myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर (एमपीडी) यानी एकाधिक व्यक्तित्व विकार एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति को स्वयं में अपनी ही तरह का एक अन्य व्यक्तित्व होने का अनुभव होता है। कई मामलों में वास्तविक व्यक्ति को अपने दूसरे और काल्पनिक रूप के बारे में जानकारी होती है, जबकि कई मामलों में वास्तविक व्यक्ति उससे अनजान रह सकता है। यह डिसोसिएटिव डिसऑर्डर नाम स्थितियों के समूह का एक विकार माना जाता है। डिसोसिएटिव डिसऑर्डर, मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी बीमारियां हैं, जिसमें व्यक्ति को चेतना, जागरूकता और पहचान संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि जब इनमें से एक या अधिक समस्याएं किसी व्यक्ति को एक साथ हो जाती हैं तो उसके परिणामस्वरूप उसे मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर की समस्या हो सकती है।

मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर को डिसोसिएटिव आइडेंटिटी डिसऑर्डर के नाम से भी जाना जाता है। इसके लक्षण हल्के और गंभीर दोनों हो सकते हैं, यदि इस विकार का असर व्यक्ति के निजी जीवन और कामकाज पर पड़ने लगे तो यह कई अन्य प्रकार की समस्याओं को जन्म दे सकता है। इस विकार का मुख्य कारण बचपन में गंभीर चोट, शारीरिक या यौन शोषण अथवा कई अन्य भावनात्मक समस्याएं हो सकती हैं।

इस लेख में हम मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर के लक्षण, कारण और इसके इलाज के बारे में जानेंगे।

  1. मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर के लक्षण - Multiple Personality Disorder symptoms in Hindi
  2. मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर का कारण - Multiple Personality Disorder Causes in Hindi
  3. मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर का निदान - Multiple Personality Disorder Diagnosis in Hindi
  4. मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर का इलाज - Multiple Personality Disorder Treatment in Hindi

मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर के लक्षण - Multiple Personality Disorder symptoms in Hindi

मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर का सबसे सामान्य लक्षण किसी व्यक्ति की पहचान दो अलग-अलग व्यक्तियों के बीच अनजाने में विभाजित होना है। यानी कि इस विकार से ग्रसित व्यक्ति का पर्सनालिटी स्प्लिट हुआ करता है। मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर में अन्य मानसिक विकारों में देखे जाने वाले कई मनोवैज्ञानिक लक्षण भी सामने आ सकते हैं। इनमें से कुछ निम्नलिखित हैं।

  • डिसोसिएटिव एमनेशिया : यह एक प्रकार से याददाश्त से संबंधित स्थिति है। हालां​कि, यह किसी चिकित्सा स्थिति से जुड़ी हुई नहीं है।
  • शरीर में गंभीर दर्द या सिरदर्द
  • डिपर्सनलाइजेशन (अपने ही विचारों, भावनाओं और शरीर से अलग-थलग महसूस करना)
  • डिरियलाइजेशन (ऐसा महसूस करना जैसे कि आसपास का वातावरण अलग, विषम या झूठा है)
  • अवसाद या मूड स्विंग होना
  • चिंता
  • खाने या नींद लेने में दिक्कत महसूस होना
  • सामान्य रूप से संभोग के कार्यों में दिक्कत महसूस होना
  • स्वयं को नुकसान पहुंचाने जैसे ख्याल आना
  • आत्महत्या का विचार : इस विकार में 70 फीसदी लोगों को आत्महत्या के विचार आते हैं

मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर का कारण - Multiple Personality Disorder Causes in Hindi

बचपन में किसी प्रकार की गंभीर चोट या उत्पीड़न को मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर का प्रमुख कारण माना जाता है। विशेषज्ञों का मानना है कि एमपीडी के लगभग 90 फीसदी मामले उत्पीड़न से संबंधित होते हैं। यह उत्पीड़न यौन, शारीरिक या मानसिक किसी भी प्रकार का हो सकता है। इसके अलावा गंभीर दुर्घटनाओं, प्राकृतिक आपदाओं और युद्ध जैसी स्थितियों के कारण व्यक्ति को हुई मानसिक क्षति भी इस विकार का रूप ले सकती है।

मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर का निदान - Multiple Personality Disorder Diagnosis in Hindi

यदि किसी व्यक्ति में उपरोक्त बताए गए लक्षण मौजूद हैं, तो डॉक्टर उसकी मेडिकल हिस्ट्री जानने के ​अलावा कुछ शारीरिक परीक्षण कर सकते हैं। वैसे तो अब तक इस विकार का सटीक रूप से पता लगाने के लिए कोई भी प्रयोगशाला परीक्षण उपलब्ध नहीं है। हालांकि, कई प्रकार के इमेजिंग टेस्ट (एक्स-रे, सीटी स्कैन, या एमआरआई) और आवश्यकतानुसार ब्लड टेस्ट के माध्यम से इसका निदान किया जाता है। इसके माध्यम से यह पता चल जाता है कि व्यक्ति को अन्य कोई शारीरिक बीमारी या फिर किसी प्रकार की दवाओं का साइड-इफेक्ट तो नहीं है?

उपरोक्त परीक्षणों के आधार पर य​दि व्यक्ति में किसी बीमारी और अन्य कारणों का पता नहीं चलता है तो उसे किसी मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ के पास भेज दिया जाता है। मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ, इस प्रकार की बीमारियों के निदान और उपचार के लिए विशेष रूप से प्रशिक्षित होते हैं। वे व्यक्ति से बातचीत करके उसके पुराने अनुभवों और वर्तमान कार्यप्रणाली के बारे में जानने की ​कोशिश करते हैं, इससे स्थिति को समझने में आसानी होती है।

उपरोक्त पंक्तियों में बताए गए परीक्षणों और बातचीत के माध्यम से मनोरोग विशेषज्ञों को बीमारी के बारे में समझने में आसानी होती है। इसी के आधार पर इलाज की प्रक्रिया शुरू की जाती है।

मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर का इलाज - Multiple Personality Disorder Treatment in Hindi

मनोचिकित्सा यानी साइकोथरपी को मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर का प्राथमि​क उपचार माना जाता है। इस चिकित्सा पद्धति के माध्यम से विकार के कारणों को समझते हुए उसी के आधार पर उपचार किया जाता है। साइकोथरपी के अलावा हिप्नोसिस जैसी इलाज की पद्धति भी कुछ लोगों में फायदेमंद हो सकती है।

इसके अलावा विकार के ​लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए डॉक्टर कुछ दवाइयां भी दे सकते हैं। वैसे तो इस विकार के लिए किसी भी दवाई को प्रमाणिकता नहीं मिली है,​ फिर भी लक्षणों को ठीक करने के लिए कुछ दवाइयों को प्रयोग में लाया जाता रहा है।

एमपीडी के इलाज के लिए निम्न प्रकार की दवाइयों को प्रयोग में लाया जाता है।

  • एंटी एंग्जाइटी यानी चिंता को दूर करने वाली दवाइयां
  • एंटी साइकोटिक दवाइयां
  • एंटी डिप्रेशेन्ट दवाएं

कॉग्निटिव बिहैवियरल थेरेपी : मनोचिकित्सा की इस पद्धति में रोगी की सोच, भावनाओं और व्यवहार को बदलने की कोशिश की जाती है।

डायलेक्टिक-बिहैवियर थेरेपी (डीबीटी)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें