myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कोहनी में फ्रैक्चर क्या है? 

कई बार गिरने या हाथ मुड़ने के कारण कोहनी में फ्रैक्चर हो जाता है, जिसका सीधा असर कोहनी पर पड़ता है। कुछ मामलों में कोहनी में फ्रैक्चर के साथ ही व्यक्ति को हाथ में मोच व हड्डी खिसकने जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है। कोहनी में फ्रैक्चर या हड्डी खिसकने पर एक्स रे किया जाता है। इसकी पूरी स्थिति को समझने के लिए डॉक्टर बार सीटी स्कैन टेस्ट भी कर सकते हैं।

(और पढ़ें - हड्डी टूटने का प्राथमिक उपचार)

कोहनी में फ्रैक्चर के लक्षण क्या हैं?

अगर व्यक्ति को कोहनी में फ्रैक्चर होने के संकेत और लक्षण दिखाई देते हैं तो उसको तुरंत इसका इलाज कराना चाहिए। इसके लक्षण में निम्न को शामिल किया जाता है। 

  • कोहनी के ऊपरी और निचले हिस्से में सूजन आना। 
  • कोहनी और उसके आसपास के हिस्से के सामान्य आकार में बदलाव होना।
  • कोहनी में नील पड़ना या त्वचा लालिमा हो जाना। (और पढ़ें - नील क्यों पड़ते हैं)
  • कोहनी को हिलाने व घुमाने मुश्किल होना। 
  • कोहनी से हथेली तक का भाग, हाथ और उंगलियां सुन्न व ठंडी होना। 
  • गंभीर चोट के बाद कोहनी चोट या जख्म होना। 
  • कोहनी में चोट के बाद दर्द होना।

(और पढ़ें - सूजन कम करने का उपाय)

कोहनी में फ्रैक्चर क्यों होता है? 

कोहनी पर चोट लगने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कोहनी का ज्यादा इस्तेमाल करना या गिरना आदि। नीचे कुछ सामान्य कारणों को बताया गया है जो कोहनी में फ्रैक्चर की वजह बनते हैं। 

  • पीछे की ओर गिरना, जैसे - स्केटबोर्ड को चलाते समय। 
  • कार या वाहन से दुर्घटना होना। 
  • कोहनी पर सीधे चोट लगना, जैसे साइकिल चलाते या चलते समय कोहनी के बल नीचे गिरना। (और पढ़ें - साइकिल चलाने के फायदे)
  • कार की खिड़की से हाथ को बाहर निकालने पर दूसरे वाहन से कोहनी पर चोट लगना। 
  • किसी भी तरह से कोहनी, हाथ, कलाई, और कंधे पर चोट लगने से कोहनी में फ्रैक्चर होना।

(और पढ़ें - कलाई में दर्द के घरेलू उपाय)

कोहनी में फ्रैक्चर का इलाज कैसे होता है?

कोहनी में फ्रैक्चर होने पर आपको तुरंत इलाज की आवश्यकता होती है। इसे घरेलू देखभाल से ठीक नहीं किया जा सकता है। इसके इलाज में सबसे पहले आपको खुले घाव को किसी पट्टी से कवर करना चाहिए। यदि चोट लगने पर खून लगातार बह रहा हो, तो एेसे में हाथ को ऊपर की ओर उठा लें ताकि खून का बहना कम हो जाए। इसके अलावा सूजन में बर्फ की ठंडी सिकाई करें। 

कोहनी में फ्रैक्चर का इलाज चोट के प्रकार के आधार पर तय किया जाता है। फ्रैक्चर के इलाज के लिए ऑपरेशन किया जाता है, जिसमें हड्डी, नसों और रक्त वाहिकाओं को ठीक करने का प्रयास किया जाता है। बच्चों और वयस्कों में अलग-अलग तरह से चोट लगती है, इसलिए इनके ठीक होने की प्रक्रिया भी अलग-अलग होती है। इसके लिए व्यक्ति को दर्द कम करने वाली दवाएं और इंजेक्शन दिया जाता हैं। 

(और पढ़ें - गुम चोट का इलाज)

  1. कोहनी में फ्रैक्चर की दवा - Medicines for Fractured Elbow in Hindi

कोहनी में फ्रैक्चर की दवा - Medicines for Fractured Elbow in Hindi

कोहनी में फ्रैक्चर के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
BrufenBRUFEN 400MG/2MG CAPSULE18
CombiflamCOMBIFLAM 60ML SYRUP24
Ibugesic PlusIbugesic Plus Oral Suspension Strawberry27
BrugelBrugel 5% W/W Gel114
TizapamTizapam 400 Mg/2 Mg Tablet42
FbnFbn 0.03% Eye Drop50
FlurbinFlurbin 0.03% W/V Eye Drop51
Espra XnESPRA XN 500MG TABLET 10S104
LumbrilLumbril Tablet16
OcuflurOcuflur Eye Drop44
TizafenTizafen 400 Mg/2 Mg Capsule53
EndacheEndache Gel47
FenlongFenlong 400 Mg Capsule21
Ibuf PIbuf P Tablet11
IbugesicIbugesic 100 Mg Suspension16
IbuvonIbuvon 100 Mg Suspension8
Ibuvon (Wockhardt)Ibuvon Syrup9
IcparilIcparil 400 Mg Tablet23
MaxofenMaxofen Tablet5
TricoffTricoff Syrup48
AcefenAcefen 100 Mg/125 Mg Tablet23
Adol TabletAdol 200 Mg Tablet33
BruriffBruriff 400 Mg Tablet4

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...