ...