myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हर मौसम में किसी न किसी वजह से समस्या पैदा होती है। इसी तरह गर्मी का मौसम भी है। इन दिनों ज्यादातर लोग सनबर्न यानी धुप से जली त्वचा से परेशान रहते हैं। सनबर्न से बचने के लिए बाजार में कई तरह के उत्पाद मौजूद हैं। लेकिन कुछ लोगों की स्किन इतनी संवेदनशील होती है कि बाजार में उपलब्ध उत्पाद से उनकी त्वचा सही होने के बजाय खराब हो जाती है या फिर लाल-लाल दाने, चकत्ते निकल आते हैं। सनबर्न से बचने के लिए आप औषधीय तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे स्किन हमेशा खिली-खिली और दमकती हुई नजर आती है।

(और पढ़ें - सनबर्न से छुटकारे के लिए प्राकृतिक उपाय)

लैवेंडर का तेल

सनबर्न की समस्या से बचने के लिए लैवेंडर के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें मन और शरीर को आराम देने वाले गुण भी मौजूद हैं। खैर, धूप से जली त्वचा को बचाने के लिए लैवेंडर के तेल का सही तरह से उपयोग किया जाना जरूरी है। इसके लिए लैवेंडर के तेल को अपने नहाने वाले लोशन में शामिल कर सकते हैं या फिर नहाने के पानी में डाल सकते हैं। इसका मिश्रण तैयार करने के लिए लैवेंडर के तेल की कुछ बूंदों में एलोवेरा जेल का उपयोग करें। इसे प्रभावित हिस्से में लगाएं। इससे आपको आराम मिलेगा। अगर धूप की वजह से त्वचा ज्यादा जल गई है तो गुनगुने पानी में 7 से 8 बूंदें लैवेंडर के तेल की मिलाएं। मिश्रण अच्छी तरह तैयार करें। इसके बाद इससे नहा लें।

चंदन का तेल

त्वचा के लिए चंदन एक प्राकृतिक औषधि है। यह त्वचा को ठंडा रखता है। यही वजह है कि सनबर्न की वजह से आई सूजन को कम करने के लिए इसके तेल का उपयोग किया जाता है। यही नहीं सनटैन और इन्फेक्शन को कम करने में भी यह अहम भूमिका निभाता है। जली त्वचा से मुक्ति पाने के लिए चंदन के तेल में एक बूंद हल्दी से बना औषधीय तेल और 30 ग्राम नारियल तेल लें। इन्हें आपस में मिलाएं। प्रभावित हिस्से में इस मिश्रण को लगाएं। जल्द असर दिखेगा।

कैमोमाइल का तेल

हजारों सालों से कैमोमाइल को जड़ी-बूटी के रूप में कई बीमारियों की चिकित्सा के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। यह त्वचा में लालपन की वजह से आई सूजन और जलन को भी कम करने में उपयोगी है। विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि सनबर्न से बचने के लिए कैमोमाइल तेल में एलोवेरा मिलाएं और प्रभावित हिस्से में लगाएं। कुछ ही दिनों में आराम मिलेगा।

पुदीने का तेल

जब धूप की वजह से आपकी त्वचा जल गई है या उसमें पपड़ी बन गई है तो ऐसी स्थिति में पुदीने का तेल अवश्य लगाएं। इसमें त्वचा को ठंडा रखने के गुण मौजूद हैं। इसके साथ ही पुदीने का तेल सूरज के संपर्क में आने की वजह से हुए सिरदर्द को कम करने में भी यह सहायक है। फार्मास्यूटिकल साइंसेज एंड रिसर्च में प्रकाशित अध्ययन से पता चला कि पेपरमिंट ऑयल आपकी त्वचा पर ठंडे रिसेप्टर्स को उत्तेजित करके और रक्त वाहिकाओं को पतला करके दर्द से राहत देता है। यह जली हुई त्वचा पर भी काम करता है।

जली हुई त्वचा पर औषधीय तेल के इस्तेमाल से पहले रखें इन बातों का ध्यान

  • सनबर्न से बचने के लिए जो भी औषधीय तेल आप इस्तेमाल कर रहे हैं, उसे किसी अन्य माॅइस्चराइजर के साथ मिक्स करें जैसे एलोवेरा जेल, नारियल तेल आदि। इससे त्वचा माॅइस्चराइज भी होती है।
  • जली हुई त्वचा से मुक्ति पाने के लिए औषधीय तेल को अतिरिक्त मात्रा में इस्तेमाल न करें। औषधीय तेल की कुछ बूंदें ही काफी होती हैं। ज्यादा मात्रा में औषधीय तेल के उपयोग से खुजली जैसी समस्या हो सकती है।
  • किसी भी औषधीय तेल के इस्तेमाल से पहले पैच टेस्ट जरूर करें। औषधीय तेल को किसी अन्य तेल के साथ मिक्स करके लगाएं।
  • अगर आपको औषधीय तेल से एलर्जी या जलन हो रही है तो तुरंत इसका इस्तेमाल बंद कर दें।
और पढ़ें ...