myUpchar प्लस+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

सम्मोहन या हिपनोसिस या हिप्नोथेरेपी एक विशुद्ध मनोचिकित्सा प्रक्रिया है। सम्मोहन चिकित्सा के बारे में अक्सर आम लोगों में गलतफहमी देखी जाती है और वे इसे नकारात्मक रूप में ले लेते है। हालाँकि, मेडिकल शोधकर्ता लगातार ये पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं कि कब और कैसे सम्मोहन को एक चिकित्सा उपकरण के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

हिप्‍नोथेरेपी को हिंदी में सम्मोहन या सम्मोहन चिकित्सा कहा जाता है। सम्मोहन चिकित्सा एक हिप्नोथेरेपिस्ट की मदद से प्राप्त की गयी समाधि के जैसी एकाग्रता और फोकस की स्थिति है। इस स्थिति में व्यक्ति का अपने आतंरिक मन में ध्यान केंद्रित हो जाता है जिससे वह अपने मन के अंदर छिपे तरीकों को स्वयं के जीवन में परिवर्तन लाने और नियंत्रण के लिए उपयोग कर पाता है।

इस लेख में विस्तार से बताया गया है कि सम्मोहन चिकित्सा क्या है, सम्मोहन कैसे किया जाता है और सम्मोहन चिकित्सा के क्या फायदे और नुकसान हो सकते हैं।

  1. सम्मोहन क्या होता है - Hypnotherapy kya hai in hindi
  2. सम्मोहन कैसे किया जाता है - Hypnotic therapy procedure in hindi
  3. सम्मोहन के फायदे - Hypnosis therapy benefits in hindi
  4. सम्मोहन चिकित्सा के नुकसान - Hypnotherapy side effects in hindi
सम्मोहन क्या होता है - Hypnotherapy kya hai in hindi

सम्मोहन चिकित्सा मनोचिकित्सा का एक रूप है, नींद या मूर्छा की स्थिति में जिसे सम्मोहन कहा जाता है, इसका उपयोग रोगी में परिवर्तन के लिए किया जाता है। हिप्नोसीस शब्द ग्रीक भाषा के “हिप्नोस” (hypnos) से निकला है जिसका अर्थ “नींद” है।

(और पढ़े - मूर्छा प्राणायाम के लाभ)

सम्मोहन चिकित्सा में एक प्रशिक्षित हिप्नोटिस्ट द्वारा निर्देशित तकनीकों का उपयोग किया जाता है जिससे समाधि जैसी स्थिति पाने के लिए रोगी के अंदर गहरी शांति, ध्यान और फोकस की भावना पैदा होती है।

इस थेरेपी का उपयोग आमतौर पर मनोचिकित्सा के लिए एक सहायक तकनीक के तौर पर किया जाता है। यह थेरेपी लोगों के अवचेतन मन में दबी दर्दनाक और अन्य भावनाओं, विचारों या यादों का पता लगाने और उन्हें समझने में मदद करती है।

इसके साथ ही इस परिवर्तन से अक्सर इलाज करवाने वाला व्यक्ति सम्मोहन से बाहर निकलने के बाद भी जैसे - कार्य स्थल पर आलोचना, मंच पर बोलने का भय यहाँ तक की दर्द को महसूस करने जैसे मामलों को भी अलग तरह से अनुभव करने लगता है।

जब रोगी अपने सम्मोहन चिकित्सक पर भरोसा करता है तो सम्मोहन के दौरान सुझाव और चर्चा में अधिक खुले मन से शामिल होता है।

(और पढ़े - धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय)

सम्मोहन चिकित्सा कई प्रकार की होती है और किसी को सम्मोहित करने के अलग-अलग तरीके हैं। इस थेरेपी से इलाज के दौरान आमतौर पर थेरेपिस्ट आपके साथ चर्चा करते है कि आप इस इलाज से क्या परिणाम पाने की उम्मीद कर रहे हैं और वे इलाज के लिए कौन से तरीके का उपयोग करने वाले हैं।

इसके बाद सम्मोहन चिकित्सक निम्नलिखित प्रक्रिया शुरू करते हैं -

  • आपके थेरेपिस्ट द्वारा आपको एक गहरी शांति की स्थिति में पहुंचा दिया जाता है।
  • आंरभिक चर्चा के दौरान बताए गए तरीके का उपयोग करके थेरेपिस्ट आपके इलाज में मदद करते हैं। उदाहरण के लिए वो आपको बताते हैं कि आप अपनी आदत को छोड़ना चाहते हैं। (और पढ़ें - मीठे की लत छोड़ने के उपाय)
  • इसके बाद आपके थेरेपिस्ट धीरे-धीरे आपको इस समाधि की स्थिति से बाहर ले आते हैं।
  • जब आप सम्मोहित होते है तब भी पूरी तरह स्वयं के नियंत्रण में होते हैं और अगर आपको आवश्यक लगे तो अपने आप को सम्मोहन से बाहर ला सकते हैं। अगर आप सम्मोहित नहीं होना चाहते है तो सम्मोहन चिकित्सा संभव नहीं है।

सम्मोहन हमारी चेतना को इस तरह से बदलता है कि हमारे दिमाग का दायां भाग निष्क्रिय हो जाता है और बायां भाग अधिक सक्रिय हो जाता है। हमारे दिमाग का दायां हिस्सा विश्लेषणात्मक कार्य करता है जबकि बायां हिस्सा गैर विश्लेषणात्मक कार्य करता है। सम्मोहन प्रक्रिया से हमारे अवचेतन मन को बदलने की कोशिश की जाती है ताकि परेशानी को जड़ से समाप्त किया जा सके।

(और पढ़ें - स्मरण शक्ति बढ़ाने के उपाय)

उदाहरण के लिए किसी व्यक्ति को मंच पर बोलने से डर लगता है और वो इस डर पर काबू पाना चाहता है तो वह कई तरीकों से ऐसा करने का प्रयास कर सकता है, लेकिन उसे तब तक सफलता नहीं मिलती है जब तक की उसके अवचेतन मन से यह डर पूरी तरह निकल न जाएं। इसलिए सुधार के लिए गहरे बैठे हुए डर को निकालना जरुरी है और यही कार्य सम्मोहन द्वारा किया जाता है।

सम्मोहन चिकित्सा के उपयोग से निम्नलिखित परेशानियों में लाभ मिल सकता है -

सम्मोहन का उपयोग करके दर्द को भी कम किया जा सकता है और धूम्रपान जैसी आदत छोड़ने में तथा वजन कम करने में भी मदद मिल सकती है।

(और पढ़ें - वजन कम करने के आसान तरीके)

अगर इलाज करने वाले थेरेपिस्ट अच्छे से प्रशिक्षित है और अनुभव रखते हैं तो सम्मोहन चिकित्सा के द्वारा इलाज आमतौर पर सुरक्षित होता है। किंतु फिर भी कुछ मामलों में पीड़ित को निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स होने की आशंका हो सकती है -

अगर आपको मनोविकृति या किसी प्रकार का व्यक्तित्व विकार है तो आपको यह थेरेपी उपयोग नहीं करनी चाहिए क्योंकि इससे आपकी हालत और भी ख़राब हो सकती है।
 
नोट - ये लेख केवल जानकारी के लिए है। myUpchar किसी भी सूरत में किसी भी तरह की चिकित्सा की सलाह नहीं दे रहा है। आपके लिए कौन सी चिकित्सा सही है, इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करके ही निर्णय लें।
और पढ़ें ...