myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मोटापा आज की जीवन शैली की सबसे खतरनाक बीमारियों में से एक है और यह पूरी दुनिया में एक महामारी की तरह फैल रहा है। स्वाद और सुस्त रहने के कारण, मोटापे से ग्रस्त होना और अधिक वजन बढ़ना सभी को प्रभावित कर रहा है।

वज़न के साथ मुख्य समस्या यह है कि यह न केवल व्यक्ति के आत्मविश्वास और मानसिक स्थिरता (किसी का मजाक बनाना) को प्रभावित करता है बल्कि कई अन्य गंभीर बीमारियों के लिए एक कारण भी बनता है। (और पढ़ें - वजन घटाने के लिए अपनाएँ ये मजेदार लाइफस्टाइल टिप्स)

  1. आयुर्वेद के साथ करें वजन घटाने की जाँच - Analysing Weight Loss With Ayurveda in Hindi
  2. वजन कम करने के लिए आयुर्वेदिक टिप्स - Ayurvedic Weight Loss Tips in Hindi
  3. वजन कम करने के लिए आयुर्वेद आहार - Ayurveda Diet to Lose Weight in Hindi
  4. वजन घटाने के लिए योग थेरपी - Yoga Therapy for Weight Loss in Hindi
  5. वजन घटाने के लिए मुद्रा थेरपी - Mudra Therapy for Weight Loss in Hindi
  6. वजन घटाने के लिए आयुर्वेदिक दवा - Ayurvedic Medicine for Weight Loss in Hindi

मोटापा शरीर की आठ "नंद्य प्रकृति" (nindya prakruties - अवांछनीय रचना) में से एक माना जाता है। एक मोटापे से ग्रस्त व्यक्ति में वसा बहुत ज़्यादा होती है। (और पढ़ें - वजन कम करने के लिए डाइट टिप्स)

आयुर्वेदिक दर्शन के अनुसार, कफ प्रकार (पानी और पृथ्वी) वाले व्यक्तियों में वजन आसानी से बढ़ने की संभावना होती है। वात प्रकार (अधिक हवा और आकाश के साथ) आमतौर पर पतले और बहुत अधिक वसा रहित होते हैं। पित्त (अग्नि) दोष व्यक्तित्व वाले आम तौर पर आनुपातिक शरीर के वजन के साथ होते हैं, अगर वे अपना संतुलन खो देते हैं तो उनका वजन बढ़ सकता है।

कफ का संचय फैट चयापचय को धीमा कर देता है, जो मोटापा का कारण बनता है। इस प्रकार, वजन घटाने के लिए कफ प्रकार वाले व्यक्तियों को आहार सेवन और एक्सरसाइज के नियमों में सख्त होने की आवश्यकता है। (और पढ़ें - वात, पित्त और कफ असंतुलन और उनके लक्षण)

  1. व्यायाम सिर्फ आपके शरीर को ही नहीं बल्कि आपके मन के साथ साथ आपके शरीर के वजन को कम करने में भी मदद करता है।
  2. कई विशिष्ट योग व्यायाम हैं जो कि वजन कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं। जैसे डीप ब्रीथिंग एक्सरसाइज या प्राणायाम आदि वजन घटाने में तेजी लाने के लिए भी किये जा सकते है।
  3. दिन के दौरान न सोएं।
  4. ड्राई मसाज और एनीमा उपयोगी है।
  5. वजन कम करने के लिए ड्राई मसाज तकनीक को उद्वताना कहा जाता है जो वजन घटाने, त्वचा की टोन को प्रोत्साहित करती है, सेल्युलाईट को हटा देती है और शरीर से कफ़ा विषाक्त पदार्थों को निकालता है।
  6. सुबह में खाली पेट 1/2 चम्मच शहद और नींबू के रस की कुछ बूंदों के साथ गुनगुने पानी का एक गिलास पिएं।
  1. (और पढ़ें - वजन कम करने के लिए नाश्ते में क्या खाएं)
  1. दैनिक आहार में मीठे खाद्य पदार्थों को कम करें।
  2. तीखें, कसैले और कड़वा स्वाद वाले आहार घटकों का सेवन बढ़ाएं।
  3. जई, जौ, शहद, मूंग और अरहर जैसे दालें और जड़ी बूटी जैसे सूखे अदरक, कड़वी, आंवला आदि का सेवन करें।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए कितना पानी पीना चाहिए)

योग थेरेपी, तकनीक और प्राणायाम के रूप में आयुर्वेदिक आहार और जीवनशैली के साथ योग अभ्यास, वजन घटाने में काफी मदद करता है। यहाँ कुछ सहायक आसन हैं

  1. त्रिकोणासन
  2. भुजंगासन
  3. सूर्य नमस्कार
  4. भस्त्रिका प्राणायाम और कपाल भांति जैसी गहरी साँस लेने की तकनीक।

योग सत्र आहार के साथ वजन घटाने के लिए शानदार तरीके से काम करता है। 

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए नाश्ते में क्या खाएं)

सूर्य मुद्रा एक ओर अन्य प्रभावी उपचार है जिसकी योग में वजन घटाने के लिए सिफारिश की गई है। रिंग फिंगर के साथ अंगूठे की जड़ को स्पर्श करें और अंगूठे के साथ रिंग फिंगर पर थोड़ा दबाव डालें। यह संरेखण शरीर में गर्मी को बढ़ाता है जिसका आदर्श रूप से 15-20 मिनट के लिए अभ्यास किया जाना चाहिए।

(और पढ़ें - वजन घटाने के तरीके)

आमतौर पर वजन घटाने के लिए निर्धारित दवाओं में से कुछ यहां दिए गए हैं:

  1. त्रिफला चूर्ण
  2. मंडूर भस्म
  3. स्वर्ण माक्षिक भस्म
  4. गुग्गुलु
  5. शिलाजीत
  6. मेदोहर गुग्गुलु
  7. त्रिशनादी लोहा

नोट: इन्हें एक योग्य आयुर्वेदिक डॉक्टर की देखरेख के तहत ही लेना चाहिए। ये दवाइयां वजन घटाने में मदद करेंगी।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए एक्सरसाइज और वजन घटाने के लिए योग)


आयुर्वेदिक उपाय अपनाइए, वजन घटाइए सम्बंधित चित्र

और पढ़ें ...