स्ट्रेच मार्क्स धारियाँ होती हैं जो त्वचा के खिंचने पर शरीर में बनने लगती हैं । ये एक बहुत ही सामान्य घटना हैं । लगभग हर किसी को स्ट्रेच मार्क्स होते हैं। स्तनों के साथ-साथ शरीर के अन्य हिस्सों पर भी स्ट्रेच मार्क्स होना आम बात है। जब खिंचाव के निशान पहली बार बनते हैं तो अक्सर गुलाबी, बैंगनी या लाल रंग के होते हैं और समय के साथ हल्के या सफेद रंग में फीके पड़ जाते हैं।

स्ट्रेच मार्क्स विभिन्न प्रकार के होते हैं। उन्हें इस आधार पर वर्गीकृत किया गया है कि आपके शरीर पर ये कितने समय से हैं और किस कारण से हुए हैं । प्रकारों में शामिल हैं:

  • स्ट्राई एट्रोफिका -  ये बहुत ही सामान्य स्ट्रेच मार्क्स हैं। त्वचा में इलास्टिन या कोलेजन घटकों का टूटने से ये बनते हैं।
  • स्ट्राइ डिस्टेंसे - ये अधिकतर युवावस्था के दौरान होते हैं। इनमें आम तौर पर रैखिक रेखाएं शामिल होती हैं जो धारियों की तरह दिख सकती हैं।
  • स्ट्राई ग्रेविडेरम - यह प्रकार केवल गर्भावस्था के दौरान होता है।

और पढ़ें - (स्तनों के स्वास्थ के लिए तेल के लाभ)

  1. ब्रेस्ट पर स्ट्रेच मार्क्स होने के कारण
  2. ब्रेस्ट के स्ट्रेच मार्क्स कैसे हटाएँ?
  3. ब्रेस्ट से स्ट्रेच मार्क्स हटाने के घरेलू उपाय
  4. सारांश

ऐसी कई अलग-अलग चीज़ें हैं जिस के कारण स्तनों पर स्ट्रेच मार्क्स दिखाई दे सकते हैं या इसकी संभावना बढ़ जाती है ।

यौवन के दौरान
यौवन के दौरान होने वाले हार्मोनल परिवर्तन के कारण स्तनों का विकास बहुत तेजी से होने लगता है । जैसे-जैसे स्तन ऊतक बढ़ते है, त्वचा खिंचती है। त्वचा के पतले होने से स्तनों पर स्ट्रेच मार्क्स  हो सकते हैं। कई लड़कियों के लिए स्ट्रेच मार्क्स युवावस्था का एक सामान्य हिस्सा हैं। कुछ लोगों को अपनी जांघों, कूल्हों और बट पर खिंचाव के निशान भी दिख सकते हैं।

गर्भावस्था के दौरान
गर्भावस्था में स्तनों पर स्ट्रेच मार्क्स आना सामान्य कारण है। गर्भावस्था के लगभग छह सप्ताह बाद, स्तनों का आकार बढ़ने लगता है क्योंकि एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ने से स्तन वृद्धि और दूध नलिकाओं की वृद्धि शुरू हो जाती है। कुछ महिलाओं के स्तनों में दो कप साइज़ तक की वृद्धि देखी जा सकती है। इसी कारण स्ट्रेच मार्क्स दिखाई देने लगते हैं ।  

वजन बढ़ने और घटने के कारण
जिन महिलाओं का वजन बढ़ता है, उनके स्तनों में वसा ऊतक भी बढ़ जाता है। जैसे-जैसे उनके स्तन का आकार बढ़ता है, स्ट्रेच मार्क्स हो सकते हैं। वजन घटने के कारण वसा ऊतक कम हो जाता है, फिर भी स्तनों पर स्ट्रेच मार्क्स हो सकते हैं। यह वजन घटाने के दौरान होने वाले कोलेजन के नुकसान के कारण होता है, जिसके परिणामस्वरूप त्वचा की लोच में कमी आती है।

कॉस्मेटिक सर्जरी के कारण
स्तन प्रत्यारोपण और वृद्धि प्रक्रियाएं त्वचा को खींचती हैं और परिणामस्वरूप खिंचाव के निशान हो सकते हैं। यह विशेष रूप से उन लोगों में आम है जो स्तन प्रत्यारोपण करवाते हैं।

आनुवंशिकी के कारण
अगर आपके माता-पिता को स्ट्रेच मार्क्स हैं, तो आपको भी उनके विकसित होने की अधिक संभावना है।

अंतर्निहित स्थितियाँ
स्तनों पर स्ट्रेच मार्क्स होना बहुत आम बात हैं और अक्सर इसके सौम्य कारण होते हैं। हालाँकि, कुछ अंतर्निहित स्थिति स्ट्रेच मार्क्स का कारण हो सकती है जैसे अधिवृक्क संबंधी विकार जैसे कुशिंग सिंड्रोम। इससे कोर्टिसोल हार्मोन का उत्पादन बढ़ जाता है।

कुछ मामलों में, लोग अन्य स्थितियों के समाधान के लिए जिन उपचारों का उपयोग करते हैं, उनसे स्ट्रेच मार्क्स विकसित होने का खतरा बढ़ सकता है। कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स का उपयोग करने वाले लोगों में भी स्ट्रेच मार्क्स दिखाई देते हैं । मधुमेह त्वचा में कोलेजन के निर्माण को भी प्रभावित कर सकता है। इससे संभावित रूप से स्ट्रेच मार्क्स विकसित होने की संभावना बढ़ सकती है।

और पढ़ें - (बढ़ती उम्र के साथ स्तनों में बदलाव )

महिलाओं के स्वास्थ के लिए लाभकारी , एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन जैसे हार्मोंस को कंट्रोल करने , यूट्रस के स्वास्थ को को ठीक रखने , शरीर के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल कर सूजन को कम करने में लाभकारी माई उपचार आयुर्वेद द्वारा निर्मित अशोकारिष्ठ का सेवन जरूर करें ।

Breast Massage Oil
₹449  ₹699  35% छूट
खरीदें

ऐसे कई अलग-अलग उपचार हैं जिनका उपयोग स्तनों पर स्ट्रेच मार्क्स को हल्का करने और उनकी दृश्यता को कम करने के लिए कर सकते हैं। घरेलू और सर्जिकल उपचार दोनों उपलब्ध हैं। कई उपचार तब सबसे प्रभावी होते हैं जब स्ट्रेच मार्क्स बिल्कुल नए होते हैं।  

1. घरेलू उपचार

स्ट्रेच मार्क्स के इलाज के लिए आप कई अलग-अलग घरेलू उपचारों का उपयोग कर सकते हैं। इन उपचारों में शामिल हैं:

  • त्वचा की मालिश करना -  ऐसा माना जाता है कि मालिश रक्त प्रवाह और कोलेजन उत्पादन को बढ़ाने में मदद करती है, जो खिंचाव के निशान को कम करने में मदद कर सकती है। ऐसा करने के लिए कम से कम 30 सेकंड तक स्तनों की मालिश करें।
  • एक्सफोलिएट करना - कोलेजन उत्पादन की प्रक्रिया को तेज करने और अपनी त्वचा की उपस्थिति में सुधार करने के लिए नरम ब्रिसल वाले ब्रश या एक्सफ़ोलीएटिंग स्क्रब का उपयोग करें। केवल एक एक्सफ़ोलीएटिंग उत्पाद चुनें। यदि आप एक से अधिक का उपयोग करते हैं, तो इससे आपकी त्वचा में जलन हो सकती है। हर दूसरे दिन एक्सफोलिएशन से शुरुआत करें।
  • कोकोआ बटर या शिया बटर -  इस दोनों में पौष्टिक विटामिन ई होता है, जो त्वचा के स्वास्थ्य के लिए अच्छा है।
  • स्ट्रेच मार्क क्रीम या ऑइल - इनमें ऐसे अवयवों का मिश्रण होता है जो दागों को मिटाने और त्वचा की लोच में सुधार करने में मदद करते हैं। 

2. सर्जिकल उपचार
यदि घरेलू उपचार काम नहीं करते हैं, तो चिकित्सीय उपचार हैं जो जिद्दी स्ट्रेच मार्क्स के लिए ये अक्सर अधिक प्रभावी होते हैं। जैसे- 

  • लेजर रिसर्फेसिंग थेरेपी -  2017 की समीक्षा में अनुमान लगाया गया है कि यह उपचार स्ट्रेच मार्क्स के इलाज में लगभग 50 से 75 प्रतिशत प्रभावी है। त्वचा विशेषज्ञ निशान ऊतक को तोड़ने, क्षतिग्रस्त ऊतकों को खुद की मरम्मत के लिए उत्तेजित करने और क्षेत्र में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने के लिए त्वचा-सुरक्षित लेजर तकनीक का उपयोग कर सकते हैं।   
  • एसिड पील उपचार -  ये एक्सफोलिएट करते हैं और त्वचा की ऊपरी परत को हटा देते हैं। यह स्ट्रेच मार्क्स की उपस्थिति को कम करने में मदद कर सकता है।
  • माइक्रोडर्माब्रेशन - एक मजबूत एक्सफोलिएशन विधि है ,जो कोलेजन उत्पादन में सुधार कर सकते हैं और खिंचाव के निशान की दृश्यता को कम कर सकता है।
  • प्रिस्क्रिप्शन सामयिक क्रीम या तेल -  इनमें त्वचा को एक्सफोलिएट करने के लिए ग्लाइकोलिक एसिड या इलास्टिन को बेहतर बनाने के लिए सिलिकॉन या कोलेजन शामिल होते हैं ।  

लेजर थेरेपी स्ट्रेच मार्क्स के इलाज में प्रभावी साबित होने वाला एकमात्र उपचार है। यदि आप अपने स्तनों के खिंचाव के निशानों को लेकर चिंतित हैं तो कोई भी इलाज शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श करें ।  

और पढ़ें - (ब्रेस्ट (स्तन) से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य)

Women Health Supplements
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

स्तनों पर स्ट्रेच मार्क्स को रोकना हमेशा संभव नहीं होता है, लेकिन उनके विकसित होने की संभावना को कम करने के लिए आप कुछ तरीके आजमा सकते हैं जैसे -

  • स्वस्थ, संतुलित आहार लेना
  • स्वस्थ वजन बनाए रखना
  • नियमित व्यायाम करें।
  • स्ट्रेच मार्क क्रीम या तेल का उपयोग करना
  • अपनी त्वचा को हाइड्रेटेड रखने के लिए खूब पानी पियें।

और पढ़ें - (ब्रेस्ट की देखभाल सही तरीके से कैसे करें)

 

Patrangasava
₹450  ₹500  10% छूट
खरीदें

स्तनों पर स्ट्रेच मार्क्स होना बेहद आम हैं। वे अक्सर समय के साथ गुलाबी या लाल से सफेद हो जाते हैं। घरेलू उपचार और चिकित्सीय हस्तक्षेप स्ट्रेच मार्क्स के इलाज में मदद कर सकते हैं, लेकिन ये सभी तब सबसे प्रभावी होते हैं जब निशान एकदम नए हों। ध्यान रखें स्ट्रेच मार्क्स सामान्य हैं और हानिकारक नहीं हैं। यदि आप उन्हें हटाना नहीं चाहते, तो आपको ऐसा करने की आवश्यकता नहीं है। अपने आप को आप जैसे हैं वैसे ही स्वीकार करना सबसे अच्छा है ।  

ऐप पर पढ़ें