myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गर्मी का पारा दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। बदलते मौमस के कारण जीवनशैली में कई तरह के बदलाव होते हैं। इसी क्रम में मेकअप के सामान में भी कुछ बदलाव देखने को मिलते हैं। दरअसल इस मौसम में पसीना बहुत ज्यादा निकलता है, जिससे मेकअप खराब होने का डर रहता है। इसी वजह से ज्यादातर महिलाएं इन दिनों वाॅटरप्रूफ मेकअप का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन क्या आप जानती हैं कि वाॅटरप्रूफ मेकअप खासकर मस्कारा आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है? निश्चित रूप से वाॅटरप्रूफ मस्कारा लम्बे समय तक टिका रहता है, लेकिन इससे आंखों को काफी जयादा नुकसान होता है। विशेषज्ञों की राय है कि कभी-कभी वाॅटरप्रूफ मस्कारा लगाया जाना ठीक है। जबकि नियमित इसे लगाने से आपकी आंखों में ड्राइनेस हो सकती है। वाॅटरप्रूफ मस्कारे के और भी नुकसान हैं। आइए इनके बारे में जानते हैं।

त्वचा को नुकसान होता है
जैसा कि आप सभी जानते हैं कि वाॅटरप्रूफ मस्कारा फैलता नहीं है। यही वजह है कि ज्यादातर लड़कियां और महिलाएं इसका इस्तेमाल करती हैं। लेकिन आपको बता दें कि वाॅटरप्रूफ मस्कारे की यही खूबी आपकी आंखों की त्वचा के लिए नुकसानदेय है। दरअसल वाॅटरप्रूफ मस्कारा लगाने के बाद यदि किसी वजह से आंखों को रगड़ना पड़े तो इससे त्वचा प्रभावित होती है।

(और पढ़ें - रूखी त्वचा की देखभाल)

पलकें ड्राई हो जाती हैं
वाॅटरप्रूफ मस्कारा बनाने में वैक्स और सिलिकाॅन का उपयोग किया जाता है, जो मस्कारे को पानी, पसीना या आंसू के साथ बहने से रोकता है। अगर आप गौर करें तो पता चलेगा कि वाॅटरप्रूफ और बिना वाॅटरप्रूफ मस्कारे में ऐसे तत्वों का इस्तेमाल किया जाता है जो आंखों और आंख की इर्द-गिर्द त्वचा के लिए सही नहीं होते। विशेषज्ञों के अनुसार जो तत्व वाॅटरप्रूफ मस्कारे में डाले जाते हैं, उससे पलकें ड्राई हो जाती हैं जिससे पलकें झड़ने लगती हैं। 

(और पढ़ें - पलकें लंबी और घनी करने के उपाय)

मस्कारा निकालना मुश्किल है
वाॅटरप्रूफ मस्कारा लगाने के बाद बेशक आपको आकर्षक लुक मिलता है और लम्बे समय तक यह टिका रहता है। लेकिन इस ब्यूटी प्रोडक्ट को निकालना आसान नहीं है। हालांकि रात को सोने से पहले आपको अपनी आंखों से मस्कारा निश्चित रूप से निकाल लेना चाहिए। असल में रात को मस्कारा लगाकर सोने से पलकें सख्त हो सकती हैं। सख्त पलकें आसानी से टूटकर निकल जाती हैं। इसलिए मस्कारा लगाकर न सोएं।

( और पढ़ें - आंख की पलक में गांठ बनने के लक्षण)

आंखें कमजोर होती हैं
मस्कारे में कई तरह के रासायनिक तत्वों का इस्तेमाल किया जाता है। वाॅटरप्रूफ मस्कारा चूंकि पानी में घुलता नहीं है, इसलिए माना जाता है कि वाॅटरप्रूफ मस्कारा आंखों की दृष्टि के लिए भी सही है। जबकि ऐसा नहीं है। अगर आप नियमित यानी रोजाना वाॅटरप्रूफ मस्कारे का इस्तेमाल करती हैं, तो इससे आपकी आंखों की रोशनी पर प्रभाव पड़ता है। इसके लिए जरूरी नहीं है कि आंखों को रगड़ने पर ही मस्कारे में मौजूद तत्व आंखों के संपर्क में आते हैं। इसके विपरीत पलकें झपकाने पर भी वाॅटरप्रूफ मस्कारे में मौजूद तत्व आंखों में जाकर रोशनी को प्रभावित कर सकते हैं।

(और पढ़ें - आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए घरेलू उपाय)

झुर्रियां पड़ती हैं
इसमें कोई संदेह नहीं है कि आंखों के आसपास की त्वचा बहुत संवेदनशील और मुलायम होती है। इसके साथ ही झुर्रियां भी सबसे पहले इसी हिस्से में पड़ती है। इसका मतलब है कि अपनी आंखों को ऐसे रासायनिक तत्वों से दूर रखें जिनके संपर्क में आने से झुर्रियां पड़ सकती हैं। इसके साथ ही मस्कारा निकालते वक्त ध्यान रखे कि वह आसपास की त्वचा में न फैले।

(और पढ़ें - आंखों के नीचे की झुर्रियों के लिए घरेलू उपाय)

वाॅटरप्रूफ मस्कारा आपके मेकअप किट को कंप्लीट करता है। लेकिन इसके दुष्परिणाम भी कम नहीं है। इसकी वजह से आपकी आंखों और पलकों को काफी नुकसान उठाना पड़ता है। अतः अगली बार वाॅटरप्रूफ मस्कारा खरीदते हुए एक बार सोचें जरूर।

और पढ़ें ...