myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

वजन कम करने के लिए महिलाएं तरह-तरह के उपायों को आजमाती हैं। इसके बावजूद उन्हें लगता है कि उनका वजन उतना कम नहीं हुआ है जितनी उन्होंने मेहनत की है। दरअसल आपको यह तथ्य जानकर हैरानी होगी कि महिलाओं के मुकाबले पुरूषों का वजन जल्दी घटता है। हाल ही में एक नए अध्ययन ने इस तथ्य की पुष्टि की है।  इसके पीछे कई वजहें हैं, आइए जानते हैं इनके बारे में।

(और पढ़ें - वजन कम करने के आयुर्वेदिक उपाय)

पुरूषों में ज्यादा लीन फैट होता है
महिलाओं और पुरूषों की शारीरिक संरचना अलग-अलग होती है। पुरूषों के शरीर के ऊपरी हिस्से में ज्यादा मांसपेशियां होती है, जबकि महिलाओं में ऐसा नहीं है। इसलिए उनकी मांसपेशियां वसा से ज्यादा कैलोरी बर्न करती है। पुरूषों का मेटाबाॅलिज्म भी महिलाओं की तुलना में 5 से 10 फीसदी ज्यादा होता है। इसके लिए पुरूषों में मौजूद टेस्टोस्टेरोन को जिम्मेदार माना जा सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि टेस्टोस्टेरोन महिला हार्मोन से 10 गुणा ज्यादा शक्तिशाली है। टेस्टोस्टेरोन प्रोटीन सिंथेसाइस को बढ़ाता है और बाॅडी मास को कम करता है, जिससे मेटाबाॅलिक रेट बढ़ता है। कहने का मतलब यह है कि पुरूष पूरे दिन में ज्यादा कैलोरी बर्न करते हैं।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए नाश्ते में क्या खाएं)

पुरूषों का शरीर डाइट पर तुरंत प्रतिक्रिया करता है
जैसा कि पहले ही कहा गया है कि पुरूषों का मेटाबाॅलिज्म महिलाओं की तुलना में ज्यादा होता है। पुरूषों का शरीर उनकी डाइट पर तुरंत प्रतिक्रिया करता है। ब्रिटिश जरनल ऑफ न्यूट्रिशन के अध्ययन में कुछ पुरूष और महिलाओं को वेट लाॅस डाइट फाॅलो करने को कहा गया। वजन का रिकाॅर्ड रखने वालनों ने महसूस किया कि पुरूषों ने दो महीनों बाद दो गुना ज्यादा वजन कम किया। हालांकि 6 महीनों बाद महिलाओं ने पुरूषों के बराबर अपना वजन कम कर लिया था। अतः विशेषज्ञों का मानना है पुरुष का शरीर ऐसा है जो डाइट पर तुरंत प्रतिक्रिया करता है, लेकिन इसे मैनेज न किया जाए तो वजन फिर से अनियंत्रित हो सकता है। अत: वजन को नियंत्रित करने के लिए नियमित एक्सरसाइज करें और सही खानपान पर निर्भर रहें।

( और पढ़ें - वजन कम करने के लिए डाइट टिप्स)

मेटाबाॅलिक स्तरअलग-अलग होता है
महिलाओं की तुलना में पुरूषों में डाइट का मेटाबाॅलिक प्रभाव अलग-अलग होता है। पुरूषों का सारा वजन शरीर  के बीच के हिस्से में जमा होता है जिसे पेट की चर्बी कहा जाता है। यह अंदरूनी अंगों के आस-पास ज्यादा होता है। पेट की चर्बी कम करने पर मेटाबाॅलिक रेट बेहतर होता है। इससे कैलोरी ज्यादा बर्न होती है।

(और पढ़ें - पेट कम करने के उपाय)

महिलाओं का भी होता है वजन कम
ऐसा नहीं है कि सिर्फ पुरूषों का ही वजन तेजी से कम होता है। महिलाएं भी वजन कम कर सकती हैं। दरअसल महिलाओं में जांघ और कूल्हों की ओर ज्यादा वसा होती है, जो कि वजन संभालने के लिए उपयुक्त जगह मानी जाती है। जबकि पुरूषों में वसा उनके शरीर के बीच के हिस्से में मौजूद होती है। महिलाएं वसा को आसानी से संरक्षित कर सकती हैं। मतलब यह है कि एक्सरसाइज के द्वारा पुरूषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा वजन कम होता है।

(और पढ़ें - वजन घटाने के लिए एक्यूप्रेशर)

और पढ़ें ...